Monday, March 17, 2008

वो ट्रंक-काल वाले दिन..........मत याद दिलाओ !!


वो ट्रंक-कॉल करने वाले दिन भी क्या दिन थे....चलिए अपनी यादों को ज़्यादा तो नहीं....बस बीस-पच्चीस साल पहले तक ही रीवाइंड कीजिये.....। सबसे पहले चार-पांच किलोमीटर का सफर साईकिल पर तय कर के ज़िले के बड़े डाकखाने पर पहुंचना होता था।

तार-बाबू के काउंटर पर पहुंच कर पहले उस का मूड देखा जाता था। क्योंकि सब कुछ तो उस के हाथ में ही होता था....अगर उसे ग्राहक के आव-भाव कहीं पसंद नहीं आये और उस ने तपाक से कह दिया कि ......मैं कह रहा हूं ना कि जयपुर की लाइन मिलने का तो कोई सवाल ही नहीं है इस समय..........तो आप उस का क्या लेते ?.....इसलिये सब काम बड़ी तहजीब से चलता था।

बस, आप का थोड़ा सा इंटरव्यू डयूटी पर बैठा बाबू पहले लेता था कि हां, बोलो, कहां करोगे बात........शायद आधे लोगों की स्क्रीनिंग तो इसी स्टेज पर ही हो जाया करती थी कि यूं ही समय बरबाद करने का कोई फायदा नहीं क्योंकि सुबह से ही बम्बई की लाइनें मिल ही नहीं रही हैं। और मुझे याद है कि कईं बार तो एक फोन करने के लिये दो-तीन दिन उस जीपोओ के चक्कर लगाने पड़ते थे।

सब से पहले बाबू एक फार्म आप को थमा देता था...जिसे भरने के लिये कोई कौना ढूंढना पड़ता था ....लेकिन अभी अभी याद आ रहा है कि कभी कभी वह सिर्फ आप से पूछ लेता था कि आप ने कहां फोन करना है......और वह झट से अपने रजिस्टर में आपका बताया हुया नंबर लिख लेता था......और साथ में यह भी ज़रूर पूछ लिया करता था कि अर्जैंट करना है या आर्डिनरी................क्योंकि इन के चार्जेज़ में भी फर्क हुया करता था। इतनी फार्मैलिटि के बाद फिर वह आप से बीस या पचास रुपये ( दूरी के हिसाब से) ...लेकर अडवांस के रूप में जमा कर लिया करता था।

अब होती थी ....ग्राहकों की तपस्या शुरू......इंतजार की घड़ियां खत्म होने का नाम ही नहीं लेती थीं। वह बाबू दन-दना-दन एक के बाद नंबर घुमाता जाता और कुछ कुछ अपने लोकल बस-अड्डे के बाथ-रूम के ठेकेदार वाले अंदाज़ में ग्राहकों को आवाज़ लगा दिया करता कि ....कौन है ग्वालियर वाला , कौन है नासिक वाला.............उस की आवाज़ आने का मतलब होता था कि भई...तेरा फोन लग गया है या घंटी बज रही है ...चल, भाग कर उस कैबिन में जल्दी से घुस जा जहां पर एक पुराने ज़माने का एक काला टैलीफोन सैट पड़ा होता था। और , फोन पर बतियाने वाले मेरे जैसे नये नये खिलाड़ी जो इतनी तेज़ी से बोलते थे कि शायद आस-पास के कस्बों तक आवाज़ वैसी ही पहुंच जाये। लेकिन अकसर सब की बातें खुली होती थीं.....सब को बाहर सुनती थी कि उस के परिवार में क्या क्या चल रहा है !! लेकिन तब हम लोग प्राइवेसी के इतने दीवाने भी नहीं हुया करते थे।

लेकिन यह क्या, यह वाले लाला जी तो आधे मिनट में ही फोन वाले कैबिन से बाहर आ गये और कह रहे हैं कि दूसरी तरफ से आवाज़ ही क्लियर नहीं सुन रही थी। खैर, किसे मंजे हुये अंपायर की तरह उस बाबू का फैसला अकसर फाइनल ही हुया करता था..........कि इस तरह की काल्स को चार्ज करना है या नहीं ....अकसर चार्ज कर ही लिया जाता था।

