Wednesday, March 23, 2011

व्यंग्य .....हिंदी अखबारों का संपादकीय पन्ना

हर बंदे की अपनी दुनिया होती है ...मेरी भी है .....लेकिन पारिवारिक, कामकाजी, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय पालिटिक्स के बारे में मैं बिल्कुल ही ज़ीरो हूं ....इस में कभी रूचि ली ही नहीं .....पारिवारिक एवं कामकाजी पालिटिक्स के लिये कभी टाइम ही नहीं मिला और शायद प्रवृत्ति भी बिल्कुल ऐसी है नहीं ......राष्ट्रीय एवं इंटरनैशनल मसले समझने के लिये पहले इतिहास भूगोल का ज्ञान होना तो ज़रूरी है ही।

और यह इतिहास भूगोल का ज्ञान भी न के ही बराबर है ... बिल्कुल न के बराबर ..... केवल उतना ही है जितना अमिताभ बच्चन या शारहरूख कौन बनेगा करोड़पति में सिखा गये हैं। इस में मैं अपने मास्टर लोगों को दोष मानता हूं ... स्कूल में इस विषय के जितने भी मास्टर मिले वे कभी भी इन विषयों में रूचि पैदा ही नहीं कर पाये।

बस जैसे तैसे ऐसे ही कुछ मास्टरों की छत्र छाया में रहते रहते यह तो लड़कपन में ही समझ लिया था कि हिस्ट्री-ज्योग्राफी के पेपर कोई पड़ता नहीं, बस उत्तरों की लंबाई देख कर अंक लुटाये जाते हैं...... तो फिर हम क्या कम थे, हम ने भी गप्पे हांकनी बचपन में ही सीख लीं (इस में तो आप को भी कोई शक नहीं होगा!) .... हर क्लास में इन पेपरों में वहीं गप्पें हांक हांक के थक गये .... लेकिन यह सब सुलेख लिखना कभी नहीं भूले ..... न ही कभी कोई कांट छांट की ....अगर पेपर चैक करने वाले ने देख लिया तो हो गई छुट्टी .....

बस, दनादन ऐसे ही क्लासें पास की जा रही थीं ... इतने में आ गई मैट्रिक की परीक्षा ...अब अगर कुछ भी बेसिक ज्ञान हो तो लिखें, तो ही नक्शे में बताएं कि पटसन कहां होती है और कोयले की खाने कहां पर हैं.......बहुत ही पीढ़ा के साथ जैसे तैसे नक्शों में भी तुक्के मार मार के, और डिस्क्रिप्टवि उत्तरों में भी पता नहीं कितनी कहानियां लिख लिख कर ..पेपर तो लिख दिया..... वो एक राजा था न जो बहुत खाता था, बस उस का डाइट चार्ट लिखने की नौबत आ जाया करती थी, और कुछ पता हो तो लिखें।.

मुझे याद है मैट्रिक के पेपर देने के बाद अगले दो-तीन महीने तक मेरा दिन का चैन और रातों की नींद उड़ी रही थी कि बाकी विषयों में तो आ जायेगी डिस्टिंकशन और हिस्ट्री-ज्योग्राफी में हो जाऊंगा फेल. ....लेकिन जब रिजल्ट आया तो 150 में से 94 अंक पाकर जितनी खुशी हुई उस का आप अंदाज़ा भी नहीं लगा सकते.....मन ही मन उस रूह का धन्यवाद किया जिस ने बचा लिया।

लेकिन ऐसे पास होने से क्या हुआ ? ...कुछ नहीं .....बस अभी तक इन विषयों में फिसड्डीपन बरकरार है, बहुत बार सोचा कि थोड़ा तो पढ़ लूं इन के बारे में लेकिन अगर मास्टर चौहान के थप्पड़ हमें कुछ पढ़ने पर मजबूर न कर सके तो अब कैसे पढ़ लें !!(कुछ मास्टर ऐसे थे जिन्होंने समझा कि क्लास में हमारी बेइज्जती कर के, चपेड़ें मार मार के, हाथ की उंगलियों में पैंसिल फसा फसा कर कुछ सिखा देंगे .....लेकिन हम भी ठहरे ढीठ प्राणी ........!!)

हां, तो यह सारी भूमिका मुझे इसलिये बांधनी पड़ी कि मैंने यह कहना था कि अगर मुझे किसी इंटरनैशनल मसले के बारे में कुछ सीखना होता है, तो मैं हिंदी अखबार के संपादकीय पन्ने का रूख कर लेता हूं .....ऐसी बातें मुझे केवल उसी पन्ने से ही समझ आती हैं...क्योंकि उस पन्ने पर कोई दिग्गज मुझे मेरी ही भाषा में मेरे स्तर पर आकर सब कुछ सिखा रहा होता है, बिल्कुल स्कूल के मास्टर की तरह ......... और काफी कुछ समझ में आ ही जाता है।

हिंदी अखबार के संपादकीय पन्ने को रोज़ाना देखने का श्रेय मै अपनी 80 वर्षीय मां को देता हूं .... वे प्रतिदिन इसे देखती हैं और मुझ से पूछती हैं कि आज तूने तवलीन सिहं का लेख देखा, विष्णु नागर को पढ़ा .....और भी बहुत से लेखकों के नाम लेती हैं .......और यह मुझे ग्वारा नहीं होता कि मेरी मां के सामने भी मेरे फिसड्डीपन की पोल खुल जाए .....इसलिए हिंदी अखबार के संपादकीय पन्नों से मैं सीखने लायक बहुत सी बातें सीखता हूं, समझता हूं .............

नोट ......अगर कोई मेरा मैट्रिक का हिस्ट्री-ज्योग्राफी का पेपर निकलवा के देख ले, तो सारी पोल खुल जाएगी.. लेकिन रोल नंबर किसी को पता चलेगा तब न .......और मेरी प्रोफाइल पर जो स्कूल के ज़माने के दोस्त हैं, वे इतने पक्के हैं कि किसी भी तरह से यह राज़ खोलेंगे नहीं ...... पता नहीं, स्कूल के दोस्तों से इतना लगाव कैसे होता है कि हम इतने सालों बाद भी अपनी ज़िंदगी की पूरी की पूरी किताब खुली रख सकते हैं .................कारण ? ....हमें ये अपने परिवार के सदस्यों की तरह ही प्रिय होते हैं, हमें आपसी भरोसा होता है, इन से कोई डर नहीं होता .....और फिर जैसे जैसे हम जि़ंदगी में तीसमार बनते जाते हैं और दोस्त जुड़ते जाते हैं.........कहीं न कहीं खुलेपन से सारी बातें उन दोस्तों के साथ शेयर करने में संकोच बढ़ता जाता है ................है कि नहीं ??

Monday, March 21, 2011

जटरोफा खाने से बार बार बीमार होते बच्चे

आज सुबह तो मैं डा बशीर की डायरी ही पढने में मसरूफ रहा, सोचा आज के लिये इतनी ही काफी है...बाकी फिर कभी।

आज सुबह ही मैं दो दिन पुरानी अमर उजाला में एक खबर देख रहा था कि कैथल में जटरोफा खाने से 15 बच्चे बीमार हो गये। कुछ ही समय बाद मुझे मेरे चार साल पहले लिखे एक आर्टीकल की कापी दिख गई जो एक नेशनल न्यूज़-पेपर में छपा था, इसलिये आज जटरोफा के बारे में ही बात करते हैं।

जटरोफा कुरकास (जंगली अरंडी) सारे भारतवर्ष में पाया जाने वाला एक आम पौधा है—इस के बीजों में 40 प्रतिशत तक तेल होता है। भारत एवं अन्य विकासशील देशों में जटरोफा से प्राप्त तेल (बॉयोडीज़ल) पैदा करने हेतु सैंकड़ों प्रोजैक्ट चल रहे हैं।

दिल्ली से मुंबई जाने वाली रेल लाइन के दोनों तरफ़ जटरोफा के पेड़ लगाए गये हैं। कुछ गाड़ियां भी इसी जटरोफा से प्राप्त 15-20 प्रतिशत बॉयोडीज़ल पर चलती हैं। जटरोफा की एक हैक्टेयर की खेती से 1892 लिटर डीज़ल मिलता है।

जटरोफा के बीजों से प्राप्त होने वाला तेल मनुष्ट के खाने योग्य नहीं होता। बॉयो-डीज़ल पैदा करने के इलावा इसे मोमबत्तियां, साबुन इत्यादि बनाने में इस्तेमाल किया जाता है। आयुर्वेद में भी इस पौधे के विभिन्न भागों को तरह तरह की बीमारियों के इलाज में इस्तेमाल किया जाता है।

जटरोफा के बीजों का उत्पात ...
जटरोफा के विषैले गुण इस में मौजूद कुरसिन एवं सायनिक एसिड नामक टॉक्स-एल्ब्यूमिन के कारण होते हैं। वैसे तो पौधे के सभी भाग विषैले होते हैं लेकिन उस के बीजों में उस की सर्वाधिक मात्रा रहती है। उन बीजों को खाने के बाद शरीर में होने वाले बुरे असर मूल रूप से पेट एवं आंतों की सूजन के कारण उत्पन्न होते हैं। गलती से जटरोफा के बीज खाने की वजह से बच्चों में इस तरह के हादसे आये दिन देखने सुनने को मिलते रहते हैं।

उन आकर्षक बीजों को देख कर बच्चे अनायास ही उन्हें खाने को आतुर हो जाते हैं। उस के बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता कि इस पौधे के कितने बीज खाने पर विषैलेपन के लक्षण पैदा होते हैं। कुछ बच्चों की तो तीन बीज खा लेने से ही हालत पतली हो गई जब कि कुछ अन्य बच्चों में पचास बीज खा लेने पर भी बस छोटे मोटे लक्षण ही पैदा हुये।
आम धारणा यह भी है कि इन बीजों को भून लेने से विष खत्म हो जाता है लेकिन भुने हुये बीज खाने पर भी बड़े हादसे देखने में आये हैं।

उल्टियां आना एवं बिलकुल पानी जैसे पतले दस्त लग जाना इन बीजों से उत्पन्न विष के मुख्य लक्षण हैं.. पेट दर्द, सिर दर्द, बुखार एवं गले में जलन होना इस के अन्य लक्षण हैं। इस विष से प्रभावित होने पर अकसर बहुत ज़्यादा प्यास लगती है, इस के विष से मृत्यु की संभावना बहुत ही कम होती है।

क्या करें ?

बेशक जटरोफा बीज में मौजूद विष को काटने वाली कोई दवा (ऐंटीडोट) नहीं है, फिर भी अगर बच्चों ने इस बीजों को खा ही लिया है तो अभिभावक घबरायें नहीं.....बच्चों को किसी चिकित्सक के पास तुरंत लेकर जाएं ...अगर बच्चा सचेत है, पानी पी सकता है तो चिकित्सक के पास जाने तक भी उसे पेय पदार्थ (दूध या पानी) पिलाते रहें जिससे कि पेट में मौजूद विष हल्का पड़ जाए।

चिकित्सक के पास जाने के पश्चात् अगर वह ज़रूरी समझते हैं तो अन्य दवाईयों के साथ साथ वे नली द्वारा ( आई-व्ही ड्रिप – intra-venous fluids) कुछ दवाईयां शुरू कर देते हैं। छः घंटे के भीतर अकसर बच्चे सामान्य हो जाते हैं।

रोकथाम ....

बच्चों को इस पौधे के बीजों के बारे में पहले से बता कर रखें...उन्हें किसी भी पौधे को अथवा बीजों को ऐसे ही खेल खेल में खा लेने के लिये सचेत करें। स्कूल की किताबों में इन पौधों का विस्तृत्त वर्णन होना चाहिये व अध्यापकों को भी इस से संबंधित जानकारी देते रहना चाहिए।

डा. बशीर की डायरी ----पेज 2.

पिछली पोस्ट ...डा बशीर का डायरी --पेज 1 से आगे .....

