Tuesday, February 26, 2008

अब आप होम-वर्क की भी परवाह नहीं करते !


मैं बहुत अफसोस से यह कह रहा हूं कि मैंने इसी बलोग की पिछली पोस्ट पर रविवार के दिन आप को एक होम-वर्क दिया था, लेकिन केवल उन्मुक्त जी ने ही उसे सीरियसली लिया है और अपना होम-वर्क कर के दिखाया है। आप क्यों नहीं कर रहे ? ---नहीं , नहीं ,कोई बहानेबाजी यहां नहीं चलेगी। आप अभी इस से पिछली पोस्ट देखिए और एक-दो दिन के अंदर जैसा कहा गया है वैसा करिये।

मैं इस बारे में बहुत ही गंभीर हूं कि हम ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को कंप्यूटर और इंटरनेट के साथ जोड़ने के लिए क्यों ना कुछ हिंदी में याहूआंसर्ज़ या उस से भी बढ़िया कुछ शुरू करें। जिस में तरह तरह के जिज्ञासु हमारी अपनी भाषा के साथ जुड़ेगें। कुछ इस तरह के ही प्रश्न मैंने होम वर्क में दिये हैं , तो क्या आप को यह होम-वर्क मुशिकल जान पड़ रहा है। अगर नहीं, तो दौड़ा डालिए अपनी उंगली को अपनी की-बोर्ड पर......

NOTE……………Please take it seriously ….otherwise matter will be reported to worthy Principal .

ऐसी फुकरापंथी से क्या हासिल ?

मैं अभी अभी यही सोच रहा हूं कि मैं तो आप सब से देश के विभिन्न आंचलों में प्रचलित हिंदी भाषा के बहुत बढ़िया शब्द सीख रहा हूं....तो क्या मेरा फर्ज़ नहीं बनता कि मैं पंजाबी में प्रचलित – बहुत ज्यादा पापुलर- शब्दों से भी आप का तारूफ़ करवाऊं। तो आज का शब्द है ....फुकरा। जी हां, हमारे यहां जिस शोहदे टाइप बंदे पर बहुत ज़्यादा गुस्सा सा आता है उसे हम खुल्ले दिल से फुकरा कह देते हैं। लेकिन अफसोस है कि आज मैं इस शब्द को किसी बहुत ही दर्दनाक घटना से जोड़ कर आप के सामने रख रहा हूं।

तो , आज सुबह सुबह जब टाइम्स ऑफ इंडिया में यह पढ़ा कि मोदीनगर(गाजियाबाद) में किसी विवाह के दौरान ऐसे ही मस्ती में एक देशी पिस्टल से चली गोली से किसी के 14 साल के लाडले ने जान ले ली। खबर में तो यह भी बतलाया गया कि वहां पर मौजूद मेहमानों ने गोली चलाने वाले की इतनी पिटाई की कि उसे हस्पताल में दाखिल करवाना पड़ा। मैं यही सोच रहा हूं कि एक बंदे की फुकरापंथी से किसी के तो गुलशन में ही वीराना हो गया ना.....अब केस तो उस पर भी चलेगा....।

..( मेरा दिमाग तो मुझे अपने मुंह पर उंगली रखने को कह रहा है और कह रहा है कि तू ज़्यादा मत बोला कर, लेकिन मन मान नहीं रहा.....इसीलिए दोस्तो मैं तो भई अपने आप को सफल बलोगर तभी मानूंगा जब मैं लिखते समय शत-प्रतिशत अपने मन की ही बात मानूंगा..................लेकिन इमानदारी से कह रहा हूं कि मैं कोशिश तो पूरी करता हूं ....लेकिन शत-प्रतिशत मैं अपने मन की नहीं सुन रहा हूं......मेरा तो उद्देश्य यही है कि कुछ भी हो अपने मन की 100% माना करूं....लेकिन क्या करूं ..हूं तो बुझदिल ही ना.......हालांकि यह मुझे भी अच्छी तरह से पता है कि यहां पर 99 और 100 प्रतिशत में भी ज़मीन आसमान का अंतर है। क्योंकि यह जो एक परसेंट है न यही हमें जीने नहीं देता.....कचोटता रहता है कि यार, तू बंदा है , तू अगर लिखने जैसी चीज़ में भी अपने दिल की बात नहीं मान रहा तो आखिर कर क्या रहा है। सो, मुझे तो केवल आशीर्वाद दीजिए कि मैं इस मिशन में सफल हो पाऊं...और मैं आज 26फरवरी 2008 तो आप से यह वायदा करता हूं कि मेरा मिशन ही लेखन में इस स्तर तक पहुंचना है, नहीं तो क्या है, ऐसे ही क्या लिखने का फ्राड करना.....बहुत से बड़े से बड़े विचारक एवं लेखक इस महान देश में पड़े हैं , लेकिन रोना वही है ना कि उन को इस इंटरनैट पर पहुंचने में पता नहीं कितने ज़माने लग जायेंगे......फिर सोचता हूं कि बाबा बुल्लेशाह , भगत कबीर , बाबा फरीद या उस महान मुंशी प्रेमचंद के पास क्या ये सब कुछ सुविधाएं थीं.....नहीं ना, तो फिर क्यों उन सब का नाम दुनिया में हीरे-ज्वाहरातों से लिखा हुया है और हमेशा लिखा रहेगा।

