Tuesday, May 31, 2016

फिर से सीवर निगल गया एक युवा ...

(ठीक से पढ़ने के लिए आप इस इमेज पर क्लिक कर सकते हैं, वैसे उस से भी होगा क्या!)
आज सुबह अखबार में यह खबर पढ़ कर बहुत कष्ट हुआ...लखनऊ में एक जगह सीवर की कोई शिकायत थी...सफाई कर्मी की तबीयत ठीक ना थी, २० साल का बेटा चला गया..सीवर में नीचे उतरा...वहां से चीखा कि मेरा दम घुट रहा है...रस्सी के द्वारा उसे बाहर खींचने की कोशिश हुई..अभागे के हाथ से रस्सी छूट गई..खत्म हो गया उसी समय जहरीली गैस की वजह से...बेहद दुःखद, अफसोसजनक ...।

खबर सुन कर बाप भी भागा...नीचे उतरा...उसे भी गैस चढ़ गई..बेहोश हो गया..बाहर निकाल लिया गया जैसे तैसे..बचा लिया गया उसे..

कितनी दुःखद बात है कि एक २० साल का हंसता-खेलता युवक लापरवाही की वजह से मारा गया...किस की लापरवाही?..उस युवक की तो नहीं कहेंगे...अगर उसने बेल्ट पहनी होती तो वह बच जाता, उसे बाहर खींच लिया जाता..

मैं सुबह सोच रहा था कि इन कामों में भी बहुत कुछ गोलमाल होता ही है ..मुझे नहीं पता मैंने कब किसी सीवर साफ़ करने वाले को सेफ्टी-बेल्ट पहने देखा था ..ताकि एमरजेंसी में उसे बाहर खींचा जा सके। सेफ्टी गेयर और उपकरण होते नहीं हैं, हर जगह भ्रष्टाचार के तार जुड़े हुए हैं...जुगाड़बाजी करने वालों का बोलबाला है...लोगों ने सुपरवाईज़र को वहीं पर धर-दबोचा लेकिन उस से वह २० साल का युवक तो वापिस नहीं आयेगा..

क्या यह लखनऊ में ही हुआ...नहीं, देश के हर शहर में हर कस्बे में इस तरह की घटनाएं होती रहती हैं...आए दिन..अखबार की सुर्खियां इस तरह की मौतों की सूचना देती रहती हैं...

लेकिन क्या है ना, हम कहां इस तरह की खबरों की परवाह करते हैं...पढ़ कर बुरा लगता है....बस चंद लम्हों के लिए..अगले पन्ने पर रणबीर और दीपिका का किस्सा देखते ही हम फिर उस में खो जाते हैं..

मुझे ऐसा लगता है कि इन सफाई कर्मियों के भी अच्छे दिन कुछ इस तरह के आएं कि इन्हें सीवर में नीचे उतरना ही ना पड़े ..और अगर कभी किसी हालत में ऐसा करना भी पड़े तो बिना बेल्ट और सभी तरह के सेफ्टी उपकरण के इन्हें नीचे उतरने ही न दिया जाए...

मुझे सुबह खबर पढ़ कर एक बेवकूफ-सा ख्याल यह भी आ रहा था कि अगर कोई सफाई कर्मी सेफ्टी उपकरण नहीं पहनना चाहे तो उसे नीचे जाने से पहले सुपरवाईजर को लिख कर देना चाहिए कि वह यह सब अपनी मर्जी से कर रहा है ....लेकिन तभी ध्यान आया कि ऐसा कैसे हो सकता है, इतनी बेरोजगारी है, घोर शोषण है, सस्ते में मिलने वाली लेबर यह भी लिखने के लिए सहमत हो जायेंगे....लेकिन यह ठीक नहीं है..

मैला ढोने देश में बंद हो गया है विज्ञापन बताते हैं, अब सीवर में भी सफाई कर्मी उतरने बंद हो जाने चाहिए...सब कुछ मैकेनिकल उपकरणों से हो जाना चाहिए...

इस तरह के आंकड़ें अगर इक्ट्ठा किए जाएं तो चौंका देंगे कि कितने सफाई कर्मियों की जानें इन सीवरों ने लील लीं...

कहने को बस इतना ही है कि इस तरह के केसों से पक्की नसीहत लेने की बहुत ज़रूरत है ...वरना ये लोग ऐसे ही मरते रहेंगे...मेरे जैसे पढ़े लिखे तथाकथित बुद्धिजीवी लोग चंद लम्हों के अफसोस से बाद अगले ही पल अभिषेक-ऐश्वर्या की पर्सनल लाइफ में झांकने को आतुर अखबार के अगले पन्ने पर पहुंच कर पिछली बात भूल जाते हैं...

आज मैं बहुत दुःखी हूं इस युवक के बेमौत मारे जाने से...ईश्वर इस की आत्मा को शांित प्रदान करे और मां-बाप को पहाड़ जैसा दुःख सहने की शक्ति प्रदान करे...आप भी इस प्रार्थना में शामिल हो जाइए...


अभी मैं सुरों की इस अद्भुत देवी लता मंगेशकर जी को सुन रहा था तो ध्यान आया कि कुछ सिरफिरे लोग किसी को भी नहीं बख्शते...एक महामूर्ख प्राणी ने कल इस देवी का मज़ाक उड़ा दिया एक यू-ट्यूब वीडियो में.....है कि नहीं पिटाई खाने वाली बात! सब को सद््बुद्धि दे प्रभु!

मैला ढोने से जुड़ी कुछ धुंधली यादें मेरी भी हैं बचपन की ... इस लेख में संजो कर रखी हैं....लिंक यह रहा ..मैला ढोने की सुथरी यादें.

Sunday, May 29, 2016

मस्ती की पाठशाला ..

सुबह एक पोस्ट डाली थी...बचपन के दिन भुला न देना...उसे लिखते ही लग रहा था कि कुछ तो छूट रहा है..इतना बड़ा टॉपिक एक पोस्ट में समेटना किसी के बस में नहीं।

एक मित्र का वाट्सएप मैसेज आया कि मैंने कंचे का खेल तो छोड़ ही दिया..उसी समय पिछली पोस्ट पर एक कमैंट भी आया कि कंचे कैसे छूट गये...

कंचों का तो मैं चैंपियन था ही 

जी हां, मैं कंचों का चैंपियन था उस दौर का ..और हम लोग एक डिब्बे में कंचे इक्ट्ठे कर के रखते थे...और शाम को आखिरी गेम के बाद उन्हें धोने के बाद चमका लेना....हा हा हा हा हा हा ....

फिर अगले दिन पहले खराब कंचों को जेब में भर के निकलना...

अभी दिमाग पर ज़ोर दे रहा था बैठा बैठा तो याद आया कि कंचों की कईं गेमें हुआ करती थीं...एक थी ताना, जिस में हम लोग दूर से निशाना लगाया करते थे...और एक थी नक्की पूर...इस में हम लोग मुट्ठी में कंचे बंद कर लेते थे ..और दूसरे को कुछ बताना होता था...पता नहीं यार, अब डिटेल नहीं पता...इस गेम में बचपन का एक साथी दया नाम से था ...अगर वह शाम को हार जाता तो कमबख्त सुबह सुबह ही बाहर बुलवा लेता...जेबें हम लोग ऐसे ठूंस के भरे रहते कंचों से ..

बड़ा मज़ा आता था कंचे खेलने में ....बस मेरे पिता जी को पसंद नहीं था कि मैं कंचों में खेल कर अपने कपड़े गंदे कर लूं..इसलिए उन के आने से दस मिनट पहले सब कुछ समेट लिया जाता ..और हाथ पांव धो कर अच्छा बच्चा बन जाता।

सूआ खेलना..

हां, एक गेम जो मुझे सुबह भी याद थी...वह अब आपसे शेयर करनी है ..इसे हम लोग पंजाबी में सूआ खेलना कहते थे... इस के लिए हमें एक मैदान में जाना होता था..और इसे खेलने के लिए हम लोग बरसात का इंतज़ार किया करते थे..बरसात के मौसम में ज़मीन नरम हो जाती है यह खेल तभी खेला जा सकता है..