जब बशीर ने उन से उस एक्स-रे के बारे में पूछा कि वह कहां पर है? उन्होंने बताया कि वह तो एक्स-रे विभाग में जमा हो गया था ... उस ने उन्हें वह लाने को कहा। वहां पर वे एक-डेढ़ घंटा धक्के खाने के बाद वापिस आ गये कि वहां से तो कहते हैं कि हम इतना पुराना एक्स-रे नहीं ढूंढ सकते।

बशीर उन के साथ एक्स-रे रूम तक गया ... वहां पर स्टॉफ को कहा कि देखो, बई, इन का एक्स-रे ढूंढो कैसे भी, कहीं से भी, इन का स्वास्थ्य देख ही रहे हैं आप! आधे घंटे के बाद वे दंपति एक्स-रे लेकर वापिस बशीर के पास आ गये।

बशीर ने फिर से पूछा कि बाकी सब तो ठीक है ना, उस ने साफ साफ अक्षरों में यह भी पूछ डाला कि बवासीर जैसी कोई बात तो नहीं! इतना सुनते ही उस वृद्दा ने बहुत ही झिझकते झिझकते बोला कि इन्हें टायलेट के साथ खून आता है। पूछने पर उस ने आगे बताया कि यह तो बहुत दिनों से हो रहा है। बशीर ने पूछा कि क्या यह तकलीफ़ आप ने अपने डाक्टर को पहले कभी बताई? जवाब मिला कि उन्हें लग रहा था कि गर्म दवाईयों की वजह से यह सब हो रहा है, अपने आप ठीक हो जायेगा। और रही बात, अपने डाक्टर के साथ बात करने की, यह बात किसी ने पूछी नहीं और उन्हें स्वयं यह बात करने में शर्म आती थी क्योंकि डाक्टर के कमरे में हमारी जान-पहचान के और भी बहुत से लोग इक्ट्ठे होते हैं।

बहरहाल , बशीर ने उन के नुस्खे पर यह टायलेट के रास्ते रक्त निकलने की बात लिख कर उसे वापिस डाक्टर के पास भेज दिया ... और डाक्टर ने छाती का एक्स-रे देख कर उन्हें अगले दिन फ़िज़िशियन को दिखाने के लिये बुला लिया।

बशीर आगे लिखता है कि जिस बड़े अस्पताल में वह काम करता है, वह बिल्कुल नाम का ही बड़ा है, पंद्रह डाक्टरों की जगह चार डाक्टर काम कर रहे हैं...विशेषज्ञ कोई भी नहीं टिकता, चुस्त चालाक लोग कोई भी जुगाड़ कर के बड़े शहरों में लपक जाते हैं... केवल एक फ़िज़िशियन है। आगे जो लिखा था वह पढ़ कर मन दुःखी हुआ....लिखता है कि एक एक डाक्टर दिन भर में 80-90 मरीज़ “भुगता” देता है, वह भी यह सोच कर हैरान है कि यह कैसे हो सकता है ! लेकिन बड़े दुःखी मन से आगे लिखता है कि डाक्टर चाहे एक भी हो....(और चाहे न भी हो !!) , सिवाए मरीज़ के किसी को कोई फ़र्क नहीं पड़ता, सब मस्ती मार रहे हैं, टूर जाने वाले टूर पर जा रहे हैं, छुट्टी पर जाने वाले छुट्टी काट रहे हैं, खूब राजनीति भी चल रही है, लेकिन अगर मरीज़ों की तरफ़ से कोई शिकायत नहीं है, तो किसी को भी किसी से कोई भी शिकायत नहीं है ....

बशीर भी जब दिल की बात लिखने लगता है ....तो फिर सब कुछ लिख ही देता है ... उस ने लिखा था ....मरीज़ों का क्या है, वे घंटा शिकायत करेंगे, उन्हें पता कैसे चलेगा कि उन के साथ कम से कम दस मिनट बिताने की जगह अगर आधा मिनट बिताया गया है तो इस का सीधा सीधा मतलब उन की सेहत के लिये आखिर है क्या ! लेकिन छोड़िए, किसी को कोई परवाह नहीं, सब कुछ ऐसे ही चलता रहेगा... आगे लिखता है कि उस के अस्पताल का सीधा सीधा फंडा है कि बस उन पांच दस लोगों को “ हर कीमत पर” हर तरह से खुश रखा जाए...( पंजाबी में एक कहावत है ...किसे अग्गे कोड़ा होना....बस लिखदा ऐ कि अजेहे पंजा-दसां लोकां अग्गे बस कोडे होन दी ही कसर रह जांदी ऐ !!) …..बशीरे, तूं वी जदों दिल नाल लिखदैं फेर कुछ नहीं वेखदा .......लेकिन लगता है कि वह इधर उधर देखता भी क्यों, अपनी डायरी में अपनी मस्ती में लिख रहा था।

मैं बशीर की डायरी पढ़ते पढ़ते सोच रहा था कि बशीर क्यों इतनी हिम्मत हारता दिखाई दे रहा है, हर बात का इलाज तो है, खैर मैं वापिस उस की डायरी के दूसरे पन्ने पर ही वापिस आ जाता हूं.....

अगले दिन वो दंपति आते हैं ...फिज़िशियन को दिखाने के लिये....किसी पड़ोसी की कार मांग कर क्योंकि उस बंदे से चला नहीं जा रहा था लेकिन उन के अस्पताल पहुंचने पर पता चलता है कि फिज़िशियन साहब तो आज छुट्टी पर हैं । मायूस हो कर जाने के सिवाए कोई चारा नहीं था।

 अगले दिन वे दंपति आते हैं, फिज़िशियन को दिखाने के बाद बशीर के पास आते हैं....फिज़िशियन ने भी उन के छाती के एक्स-रे में दिखने वाली गड़बड़ी के बारे में लिखा था और टीबी के जीवाणु देखने के लिये लगातार तीन बार लार की टैस्टिंग (sputum test) के लिये कहा था। आज फिर बशीर ने पूछ ही लिया कि वह जो टायलेट के साथ रक्त आता है, उस का क्या हाल है ?

इतना बात सुनने पर पता नहीं कैसे बेचारी उस वृद्दा के सब्र का बांध टूट गया कि उस ने दिल की बात खोल ही दी ...डाक्टर साहब, यह तकलीफ़ इन्हें पिछले काफी दिनों से है, बड़ी बेबसी से, बशीर लिखता है, उस ने कहा कि मैं थक गई हूं इन का खून से लथपथ पायजामा और कच्छा (अंडरवियर) धोते धोते...... मुझे उल्टी जैसा होने लगता है, लेकिन बहुओं-बेटों वाला घर है, किसी से कुछ भी कहते शर्म आती है !! मैं तो यह बात आपसे भी न करती, पता नहीं कैसे आज हिम्मत आ गई !! और उस ने आगे कहा कि उसे लगता है कि इन की उस जगह पर कुछ तो गड़बड़ है क्योंकि जिस तरह खून के थक्के निकलते हैं, मुझे बहुत डर लगता है....

बशीर ने आगे लिखा कि उसे समझ मे आ रहा था कि इन्हें किसी सर्जन को दिखाया जाना बेहद ज़रूरी है.... जिस के लिये उन्हें चालीस मील दूर जाना होगा......लेकिन वे अभी कहते हैं कि पहले वे थूक का टैस्ट करवा के उस तकलीफ़ से निपट लें, यह तकलीफ़ को थोड़े दिनों बाद देख लेंगे........क्रमशः
कड़ी जोड़ने के लिये देखिए
डा बशीर की डायरी --पहला पन्ना 

डा बशीर की डायरी ... पहला पन्ना

कुछ दिन पहले मुझे बहुत वर्षों के बाद एक कॉलेज के दिनों का मित्र मिला... खूब बातें हुईं... प्रोफैशन, दुनिया और इधर उधर की हर तरह की बहुत सी बातें। प्रोफैशन की बातों से ध्यान आया ...उस ने मेरे को अपनी डायरी ही पढ़ने के लिये दे दी .... कुछ बातें ऐसी पढ़ीं जिन्हें मैं यहां पाठकों के साथ साझा करना ज़रूरी समझता हूं।

मेरा यह दोस्त एक डैंटिस्ट है डा. बशीर (नाम बदल दिया है).. डायरी में उस ने एक बुज़ुर्ग के बारे में लिखा था कि एक 70-75 वर्ष का व्यक्ति था, वह दो एक साल पहले दांतों के उपचार के लिये उस के पास अकसर आया करता था ...जब सब कुछ दुरूस्त हो गया तो उस से मुलाकात होनी बंद हो गई। उस के बारे में उस ने लिखा था कि बड़ा हंसमुख, ज़िंदादिल इंसान था.....अपनी ज़िदगी के किताब के कुछ पन्ने बशीर के सामने खोल लिया करता था।
हां, तो बशीर ने आगे लिखा था कि उसने उस बुज़ुर्ग को पिछले कुछ महीनों में तीन चार बार बाज़ार में देखा ... उसे देख कर बहुत ताजुब्ब हुआ करता था कि वह बहुत कमज़ोर सा दिखने लगा था।

अभी कुछ दिन पहले ही की बात है कि वह बुज़ुर्ग और उस की वृद्ध पत्नी डा बशीर को अस्पताल के बाहर ही मिल गये....अच्छी तरह से मिले ...लेकिन वह बंदा बहुत ही कमज़ोर दिख रहा था...बशीर ने उनसे पूछा कि क्या बात है, वजन बहुत कम लग रहा है, सब ठीक तो है? इस पर उस की पत्नी ने बताया कि बस, अब इन की तबीयत ऐसी ही रहती है, पिछले कुछ दिनों से पेट में दर्द भी है, बस, दिन प्रतिदिन इन की सेहत गिरती जा रही है, बस किसी तरह से यह अस्पताल में भर्ती हो जाएं।

बशीर जल्दी में था ... उस ने उन का मार्गदर्शन किया कि वे किस डाक्टर के पास जाएं और वहां दिखाने के बाद उस से मिल कर जाएं.... और कोई भी दिक्कत होने पर उस के कमरे में आकर  मिलने के लिये भी कह दिया।

लगभग डेढ़ घंटे के बाद वह बुज़ुर्ग और उन की बीवी बशीर के कमरे में पहुंचे ..... उस ने उन्हें सम्मानपूर्वक बिठाया, अच्छे से बात की और सब हाल चाल पूछा ... उस वृद्दा ने डाक्टरी नुस्खा उस के आगे कर दिया। उस ने देखा कि डाक्टर ने उस के लिये पेट और सिरदर्द की दवाई लिखी हुई थी ... लेकिन यह देख कर बशीर को तसल्ली नहीं हुई...उसे लगा कि यह बंदा बीमार तो इतना ज़्यादा लग रहा है और ये पेट-सिरदर्द की दवाईयां आखिर कौन सा जादू कर देंगी!

बहरहाल बशीर ने उस नुस्खे को फिर से देखना शुरू किया ...उस ने देखा कि दो महीने पहले इस बंदे का छाती का एक एक्स-रे हुआ था जिस की रिपोर्ट कुछ गड़बड़ थी ...
क्रमश.....

Sunday, March 13, 2011

प्रो-बॉयोटिक्स ड्रिंक्स में ऐसा क्या है जो दही में नहीं !

आज शाम को मैं एक शापिंग माल गया हुआ था...वहां मैंने देखा कि एक खूब लंबी शेल्फ प्रो-बॉयोटिक की छोटी छोटी बोतलों से सजी पड़ी थी। मैंने देखा कि यह 65 मि.ली की पांच बोतलों के पैक हैं....दस रूपये की एक बोतल और पांच बोतलें पचास रूपये की... खुली नहीं मिलती, पूरा पैकेट लेना ही होगा। ब्रांड का नाम तो चाहे कोई जापानी सा ही था लेकिन तैयार कहीं यहीं दिल्ली विल्ली के पास ही हुआ था .....वैसे भी उस पर Fermented Milk Drink लिखा हुआ था और साथ में प्रो-बॉयोटिक की प्रशंसा के पुल बांधे गये थे।

और यह भी लिखा गया था कि अच्छी सेहत के लिये इसे रोज़ाना इस्तेमाल किया करें ...एक्सपॉयरी तारीख तैयार होने के छःमहीने तक थी। मैं इसी सोच में पड़ गया कि यार, सुबह का दही तो इस देश में शाम को लोगों के हलक से नीचे नहीं उतरता कि यह खट्टा है, यह पुराना है, यह वो और यह वो ...... लेकिन अब जापानी नाम वाले ब्रांड हमें यह पतले दही जैसा पेय भी छः छः महीने पुराना खिला के छोड़ेंगे !!