ओ हो , एक तो मैं बाल की खाल बहुत खींचने लगता हूं...शुरू कहां से हुया था और कहां पहुंच गया हूं। हां, तो बात हो रही थी किसी फुकरे की जिस ने एक 14साल के किसी मां के दुलार, किसी बाप के संसार , किसी बहन के नाज़ को गोली का निशाना बना दिया। उस केस का आगे चल कर क्या होगा, इस में क्या पड़ें.....लेकिन इस से क्या वह बेचारा विवाह में हंसी खुशी खेल रहा बच्चा वापिस आ जायेगा। इसलिए मुझे इस तरह की फुकरापंथी करने वालों से बेहद शिकायत है , क्योंकि तुम ने तो भई दिखा लिया अपना शोहदापन , लेकिन किसी परिवार का तो संसार ही लुट गया।

यह तो था कि किसी की जान ही चली गई, लेकिन मैं आप को ब्रीफ में एक ऐसी सच्ची बात बताता हूं जिस में एक छोटी सी लड़की की पूरी दाईं बाजू ही उड़ गई थी। जी हां, यह लड़की अमृतसर में हमारे पड़ोस में ही रहती थी......हम इक्ट्ठे ही खेलते थे...बहुत नेक-दिल लड़की थी, अच्छी दोस्त थी। उस के दाईं बाजू केवल कंधे तक ही थी.....हमें बताया गया था कि वह जब गोद में ही थी तो अपने किसी मामा की शादी में अंबाला गई हुई थी, ...उस के रिश्तेदार ने उसे गोद में उठाया हुया था , इतने में ही बारात में किसी ने हवा में गोली दाग दी...जो गलती से उस की बाजू में लगी ...और उस का खौफनाक रिजल्ट हमारे सामने था। बहुत गुस्सा आता था जब भी कभी उस के बारे में घर में बात चलती थी...खून खौलने लगता था।

और एक रोना यह भी है ना कि अकसर विवाह शादियों में सब रिश्ते की तारों के साथ जुड़े होते हैं , तो किसी के ऊपर कानूनी कार्रवाई करने की बात सोचना ही मूर्खता होगी.....अगर शुरू शुरू की गर्मी में कुछ थोड़ा बहुत कहा-सुना भी जाता है तो उस को हमारे भारतीय समाज के बोझिल रिश्तों का ताना-बाना ऐसा दबा देता है कि यह मात्र एक दबी चीख ही बन कर रह जाती है। हमारे पड़ोस में रहने वाली मेरी मित्र से भी कुछ यही हुया था। लेकिन अभी सोच रहा हूं कि यार , हम लोग कुछ बचपन से ही बहुत सेंसेटिव से, कुछ ज्यादा ही अंडरस्टेंडिंग रहे होंगे ...मुझे नहीं याद, खुदा कसम, कि कभी भी हम में से किसी भी बच्चे ने उस का सपने में भी मज़ाक बनाया हो या चिढ़ाया हो.....। हम उस को इतना अपनी सारी गतिविधियों में इन्वाल्व कर के रखते थे और वह भी बहुत हिम्मत वाली थी....आत्मविश्वास तो उस में कूटकूट कर भरा हुया था.....आज कल वह दिल्ली के एक सरकारी कार्य में सर्विस कर रही है......अपने परिवार में खुश है...अभी दो-तीन साल पहले मिले थे.......।

बस , यार , अब विराम लेता हूं...जब से सुबह वाली खबर पढ़ी है ना मूड खराब है। धिक्कार है ऐसी फुकरापंथी पर। पता नहीं हमें कब इन बातों की अकल आयेगी। आज के ज़माने पर में भी इस तरह के शौक पालने.........मुझे शिकायत है, बहुत शिकायत है,....बहुत ज़्यादा शिकायत है.......................चलिए अकेला ही बकता जाता हूं, कभी तो किसी के मन को लगेगी।
जो भी हो, मुझे वह ऊपर वाला आशीर्वाद( जो मैंने आप से मांगा है) देना न भूलियेगा।