इस लिए हम लोगों के पास एक लोहे की पतली छड़ी नुकीली सी ..होती थी ..लगभग एक या डेढ़ फुट लंबी..जिसे हम लोग अगर गीली ज़मीन में ज़ोर से मारें तो वह अंदर धंस जाए...

हां, गेम इस तरह से होती थी कि हम मैदान के एक कोने में एक गोलाकार बना लेते ...उस के अंदर खड़े होकर एक खिलाड़ी दूर सूआ फैंकता ...अगर वह धंस जाता तो गेम शुरू हो जाती..फिर जहां वह सूआ धंसता, वहां से उसे उखाड़ के आगे उसे फैंका जाता...यह सिलसिला तब तक चलता रहता जब तक सूआ धंसने की बजाए गिर जाता....

हां, फिर उस जगह से दूसरी टीम के बंदे को हमें अपनी पीठ पर चढ़ा कर उस गोलाकार तक लाना होता...बीच में अगर उस का दम फूल जाता तो उस के टीम के किसी दूसरे मैंबर की पीठ पर हम लोग सवार हो जाते ...it used to be great fun...हम लोग उस समय हंसी से लोटपोट हो रहे होते....आखिर हमें गोलाकार तक पहुंचाने पर ही उन की जान छूटती ..

फिर उन का नंबर ...
यह था सूए का खेल...


हां, मेरे से एक भूल हो गई सुबह...अपने स्कूल के साथी डा रमेश ने सुबह जो तस्वीरें भेजी थीं ..वे सब मैंने अपनी पोस्ट में लगा दी थीं, लेकिन एक कैरम-बोर्ड की छूट गई थी...उसे भी यहां लगा कर छुट्टी करूं...वैसे लिडो ने भी ..सांप सीडी ने भी अपना बड़ा साथ दिया...

हो गई यार खेलों की बहुत सी बातें...अब पढ़ाई लिखाई की बात कर लें, हमें छुट्टियों का काम भी कुछ इस तरह का मिलता था...रोज़ हिंदी, पंजाबी और इंगलिश का एक सुलेख पन्ना लिखना है... जितनी छुट्टियां उतने पन्ने ...और कलम से लिखना होता था ...हां, एक बात याद आ गई...जितने भी स्कूल के साथी फोन पर बात करते हैं, सब मेरी लिखावट को बड़ा याद करते हैं....एक ने पूछा कि क्या अब भी वैसा ही लिखते हो, एक साथी जो वाईस-प्रिंसीपल हैं अभी वह बता रहे थे कि वह स्कूल के बच्चों को मेरी लिखावट के बारे में बताते हैं अकसर.....I felt flattered...हां, दोस्तो, अभी भी कुछ शेयरो-शायरी को नोटबुक पर लिखने के बहाने कभी कभी सुलेख लिख लेता हूं...अभी कोई सेंपल लगाऊंगा...

घर में ही हमारी विजिलेंस टीम भी होती थी जो यह निगरानी रखती थी कि छुट्टियों का काम रोज किया जाए...एक ही दिन में पूरा न किया जाए..एक बार पांचवी कक्षा में गणित की कुंजी का जुगाड़ हो गया... मैंने एक ही दिन में सारा काम खत्म कर लिया...बड़ी बहन को पता चला..वह मेरे से दस साल बड़ी हैं...अभी यूनिवर्सिटी में प्रोफैसर हैं. उन्होंने कहा कि लाओ ..कापियां लाओ..सारे होमवर्क की कापियां फाड़ने को कहा ..और चुपचाप रोज़ अपना दिमाग लगा कर थोड़ा थोड़ा काम करने को कहा .... मैंने चुपचाप कापियां फाड़ दीं...नईं कापियां ला कर रोज़ाना समझ लगा कर होमवर्क करना शुरू कर दिया....बहन मेरी पढ़ाई का बड़ा ध्यान किया करतीं..

फिर हम लोग रिश्तेदारों के यहां चले जाते ...कभी रिश्तेदार आ जाते ...बस ऐसे ही छुट्टियां बढ़िया बीत जातीं..

पिछले रविवार मैं एक अखबार में लेख पढ़ रहा था कि आज कर बच्चों की छुट्टियों का फार्मेट ही बदल गया है .. छुट्टियों के दिनों में भी सुबह से शाम तक उन का प्रोग्राम फिक्स है ...इतने बजे यह एक्टिविटी, इतने बजे स्वीमिंग, इतने बड़े फलां कैंप, इतने बजे ढिमका.....सब कुछ परफैक्टली पहले से तय होता है ....उस लेख में बताया गया था कि ऐसा ठीक नहीं है...ठीक है बच्चे कुछ एक्टिविटी करें, लेकिन ऐसा भी नहीं कि सब कुछ इतना वाटर-टाइट शैड्यूल में बंधा हुआ हो .. उस लेखक ने बड़ा सुंदर लिखा था कि बच्चों को छुट्टियां हैं तो उन्हें देर से उठने का हक है, उन्हें टीवी भी, कार्टून भी देखने चाहिए, उन्हें बाहर दूसरे बच्चों के साथ खेलना भी चाहिए...और नानी-दादी के पास भी जाना चाहिए कुछ दिन बिताने के लिए ताकि वे उम्र भर के लिए यादें संजो लें.....मैं भी इस बात से पूरी तरह से सहमत हूं...

हां, मैंने लिखावट का सैंपल दिखाने की बात कही थी...पेशेखिदमत है ..


अब एक ऐसे ही मस्ती वाले गीत की बारी है .. रेखा जी भी कुछ मशविरा दे रही हैं... आप भी सुनिए...😊😊😊😊😊😊😊😊😊 😊😊😊





चूहों का शिकार तो आपने भी कभी किया ही होगा!

एक बड़ी जबरदस्त हिंदी फिल्म आई थी.. प्यार तो होना ही था...बहुत बार देखी...क्लाईमेक्स में हीरो ने फ्लाईट को रूकवाना होता है..काजोल के पास जाने के लिए...टेक-ऑफ होने ही वाला था..एयरपोर्ट आफीसर नहीं मानता..देवगन ईमोशनल पत्ता फैंकता है ...सर, प्यार तो आपने भी कभी न कभी किसी से किया ही होगा!....बस, फिर क्या था, निशाना लग गया टिकाने पर...फ्लाईट को रोक दिया गया...

मेरी इस पोस्ट का शीर्षक भी इसे संवाद से प्रेरित है कहीं न कहीं...विषय थोड़ा पकाने वाला ही है, ऐसा करते हैं...पहले इसी फिल्म से मेरा पसंदीदा गीत सुन लेते हैं....अजनबी मुझ को इतना बता, दिल मेरा क्यों परेशान है!


अब बात शुरू करते हैं...चूहों की...परसों मैं अपनी कॉलोनी के बाहर निकला तो देखा एक बंदा एक पिंजड़े में बंद कुछ जानवरों की कुछ खिला रहा है...



एक तो मेरी यह उत्सुकता हर जगह मुझे रूकवा देती है ...हां जी, क्या कर रहे हैं?... चूहों को अंडा रोल खिला रहे हैं...चूहे और सफेद रंग के... पता नहीं यह भी कोई हाईब्रिड ब्रीड है या क्या है, लेिकन ये चूहे हैं बहुत सुंदर ..उस पिंजडे में उन के खाने-पीने की अलग व्यवस्था कर रखी थी...एक दो कटोरे फिक्स करवा रखे थे...

और जितने चाव से जितने उत्साह से वह बंदा इन की सेवा-सुश्रुषा में लगा हुआ था वह भी देखते बन रहा था...साथ साथ मेरे को बताने लगा कि इस एक चूहे को अगर आप कमरे में छोड़ दें तो दूसरे चूहे कभी उस कमरे में नहीं आते...
अच्छा, तो यह बात है!




मैं यही सोच रहा था कि ये नेक किस्म के चूहे अगरे चालीस पचास साल पहले आ जाते तो हम लोगों की बचपन की सिरदर्दी भी थोडी कम हो जाती..