बड़ी बड़ी अंतर्राष्ट्रीय कंपनियां इन प्रो-बॉयोटिक प्रोडक्ट्स की तारीफ़ों के जितने भी पुल बांध लें, लेकिन हिंदोस्तानी दही इन सब से कईं गुणा बेहतर है।

प्रो-बॉयोटिक ड्रिंक्स में कुछ ऐसे जीवाणु होते हैं जो हमारे पेट एवं आंतड़ियों के स्वास्थ्य के लिये बहुत लाभदायक होते हैं, इन्हें लैक्टोबैसिलाई (Lactobacilli) कहा जाता है, वैसे तो ये हमारे पाचन-तंत्र अर्थात् आंतड़ियों में हमेशा उपलब्ध रहते हैं और भोजन को पचाने में सहयोग देते हैं लेकिन कईं बार शरीर में कुछ रोगों की वजह से अथवा कुछ दवाईयों के कारण इस तरह के लाभदायक जीवाणु नष्ट हो जाते हैं जिस की वजह से इन्हें बाहर से दिया जाना होता है। अधिकतर केसों में इस तरह की कमी रोज़ाना दही का इस्तेमाल करने से पूरी हो जाती है लेकिन बहुत कम बार ऐसा भी होता है कि फिज़िशियन इस तरह के जीवाणुओं को कैप्सूल के रूप में भी चंद दिनों के लिये लेने की सलाह देते हैं....लेकिन यह बहुत कम ही होता है।

अकसर पेट-वेट खराब होने पर आप के फैमली डाक्टर भी आप को दही भात, खिचड़ी दही, दही केला आदि ही लेने की सलाह देते हैं, और लोग ये सब खाने से एक दम फिट हो जाते हैं।

ऐसे में इन प्रो-बॉयोटिक ड्रिंक्स के चक्कर में पड़ने से क्या होगा ! --- कुछ भी नहीं होगा, अगर आप रोज़ाना दही लेते हैं तो इन सब के चक्कर में पडने की कोई ज़रूरत है नहीं। और अगर दही वही नहीं लेते तो फिर उस कमी को पूरा करने के लिये बहुत से प्रयास करने पड़ सकते हैं।

इस प्रो-बॉयोटिक ड्रिंक पर यह तो लिखा ही गया था – fermented milk product .. फर्मैंट से मतलब वही जामन लगा कर खमीर करने वाली बात, और इस के लिये स्किमड् मिल्क (skimmed milk) के इस्तेमाल करने की बात की गई है --- जो भी हो, मुझे लगता है कि इस तरह के प्रोडक्ट्स साधारण दही का कहां मुकाबला कर पाते होंगे --- दही इतना संवेदनशील और सजीव कि तैयार होने के कुछ घंटों के बाद ही उस की प्रवृत्ति ही बदल जाती है लेकिन ये बाज़ारी प्रोडक्ट्स छः छः महीने तक ठीक रह सकते हैं, इन्हें तो पता नहीं कैसे हम लोग पचाएंगे, जबकि यह बात ही नहीं पच रही।

इसे छः छः महीने तक ठीक रखने के लिये कुछ तो प्रोसैसिंग होती ही होगी, कुछ तो अन्य कैमीकल इस्तेमाल होते ही होंगे ... शापिंग माल में दूसरे अन्य प्रोसैसेड फूड्स की क्या कमी थी कि उस में ये प्रो-बॉयोटिक ड्रिंक्स भी शामिल कर दिये गये हैं। इसलिये बिना वजह इन के चक्कर में न ही पड़ा जाए तो बेहतर होगा। जिस तरह से इस तरह की वस्तुओं की बिक्री को बढ़ावा देने के लिये विज्ञापन दनादन आते हैं लगता तो यही है कि ये कंपनियां भी अपने मंसूबों में देर-सवेर कामयाब हो ही जाएंगी।

दही की इतनी तारीफ़े तो कर डाली लेकिन इस बात का ध्यान रखना तो ज़रूरी है ही कि यह भी तो कहीं कैमिकल युक्त दूध से तो तैयार नहीं किया गया !

Further reading ---
An Introduction to Probiotics
एक प्रश्न जिस से मैं बहुत परेशान हूं 



दवाओं के धंधे में हो रहे गोरखधंधे की सुनामी

मेरी कोई जान पहचान वाला कैमिस्ट तीन सौ रूपये के बिल पर तीस रूपये कम कर दे और साथ खड़े लोगों से एमआरपी चार्ज कर रहा होता है तो मुझे इस से बिल्कुल भी खुशी नहीं होती... मुझे शायद इस छूट की ज़रूरत भी नहीं है, बात यह है कि अगर मुझे यह छूट दी जा रही है तो वह अपनी जेब से तो दे नहीं रहा, फिर पब्लिक क्यों इस तरह की छूट से महरूम रहती है, मुझे यह ठीक नहीं लगता।

दो तीन दिन पहले एक परिचित से मुलाकात हुई ---अपने पास पड़ी दवाईयां दिखाने लग गया कि उस का एक मित्र है जो दवाईयों का थोक-विक्रेता है...आगे बताने लगा कि यह जिस स्ट्रिप पर साठ रूपये लिखा है, पता है यह मुझे कितने में मिलती है ....केवल आठ रूपये में। ऐसी अन्य दवाईयां भी मुझे दिखलाने लग गया।

25 वर्ष से भी ज़्यादा हो गये हैं मुझे प्रोफैशन में ....लेकिन अभी तक जो बात मैं समझ नहीं पाया वह यह है कि जैनरिक एवं एथीकल—अर्थात् ब्रैंडेड (Generic and Ethical medicines) दवाईयों में आखिर अंतर है क्या !! कानूनी भाषा मैं ठीक के समझता हूं... टैक्नीकली भी समझता ही हूं लेकिन जो बात सब से अहम् है वह मैं अभी तक समझ नहीं पाया हूं वह यह है कि मेरे को कोई स्ट्रिप थमा दे और मेरे से पूछे कि क्या यह जैनरिक है या एथिकल रेंज है, तो मेरे पास इस का कोई जवाब है ही नहीं !!

1992-93 में मैं मुंबई की टाटा इंस्टीच्यूट ऑफ सोशल साईंसिज़ में एक वर्ष के लिये हास्पीटल एडमिनिस्ट्रेशन पढ़ रहा था ... एक विषय भी होता था ..Drug Policy Administration….उस दौरान दवाईयों के गोरखधंधों के बारे में बहुत कुछ समझने का अच्छा मौका मिला था। उस में काफ़ी कुछ याद भी है। लेकिन यह प्रिंटिंग दाम और बिक्री दाम में अंतर का गोलमाल मेरी समझ से अभी भी परे की बात है।

और मैं पिछले दस-बारह वर्षों में बहुत बार सुन चुका हूं कि इतने ज़्यादा प्रिंटिंग दाम वाली दवा इतने कम दाम में हासिल कर ली गई। हासिल कर ली, जिन्होंने इसे हासिल किया, वे मुकद्दरवाले हैं लेकिन यह तो जगजाहिर है ही कि ये सब चोंचलेबाज़ियां एक आम आदमी के हित में नहीं हैं.... अब देखिये मैं कोई दवाई लेने गया तो किसी परिचित कैमिस्ट ने दस प्रतिशत कम कर दिया, उस का कोई रिश्तेदार गया तो उस ने तीस प्रतिशत कम कर दिया, किसी सरकारी संस्था को अपनी ऑफर भेजते समय यह कह दिया कि हम तो प्रिंटिंग दाम पर पचास या साठ प्रतिशत की छूट देंगे.........यह सब क्या है.... इस तरह के धंधे से सब से ज़्यादा चपत उस एक आम आदमी को लगती है जिसे साठ रूपये प्रिंटिंग वाली दवाई साठ रूपये में ही खरीदनी होगी। और तो और, बिल मांगने की वह कभी हिम्मत करेगा नहीं...............इसीलिये ये सब तरह के गोरखधंधे दिनप्रतिदिन पनपते ही जा रहे हैं।

आप मेरी दुविधा समझ रहे हैं ना ...एक तो अस्सी रूपये वाली कोई दवाई दस रूपये में बिक रही है तो उस के ऊपर दस ही क्यों नहीं लिखा हुआ.... यह कोई चाइनीज़ गेम थोड़े ही है ... मेरा व्यक्तिगत विचार यह है कि इस तरह की लुका-छुपी से हर तरह के भ्रष्टाचार को सिर उठाने का मौका मिल जाता है। अगर कोई भी मेरी बात से सहमत नहीं है तो वह बिना किसी बात की परवाह किए बिना इस लेख की टिप्पणी के रूप में लिखे..... I shall be too happy to hear a different viewpoint.

और दूसरी व्यथा यह कि ... लोगों को अभी तक यही समझ है कि जैनरिक दवाईयां हैं तो वे किसी ब्रांड के नाम से नहीं जानी जाएंगी ...उन पर केवल कंपनी का नाम और साल्ट ही लिखा होगा। लेकिन मैं कईं बार किसी कैमिस्ट के यहां यह देख कर चौंक गया हूं कि कुछ ब्रांड नाम से बिकने वाली दवाईयां भी जैनरिक कैटेगरी में ही आती हैं.

सीधी सी बात .... कंपनी कह दे या कैमिस्ट कह दे कि यह जैनरिक और यह ब्रांडेड तो वही सच है, हमारे पास ऐसी कोई कसौटी नहीं कि हमें अपने आप पता चल सके दवाई को देख कर कि यह जैनरिक है या ब्रांडेड। क्या आप मेरी बात से सहमत हैं?

अकसर कंपनियां अपनी दवाईयां बेचते समय जैनरिक पर बहुत ज़्यादा और ब्रेंडेड पर बिलकुल कम छूट देती हैं ...एक बात तो मुझे सूचना के अधिकार नियम के अंतर्गत यह भी पता चली कि कहीं पर तो ब्रांडेड-जैनरिक नाम की श्रेणी भी बना दी जाती है, मैंने भी इस तरह की श्रेणी के बारे में पहली बार ही सुना था।

जो भी हो, एक बात की आप कल्पना कीजिए .. कोई दवाई ब्रेंडेड होते हुये अगर जैनरिक है ....(so-called Branded-generic drugs?...यह क्या माजरा है, मेरी समझ से परे है!) और अगर उस पर साठ-सत्तर प्रतिशत की छूट की बजाए ब्रेंडेड दवाई जैसी कम छूट दी जाती होगी, और देश में करोड़ों अरबों रूपयों की दवाईयां तो खरीदी जाती ही होंगी .......क्या यह सब किसी सुनामी से कम है? बस, इस के आगे मैंने अपने होंठों पर ताला लगा लिया है, कुछ भी नहीं कहूंगा, बिल्कुल कुछ भी नहीं......क्योंकि फिर आप ही कहेंगे कि मैं ज़्यादा बोल देता हूं..................लेकिन क्या करूं, कहीं पर भी लफड़ा दिखता है तो कंट्रोल नहीं होता !!

संबंधित लेख ...
कैमिस्ट से बिल मांगते हुए झिझक क्यों ?



तंबाकू निषेध को किसी धर्म विशेष से जोड़ने की नासमझी....

अमृतसर से अंबाला आते हुये पंजाब और हरियाणा का बार्डर है शंभु...अनेकों बार ऐसा मंज़र देखा है कि ट्रेन के शंभु क्रॉस करते ही लोग अपने बीढ़ी, सिगरेट के बंडल निकाल लिया करते थे. इस का कारण? …ऐसा भी मैंने कईं बार देखा है कि किसी सिक्ख (सरदार जी) की किसी बीढ़ी सुलगाने की तैयारी कर रहे बंदे की तरफ़ एक टेढ़ी नज़र ही काफ़ी हुआ करती थी....शायद किसी को टोकने की ज़रूरत पड़ती ही न थी। पंजाब की बसों में तो कोई सिगरेट-बीड़ी सुलगाने की सोच ही नहीं सकता था !!