और यह बहस भी कभी कभी गर्मागर्म दिख जाती थी कि यार, बात तो इतनी छोटी की है और आप कह रहे हो कि तीस रूपये का बिल आ गया है । लेकिन वही बात कि बाबू के आगे सब की बोलती बंद हो जाया करती थी....जितनी मरजी कोई सब तरह के पलस जानने की शेखी बघारता, लेकिन बाबू के आगे उस की एक न चलती । क्योंकि बाबू ने अपने उस पुरानी सी मेज पर एक स्टाप-वाच भी रखी होती थी जिसे वह फोन लगते ही चालू कर दिया करता था...और दिन और रात के चार्जेज़ का भी अंतर हुया करता था। अब लगता है कि यार, हम लोगों में कुछ ज़्यादा ही पेसेंस थी.....एक फोन करने के लिये इतनी माथा-पच्ची.........इन की यादों की बारात में ही मैं खुद को संभाल नहीं पा रहा हूं। लेकिन वे दिन भी बस कुछ अलग ही थे......।

जिन का फोन झट से लग जाया करता था और जो लोग अकसर वहां पर फोन करने आया करते थे , वे भी कहां बड़ी बड़ी छोड़ने से बाज आते थे.....सब अपना अपना ज्ञान फैंकने पर तुले होते थे......तू देख, अगर तेरे को दिल्ली करना है ना फोन तो शाम को छः बजे आया कर, देख पहली ट्राई में ही मिलता है। उस कमरे में पूरी जमघट लगा हुया करता था......क्योंकि औसतन जितने बंदे फोन करने वाले उतने ही उस को एस्कार्ट करने वाले हुया करते थे। वाह, क्या नज़ारा हुया करता था। लेकिन , यह क्या.....यह महिलाओं के साथ भेदभाव तब भी होता था...............बस जनानीयां ते टावीयां-टुक्कीयां हुंदीयां सन...( महिलाओं तो बस कभी कभार ही दिखती थीं...) ...

इतना सब कुछ लिखने का ध्यान इसलिये आया कि आज शाम को अपने एक फ्रैंड को अमृतसर मोबाइल पर दो बार फोन ट्राई किया....लेकिन काल नहीं लगी.....चूंकि वह दोस्त अमृतसर के बड़े डाकखाने के पास ही रहता था तो झट से पुराने ज़माने की सारी बातें एक फ्लैश-बैक की तरह याद आ गईं जिन्हें आप के साथ साझा कर लिया ।

बैठ के त्रिंजनां च सोहनीये.......( जब तुम दूसरी लड़कियों के साथ बैठ कर...)

इस सुपर-डुपर पंजाबी गीत....बैठ के त्रिंजनां च सोहनीये...........पंजाबी मुंडा अपनी सोहनी से पूछ रहा है कि तुम त्रिंजनां( जब मुटियारां इक्ट्ठी हो कर बैठती हैं तो उसे त्रिंजन कहते हैं) ...में बैठ कर जब चादर पर कढ़ाई कर के फूल निकाल रही होती हो तो किस को याद कर के अपने लाल-लाल होंठों को दुपट्टे में छिपा कर हंसती रहती हो। यह भी बताओ कि वह कौन है जिस के लिये तुम इतना श्रृंगार करती हो !...यह भी बताओ कि तुम अंधेरी बन कर किस गबरू के ऊपर फिदा हो गई हो। वह कौन है जिस के लिये तुम अपनी उंगलियों में छल्ले डालने लग गई हो और अमावस्या के मेले पर भी आने लग पड़ी हो।
मुझे तो यह पंजाबी गीत बेहद पसंद है ...आप भी सुनिये।

मरने से पहले जीना ना छोड़ो, यारो !!

किसी बैंक में गये हुये हैं और कितनी भी जल्दी में हों तो क्या किसी के कहने पर कि फार्म भर दें ,तो क्या कोई बंदा मना कर सकता है ?......बिल्कुल भी नहीं.........मैंने भी कभी मना नहीं किया। जब हम लोग फिरोज़पुर में थे तो हम देखा करते थे कि कुछ रिटायर्ड लोग बैंक के बाहर एक छोटी सी मेज लगा कर बुजुर्ग एवं अनपढ़ लोगों के फार्म भरा करता थे। मेरे मन में ऐसे लोगों के लिये बेइंतहा इज्जत है और जो ऐसे लोग बिना किसी भी तरह के स्वार्थ के जन-जनार्धन की सेवा में रमे हुये हैं ....मैं तो इन्हें इश्वर से भी ऊपर मानता हूं......अब मानता हूं तो मानता हूं, यह मेरे वश में नहीं है और किसी धार्मिक स्थल की बजाये ऐसे लोगों को बार-बार नमन करना चाहूंगा।