हम लोगों के घर में एक चूहों के पकड़ने के लिए लोहे की तारों का बना पिंजड़ा था...कभी कभी उस में रोटी टांगने की ड्यूटी मेरी लगती थी...यही दूसरी तीसरी कक्षा की बातें हैं...उस ज़माने में मुझे घर में सब से ज़्यादा जटिल मशीन ही वह लगती थी....मैं देख कर हैरान हो जाया करता कि किस तरह के हमें उस में एक चूहा कैद हुआ मिलता...फिर मैं देखता कि कैसे वह अंदर फंसा होगा...उस के लिए बुरा भी लगता ..फिर यही तसल्ली होती कि अभी चंद मिनटों की बात है, इसे बाहर तो छोड़ ही आना है..

हम लोग उसे घर के बाहर छोड़ आते....फिर वह किस पड़ोसी के घर घुस जाता ...इस से हमें कोई लेना देना नहीं होता..मुझे लगता है कि कमबख्त यह भी एक खेल ही था...आज उस के घर से, परसों उस के घर से, फिर से वापिस हमारे घर से... बस, ऐसे ही सिलसिला चल रहा था...शायद १९७०-७२ के आस पास तक...

फिर धीरे धीरे पता चलने लगा कि अब सभी लोग एतराज करने लगे थे कि चूहे अगर पकड़ें हैं तो उन्हें घर के बाहर ही क्यों छोड़ देते हैं...हमारे घर में घुस जाते हैं...इसलिए लोगों ने घर से सौ पचास मीटर दूर ऩाली या किसी नाले के पास जाकर कैद चूहों को विदा करना शुरू कर दिया...

एक याद मुझे बहुत अच्छे से है ...हमारी कॉलोनी में ही कुछ घर छोड़ के ...श्याम लाल जी रहते थे...पता नहीं यार उन के घर में कितने चूहे थे ..या क्या चक्कर था, क्या नहीं, जब भी मैं घर के बाहर होता उन का बड़ा बेटा हमेशा मुझे साईकिल के कैरियर पर चूहेदानी टिकाए हुए ही दिखता ...यह उस का पढाई से बचने का बहाना था, या सिर्फ टाइम-पास... अकसर उसे देख कर हंसी आ जाती थी मुझे ...हम लोग भी इस काम के लिए जाते थे..लेकिन इतने ताम-झाम के साथ नहीं, चुपचाप गये ...उस लोहे वाले पिंजड़े का दरवाजा खोल दिया ...और उसे आज़ाद कर दिया...हां, एक बात और ध्यान में आ रही है, गली मोहल्लों में इस काम के लिए सुबह तड़के के समय को सब से अच्छा माना जाता था..न कोई देखेगा..अगर चूहे मस्ती मस्ती में विद्या की मां, कश्मीरन, कपूरनी, सोडन ...किसी के भी घर घुस गया तो कोई पंगा नही...वरना थोड़ी बहुत चिक चिक तो...चाहे मामूली ही सही ... होने के चांस तो थे ही!

लोग स्मार्ट होने लगे १९७० के दशक में ...हमारे सामने रहने वाला अशोक एक पिंजड़ा ले आया जिस में चूहे की हत्या ही हो जाती थी...मुझे वह बहुत बुरा लगा ...हम ने यह सब काम कभी नहीं किया....मारने वारने का क्या काम, बंद किया ..छोड़ दिया...हो गई बात ....कुदरत के कानून को अपने हाथ में लेने से क्या हासिल!

तब तक लकड़ी के चूहेदान आ चुके थे....हैंडल के साथ...वह भी हम लोगों के यहां था... और हां, ये चूहेदान एक दूसरे के यहां से मांग कर भी काम चला लिया जाता था...बेवजह की इतनी अकड़  भी तो नहीं थी ना तब!

लेकिन फिर कुछ ऐसा पंगा हो गया कि चूहेमार दवाई बाज़ार में मिलने लगी ...  हम लोगों को यह सब बहुत बुरा लगता था..और आज भी लगता है ...जीव हत्या बहुत गलत है..बाकी सब बातें अपनी जगह ठीक हैं...हम लोगों ने इसे कभी इस्तेमाल नहीं किया...अब जब घर में कभी कोई चूहा दिख जाता है तो काम वाली बाई उस के पीछे भाग भाग के उसे बाहर का रास्ता दिखा देती है...

यह तो थी फ्लैशबेक....

आज मैं सुबह बेटे के साथ बाज़ार में घूमने निकला तो एक मोटर साईकिल पर यह पिंज़ड़ा देखा..इस में दो चूहे थे...क्योंकि मुझे परसों चल गया था कि चूहे सफेद रंग के भी होते हैं...मैंने इस बंदे से पूछा कि कितने में खरीद लाए ?....मैं भी न पंगे लेने से बाज नहीं आता...बताने लगा कि १५० के आये हैं...मैंने पूछा...पिंजड़ा भी साथ में?...नहीं, नहीं, पिंजड़ा अलग लिया है २५० में ... अच्छा मजबूत लिया है, वरना ये तार को काट देते हैं.....बंदा बड़ा खुश था...

बताने लगा कि इन चूहों की वजह से घर में दूसरे चूहे नहीं आते....मैंने पूछा कि इन को खुला तो छोड़ना पड़ता होगा घर में, उसने बताया कि नहीं, पिंजड़ें में ही इन की महक से दूसरे चूहे घर में नहीं फटकते......मैं हैरान था कि यह कैसा चक्कर है! लेकिन उसे इन को पालने का पूरा अनुभव था...जैसा कि उस की इस बात से पता चला कि जोड़ा लिया है, और आने वाले दो महीने में यह पिंज़ड़ा पूरा इन के बच्चों से भर जाएगा....वाह यार ...यह तो बहुत अच्छी बात है!

 पोस्ट को खत्म करने से पहले यहां यह भी दर्ज कर दूं कि मुझे हर तरह के पिंजड़ों से सख्त नफ़रत है..कितनी घुटन होती होगी ....काश, पिंजड़े बनने ही बन हो जाएं...हम लोगों में कुछ ऐसे बदलाव आ जाएं कि हम जीवों को पिंजड़ों में कैद करना ही छोड़ दें....घुटन से याद आया ...अभी हमारे सत्संग वाले ग्रुप पर एक मैसेज आया ..आप से शेयर करने की इच्छा हो गई....

और इस पोस्ट रूपी लिफाफे को बंद करते करते बेटे ने यह मैसेज भेजा है ...अभी पढ़ता हूं...

अचानक मुझे भी यह गीत ध्यान में आ गया ....

बचपन के दिन भुला न देना..

मुझे अभी याद आया कि इस नाम से एक पोस्ट मैंने आठ दस साल पहले भी लिखी थी जब एक दिन मैंने बेटे के हाथ में गुलेल देखी थी..

अभी इस का ध्यान सुबह सुबह इसलिए आ गया कि आज हमारे स्कूल वाले ग्रुप पर डा रमेश ने सुबह खूब सारी फोटो भेजीं यह लिख कर कि जब टीवी और इंटरनेट नहीं थे तो हम लोगों की छुट्टियां कुछ इस तरह से बीता करती थी...मजा आ गया इन तस्वीरों को देख कर ...सब कुछ फ्लैशबैक की तरह मन में घूम गया..इन सभी तस्वीरों को तड़का लगाने की इच्छा हुई और इन्हें  ब्लॉग में सहेजने की भी इच्छा हुई ताकि आज कल के बच्चे-युवा कभी अगर इन्हें ढूंढते हुए भूले-भटके यहां तक पहुंच जाएं तो उन्हें कुछ मिल जाए!

हमारी बालकनी से आज की सुबह ऐसी दिख रही है...
मेरे विचार में पहले तस्वीरें टिका दूं....यह टापिक बहुत लंबा है..क्योंकि लगभग हर गेम के साथ हमारी इतनी यादें तो बावस्ता हैं जिन के लिए कम के कम अलग से एक एक पोस्ट तो चाहिए ही चाहिए... अभी तो मैं इन के साथ केवल इन के नाम लिख कर छुट्टी करूंगा...क्योंकि बाहर मौसम बड़ा खुशगवार हो गया है ..बरसात की वजह से ..ऐसे में यहां लैपटाप के आगे टिकना भी एक गुनाह जैसा ही है ...बेटा भी कह रहा है...चल बापू, कहीं चलते हैं!