किसी डिब्बे में अगर कोई सरदार जी बैठे हुये हैं तो शंभु तक तो किसी की क्या मजाल कि बीढ़ी सुलगा जाए ... और अगर कोई निहंग सिक्ख है तो धूम्रपान करने वालों की ऐसी की तैसी। लेकिन वह भी शंभु तक ही।
और मैं देखा करता था कि शंभु स्टेशन पर पहुंचते ही लोग अपने अपने बीढ़ी के बंडल, सिगरेट के पैकेट यूं निकाल कर इत्मीनान की सांस लिया करते थे जैसे चंबल के बीहड़ों से बाहर निकल आये हों।

मैं तब भी सोचता था और आज भी वैसा ही सोचता हूं कि यह कैसा सिरफिरापन है. अच्छी से अच्छी बात को धार्मिक कट्टरवाद से जोड़ कर ही क्यों देखा जाता है, यह बात मैं बहुत से लोगों से सांझी करता हूं। हमें तो शुक्रगुज़ार होना चाहिये ऐसी लोगों का , गुरू की ऐसी बढ़िया सिखलाई का जो चार घंटे तक (अमृतसर से शंभु तक का ट्रेन सफ़र) हज़ारों लोगों के फेफड़े सिंकने से बचा लेती थी।

ध्यान आता है कि ऐसा रोकने टोकने का मतलब केवल यही क्यों लिया जाए कि इस से फायदा केवल सरदारों को ही होगा, सब के सब बच जाते हैं इस ज़हर से ..पीने वाले भी, साथ बैठे लोग, माताएं, बहनें और गर्भवती महिलाएं भी ... इस के प्रकोप से बचे रहते हैं। इसलिये आज भी जब कोई सरदार जी किसी बस में या गाड़ी में किसी बीढ़ीबाज़ को टोकता है तो मुझे बेहद खुशी होती है कि किसी ने तो हिम्मत की। और बहुत बार इस का तुरंत असर दिख जाता है... बहुत बार कहा सुनी हो जाती है जैसा कि मेरा अपना अनुभव रहा।

अभी मैं गर्भवती महिलायों की बात कर रहा था ...यह तो हम पिछले कईं दशकों से सुनते आ रहे हैं कि गर्भवती महिलाएं जो धूम्रपान करती हैं उन में कईं तरह की समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं ...उन में ही नहीं उन के नवजात् शिशुओं में भी और गर्भावस्था के दौरान उन में कईं तरह की जटिलताएं उत्पन्न होने की संभावना बहुत अधिक बढ़ जाती है। दूर-देशों में तो यह समस्या बहुत विकराल है, अपने यहां पर भी है, लेकिन ज़्यादातर महिलाएं बीढ़ी आदि का उपयोग करती हैं इसलिये इन के दुष्परिणामों के बारे में अलग से कुछ कहने की ज़रूरत दिखती नहीं।

लेकिन अब जिस मुख्य समस्या की बात आज मैं करना चाह रहा हूं वह यह है कि जिन गर्भवती महिलाओं को सैकेंड-हैंड तंबाकू का धुआं भी मिल रहा है ... उन में भी शिशु के मृतजात होने का खतरा 23 प्रतिशत और शिशु के शरीर में होने वाली विकृतियों का रिस्क 13 प्रतिशत बढ़ जाता है.....यह किसी एक वैज्ञानिक के आंकड़े नहीं हैं, विश्व भर में पिछले कईं सालों में की गईं 19 स्टडीज़ का निष्कर्ष है यह जो अभी अभी मुझे बीबीसी न्यूज़ पर देखने को मिला है .....Passive Smoking Increases Still-birth risk, study says. 

इसलिये यह कोई अचंभित होने वाली बात नहीं अगर इस न्यूज़-रिपोर्ट में यह कहा गया है कि जो पुरूष पिता बनने वाले हैं उन्हें धूम्रपान से दूर ही रहना चाहिये...बात तो यहां तक हो रही है कि जो पुरुष पिता बनने की तैयारी कर रहे हैं उन के लिये भी तंबाकू से बचे रहने में ही समझदारी है क्योंकि इस से उन के शुक्राणुओं पर असर तो पड़ता ही है और उन की स्मोकिंग की वजह से उन की पत्नी एवं उस के गर्भ में पल रहे शिशु पर होने वाले खतरनाक परिणामों की बात पहले कर ही चुके हैं !!

और जिन गर्भवती महिलाओं के शिशु पर सैकेंड-हैंड स्मोक के बुरे असर की बात हो रही है यह स्मोक घर में स्मोक कर रहे लोगों से भी हो सकता है और अपने कार्यस्थल पर फेफड़े सेंकने वालों से भी हो सकता है और अगर सारे दिन में लगभग दस सिगरेट कोई इन महिलाओं के आसपास मौजूद व्यक्ति पी लेता है तो इन औरतों में तरह तरह की जटिलताएं होने का खतरा खासा बढ़ जाता है।

इस तरह की बातें यहां भारत में कभी होती ही नहीं हैं ....देश में औरत के इस तरह के हितों के बाते में कैसे चर्चा हो और वह भी तब जब उस की भलाई के लिये पुरुष-प्रधान समाज के “मर्दों” को कुछ छोड़ने की बात कही गई हो, आप इस के परिणामों की स्वयं कल्पना कर सकते हैं। पढ़े लिखे लोग तो है ही , ऐसे तबके की कल्पना करिये जो छोटी छोटी झोंपडीनुमा आशियानों में रहते हैं जिस में इस तरह की सैकेंड हैंड स्मोक से आस पास मौज़ूद लोगों को खतरा कईं गुणा बढ़ जाता है।

आज वह दौर आ गया है कि किसी भी सार्वजनिक स्थान पर अपने पास बैठे किसी भी बीड़ीबाज और सिगरेटधारी को टोकने-रोकने की जिम्मेदारी हम पर बनती है....सरकार क्या क्या करे, कानून बन गया है यह क्या कम है, अब हर बीड़ीबाज़ के आसपास मंडराए रखने के लिये इतने जनता हवलदार कहां से आएं?

जहां से बात शुरू की गई वापिस वहीं पर आता हूं .. अपनी ज़िंदगी के शुरूआती बेहतरीन 28 साल अमृतसर में बिताए ---हर लिहाज़ से बेहतरीन --- इसलिए सिक्ख समुदाय को हमेशा से मैं दूसरे लोगों के लिये तंबाकू आदि चीज़ों से बचे रहने के लिये एक रोल-माडल जैसा दर्जा देता हूं लेकिन मुझे उस समय बेइंतहा मायूसी होती है जब मैं किसी सिक्ख समुदाय से संबंध रखने वाले को तंबाकू का इस्तेमाल करते देखता हूं .. सारा दिन मुझे भी मुंह में ही झांकना होता है, इसलिये कोई ऐसी बात छुपती नहीं..... चाहे बहुत ही कम हैं ऐसे लोग और अकसर क्या कारण बताते हैं ... कि कार्यक्षेत्र पर उपस्थित दूसरे लोगों की देखादेखी शुरू हो गया यह सब और कुछ बताते हैं कि यह शौक पड़ गया प्रवासी श्रमिकों की संगत में रहने से। पिछले कुछ अरसे में मैं तीन ऐसे केस देख चुका हूं सिक्ख धर्म समुदाय से संबंधित लोगों के जिन में तंबाकू की लत से मुंह का कैंसर हो गया ... तीनों में से अब कोई भी नहीं है, एक साल में ही चल बसे.....।

मुझे लगता है कि मुझे टिप्पणी यह भी आ सकती है कि तंबाकू की लत से लताड़े हुये ऐसे चंद सिक्ख तो सिक्ख थे ही नहीं ...गुरू की सिखलाई पर न चलने वाला कैसा गुरसिक्ख !!
तो फिर आज की इस स्टोरी से हमें क्या शिक्षा मिलती है? – क्या अभी भी यह बताने की ज़रूरत है !!
संबंधित लेख
तंबाकू का कोहराम 



Friday, March 11, 2011

अच्छा तो सेब जैसा मोटापा भी इतना बुरा नहीं है ...

उस दिन मैं एक न्यूज़-रिपोर्ट की बात कर रहा था जिस में बताया गया था कि केवल बीएमआई (बाडी मॉस इंडैक्स) ही पता कर लेना ही काफ़ी नहीं है, शरीर के किस भाग में यह फैट(चर्बी) जमा है, यह जानना ज़रूरी है। इसलिये समझा जाता रहा है कि सेब जैसा मोटापा जिस में मोटापा अधिकर पेट (abdomen) पर ही केंद्रित रहता है, यह सेहत के लिये ज़्यादा हानिकारक है।

लेकिन लगता है यह खबर अब पुरानी हो गई है...क्योंकि आज बीबीसी की एक रिपोर्ट ... Doubts emerge over heart risk to 'apple shape'.....यह खुलासा कर रही है कि ऐसा कुछ नहीं है कि सेब जैसे मोटापे के शिकार लोगों में हृदय रोग की तकलीफ़ों का ज़्यादा खतरा रहता है। और यह स्टडी लगभग दो लाख बीस हज़ार लोगों के ऊपर 10 वर्षों तक चली।

वैसे इस खबर ने सेबों (जिन में से मैं भी एक हूं)..को इतना बिंदास होने की भी कोई वजह नहीं दी है, क्योंकि वैज्ञानिकों ने स्पष्ट शब्दों में कह दिया है कि मोटापा अपने साथ बीमारियां ही लाता है चाहे वह किसी भी रूप में ही हो। इसलिये सेब और नाशपाती के हिसाब किताब में पड़ने से कुछ हासिल होने वाला नहीं है!

और एक बात जिस पर बल दिया गया है कि ठीक है, सेब जैसे मोटे लोगों में हृदय-रोग का रिस्क दूसरे तरह के मोटापे (नाशपाती जैसा !!) के शिकार लोगों की अपेक्षा न भी बढ़े लेकिन दूसरी सब तकलीफ़ों की सुनामी जो मोटापा साथ लाता है, उन से तो कोई बचाव है नहीं।

ऐलोपैथी भी कमाल की चीज़ है –आज कुछ कल कुछ ....कभी यह बुरा, कभी वो बुरा, कभी यह अच्छा, कभी वो और अगले दिन सब कुछ बदल जाता है .... ठीक है, होता यह सारा कुछ वैज्ञानिक अध्ययनों से ही है लेकिन जिंदगी में कुछ बातों के लिये यू-टर्न की सुविधा कहां रहती है !! दवाईयों के मामले में भी तो यही कुछ हो रहा है।

लोग मोटापा कम करने वाली दवाईयां, कोलेस्ट्रोल कम करने वाली कुछ नईं नईं दवाईयां, ब्लड-प्रैशर, मधुमेह (शक्कर, शूगर) कईं कईं वर्षों तक लेते रहते हैं और अचानक एक दिन अखबार में खबर दिखती है फलां फलां दवाई के फलां फलां प्रभाव अत्यंत हानिकारक होने की वजह से इस की दो गई एप्रूवल खारिज की जाती है ...चिंता मत करें ऐसी खबरें अधिकतर अमेरिकी एफडीआई( Food and Drug Administration) से ही प्राप्त होती हैं....हमारा क्या है, हमें तो सब चलता है, है कि नहीं !! अमेरिका इंग्लैंड जैसे देशों में प्रतिबंधित होने के बाद भी ये दवाई अकसर यहां धड़ल्ले से बिकती रहती हैं।

हां,तो बात हो रही थी कि मैडीकल साईंस में बदलाव तेज़ी से होते रहते हैं ...यह वास्तविकता है। साईंस को जिस बात का कल पता नहीं था आज पता चल रहा है।

ऐसे में मेरा ध्यान यकायक अपनी देसी आयुर्वैदिक पद्धति की तरफ़ जा रहा है ...सदियों सदियों से जांचा परखा ... किसी तरह के बदलाव की रती भर भी गुंजाइश ही नहीं ... ज़रूरत है तो केवल इस में पूर्ण आस्था की ... इस के सिद्धांतों के अनुसार जीवनशैली बनाए रखने की, सामान्य सी तकलीफ़ों के लिये घरेलू उपायों – घरेलू जड़ी बूटियों को काम में लाने की, सक्रिय बने रहने की, खान पान में पथ्य और अपथ्य (Do’s and Don’ts) को बिना सोच विचार किए मान लेने की (यह पद्धति ऋषियों मुनियों ने जांच परख कर ही तैयार की है) , और खुश रहने की ......ताकि सब लोग स्वस्थ जीवन जी सकें।

और फिर इस बात की फ़िक्र करने की भी बेवजह ज़रूरत नहीं कि मैं सेब जैसा हूं या नाशपाती जैसा ...क्योंकि अगर इतना सब कुछ मान लिया जायेगा तो मोटापा छू-मंतर हो जायेगा –बिना किसी दवाई के, बगैर लॉइपोसक्शन के और पेट के साइज को कम करवाने की सर्जरी के बिना ही सब कुछ फिट रहेगा।

सोच रहा हूं यह बढ़ा वजन अधिकतर पढ़े-लिखे, खाते पीते लोगों की ही समस्या है, आपने भी मेहनतकश लोग कम ही देखे होंगे जो स्थूल काया से परेशान हों, लेकिन समस्यायें तो उन्हें भी हैं, कुछ अलग तरह की ........