पता है जब कोई किसी अनपढ़ को या बहुत ही बुजुर्ग को फार्म भरने के लिये मना भी नहीं करता और फार्म भरता भी नहीं ....तो उस खाली फार्म हाथ में पकड़े हुये इंसान को कितनी पीढ़ा होती है। अगर पता नहीं है तो अगली बार जब बैंक में जायें( नहीं, नहीं, विदेशी बैंक में नहीं...अपने ही किसी राष्ट्रीयकृत्त बैंक में !) ...तो कुछ ऐसे ही चेहरे ढूंढ कर पढ़ने की कोशिश कर लीजियेगा। यह बात अच्छी तरह से समझ में आ जायेगी। और हां, किसी को फार्म भर दें तो वह बंदा इतनी ज़्यादा दुयाओं की बौछार कर देता है कि मेरे जैसे बंदे को अपने ऊपर शर्म आने लगती है...कि यार, ऐसा कौन सा तीर मार दिया है हमने।

अच्छा तो मैं बात कर रहा था कि कुछ बुजुर्ग लोग किसी बैंक में जाकर अपने साथियों की थोड़ी मदद करने को अपना टाइम-पास बना लेते हैं........वैसे कितना सुपर-हिट आइडिया है। सारा दिन वही घिसे-पिटे चैनल देख कर क्या मिलना है........क्या कुछ बदल जायेगा.....तो फिर अगर लिमिट में यह सब देखा जाये तो ही ठीक है ना। अकसर देखता हूं कि रिटायर्ड लोग अनुभव का खजाना होते हैं तो फिर यह कहीं दो-तीन घंटे जा कर किसी कम खुशनसीब की मदद करने में कैसी झिझक..........किसी बैंक में जाया जा सकता है या किसी डाकखाने के बाहर बैठ कर लोगों की मदद की जा सकती है ...किसी कोर्ट कचहरी के बाहर बैठ कर लोगों को रास्ता दिखाया जा सकता है, किसी मरीज से जा कर बात की जा सकती है, कईं लोगों की ड्राफ्टिंग बहुत बढ़िया होती है , वे लोगों की चिट्ठी -पत्री में उन की मदद कर सकते हैं.....बहुत से लोग अपने अपने फन में खिलाड़ी होते हैं और रिटायर्ड होते ही बस अपनी खाट पर बेबसी, आलस की रजाई ओढ़ कर उस इडियट बॉक्स ( हां, वही टीवी और क्या ) ....के सामने डटे रह कर बस अपनी बीपी की अगली खुराक के समय का हिसाब लगाते रहते हैं या तो फिर अपने ब्याज का टोटल मार-मार कर परेशान होते रहते हैं कि यार, यह भी तो अनर्थ ही है ना कि पहले तो मिलते थे 750 रूपये महीने में लेकिन अब उसी पैसे पर 480रूपये मिलते हैं।

लेकिन अगर यही अनुभवी लोग अपने अपने महारत वाले फील्ड में किसी की उंगली थामना शुरू कर दें तो दुनिया की तसवीर ही बदल जायेगी.........दुनिया की तो छोड़ों....इन की लाइफ की तस्वीर ज़रूर बदल जायेगी...शायद धीरे धीरे इन की दवाईयां ही कम हो जायेंगी..........वैसे भी अगर ये सारा दिन बैठे बैठे अपने साथियों की दुआयें ही खातें रहेंगे तो दवाई खाने की इन्हें कहां फिक्र रहेगी।

ऐसे में मुझे अवतार फिल्म का वह गीत ध्यान में आ रहा है .......जिस में बुजुर्ग राजेश खन्ना अपने बुजुर्ग साथियों से कहता है कि यारो, उठो, चलो, भागो, दौड़ो..........मरने से पहले जीना ना छोड़ो, यारो। यू-टयूब पर इस गाने को ढूंढते ढूंढते मनोबल बढ़ाने के लिये इसी फिल्म की एक क्लिपिंग मिल गई .......सो, साथ ही चटका रहा हूं।