अच्छा, मैं फोटो तो यहां लगा रहा हूं..साथ में इन के नाम जो पंजाबी में हम लोगों को याद हैं, वही लिख रहा हूं...अगर आप चाहें तो मुझे कमैंट्स में इन के अन्य भाषाओं के नाम भी िलख भेजिए....मैं उन्हें भी तस्वीरों के साथ लिख दूंगा...
 
यह है जी पिट्ठू सेका...जो इस ढेरी को गिरायेगा. फिर भागेगा ..पीठ की सिकाई से बचने के लिए .. .हा हा हा 

पतंगबाजी...मुझे यह कभी नहीं उड़ानी आई...क्योंकि मेरे में पेशेंस नहीं है
हमेशा इन से ईर्ष्या ही करता रहा कि कैसे करते हैं ये इतना बढ़िया बैलेंस और ऊपर से रेस ...हा हा हा 

वाह भई वाह...लाटू का खेल...हमारे समय में हम लोगों को ये मिट्टी के बने हुए भी मिलते थे..पांच पैसे के पांच ...घऱ आकर फिर पायजामे से नाड़ा निकाल कर यह खेल शुरू हो जाता था...लाटू पर लपेटने के लिए!😊 

लड़कियों का खेल...जो मुझे याद रहा ..कोकलाशी पाकी जुम्मे रात आई जे...जेहडा अग्गे पिच्छे वेखे ओहदी शामत आई जे...

वाह ही वाह...यह स्टापू वाला खेल तो हम भी खेला करते थे..
गीटे ....वाह जी वाह...यह हम भी बहन के साथ और पड़ोस की लड़कियों के साथ खेला करते थे...जब लकड़ी के बने गीटे नहीं होते थे तो इमली के बीजों को तोड़ कर गीटों का जुगाड़ हो जाता था..
गुल्ली डंडा...बड़ा एक्सपर्ट था मैं इस में...हर कोई ही था उस दौर में! 
विकेट तो भाई ऐसी ही होती थी..लेकिन बैट की जगह हाथ में कपड़े धोने वाली थापी या जिसे सोटा कहते थे, वही हुआ करता था...कुछ बच्चों की घर में इसी थापी से पिटाई भी हुआ करती थी, हम लोगों की तो कभी भी एक बार भी पिटाई नहीं हुई...मैं अकसर मां से यह गिला करता हूं! 

खो खो  का खेल...दसवीं कक्षा में मेरी यह गेम थी..हमारा एक साथ गुलशन आज कल अमृतसर के एक स्कूल का वाईस-प्रिंसीपल है, वह इस गेम का बादशाह हुआ करता था, दो दिन पहले याद करवा रहा था... 
कुछ कुछ बच्चे इतने एक्सपर्ट होते थे जमान पर घूमते लाटू को यूं अपनी हथेली पर उठा लिया करते .....और हम..दांतों तले अंगुली दबा लिया करते!!
चल भाग, तू चोर मैं सिपाही ....छू-छिपाई का खेल... कुछ याद आया?
लिड्डो का खेल...अकसर बच्चे ट्रेन में भी यह लेकर चला करते थे..
यह गुल्ली डंडा फिर से दिख गया....इसे तैयार करने का भी एक आर्ट था...क्योंकि नोकीली गुल्ली से ही खेल का मजा आता था..
इस का नाम नहीं याद आ रहा ..

ऐसा तो मुझे कुछ याद नहीं है... 

यह जो कैंची साईकिल वाली फोटो है ना यह मुझे सब से प्यारी लगी...क्योंकि इस तरह के लफड़े हम लोगों ने बहुत किये...घर में पड़ी कोई भी साईकिल लेकर निकल पड़ना ग्राउंड में ...कैंची साईकिल चलाते चलाते गिर भी जाना ..लेकिन हिम्मत नहीं हारनी...बहुत मजा आता था... एक िदन हमारी बड़ी बहन जैसी कंचन को मेरी इस हालत पर तरस आ गया...कहने लगी ...चल काठी ते बैठ, मैं पिच्छों कैरियर फड़दी हां....सच में, उस दिन उस की चंद मिनटों की हल्ला-शेरी से हम सीट पर बैठ कर साईकिल चलाने लगे......I can't forget that thrill...जब पहली बार सीट पर बैठ कर साईकिल चलाया था...शायद हवाई जहाज़ का आविष्कार करने वालों को भी उतना ही मज़ा आया होगा.... फिर तो बस यही तमन्ना था कि कब हमें भी साईकिल पर स्कूल जाने की इजाजत मिल जाए...

अच्छा दोस्तो ऐसा है कि मुझे इस पोस्ट में और भी बहुत कुछ लिखना है, लेकिन सोच रहा हूं कि अगली पोस्ट में वे सब बातें लिख दूंगा...अभी मैं बस उस पोस्ट को लगा रहा हूं जिसे मैंने आठ दस साल पहले लिखा था...जब मैंने अपने बेटे के हाथ में गुलेल देखी थी...आप उसे भी ज़रूर देखिएगा....मैंने अभी गूगल किया ...बचपन के दिन भुला न देना मीडिया डाक्टर ...तो झट से यह लेख दिख गया....आप के लिए इस का लिंक यहां लगा रहा हूं...बचपन के दिन भुला न देना..



Saturday, May 28, 2016

हमारी डबलरोटी....चल बैठ जा, बैठ गई..

वैसे तो मेरी पोस्ट के आखिर में ही हिंदी फिल्मी गीत बजते हैं..लेकिन जैसे निर्मल बाबा जी को कभी कभी कुछ बातों का ध्यान आने लगता है अचानक..मुझे भी इस गीत का ध्यान बार बार आये जा रहा है..क्यों आ रहा है, बताऊंगा बाद में..पहले आप सुन लीजिएगा...रेडवे पे खूब बजा करता था हमारे बचपन के जमाने में...

कैसा लगा ...देवानंद हेमा मालिनी को हिप्नोटाइज़ करने के चक्कर में है ...चल बैठ जा, बैठ गई....भूल जा ..भूल गई...मुझे तो पहले भी अच्छा लगता था यह बालीवुड गीत और अब तो और भी लगता है ...


अब क्यों  अच्छा लगता है?...क्योंकि अब मुझे लगता है कि हम लोग इस गाने से अपने आप को आईडैंटीफाई करने लगे हैं...

एक दिन अचानक अखबार के पहले पन्ने पर आता है ...एक नामचीन गैर सरकारी संस्था CSE ने जांच करी कि देश में विभिन्न ब्रेड के सैंपलों में कुछ कैंसर पैदा करने वाले कैमीकल पाये गये हैं...

इस संस्था की विश्वसनीयता पर कोई प्रश्न उठाया नहीं जा सकता...

उस रिपोर्ट में यह भी प्रश्न उठा कि हमारी डबलरोटी में इस तरह के कैमीकल आखिर इस्तेमाल करने की इजाजत ही क्यों है, कंपनियों वाले permissible limits से कईं गुणा ज़्यादा इस्तेमाल कर रहे हैं, वह अलग बात है, लेकिन अभी तक ये कैमीकल इस देश में बैन ही क्यों नहीं कर दिये गये ...जब कि बहुत से देशों में ऐसा हो चुका है।

इस का सीधा सादा जवाब यही है कि हमें इन सब चीज़ों की कोई जल्दी नहीं होती.. हो जायेगा...टाइम तो लगता ही है ना हर काम में!

हां, तो जिस दिन अखबार में इन कैमीकल्स के बारे में आया ..शायद उस के एक दो दिन बाद ही केन्द्र सरकार ने इन दोनों कैमीकल्स को बैन कर दिया....उस के बाद अगले दिन FSSAI  Food safety and standards authority of India..ने ब्रेड कंपनियों को चेता दिया कि अब इन कैमीकल्स को ब्रेडों में इस्तेमाल मत करियो....