कागज़ के फूलों को सहेजने जैसा शौक है हेयर-कलर का क्रेज़

कंपनियां चाहे कुछ भी ढिंढोरा पीटें, बालों को कलर करने का काम पंगे वाला तो है ही ... लेकिन कल मुझे लगा कि इस के बारे में अकसर हम लोग केवल अपने तक ही सोच कर सीमित रह जाते हैं ... इस के एक बहुत ही अहम् पहलू के बारे कल में कैसे मैंने भी आज तक सोचा ही नहीं !!

कल बृहस्पतिवार था—हेयर-ड्रैसरों के यहां सन्नाटा छाया रहता है क्योंकि इक्कीसवीं सदी में भी लोग इस भ्रम से निकल नहीं पाए कि हफ्ते के कुछ दिनों में बाल कटवाना, दाढ़ी मुंडवाना गृहों के लिये ठीक नहीं है। बचपन से ही इस तरह की बेतुकी बातों में रती भर भी विश्वास न होने की वजह से हमेशा इन ‘वर्जित’ दिनों में ही हेयर ड्रेसर के यहां जाना ठीक लगता है ... बिल्कुल भी इंतज़ार ही नहीं करना पड़ता।

बाल काटते समय उस 20-22 वर्षीय युवक ने मुझ से पूछा कि डाक्टर साहब, यह फंगल इंफैक्शन क्यों होती है, इस का इलाज क्या है! मेरे पूछने पर उस ने बताया है कि उसे पैरों पर फंगल है, और हाथों पर भी है...मैंने सोचा कि पैरों पर तो शायद वही खारिश वारिश होगी जो अकसर सर्दी-वर्दी के दिनों में कुछ लोगों को हो जाती है।

उसने आगे बताया कि जब वह हेयर-कलर इस्तेमाल करता है तो अचानक उस के पैरों में खारिश बहुत ज़्यादा बढ़ जाती है। आगे कहने लगा कि वह अपने लिये तो कभी इन कलर्ज़ का इस्तेमाल कभी नहीं करता ... लेकिन ग्राहकों के लिये वह दिन में कईं कईं बार हेयर-डाई का इस्तेमाल करता है...

उस ने आगे हाथ रखे तो मैं समझ गया कि यह चमड़ी रोग है ...Allergic contact dermatitis—मैंने उसे कहा कि दस्ताने डाल के अपना काम किया करे क्योंकि वह कभी भी हेयर-डाई करते वक्त ग्लवज़ नहीं डालता।

और मैंने उसे किसी चमड़ी रोग विशेषज्ञ से संपर्क करने के लिये कहा। अब बात उस की समझ में आ गई थी... मैंने बाहर आते वक्त उसे पैर दिखाने को भी कहा ...वहां पर भी हाथों की तरह ही पैरों की चमड़ी की तकलीफ़ – इसे फंगल समझ कर वह कईं कईं ट्यूबें इस्तेमाल कर चुका है ....वह भी क्या करे .. हिंदी के अखबारों में नित-प्रतिदिन इतने विज्ञापन आते हैं जो किसी को भी कोई भी विशेषज्ञ बना डालें।

उसे तो मैंने कह दिया कि यह सब हेयर-डाई के इस्तेमाल से हो रहा है और उसे चमड़ी रोग विशेषज्ञ से एक बार तो मिल ही लेना चाहिये ...हाथों वाली बात तो समझ में आती है  लेकिन पैरों पर एर्लिजक रिएक्शन हेयर डाई की वजह से ...बात कुछ ज़्यादा समझ में आती नहीं ...मैंने कल इस के बारे में गूगल भी किया ..लेकिन कुछ नहीं निकला...

सोचता हूं फेसबुक पर जो मेरे कुछ मित्र चमड़ी रोग विशेषज्ञ हैं जो अगर इस पोस्ट को पढ़ेंगे तो अपनी टिप्पणी में कृपया लिख दें कि क्या हेयर-डाई के इस्तेमाल करने से पैरों पर भी एलर्जिक रिएक्शन हो सकता है...

एब बार तो है कि अगर दर्द की एक टिकिया लेने से होने वाले रिएक्शन से सारे शरीर में खारिश, खुजली और फ़फोले से पड़ सकते हैं तो हेयर डाई से भी तो रिएक्शन से सब संभव ही तो है। लेकिन सोचता हूं कि यह अटकलबाजी न हो, इस लिये इस के बारे में प्रामाणिक बात का पता चलते ही इस पोस्ट को अपडेट करूंगा... हाथों पर तो उस वर्कर को हेयर डाई की वजह ही से समस्या हो रही है, कह रहा था कि अब दस्ताने डाला करेगा......

कल मुझे लगा कि कईं बार हम लोग केवल अपने बारे में ही सोचते हैं .... लेकिन उन लोगों की सेहत की फ़िक्र भी तो कोई करने वाला होना चाहिये जिन्हें इस तरह की समस्याओं का पता ही नहीं है, और कुछेक केसों में पता होते हुये भी पापी पेट के आगे यह हाथों, पैरों की खुजली घुटने टेक देती है !!

इस पोस्ट के शीर्षक को लिखते समय मुझे उस गीत का ध्यान आ गया जिसे मैं पिछले कईं दिनों से यू-ट्यूब पर ढूंढ रहा था लेकिन मिल नहीं रहा था .. आज अचानक दिख गया, बिल्कुल पोस्ट की बातों से मैच करता हुआ...




संबंधित लेख

हेयर ड्रेसर के पास जाने से पहले

नीम हकीम खतराए जान...

मैंने कुछ अरसा पहले अपने एक बुज़ुर्ग मरीज़ का ज़िक्र किया था कि वे किस तरह कभी कभी मेरे पास दस-बीस तरह की स्ट्रिप लेकर आते हैं, और मुझ से पूछ कर कि वे तरह तरह की दवाईयां किस किस मर्ज़ के लिये हैं उन के ऊपर छोटी छोटी पर्चियां स्टैपल कर देते हैं।

आज भी वह शख्स आये .. खूब सारी दवाईयां लिफ़ाफे में डाली हुईं ---कहने लगा कि जब मैं मरीज़ों से फ्री हो जाऊं तो उन्हें मेरे पांच मिनट चाहिए।

इस बार वे दवाईयों के साथ साथ पर्चीयां एवं स्टैपर के साथ साथ फैवीस्टिक भी लाए थे। मेरे से एक एक स्ट्रिप के बारे में पूछ कर उस के ऊपर लिखते जा रहे थे – ब्लड-प्रैशर के लिये, गैस के लिये, सूजन एवं दर्द के लिए आदि आदि।


 घर में रखी दो-तीन तरह की आम सी दवाईयों के बारे में जानकारी हासिल करने वाली बात समझ में आती है लेकिन इस तरह से अलग अलग बीमारियों के लिये इस्तेमाल की जाने वाली दवाईयों के ऊपर एक स्टिकर लगा देने से कोई विशेष लाभ तो ज़्यादा होता दिखता नहीं, लेकिन नुकसान अवश्य हो सकता है।


अब अगर घर में रखी किसी दवाई के ऊपर स्टिकर लगा दिया गया है कि यह ब्लड-प्रैशर के लिये है...यह काफ़ी नहीं है। चिकित्सक किसी को भी कोई दवाई देते समय उस के लिये उपर्युक्त दवाई  का चुनाव करते समय दर्जनों तरह की बातें ध्यान में रखते हैं --- जैसे ब्लड-प्रैशर की ही दवाई लिखते समय किसी के सामान्य स्वास्थ्य, उस की लिपिड-प्रोफाइल, गुर्दै कि कार्यक्षमता, उस की उम्र, वज़न आदि बहुत सी बातें हैं जिन्हें ध्यान में रखा जाता है। इसलिये इन दवाईयों पर लेबल लगा देने से और विशेषकर उन पर जिन्हें वह व्यक्ति ले नहीं रहा है, यह कोई बढ़िया बात नहीं है। अब सब तरह की दवाईयां अगर इस तरह से घर में दिखती रहेंगी तो उन के गल्त इस्तेमाल का अंदेशा भी बना ही रहेगा।

 एक दवा मेरे सामने कर के पूछने लगे कि यह किस काम आती है, मेरे यह बताने पर कि दर्द-सूजन के लिये है – फिर आगे से प्रश्न कि घुटने, दांत, सिर, पेट, बाजू, कमर-दर्द, पैर दर्द .....किस अंग की दर्द एवं सूजन के लिये ....अब इस तरह की बात का जवाब देने के लिये उन की पूरी क्लास लेने की ज़रूरत पड़ सकती थी ..... संक्षेप में मैंने इतना ही कहा कि इस तरह की दवाईयां अकसर कॉमन ही हुआ करती है।

फिर उन्होंने तथाकथित ताकत की दवाईयां – so called tonics—आगे कर दीं ... यह कब और वह कब, इस से क्या होगा, उस से क्या होगा.... बहुत मुश्किल होता है कुछ बातों का जवाब देना ... काहे की ताकत की दवाईयां ... पब्लिक को उलझाये रखने की शोशेबाजी...। एक -दो ऐंटीबॉयोटिक दवाईयों के बारे में पूछने लगा कि यह किस किस इंफैक्शन के लिये इस्तेमाल की जा सकती हैं, मैंने अपने ढंग से जवाब दे तो दिया ...लेकिन उन्होंने यह कह कर बात खत्म की कि गले खराब के लिये तो इसे लिया ही जा सकता है... मैं इस बात के साथ भी सहमत नहीं था।

घर में दो तीन तरह की बिल्कुल आम सी दवाईयां ऱखने में कोई बुराई नहीं है, लेकिन अगर इधर उधर से इक्ट्ठी की गई दवाईयों पर स्टिकर लगा लेने से कोई समझे कि बात बन जाएगी, तो बिल्कुल गलत है, इस से बात बनने की बजाए बिगड़ने का जुगाड़ ज़रूर हो सकता है। बिना समझ के किसी को भी कोई दवा की एक टैबलेट भी दी हुई उत्पात मचा के रख सकती है।

इतनी सारी ब्लड-प्रैशर की दवाईयां तो हैं लेकिन उन्होंने इन्हें इस्तेमाल करना बंद किया हुआ है क्योंकि कुछ दिनों से उन्होंने एक होम्योपैथिक दवाई शुरू की है जिस की एक शीशी एक हज़ार रूपये की आती है, मेरे यह कहने पर कि आप नियमित ब्लड-प्रैशर चैक तो करवा ही रहे होंगे, वह कहने लगे कि नहीं, नहीं, मैं इस की ज़रूरत नही समझता क्योंकि उन्हें लगता है कि उन्हें कोई तकलीफ़ है ही नहीं..... अब किसी को समझाने की भी एक सीमा होती है , उस सीमा के आगे कोई क्या करे!!