बस, हो गई हमारी डबलरोटी की समस्या का समाधान!...But is it really as easy as it sounds?...उसने यह किया, उसने यह कहा...प्राबल्म खत्म हमेशा के लिए।

लिखते लिखते मुझे ध्यान आ रहा है कि वैसे ऐसा क्या है कि कोल्ड-ड्रिंक्स में ही गड़बड़ का हमें कोई गैर सरकारी संस्था बताती है, नूडल में भी यही हुआ...और मिनरल वाटर में भी यही कुछ हुआ..... What is FSSAI doing, I wonder!

मुझे जो प्रश्न सता रहा है वह यह है कि क्या किसी चीज़ पर प्रतिबंध लगाने से उस वस्तु का इस्तेमाल बंद हो जाता है...मुझे तो नहीं लगता... कितनी चीज़ें, कितने फ्लेवर, सैंकड़ों हज़ारों फूड-एडिटिव्ज़ हैं, कितने घटिया किस्म के कलर्ज़ - नान फूड ग्रेड तक के ... सब कुछ धड़ल्ले से िबक रहे हैं, इस्तेमाल हो रहे हैं...हम यह सब अच्छे से जानते हैं...कुछ साल पहले अजिनोमोटो के बारे में बहुत कुछ कहा जा रहा था...हर नूडल की रेहडी पर वह खोमचे वाला उसी चीनी मसाले को धड़ाधड़ इस्तेमाल कर रहा होता है....

खाने पीने के मामलों में इस तरह की बात सामने आना एक बेहद संजीदा मुद्दा है ..पता ही नहीं यार सारा भारत कितने अरसे से इस तरह की कैंसर कैमीकल्स से युक्त ब्रेड को खाता रहा...बेहद दुर्भाग्यपूर्ण....बस कंपनी वाले क्या सच में अगले दिन से अच्छे बच्चे बन जाएंगे?....इस का निर्णय आप करिए और अपने खाने पीने के फैसले इन निर्णयों के आधार पर किया करिए...वरना तो ऊपर देवानंद और हेमा मालिनी के गाने वाली बात लगती है ...एक ने कह दिया कि हमारी ब्रेड में लफड़ा है, दूसरे दिन आदेश आ गया कि नहीं, ठीक है, सब कुछ ठीक है ...

दरअसल हमारी समस्याएं तब तक यूं की यूं बनी रहेंगी जब तक शिक्षा का स्तर नहीं बदलेगा...लोग आज वैसे तो सचेत हो रहे हैं..पिछले दो तीन दिनों में मैंने आठ दस लोगों को ऐसे ही टेस्ट किया ..कुछ बात चली थी...कि ब्रेड का क्या चल रहा है, पता है ना!.... मुझे बहुत खुशी हुई कि सभी मरीज़ों को इस खबर के बारे में सब कुछ पता था...एक महिला तो इतनी सचेत थी कि उसने बताया कि डाक्टर साहब, हम लोग तो १५-२० दिन में एक बार लाते थे, अब वह भी बंद कर देंगे।

सब से बढ़िया सिचुएशन वही होती है कि अपनी सेहत के निर्णय लोगों को अपने आप लेने दिए जाएं.... we really need to empower them!

मेरे विचार में ऐसा तो कभी होता नहीं किल  बैठ जा, बैठ गई ...भूल जा ..भूल गई...हिंदी फिल्मों में होता होगा..कंपनियां कैसे इन कैमीकल्स को अचानक इस्तेमाल करना छोड़ देंगी......कितनी टैस्टिंग कर लोगो, कितनी पुलिसिंग कर लोगो....हर गली के मोड़ पर तो CSE जैसी संस्था के कार्यकर्ता तैनात नहीं किये जा सकते..ध्यान में आ रहा है कि किसी कंपनी ने तो इस NGO की कार्यक्षमता पर ही प्रश्न लगा दिया है ...

Market forces are extremely powerful....मार्कीट शक्तियां बहुत ही ताकतवर हैं, कुछ भी किसी भी कीमत पर करवाने में सक्षम हैं, करवा सकती हैं, करवा भी लेती हैं....absolutely no doubt... पहले कह दिया नूडल नहीं खाओ..फिर फरमान आ गया, कोई बात नहीं, खा लो...

लेिकन मैं CSE जैसे संस्थान की बातें मानने के पक्ष में हूं......they dont have any obvious conflict of interest... इस तरह की संस्थाओं से हमारे खाद्य पदार्थों के अच्छे-बुरे के बारे में जो भी इशारे मिलें  उसे बिना किसी किंतु-परंतु के मानने में ही हमारी भलाई है ..वैसे भी डबल रोटी कौन सा पौष्टिक आहार है जो हम इसे छोड़ नहीं पा रहे हैं...Well, that's personal choice! After all, Your Health is in your hands! व्यक्तिगत तौर पर मेरी ब्रेड के प्रति नफ़रत और भी गहरा गई है... जी हां, personally speaking!!

बैठ जा, बैठ गई ...से मुझे इस बात का भी ध्यान आ रहा है कि पहले ब्रेड को फुलाने या नर्म रखने के लिए जो कैमीकल इस्तेमाल होते थे... अब क्या इसे कह दिया जायेगा कि फूलो नहीं, बैठ जायो, पिचकी रहो, सिमट जाओ....बात गले से नीचे नहीं उतर नहीं.....बहरहाल, जो भी निर्णय अपने खानपान के बारे में आपने लेना है, सोच समझ कर के लीजिएगा...

शब्बा खैर....रब राखा...  Good night.. take care! 😉

आखिर डाक्टर कितनों का तंबाकू छुड़वा लेंगे!

कल सुबह मैं वैशाली मैट्रो स्टेशन के बाहर अखबार खरीदने लगा ..दस रूपये दिए..उसने ये तंबाकू के पाउच भी रखे हुए थे..अब ये पेपर पैकिंग में आने लगे हैं..मैंने कहा कि बाकी के ये पाउच दे दो ..उसने मेरी तरफ़ गौर से देखा...

मैंने इन्हें खरीदा क्योंकि मुझे इतनी बड़ी बड़ी चेतावनी फोटो सहित देख कर अचानक याद आया कि सरकार की कुछ नीति में बदलाव हुआ है कि शायद पैकेट के ८५प्रतिशत हिस्से में अब इस तरह की भयानक तस्वीरें छपा करेंगी..



ठीक है ...बिल्कुल ठीक है ..मैं इन पैकेटों को देख कर यही सोच रहा था कि सरकार इस से ज़्यादा और क्या करे...फिर ध्यान आता है कि क्यों न करे....क्यों न इस का उत्पादन ही खत्म करवा दे...रही बात प्रतिबंध की, वह हमने देख लिया है, जगह जगह प्रतिबंधित है गुटखे आदि लेकिन धड़ल्ले से बिकते हैं.. धूम्रपान सरेआम लोग प्रतिबंधित स्थानों पर भी करते हैं...कितनी पर्चियां कटेंगीं ज़ुर्माने की, पहले पर्ची काटने वाला गुटखे थूकेगा तो ही सामने वाले को बीड़ी मारने के लिए ज़ुर्माना देने को कहेगा! ...लोग इतने दबंग पहले नहीं थे कि चिकित्सक के पास और वह भी दंत चिकित्सक के पास मुंह में मसाला-गुटखा दबाए पहुंच जाते हैं...


मैं भी गुटखे-मसाले-तंबाकू की जंग पिछले तीस सालों से लड़ रहा हूं...रेडियो, टीवी, मैगजीन, न्यूज़-पेपर...ऑनलाईन राईटिंग ...कुछ भी नहीं छोड़ा लेकिन फिर भी फ्रस्ट्रेशन ही होती है ...इतना व्यापक इस्तेमाल और हम लोग इतने कम...
मेरे पास एक कटिंग है ..यह १९९० की एक अखबार की है ...इसे देख कर मुझे लगा था कि इस पर काम किया जाना चाहिए..और किया भी ...अपने क्षमता से बढ़ कर किया शायद...सैंकड़ों लेख लिख डाले...किसी में भी किसी बात को बढ़ा चढ़ा कर नहीं लिखा...जो देखा वही लिखा...जो लिखने वाले दिन मुझे सच नज़र आया वही दर्ज किया...और फिल लिखने के बाद उस के साथ कुछ भी कांट-छांट नहीं की...

बस इतना इत्मीनान है कि जो भी लिखा है सच लिखा है, मैं पाठक के साथ झूठ बोलने को बहुत बड़ा द्रोह मानता हूं...जो मन में है, वही लिखा ...कुछ वर्षों बाद कुछ लेखों को पढ़ते समय एम्बेरेसमैंट भी हुई लेकिन उसे बदला नहीं...जैसा था, वैसा ही रखा पड़ा है। 

हां, तो मैंने जब ये तंबाकू वाले पाउच इतनी भयंकर चेतावनियों वाले देखे तो मैं यही सोचता रहा कि यार, जो लोग इन्हें देख कर नहीं डरते, उन्हें डाक्टर कैसे डरा पाएंगे! 

सरकारों से तो इस से आगे उम्मीद की नहीं जा सकती... और अब लगने लगा कि डाक्टरों के पास भी कहां इतना टाइम है कि हर बीड़ी-तंबाकू-गुटखे वाले के साथ बीस बीस मिनट तक मगजमारी करते फिरें... सच्चाई तो यह है कि बहुत बार यह संभव हो ही नहीं पाता ..बस इतना ही कह दिया जाता है कि ...छोड़ दो भई बीड़ी पीना, फेफड़ें खराब हो रहे हैं, दिल का रोग पनप रहा है.....लेकिन जो मैं समझा हूं लोग सुनते कम ही हैं, तब ही सुनते हैं जब कोई झटका लगता है..

मुझे तो इन पाउचों को देख कर कल से यही लग रहा है कि अब मुझे तंबाकू के बारे में ज़्यादा बातें करना बंद कर देना चाहिए...इन तस्वीरों के बावजूद भी जो यह सब लफड़ा कर रहा है वह अपने पैरों पर आप ही कुल्हाड़ी मार रहा है, उसे कौन रोक पाएगा! ..हां, कुछ कुछ केसों में िवशेषकर छोटी उम्र के बच्चों एवं युवाओं की तरफ़ ज़्यादा ध्यान देने की ज़रूरत होती है ताकि वे इन सब घातक पदार्थों से दूर रह पाएं। 

आज फिर इस विषय पर इसलिए लिखने का मन इसलिए हो आया कि दो दिन के बाद हम लोग विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाएंगे...मैंने सोचा दो दिन पहले ही कुछ शुरूआत तो करूं...

समझ में नहीं आता कि इस टॉपिक पर कितना लिखना होगा ताकि लोगों को इन चीज़ों से डर लगने लगा...अभी तक तो मुझे नहीं लगता कि ऐसा कुछ हुआ है... सब कुछ धड़ल्ले से खाया पिया जा रहा है...मेरे विभिन्न ब्लॉगों में सैंकड़ों लेख हैं ...हिंदी और इंगलिश में...इन की पैकिंग से लेकर ...इन की विनाशलीला को दिखाते। 

लोग पीछे पड़े हुए हैं...किताबें छपवा....ईनाम के लिए भेज...मेरी ऐसी कोई तमन्ना नहीं है, ईनाम-वाम के जुगाड़ न ही पसंद हैं, न ही शौक है, न ही कभी इन के बारे में सोचा है...चुपचाप काम करने में आनंद है...सब जगह राजनीति घुसी हुई है...हम लोगों की ऐसी कोई प्रवृत्ति है नहीं...

सिनेरियो इतना निराशाजनक भी नहीं है, कभी कभी जब मेरी बातें सुन कर कोई बंदा अपनी जेब से बीड़ी का बंडल या तंबाकू का पाउच मेरी टेबल पर टिका देता है कि आज के बाद नहीं इस्तेमाल करूंगा ...तो बहुत खुशी होती है ..मेरी मेज़ की दराज़ में हर समय दो तीन बीड़ी के बंडल पड़े होते हैं...इन में से बहुत से लोग सच में छोड़ देते हैं...इन्हें मैं पंद्रह -पंद्रह दिन बाद पाठ को दोहराने के लिए बुला लिया करता हूं...और क्या करें यार! 

कभी कभी कहीं से जब कोई फीडबैक आती है तो भी अच्छा लगता है ..बहुत से ऐसे संदेश आते हैं...एक इस समय याद आ रहा है...ओर्डिनेंस फैक्टरी के एक बहुत बड़े अफसर लिखते हैं कि हमारी फैक्टरी में यह पान, मसाले, गुटखे की बड़ी समस्या थी, हम लोगों ने तुम्हारे लेखों के प्रिंट आउट फोटो सहित प्रिंट करवा कर के फ्रेम करवा दिये हैं....बहुत फर्क पड़ा है ...वे अकसर इस बात को बहुत जगहों पर शेयर कर चुके हैं। अच्छा लगता है सुन कर। 

बंद करता हूं ...it is never-ending discussion!
और हां, आप के मन में यह प्रश्न तो नहीं आ रहा कि यार, तूने इतने सारे तंबाकू के पाउच by the way खरीदे क्यों?.. मैंने इन की फोटो खींचने के लिये ही खरीदा था..और फोटो खींचते ही डस्टबिन में फैंक दिया है। 

बीड़ी की बात याद आई...हर फिल्म में कोई भी किरदार सिगरेट जब भी सुलगाता है तो तुरंत चेतावनी आ जाती है कि धूम्रपान सेहत के लिए हानिकारक है ....लेकिन गुलजार साहब ने बीड़ी को आग लगे जिगर से जला कर दिखा दिया.... लेकिन कभी आपने इस गीत के दौरान कभी कोई चेतावनी देखी?





नीरज जी, आप सौ नहीं, डेढ़ सौ साल जिएं!!


महान कवि गोपाल दास नीरज जी को यहां लखनऊ में तीन चार बार मिलने का मौका मिला...एक बार तो किसी एनजीओ ने आमंत्रण भेजा था..वहां पर दो राज्यों के राज्यपाल, राज्य के कईं मंत्री, मुख्यमंत्री भी आए हुए थे..इन के ९०वें जन्मदिवस के उपलक्ष्य में वह समारोह था...मुझे उस दिन पता चला था कि इस शख्स ने हमें कितने कितने महान् गीत दिए हैं जो हम लोग आज भी उतनी ही शिद्दत के साथ सुनते हैं..और उन के जादू में खो जाते हैं...

उस दिन उन के लिखे गीतों को कुछ कलाकार गा भी रहे थे...मुझे याद है मैं भी दूसरी या तीसरी कतार में था...कुछ बात हुई ...उत्तराखंड के राज्यपाल जनाब अज़ीज़ कुरैशी साहब ने एक कलाकार को आवाज़ दे कर कहा कि वह सुनाओ...शोखियों में घोला जाए, फूलों का शबाब...यह गीत भी इस महान कवि का ही लिखा हुआ है... a wonderful song indeed! 


मुझे अच्छे से याद है ..किस तरह से वह राज्यपाल महोदय इस गीत को सुनते हुए झूम रहे थे...वैसे तो वह ही नहीं, सारा ऑडीटोरियम ही मंत्रमुग्ध सा बैठा हुआ था..

ये गीत भी इन्हीं के ही हैं...सुनिएगा..ऐ भाई ज़रा देख के चलो...और खिलते हैं गुल यहां...



मैं उस दिन पहली बार इस महान हस्ती से मिला था...ये बहुत लिटरेट हैं..पहले कहीं प्रोफैसर रह चुके हैं...बहुत सहज स्वभाव के हैं...मैंने उस दिन इन से बात की और इन से ऑटोग्राफ भी लिए...जब यह एक कविता कह रहे थे तो यह वीडियो क्लिप भी बनाई ...आप भी सुनिएगा..कितना बेहतरीन अंदाज़े-ब्यां है इन का...

उस के बाद भी इन को दो-तीन प्रोग्रामों में देखने का मौका मिला... हर बार बहुत ही बढ़िया अनुभव रहा..
इन के बारे में मैंने लिखने की सोच तो ली, लेकिन सूर्य को दिया तो क्या एक चिंगारी दिखाने जैसी बात भी नहीं है...इस हस्ती ने हमें सैंकड़ों बेहतरीन हिंदी फिल्म गीत दिए हैं...एक से बढ़ कर एक...जीवन की सभी संवेदनाओं से जुड़े हुए लगभग ... 