इन की अधिकांश दवाईयां यूं ही बिना इस्तेमाल किए बेकार ही एक्सपॉयरी तारीख के बाद कचरे दान में फैंक दी जाएंगी ....जब कि किसी को इन की बहुत ज़्यादा ज़रूरत हो सकती है। तो फिर क्यों न अस्पतालों में रखी दवा की दान पेटियों अथवा अनयुय्ड़ दवाईयों (unused medicines) के बक्से में इन को डाल दिया जाए.....ताकि किसी के काम तो आ सकें.... और स्वयं भी घर पर रखे-रखे इन के इस्तेलाम संबंधी गलत इस्तेमाल से बचा जा सके........ जाते जाते मैंने अपने अटैंडैंट से कहा कि इन बुज़ुर्ग की दवाईयों पर चिट लगाते हुये एक तस्वीर खींच लें, मैंने सोचा इस से मुझे अपनी बात कहने में आसानी होगी।

उन के जाने के बाद मैं फिर से दूसरे मरीज़ों में व्यस्त हो गया .....लेकिन मैं भी सुबह सुबह कैसी गंभीर बातें लेकर बैठ गया ... जो भी आपने मेरे लेख में पढ़ा उसे भुलाने के लिये इस गीत की मस्ती में खो जाइए ---



Updating at 6:55 AM (11.3.2011)
पोस्ट में नीरज भाई की एक टिप्पणी आई ...कमैंट बाक्स में जाकर कमैंट लिखना चाहा, तो लिख नहीं पाया ..(क्या कारण है, टैकसेवी बंधु इस का उपचार बताएं, बहुत दिनों से यह समस्या पेश आ रही है) .... इसलिये इसी लेख को ही अपडेट किये दे रहा हूं ....
@ नीरज जी, लगता है मुझे बात पूरी खोलनी ही पड़ेगी... हां तो, नीरज जी इन का एक बेटा किसी बहुत बड़ी कंपनी में सर्विस करता है जहां से इन्हें सभी तरह की चिकित्सा मुफ्त मिलती है। और जो मैं एक हजा़र रूपये वाली ब्लड-प्रैशर की होम्योपैथिक दवा की बात कर रहा था वह भी इन्हें वहीं से मिली हैं। बता रहे थे कि बेटा अच्छी पोस्ट पर है, इसलिये कंपनी के डाक्टरों की उन पर विशेष कृपा-दृष्टि बनी रहती है और वे उन्हें दो-तीन महीने बाद नाना प्रकार की दवाईयों से लैस कर के ही भेजते हैं।
अकसर दो तीन महीने में उन से सुन ही लेता हूं कि डाक्टर साहब, इस बार बेटे के पास गया था तो वहां पर मैंने 36 या 37 टैस्ट करवाए ... लेकिन सोचने की बात यह है जैसा कि मैंने लेख में भी लिखा कि वह अपने ब्लड-प्रैशर की जांच करवाने के लिये राजी नहीं है....
नीरज, धन्यवाद, यह इतना महत्वपूर्ण सवाल पूछने के लिये ...







Friday, March 4, 2011

स्वस्थ लोगों को बीमार करने की सनक या कुछ और !

msnbc.com पर दो दिन पहले एक रिपोर्ट दिखी थी .. America’s past of US human experiments uncovered. इसे आप अवश्य पढ़िये क्योंकि तभी आप शायद समझ पाएंगे कि जब विदेशी कंपनियां अपनी दवाईयों, अपने इंजैक्शनों की टैस्टिंग के लिये भारत के लोगों को गिनि-पिग (guinea pigs) की तरह इस्तेमाल करते हैं तो क्यों मीडिया में इतना हो-हल्ला खड़ा हो जाता है। इसे जानने के लिये आप आगे पढ़िये।

अमेरिका में 1940 से 1960 के बीच कुछ ऐसे प्रयोग किये गये जिन में स्वस्थ लोगों को बीमार बना कर मैडीकल रिसर्च की गई। ये प्रयोग अपंग लोगों, कैदीयों, मानसिक रोगियों एवं गरीब अश्वेत लोगों पर किये गये।

मेरी तरह आप की यह सुन कर मत चौंकिये कि मानसिक रोगियों को हैपेटाइटिस बीमारी से बीमार किया गया। कैदियों को पैनडैमिक फ्लू नामक बीमारी के कीटाणु सूंघने के लिये दिये गये।

जैसे कि यह सब काफ़ी न था ---लंबे अरसे से बीमार लोगों को कैंसर कोशिकाओं का टीका लगा दिया गया।

आज से 65 साल पहले गिटेमाला में मानसिक रोगियों को सिफ़लिस (आतशक, एक यौन रोग) का रोगी बना दिया गया ... कुछ लोगों को सूज़ाक (gonorrhea, यौन रोग) की बीमारी से ग्रस्त करने के लिये उन के गुप्तांग पर सूज़ाक के जीवाणुओं के टीके लगाये गये।

और रिपोर्ट में कहा गया है कि ऐसे दर्जनों प्रयोग किये गये जिन्हें उस समय के मीडिया द्वारा कभी कवर भी नहीं किया जाता था। एक और रिसर्च के बारे में सुनिए – 600 अश्वेत मरीज़ों को जो सिफिलिस (आतशक) से ग्रस्त थे, उन्हें दवाई ही नहीं दी गई।

जिस msnbc.com की रिपोर्ट का मैंने ऊपर लिंक दिया है, उस में एक डाक्टर को दिखाया गया है कि किस तरह से 1945 में वार्ड में एक मरीज़ में मलेरिया रोग उत्पन्न करने के लिये प्रयत्नशील है।  यह सब मैंने आज पहली बार देखा है...

अब मेरे से और नहीं लिखा जा रहा, बाकी रिपोर्ट आप स्वयं ही पढ़ लीजिएगा ..... और इस तरह के कामों को सही ठहराने के लिये कुछ तर्क भी इस रिपोर्ट में दिये गये हैं जिन के साथ मैं तो व्यक्तिगत रूप से सहमत नहीं हूं.... आप का क्या ख्याल है ?

जब मैं डैंटिस्ट्री पढ़ रहा था तो हमारे प्रोफैसर साहब हमें एक Vipeholm Study (1945-55) के बारे में सुनाया करते थे किस तरह एक मानसिक रोग केंद्र में मानसिक रोगों में दंत-क्षय पैदा करने के लिये जम कर मिठाईयां आदि खिलाई जाती थीं और ये सुन कर ही हमारे चेहरे लाल हो जाया करते थे लेकिन अब वक्त के साथ लगता है सच में खून ठंड़ा पड़ चुका है, क्योंकि इतना सब कुछ पढ़ लेने के बाद भी कुछ भी नहीं हुआ। कहीं आप का सिर तो चकराने नहीं लग गया ?





पैरों की सेहत—मछली ने संवार दी, कुत्ते ने बिगाड़ दी ?

कुछ साल पहले से यह तो सुनने में आने लगा था कि पैरों की देखरेख भी अब ब्यूटी पार्लर में होती है जहां पर इस के लिये दो-तीन सौ रूपये लगते हैं ...लेकिन इस तरह के क्रेज़ के बारे में शायद ही आप ने सुना हो कि पैरों की साफ़-सफ़ाई के लिये छोटी छोटी मछलियों की मदद लेने की नौबत आ गई है।

इस तरह की साज सज्जा के दौरान एक पानी के टब में जिस में एक विशेष तरह की मछलियां पड़ी रहती हैं उन में पैरों को डुबो दिया जाता है और ये नन्ही मुन्नी मछलियां पैरों पर धीरे धीरे काट कर मृत चमड़ी (dead skin) को उतार देती हैं। लेकिन चिंता की बात यह है कि इस तरह का शौक पालने से तरह तरह की इंफैक्शन का जो खतरा मंडराने की बात होने लगी है, उसे समझने की ज़रूरत है। वैसे भी अपना देसी बलुआ पत्थर (sandstone, पंजाबी में इसे झांवा कहते हैं) इस काम के लिये क्या किसे से कम है ....एकदम सस्ता, सुंदर और टिकाऊ उपाय है, लेकिन अगर किसी को अथाह इक्ट्ठी की हुई दौलत से बेइंतहा खुजली हो तो कोई क्या करे? …. फिर तो शुक्र है कि इस काम के लिये मछली से ही काम चलाया जा रहा है !!

यह खबर देख कर बहुत दुःख हुआ .... रात को एक आदमी सोया, सुबह उठा तो देखता है कि उस के पांव की तीन उंगलियां और पैर का एक हिस्सा उस का पालतू कुत्ता खा गया है.. दरअसल इस आदमी को डायबीटीज़ रोग था जिस की वजह से उस के पैर सुन्न पड़ चुके थे, उन में किसी तरह का कोई अहसास नहीं होता था, इसलिये जब कुत्ता अपना काम कर रहा था तो उसे पता ही नहीं चला...एक दुःखद घटना। मधुमेह के रोगियों को यह खबर चेता रही है कि अपनी ब्लड-शुगर के स्तर को नियंत्रण में रखें, अपनी पैरों की भी विशेष देख भाल करें, छोटी मोटी तकलीफ़ होने पर विशेषज्ञ से परामर्श लें और रात में अपने कुत्ते को अपने कमरे में न रखें ......यह कुत्ते को अपने साथ रखने वाली बात मैंने कहीं पढ़ी नहीं है, लेकिन इस खबर से तो इस का यही मतलब निकलता है !!
Further reading --
For diabetics --keep your feet and skin healthy.

बुज़ुर्गों के आर्थिक शोषण को नासमझने की नासमझी

कुछ अरसा पहले मेरी ओपीडी में एक बुज़ुर्ग दंपति आये थे ...पता नहीं बात कैसे शुरू हुई कि उन्होंने अपनी असली बीमारी मेरे सामने रख दी कि उन का इकलौता बेटा जो तरह तरह के नशे लेने का आदि हो चुका है, उन की पेंशन छीन लेता है। विरोध करने पर अपने पिता पर हाथ भी उठाने लगता है, जब उन का छः-सात साल का पौता उस बुज़ुर्ग को बचाने की कोशिश करता है तो उस का पिता उसे भी पीट देता है...............और उन दंपति के सहमे हुये चेहरे और भी बहुत कुछ ब्यां कर रहे थे !

मैं सोच रहा था कि यह बुज़ुर्ग जो उच्च रक्तचाप की दवाईयां ले रहा है, इस से क्या हो जाएगा? तकलीफ़ कहीं और है जिसे देखने के लिये हमारी आधुनिक चिकित्सा व्यवस्था के पास आंखें है ही नहीं.... चाहे ऐसे मरीज़ की हर माह दवाई बदल दी जाए, पुरानी दवाईयों में नईं और जोड़ दी जाएं ... तो क्या हम सोच सकते हैं कि यह ठीक रह सकता है ? ……..मुझे तो कभी भी ऐसा नहीं लगा!!

बुज़ुर्गों के शारीरिक उत्पीड़न (physical torture) के साथ साथ उन का आर्थिक शोषण भी किया जा रहा है, लेकिन ज्यादातर ऐसे किस्से ये बुज़ुर्ग ही दबाए रखते हैं ....वही पुरानी दलीलें ..घर की बदनामी होगी, बेइज्जती होगी, बेटा या बहू इस से और ढीठ हो जाएंगे वगैरह वगैरह ......इसलिये यह सिलसिला बुजुर्गों के दम निकलने तक चलता ही रहता है।

और इस तरह की यातना झेलने के बाद जब ये बुज़ुर्ग बदहवास से होते हैं तो यह कह कर पल्ला झाड़ लिया जाता है कि उम्र की तकाज़े की वजह से अब ये पगला गये हैं, अब इन का जाने का समय आ गया है।
आप को भी शायद यह लगता होगा कि यह सब तो हम जैसे देशों में ही होता होगा ...लेकिन न्यू-यार्क टाइम्स की यह रिपोर्ट .... When abuse of older adults is financial...वहां की परिस्थितियों के बारे में भी बहुत कुछ बताती है।

रिपोर्ट में कितनी साफ़गोई से लिखा गया है कि डाक्टर लोग बुज़ुर्गों के आर्थिक शोषण के मुद्दे को अकसर नज़रअंदाज़ कर दिया करते हैं। अगर कोई ऐसा मरीज़ कहता है कि उस ने अपने पैसे किसी जगह रखे थे लेकिन वह उसे मिल नहीं रहे, उस की पचास-साठ पुरानी शादी की अंगूठी पता नहीं कहां चली गई, अगर कोई बुज़ुर्ग कहता है कि उस ने एक खाली फार्म पर हस्ताक्षर तो कर दिये हैं लेकिन उसे उस की कोई समझ नहीं ....और भी ऐसी बहुत सी बातें ... तो ऐसे में डाक्टर क्या करते हैं ... उन की बातों की गहराई में जाकर कुछ ढूंढने की बजाए यही सोच लेते हैं कि ये सब भूल-भुलैया तो अब इन के साथ चलेंगी ही ...इसलिये उन्हें दी जाने वाली टेबलेट्स की लिस्ट में कुछ और दवाईयां जोड़ दी जाती हैं, या फिर कोई और टैस्ट करवाने की हिदायत दे दी जाती है। 

यह सब कुछ इस देश में भी हो रहा है ..और बड़े स्तर पर .. ... सोचने की बात है कि  किसी की अति-वरिष्ट नागरिक की लेबलिंग करने से क्या सब कुछ ठीक हो जाएगा?

यह तो बात पक्की है कि बुज़ुर्गों का हर तरह का शोषण हो रहा है ... और इस के एक प्रतिशत केस भी जगजाहिर नहीं होते ... और यह सब होता इतने नर्म तरीके और सलीके (subtle way) से है कि उन्हें घुट घुट कर मारने वाली बात दिखती है। भारत में अभी भी नैतिक मूल्य काफ़ी हद तक कायम तो हैं लेकिन पश्चिम की देखा देखी अब इन का भी ह्रास तेज़ी से हो ही रहा है। कानून तो बन गये कि मां बाप की देखभाल करना बच्चों की जिम्मेवारी है लेकिन ऐसा कानून कितने लोग इस्तेमाल करते हैं या कर पाते हैं ....यह बताने की कोई ज़रूरत नहीं !!

इस का कारण व इलाज यही है कि अब नईं पीढ़ी को सही संस्कार नहीं मिल पा रहे—आर्कुट, फेसबुक, ट्विटर पर सारा दिन जमे रहने से तो ये मिलने से रहे, ये केवल किसी सत्संग में बैठ कर किसी महांपुरूष की बातें सुन कर ही ग्रहण किये जा सकते हैं और साथ ही साथ बच्चे हर काम में अपने मां-बाप का ही अनुसरण करते हैं, इसलिये उन के सामने मां-बाप को भी आदर्श उदाहरण रखनी होगी .....वरना तो वही बात ... बीस-तीस सालों बाद वही व्यवहार यही बच्चे उन के साथ करने वाले हैं!!

यह दकियानूसी बात नहीं है कि बच्चों को किसी भी सत्संग के साथ जोड़ने में और जोड़े रखने में ही सारे समाज की भलाई है ताकि वे अपने नैतिक मूल्यों एवं जिम्मेदारियों के प्रति सचेत रह सकें ......इस के अलावा कोई भी रास्ता मेरी समझ में तो आता नहीं..... दुनिया तो ऐसी ही है कि एक 80 साल की महिला के बस द्वारा कुचले जाने पर मुआवजा देने से बचने के लिये एक सरकारी इंश्योरैंस कंपनी कहती है कि इस के लिये काहे का मुआवजा, यह तो बोझ है!! ……. लेकिन जज ने फिर उस कंपनी को कैसे आड़े हाथों लिया, यह जानने के लिये इस लिकं पर क्लिक करिये ...Insurance firm's view on old people insulting ..





Thursday, March 3, 2011

डॉयबीटीज़ की मैनेजमेंट में हो रही विश्व-व्यापी गड़बड़

मैं अकसर यही सोचता रहा हूं कि डायबीटीज़ की मिस-मैनेजमैंट भारत ही में हो रही है, लेकिन कुछ रिपोर्टें ऐसी देखीं कि लगा कि इस से तो अमीर देश भी खासे परेशान हैं।

भारत में बहुत से लोगों को तो पता ही नहीं कि उन्हें मधुमेह है –कभी कोई चैकअप करवाया ही नहीं। पूछने पर बताते हैं कि जब हमें कोई तकलीफ़ ही नहीं तो फिर चैक-अप की क्या ज़रूरत है!

जब मैं किसी ऐसी व्यक्ति को मिलता हूं जो लंबे अरसे से डायबीटीज़ को अपने ऊपर हावी नहीं होने दे रहा तो मुझे बहुत प्रसन्नता होती है। लेकिन अधिकतर लोग मुझे ऐसे ही मिलते हैं जिन में मधुमेह की मैनेजमेंट संतोषजनक तो क्या, चिंताजनक है।

दवाईयों का कुछ पता नहीं, कभी खरीदीं, जब लगा “ठीक हैं” तब दवाईयां छोड़ दीं, कईं कईं सालों पर शूगर का टैस्ट करवाया ही नहीं, किसी शुभचिंतक ने कभी कोई देसी पुड़िया सी दे दीं कि यह तो शूगर को जड़ से उखाड़ देगी, कभी किसी तरह की शारीरिक सामान्य जांच नहीं, वार्षिक आंखों का चैक-अप नहीं, ग्लाईकोसेटेड हिमोग्लोबिन टैस्ट नियमित तो क्या कभी भी नहीं करवाया, रोग के बारे में तरह तरह की भ्रांतियां, नकली एवं घटिया किस्म की दवाईयों की समस्या, कभी ऐलोपैथी, अगले महीने होम्योपैथी, फिर आयुर्वैदिक और कुछ दिनों बाद यूनानी या फिर कुछ दिनों तक इन सब की खिचड़ी पका ली, शारीरिक श्रम न के बराबर, खाने पीने पर कोई काबू नहीं.............ऐसे में हम लोग किस तरह की डॉयबीटीज़ की मैनेजमेंट की बात कर सकते हैं !

डाक्टर अपनी जगह ठीक हैं, व्यवस्था ऐसी है कि किसी भी अस्पताल में मैडीकल ओपीडी देख लें...वे एक-दो मिनट से ज़्यादा किसी मरीज़ को दे नहीं पाते .... और जिन बड़े अस्पतालों में वे 15-20 मिनट एक मरीज़ को दवाईयां समझाने में, जीवनशैली में परिवर्तन की बात समझाते हैं, वे देश की 99.9प्रतिशत जनता की पहुंच से बाहर हैं।

लेकिन यह हमारी समस्या ही नहीं लगती ...एक रिपोर्ट देखिए जिस में बताया गया है कि संसार में करोड़ों लोग ऐसे हैं जिन को अभी पता ही नहीं है कि उन्हे शूगर रोग है और जिन का इलाज उचित ढंग से नहीं हो पा रहा है, जिस की वजह से वे मधुमेह से होने वाली जटिलताओं (complications)का जल्दी ही शिकार हो जाते हैं और एक बात—कल यह भी दिखा कि किस तरह से डायबीटीज़ रोग का ओव्हर-डॉयग्नोज़िज हो रहा है।

डायबीटीज़ एक महांमारी का रूप अख्तियार कर चुकी है और एक अनुमान के अनुसार आज विश्व भर में 28 करोड़ अर्थात विश्व की कुल जनसंख्या का लगभग 7 प्रतिशत भाग इस रोग की गिरफ्त में है।

अमेरिका में लगभग 90 प्रतिशत लोग ऐसे हैं जिन का मधुमेह ठीक तरह से कंट्रोल नहीं हो रहा है, मैक्सिको में यह आंकड़े 99 प्रतिशत हैं ... थाईलैंड में लगभग 7 लाख लोगों पर एक सर्वे किया गया जिस का रिज़ल्ट यह था कि उन में से 62 प्रतिशत लोगों में या तो डायबीटीज़ डायग्नोज़ ही नहीं हुई और या उन में इस अवस्था का इलाज ही नहीं हुआ................यह आंकड़े केवल इसलिये कि हम थोड़ा सा यह सोच लें कि हमारे देश में इस के बारे में स्थिति कितनी दहशतनाक हो सकती है, इस का आप भलीभांति अनुमान लगा ही सकते हैं। दो दिन पहले ही कि रिपोर्ट है (लिंक नीचे दिया है) कि इंग्लैंड में लगभग एक लाख लोगों का डायबीटीज़ का डायग्नोसिस ही गलत था।

सदियों पुरानी बात है ... जिसे बाबा रामदेव हर दिन सुबह सवेरे दोहरा रहे हैं ... परहेज इलाज से बेहतर है ... लोग पता नहीं क्यों इस संयासी के पीछे हाथ धो कर पड़े हुये हैं, राजनीति के बारे में मैं कोई भी टिप्पणी करने में असमर्थ हूं , मैं तो केवल यह जानता हूं कि विश्व में लोग इस महान संत की वजह से सुबह उठना शुरू हो गये हैं, कम से कम किसी की अच्छी बातें सुनने लगे हैं, थोड़ा बहुत अपनी खान-पान जीवनशैली को बदलने की दिशा में अग्रसर हुये हैं, थोड़ा बहुत योग करने लगे हैं, जड़ी-बूटियों की चर्चा होने लगी है......केवल यही कारण हैं कि मैं मानता हूं कि बाबा जिस तरह से विश्व की सेहत को सुधारने में जुटा हुआ है , उसे देख कर मैं यही सोचता हूं .........एक नोबेल पुरस्कार तो बनता है!!

संबंधित लेख
Diabetes out of control in many countries : study. (medline)
Review Reveals thousands wrongly diagnosed diabetics.


लगातार चलते रहने के लिये प्रेरित करता हुआ एक पुराना गीत ..


Wednesday, March 2, 2011

अस्पताल में होने वाली इंफैक्शन की व्यापकता

अस्पताल में भर्ती लोगों को जो संक्रमण (इंफैक्शन) उन को वहां दाखिल होने के दौरान लग जाते हैं उन्हें हास्पीटल-एक्वॉयर्ड संक्रमण कहते हैं। सामान्यतयः इस विषय पर बात करना एक पाप समझा जाता है क्योंकि इस से अस्पतालों की साख पर प्रश्न उठ सकता है। मीडिया में दो एक साल में एक सनसनीखेज़ सी रिपोर्ट दिख जाती है कि भारतीय अस्पतालों में हास्पीटल इंफैक्शन रेट इतना ज़्यादा है, इस से ज़्यादा कुछ विशेष मुझे कभी दिखा नहीं।

मैं भी अकसर भारत से संबंधित इस तरह के आंकड़े इंटरनेट पर ढूंढता रहता हूं.. लेकिन मुझे बहुत अफसोस से कहना पड़ता है कि ये आंकड़े कभी दिखते नहीं है, इस का कारण जो मुझे लगा वह मैं पहली ही बता चुका हूं।

मैडीकल ऑडिट (medical audit) नाम की बात तो शायद कहीं दिखती नहीं ...बड़े बडे टीचिंग अस्पतालों में इस तरह की मीटिंग नियमित होती होंगी लेकिन भारत में तो मैं इन के बारे में कम ही सुनता हूं।और इस के कारण लिखने की ज़रूरत मैं नहीं समझता।

मैडीकल ऑडिट तो आप जानते ही होंगे ... यह एक ऐसी व्यवस्था है जिस को अगर पूर्ण इमानदारी से निभाया जाए तो चिकित्सा सुविधाओं को यह पता चलता रहता है कि किस किस जगह पर चूक हुई और ये गल्तियां फिर से न दोहरायी जाएं, इस के उपायों पर चर्चा भी होती है। एक महीने में जितने मरीज़ों की अस्पताल में मौत हो जाती है, उन के बारे में भी चर्चा होती है, क्या उन्हें समुचित इलाज दिया गया, क्या उन के सभी ज़रूरी टैस्ट करवा लिये गये अथवा उन की बीमारी का डॉयग्नोसिस क्या सही है, ये सारी बातें एक मैडीकल ऑडिट कमेटी जांचती है।