अच्छा एक काम करिए...इंटरनेट पर इन के बहुत से इंटरव्यू तो हैं ही, इन के ऐसे वीडियो भी सैंकड़ों होंगे जिन में ये कवि सम्मेलनों में शिरकत करते नज़र आते हैं...मेरे लिए इतना सब कुछ समेटना इस छोटी सी पोस्ट में नामुमकिन है ... मैंने एक कार्यक्रम में इन की लिखी कुछ किताबें भी खरीदी थीं, कभी कभी ज़रूर पढ़ता हूं ... लाजवाब लेखन.

हां, यह पोस्ट अचानक कैसे?...दरअसल पिछले दिनों इन की तबीयत नासाज़ थी...ये अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव के भी बहुत करीबी हैं, वे इन का भरपूर सम्मान करते हैं..मुलायम सिंह इन का पता लेने यहां अस्पताल में गये हुए थे...अब सेहतमंद हैं. अस्पताल से छुट्टी हो गई है..९२ साल के हैं और आज की अखबार में इन की एक खबर दिखी ...कहते हैं मैं १०० साल पूरे करूंगा.....जनाब, नीरज जी, आप जैसी विभूतियां करोड़ों दिलों पर राज करती हैं, इन सब की दुआओं में आप शामिल हैं, ईश्वर करे आप कम से कम १५० साल जी कर लोगों को अपने शब्दों के जादू से मंत्रमुग्ध करते रहें.....आमीन!!
                                   इन की कुछ पंक्तियां ये भी हैं....
 यह वहशी ज़माना है..
हर हाथ में पत्थर है..
कि बच जाए 'गर शीशा.
यह उस का मुकद्दर है...

अब सोच रहा हूं कहां लिखने बैठूं...अपनी डायरी से फोटो खींच कर ही यहां चस्पा किए दे रहा हूं....अगर ठीक से न पढ़ा जाए, तो इस पर क्लिक कर के आप अच्छे से पढ़ सकते हैं....मुझे भी लिखने में आलस आने लगा है ...बुढ़ापा घेरने लगा है ऐसा लगता है....





उसने वट-पूजन के लिए इलाज किया मुल्तवी


कुछ महीने पहले एक महिला मरीज़ आई थीं..उसे जब बुलाया था..उस के भी बहुत दिनों बाद आईं...कारण बता रही थीं कि घर में तुलसी जी हैं, उन से संबंधित कुछ कार्यक्रम था...इसीलिए उस में व्यस्त रही...बताने वाली बात यहां यह है कि वह बात बात पर तुलसी को तुलसी जी के नाम से संबोधित कर रही थीं...मुझे अच्छा लगा, इतना आदर सत्कार...बहरहाल, तुलसी के ब्याह के बारे में तो आप सब जानते ही होंगे...यह भी बड़ी धूमधाम से किया जाता है ...वही बात है, अपनी अपनी आस्था है, मुबारक है।

आज भी एक महिला को मुंह की किसी सर्जरी के लिए बुलाया था..सुबह आईं अपने पति के साथ...गोंडा के किसी गांव की रहने वाली हैं..लखनऊ में बेटा नौकरी करता है ..यहां रहने आए हुए हैं लेकिन कुछ दिन के लिए वापिस जा रहे हैं...मुझे यह कहने आईं थी कि सावित्री वट पूजा के बाद ही कुछ करवा पाऊंगी...तब तक तो मैं कुछ सोच भी नहीं सकती...मुझे उत्सुकता हुई कि यह वट-पूजा आखिर है क्या!

इस वर्ष वट पूजा ५ जून को है...

उस के पति ने बताया कि उन के गांव में सदियों पुराना (उन्होंने ऐसा ही कहा!..उस के दादा के दादा के जमाने का) वट वृक्ष है...उस का पूजन होता है ज्येष्ठ माह की अमावस्या के दिन...सभी महिलाएँ अपने पति की सलामती के लिए व्रत भी रखती हैं...वट का पूजन करने के बाद ही व्रत तोड़ती हैं..

महिला ने बताया कि गांव में वट-पूजन के दिन मेले जैसा माहौल हो जाता है ...खूब व्यंजन बनते हैं..लेिकन पूजा के बारे में कुछ ज़्यादा वह बता नहीं पाईं...

मेरी इस उत्सुकता का समाधान गूगल मामू ने कर दिया....सब कुछ अच्छे से देख लिया और आप के साथ शेयर भी कर रहा हूं..

देश में इतने आस्थावान लोग हैं ...कि बहुत बार मनोज कुमार की फिल्म का वह गीत याद आ जाता है ...यहां नदियों को भी मैया कह के पुकारा जाता है ..सच में धर्म-कर्म तो बहुत है ही ...और किसी भी आस्था के पीछे कुछ वैज्ञानिक तथ्य तो रहते ही हैं..लेकिन जैसे जैसे स्वरूप बदलता गया, शायद उस वैज्ञानिक प्रतिपादन की तरफ़ ध्यान देना गौन होता गया...मुझे ऐसा लगता है ..

लेिकन कुछ भी हो, जनमानस में व्याप्त इस तरह की आस्थाएं मुझे बहुत सुख देती हैं...इतने पुरातन पेढ़ों की पूजा-अर्चना होगी तो ज़ाहिर सी बात है कि ये कुल्हाड़ी से बचे रहेंगे...

मेरी मरीज़ के पति ने बताया कि अगर कोई टहनी अपने आप गिर जाये तो अलग बात है ...लेकिन उसे हम लोग वैसे नहीं काटते.....उसने बताया कि उस के दादा के दादा को उसी जगह पर बाघ खा गया था...उसी समय से निरंतर वहां वट की पूजा होती है ..

मैंने देखा यू-ट्यूब पर तो पता चला कि यह वट-पूजा समझ में आ गई...वट को बरगद भी कहते हैं और इंगिलश में banyan tree...देश में जगह जगह पर इस के बहुत पुराने-पुरातन पेड़ हैं...आप भी गूगल करिए और देखिए...


हिंदी के अखबार में हर सप्ताह एक सूचना दिखती है ..इस सप्ताह में पड़ने वाले व्रत-त्योहार ...और अकसर जब मैं सूची देखता हूं तो समझ में आता है कि हर दिन कोई न कोई व्रत है, कोई न कोई त्योहार है...वैसे तो इस देश में हर दिन एक जश्न है...
एक चुटकुला याद आ गया ...सुबह एक साथी मधुर बंसल ने भेजा था... 
पिंजड़े में बंद एक मिट्ठू मियां को पंजाबी मालिक कहता है ..हां भई मिट्ठू, जलेबियां खाएंगा?
मिट्ठू मियां ने दिया करारा सा जवाब....जलेबियां अपनी मां नूं खवा...सालेया,पहलां मिर्चां खवा खवा के बवासीर करवा दित्ती, हुन जलेबियां खवा के शुगर करवाएंगा की?😄😄😄😄😄
कभी भी पूजा-अर्चना के बाद ...प्रसाद तो मिलता ही है ..यहां पर दिखा देते हैं...पिछले दिनों खूब साईकिल चला लिया, टहल लिया..अब उसे काउंटर करने के लिए घर में कुछ डिब्बे आज दिख रहे है...सोन पापड़ी, ड्राई पेठा...मुझे ड्राई पेठा देख कर अच्छा लगा... खाने में भी बहुत अच्छा है...आज पहली बार देखा कि ह्लदीराम कंपनी इस पेठे को भी तैयार करती है...😄😄 ...बाज़ार में लोकल कंपनियों का मिलता तो है ..लेकिन हर बार अलग अलग ...कभी भी क्वालिटी ठीक नहीं लगी... चलिए, अब इस पूजा के सामान को समेट लिया जाए....गीतकार नीरज की कुछ बातें आप से करनी हैं अभी.. ..








Thursday, May 26, 2016

आप का आज गुज़रे हुए कल से बेहतर हो! सुप्रभात!!