उसी तरह से अच्छे अस्पतालों में एक हास्पीटल इंफैक्शन कंट्रोल कमेटी भी होती है जो इस बात को लगातार सुनिश्चित करती है कि किस तरह से इस तरह के इंफैक्शन की व्यापकता में लगातार कमी लाई जाए। जो मैंने सुना है कि अधिकतर तौर पर बढ़िया बढ़िया कमेटियां तो बन जाती हैं, लेकिन यह कितना सुचारू रूप से काम कर पाती हैं, यह तो वही जानते हैं।

अब बात आती है, पारदर्शिता की .. ठीक है, आम आदमी ने सूचना के अधिकार कानून का इस्तेमाल कर के अपना राशन-कार्ड तो बनवा लिया, पंचायत का लेखा जोखा तो मांग लिया लेकिन कुछ मुद्दे ऐसे हैं जिन के बारे में शायद किसी आमजन ने सोचा ही नहीं है, और अस्पताल के भर्ती होने के दौरान जो इंफैक्शन किसी मरीज़ को लग सकती है (नोज़ोकोमियल इंफैक्शन – nosocomial infection), यह भी एक ऐसा ही मुद्दा है जिस के बारे में आम आदमी ज़्यादा अवेयर ही नहीं और न ही इस के बारे में कोई बात करने को राजी ही है।

लेकिन पारदर्शिता की दाद मैं उस समय देते न रह सका जब आज मैं न्यू-यार्क टाइम्स की एक रिपोर्ट देख रहा था कि अमेरिका में इंटैंसिव केयर यूनिट में सैंट्रल लाइन इंफैक्शन के केसों की संख्या में 2001 की तुलना में वर्ष 2009 में 58प्रतिशत की कमी आई है – 2001 में इस तरह के 43000 केस थे और 2009 में यह आंकडा 18000 तक आ गया है।

सैंट्रल लाइन इंफैक्शन से अभिप्रायः उन ट्यूबों से उपजे संक्रमण से है जिन्हें मरीज़ के अस्पताल में दाखिल होने के दौरान मरीज़ की गले अथवा छाती की बड़ी शिराओं (veins, रक्त की नाड़ी) में डाला जाता है जिन के द्वारा दवाईयां एवं न्यूट्रिशन मरीज़ों तक पहुंचाई जाती है।

यह नोट करें कि इस अमेरिकी रिपोर्ट में कहा गया है कि सैंट्रल-लाइन इंफैक्शन आम समस्या है लेकिन इस तरह के ज़्यादातर केसों से मरीज को बचाया जा सकता है। इस तरह के इंफैक्शन सीरियस हो सकते हैं और 12 से 25 प्रतिशत केसों में मौत भी हो सकती है।

एक समस्या और भी है.... अमेरिकी आंकड़े हैं कि वहां पर रोज़ाना लगभग तीन लाख पचास हज़ार मरीज़  लोग गुर्दे के रोगों के इलाज हेतु अपनी डॉयलायसिस करवाते हैं ..और 2008 में 37000 हज़ार मरीज़ों को सैंट्रल लाइन इंफैक्शन हो गई – और इस तरह की इंफैक्शन डायलिसिस के दौरान मरीज़ों को अधिक समय तक भर्ती रखे जाने और उन की मृत्यु का मुख कारण है। लेकिन हमारे अपने यहां के आंकड़े कहां हैं ?

यह पोस्ट केवल यह बात रेखांकित करती है कि अगर अमेरिका जैसा देश इतने सीरियस मुद्दे पर इतनी पारदर्शिता रख सकता है तो अपने यहां ऐसा करने में आखिर क्या परेशानी है? हमें क्यों इस तरह के आंकड़े कहीं नहीं दिखते --- मैं आम नागरिक की बात नहीं कर रहा हूं – इस तरह के विश्वसनीय जानकारी हमें भी कहां दिखती है। सब कुछ चटाई के नीचे सरका देने ही से क्या सब कुछ ठीक ठाक हो जाएगा?  ….सोचने की बात यह है कि अमेरिका जैसे देश में अगर इस तरह की इंफैक्शन इतनी व्यापक है तो हम लोग कल्पना कर सकते हैं कि हमारे यहां पर ज़मीनी वास्तविकता क्या होगी।

नीम-हकीमों द्वारा खोले गये अस्पताल, अन-ट्रेंड स्टाफ, अन-ट्रेंड नर्सें, शिक्षा का अभाव, तरह तरह के मैडीकल उपकरणों की रि-साईक्लिंग..... क्या फ़ायदा ये सब कारण गिनाने का .. चिकित्सा सुविधायों को स्वयं अपने अंदर झांकने की ज़रूरत है ... और एक बात .... कहीं से पता चले कि अपने देश के लिये इस तरह के आंकड़े कहां से मिलेंगे, तो बतलाईयेगा ......ठीक या गलत, जैनूईन या फ़र्ज़ी वो तो बाद की बात है, पहले किसी विश्वसनीय पोर्टल पर ये आंकड़े दिखें तो सहीं, फिर इस का इलाज भी हो जाएगा, लेकिन अगर मर्ज़ की व्यापकता का ही पता नहीं है, तो फिर इस निष्क्रियता रूपी कोढ़ का आप्रेशन कैसे होगा !!

Further Reading …
Fewer Patients in ICU getting Blood Infections
Fewer Bloodstream Infections in Intensive care, CDC says




एचआईव्ही दवाईयों की लूटमार से परेशान अफ्रीकी मरीज़

आप को भी विश्वास नहीं हो रहा होगा कि दवाईयों की लूटमार — मुझे भी नहीं हो रहा था लेकिन पूरी खबर पढ़ने के बाद यकीन हो जाएगा।

भारत में रहते हैं तो महिलायों की सोने की चेन की छीना-झपटी की वारदातें रोज़ सुनते हैं, बैंको से बाहर निकलते लोगों के पैसे छीने जाने की घटनाएं आम हो गई हैं, गाड़ियों में लूट-खसोट की घटनाओं को भी सुना है लेकिन यह दवाईयों की लूटमार के बारे में पहली बार ही सुन रहे होंगे।

मैंने कहीं पर पढ़ा था कि कईं देशों में लोगों की आर्थिक हालत इस तरह की हो चुकी है कि वे कुछ पैसे के लिये अपनी महंगी एचआईव्ही दवाईयां तक बेच देते हैं और अपनी ज़िंदगी को दवा न खाने की वजह से खतरे में डाल देते हैं।

लेकिन यह अफ्रीकी लोगों में वूंगा नामक नशे ने तो कहर ही बरपा रखा है। वहां पर एचआईव्ही संक्रमित लोगों की महंगी दवाईयां उन से लूट कर इस नशे के रैकेट में लिप्ट माफिया उन दवाईयों को डिटर्जैंट पावडर एवं चूहे मारने वाली दवाई से मिला कर एक बेहद घातक नशा तैयार करते हैं जिसे फिर वे महंगे दामों पर बेचते हैं।

यह तो आप जानते ही है कि अफ्रीका में एचआईव्ही-एड्स एक तरह की महामारी है, इस से संबंधित आंकड़े कुछ इस प्रकार हैं ..
  • अफ्रीका में लगभग 57 लाख लोगों में एचआईव्ही संक्रमण है
  • इन संक्रमित लोगों में से 18 फीसदी 15 से 49 आयुवर्ग से हैं
  • लगभग चार लाख साठ हज़ार लोग एंटी-रिट्रो-वॉयरल दवाईयां ले रहे हैं (2008 का अनुमान)
  • एड्स से अब तक तीन लाख पचास हज़ार मौतें हो चुकी हैं (2007 का अनुमान)
  • 14 लाख बच्चे अफ्रीका में एड्स की वजह से अनाथ हैं
    थोड़ा सा यह जान लेते हैं कि ये जो एंटी-रिट्रो-वॉयरल दवाईयां एचआईव्ही संक्रमित लोगों को दी जाती हैं, वे क्या हैं? ये महंगी दवाईयां इन मरीज़ों को इस लिये दी जाती हैं ताकि उन की गिरती रोगप्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटि) को थाम के रखा जा सके जिस से उन के जीवनकाल को बढ़ाया जा सके। भारत में आपने पेपरों में देखा ही होगा कि कभी कभी रेडियो एंव अखबारों में इस तरह के विज्ञापन आते हैं कि एचआईव्ही संक्रमित व्यक्ति फलां फलां चिकित्सालयों से ये दवाईयां मुफ्त प्राप्त कर सकते हैं ।

और यह निर्णय विशेषज्ञों का रहता है कि किन मरीज़ों में ये दवाईयां शुरु करने की स्थिति आ गई है ...यह सब एचआईव्ही संक्रमित बंदे की रक्त जांच के द्वारा पता चलता है कि उस में इम्यूनिटि का क्या स्तर है !

हां, तो बात अफ्रीका की हो रही थी – बीबीसी की रिपोर्ट से यह पता चलता है कि वहां पर लोग इस तरह के आतंक से कितने भयभीत हैं... वे लोग स्वास्थ्य केंद्रों पर जाकर दवाई लेने से ही इतने आतंकित हैं ---कोई पता नहीं बाहर आते ही ये लुटेरे उन से कब दवाईयां छीन कर नौ-दो ग्यारह हो जाएं।

दोहरी मार को देखिये ---एक तरफ़ तो जिन से ये एचआईव्ही संक्रमण के लिये दी जाने दवाईयां छीन लीं –उन की जान को तो खतरा है ही, और दूसरी तरफ़ जिन्हें वूंगा नाम नशा तैयार कर के बेचा जा रहा है, उन की ज़िंदगी भी खतरे में डाली जा रही है।

लोग इन दवाईयों को स्वास्थ्य इकाईयों से लेते वक्त इतने भयभीत होते हैं कि वे अब उन्होंने ग्रुप बना कर जाना शुरू कर दिया है।

इंसान अपने स्वार्थ के लिये किस स्तर तक गिर सकता है, यह देख कर सिर दुःखने लगता है, मेरा भी सिर भारी हो रहा है, इसलिये अपनी बात को यहीं विराम देता हूं।

Tuesday, March 1, 2011

नेपाल में साधु न बेच पाएंगे भांग

नेपाल में साधू कल शिवरात्रि के अवसर पर भांग न बेच पाएंगे... कल शिवरात्रि के अवसर पर हज़ारों साधू नेपाल के सुप्रसिद्ध पशुपतिनाथ मंदिर पर इक्ट्ठा होंगे। भारत से भी बहुत से साधू वहां पहुंच रहे हैं।

साधुओं के द्वारा भांग पर लगी बिक्री के सिलसिले में कुछ साधुओं को तो अंदर कर दिया गया है और कुछ पर नज़र रखी जा रही है।

भांग के पकौड़े शिवरात्रि एवं होली के अवसर पर खूब चलते हैं ---हर बार इन के खाने से कईं हादसे होते हैं जिस कारण बहुत से लोगों को अस्पताल में भरती भी करवाना पड़ता है। तबीयत बिगाड़ने के लिये मैंने सुना है कि एक पकौड़ा ही काफ़ी है।

होली के अवसर पर तो लोग मस्ती में इस तरह की चीज़ें खाते हैं ... कईं बार कुछ यार दोस्त मज़ाक में इस तरह की चीज़ें खिला देते हैं जिस की वजह से अचानक तबीयत बिगड़ जाती है।

आज एक व्यक्ति बता रहा था कि खाते वक्त पता नहीं चलता, आम पकौड़ों की तरह ही होते हैं ये भांग के पकौड़े भी ...लेकिन कुछ समय बाद ही नानी याद आने लगती है, खाने वाले को तो शायद उतनी नहीं, जितनी उस के मित्रों एवं परिवारजनों को।

मैंने तो आज तक कभी भांग के ना ही तो पकौड़े खाये हैं और न ही भांग ही पी है ... बस अपना काम इस गीत को सुन कर ही चलाया है .......आप ने क्या सोचा है ?
Source : Nepal sadhus banned from selling cannabis at temple