सुबह उठा..सिर थोड़ा भारी ...ए सी की वजह से अकसर होता है, क्या करें, मजबूरी है, वरना नींद ही नहीं आती..भयंकर उमस की वजह से ...लेकिन ए सी में सोने से मुझे बहुत नफरत है...वैसे तो मैं सिर पर परना (यहां इसे अंगोछा कहते हैं) बांध कर सोता हूं ..लेकिन जब भी यह भूल जाता हूं तो सुबह तो बस सिर की वॉट लग जाती है..

लेकिन उस का एक बढ़िया समाधान है ...तुरंत अगर टहलने निकल जाऊं तो चंद मिनटों में तबीयत टनाटन हो जाती है ..जैसे आज हुआ..

आज भी ऐसा ही हुआ...पुराने साथियों को वाट्सएप पर सुबह सुबह दुआ-सलाम हुई तो बताया कि सिर भारी है ...एक साथी ने कहा तो फिर जा, जा के पसीना निकाल के आ...

तुरंत निकला...आज इच्छा हुई लखनऊ के बॉटेनिकल गार्डन के तरफ़ जाने की ...घर से लगभग १० किलोमीटर है...बीच रास्ते में ही मन बदल गया...सोचा क्या करूंगा इतनी दूर जाकर ...स्कूटर पर था...पास ही के एक बाग का रूख कर लिया....राजकीय उद्यान के नाम से जाना जाता है इसे।

रास्ते में एक बहुत सुंदर घर दिख गया...यह पेड़ इस घर की सुंदरता को चार चांद लगा रहा है ...मुझे ऐसे घर बहुत अच्छे लगते हैं...

अंदर जाते ही एक पोस्टर थमा दिया गया...किसी सैलून मैट्रिक-यूनीसेक्स का....मैंने उस बंदे को हंसते हुए कहा कि यार, हम तो हजामत वाले ज़माने से हैं...हमें तो बार बार घर वाले यही याद दिलाया करते थे कि जा, हजामत करवा के आ....और बहुत बार तो हजामत के ह को हम लोग खा जाते थे...और मेरी नानी तो दाढ़ी बनाने को भी जामत बनाना ही कहती थीं... Good old days!

थोड़ा आगे गया तो अपने कुछ कर्मचारी और कुछ मरीज़ दिख गये....देख कर हंसने लगे कि डाक्टर साहब, इतनी दूर से यहां आ गये....एक मरीज़ ने कहा ..हां, ये कभी कभी इधर आते हैं!  उन्हें सुबह सुबह अपनी सेहत का ध्यान करते हुए देख कर अच्छा लगा...तब तक मेरी तबीयत भी बिल्कुल ठीक हो चुकी थी...




टहलते हुए बाग में एक विशेष जगह दिखी जिस का गेट बंद था...वहां मूडे पड़े हुए थे...साहिब लोग यहां आराम फरमाते होंगे...

इस बाग के बारे में मैंने पहले भी एक बार एक पोस्ट लिखी थी जिसमें मैंने कटहल के बारे में एक प्रश्न किया था... यहां यह बंदा सुबह सुबह कटहल सेवा करता दिखा....अच्छा लगा...खूब लोग उस से खरीददारी कर रहे थे...इस बाग में कटहल भी लगे हुए हैं....मैं एक पेड़ के पास गया ..वहां दो चार बच्चे क्रिकेट खेल रहे थे...उस के नीचे, मैंने पूछा कि यार, अगर यह कटहल नीचे गिर जाए तो....उसने मेरा प्रश्न ठीक से समझा नहीं ..कहा, उस में क्या है, आप भी जो चाहें उतार लीजिए, और बोल दीजिए, नीचे गिरा हुआ मिला.....

कटहल पेड़ों पर उगता है ...मैंने कुछ दिन पहले ही यह जाना 

लेकिन मेरी ऐसा करने की कोई मंशा नहीं थी...

ध्यान दीजिए इस बाग में टहलने के लिए पक्का रास्ता नहीं है...इस तरह के रास्ते पर सुबह टहलने से बहुत मज़ा आता है...


यह पेड़ दिख गया फिर से....मैंने फिर से फोटो खींच ली....अपनी आदत से मजबूर मैं....मुझे पेड़ों की तस्वीरें खींचना बहुत भाता है ....थोड़ा सा हट के देखा तो इस की महानता समझ में आ गई...सब मजबूत जड़ों का ही खेल है...



इस पेड़ की तरफ़ ध्यान गया तो यहां भी जड़ों का ही खेल समझ में आया....


बाग से बाहर िनकलते हुए ध्यान इन की तरफ़ गया तो ऐसा लगा कि ये तंदूर यहां कैसे पड़े हैं...कटहल बेचने वाले के साथ बैठे एक बंदे ने बताया कि ये गमले हैं ...एक साल से आए हुए हैं...इन में बड़े पेड़ लगेंगे... चलिए, बहुत अच्छी बात है ...लेकिन तब तक मुझे तंदूर के दिनों की बातें याद आने लगीं...सांझे चुल्हे की बातें...एक बार मैंने इस पर एक लेख भी लिखा था..आज ढूंढूंगा ....



मैंने भी पिछले दस सालों में इस ब्लॉग पर बहुत ही वेलापंती की है ..क्या करूं, और कुछ करना आता ही नहीं! जब सांझे चूल्हे की बात होती है तो मुझे सुरों की देवी रेशमा का वह गीत याद आ जाता है ...कितनी गहराई, कितनी कशिश थी, कितनी जादुई आवाज़ थी इस देवी की.... सुनिएगा इस देवी को कभी ... I am a big fan of Reshma ji..

 लौटते हुए एक सुनसान सड़क पर तेज़ी तेज़ी से एक पंडित जी जा रहे थे....मुझे लगा कि जल्दी में हैं...मैंने पूछा कि चलेंगे?...कहने लगे कि पास ही की एक कालोनी के मंदिर में मैं पंडित हूं....सात बजे ड्यूटी शुरू हो जाती है ..मैंने कहा कि उसमें क्या है, आप को मंदिर तक छोड़ के आते हैं....पंडित जी बहुत खुश हुए...

उधर से मैंने गन्ना संस्थान के रास्ते से वापिस आने का मन बना लिया..दोस्तो, आप को यहा यह बताना चाहूंगा कि यहां लखनऊ में एक राष्ट्रीय स्तर का गन्ना रिसर्च सेंटर है ....कितना विशाल कैंपस होगा?...शायद देश की किसी भी बड़ी यूनिवर्सिटी के बराबर का तो होगा....कम से कम!..मुझे कभी कभी इधर से गुज़रना अच्छा लगता है ...हर तरफ़ गन्ने के पेड़....यहां पर गन्ने का रस भी बिकता है ...और गुड़ भी .... एक दम खालिस....गन्ने का रस तो मैंने एक बार पिया था...गुड़ का पता नहीं, कभी मौका नहीं मिला ....देखते हैं फिर कभी!


घर लौट कर जब मैं यह पोस्ट लिखने लगा तो मेरे कमरे में सूर्य देवता ने अपना आशीर्वाद इस तरह से भेजा...मैंने एक बार तो पर्दा आगे किया ..फिर से पीछे हटा दिया....यह सोच कर कि These are Nature's blessings....we should relish them and be thankful to this omnipotent and omniscient God! ....और हम लोग बरसात आने पर भीगने की बजाए सब से पहले छातों का जुगाड़ करते हैं और सुबह की गुलाबी धूप से बचने के िलए परदे तान देते हैं....हम भी कितने नाशुक्रे हैं ना.... है कि नहीं!


And I started feeling on the top of the world again!
आज कल हम लोगों की स्कूल कालेज के दिनों के ग्रुप पर खूब बातें होती हैं...हम वहां १२-१५ साले के ही बन जाते हैं...कभी कभी कोई किसी को "जी" लिखता है तो बड़ा कष्ट होता है...कोई न कोई मास्टरों के हाथों नियमित कुटापे के दिनों की याद दिला ही देता है ...बाकायदा मास्टर के नाम के साथ....ऐसे में उसी दौर के फिल्मी गीत  याद कर के हम लोग अपने मूड को दुरूस्त कर लेते हैं ....आप भी सुनेंगे ?