Wednesday, July 13, 2011

हैपेटाइटिस सी लाइलाज तो नहीं है लेकिन ...

आज जब मैं विश्व स्वास्थ्य संगठन की साइट देख रहा था तो पता चला कि 28जुलाई 2011 विश्व हैपेटाइटिस दिवस है। साथ में हैपेटाइटिस सी के बारे में कुछ जानकारी उपलब्ध करवाई गई थी।

अकसर ऐसे ही सुनी सुनाई बात को ध्यान में रखते हुये किसी से भी कोई पूछे कि हैपेटाइटिस सी किस रूट से फैलता है तो यकायक किसी भी पढ़े लिखे इंसान का यही जवाब होगा जिस रूट से हैपेटाइटिस बी फैलता है उसी रूट से ही यह भी फैलता है –देखा जाए तो कुछ हद तक ठीक भी है लेकिन जब कोई बात विश्व स्वास्थ्य संगठन की साइट पर है तो उस की विश्वसनीयता तो एकदम पक्की है ही।

WHO की साइट पर यह लिखा है ... It is less commonly transmitted through sex with an infected person and sharing of personal items contaminated with infectious blood. अर्थात् यह रोग हैपेटाइटिस सी यौन संबंधों के द्वारा इतना ज़्यादा नहीं फैलता।

लेकिन फिर भी हैपेटाइटिस सी अन्य देशों की तरह हमारे लिये भी एक बडा मसला बनता जा रहा है।

जब से यह रक्त चढ़ाने से पहले इस की हैपेटाइटिस सी के लिये भी जांच होती है तब से इस रूट से तो हैपेटाइटिस सी के किसी व्यक्ति के शरीर में प्रवेश करने के चांस कम ही हैं। लेकिन गंदी, संक्रमित सिरिंज सूईंयों के द्वारा यह रोग संचारित होता रहता है।

इस तरह की सूईंयों का इस्तेमाल ये नीम हकीम और गांव-कसबों में बैठे झोलाछाप चिकित्सक लोग करते आ रहे हैं ... ये कुछ भी तो नहीं समझते कि ये पब्लिक को कितनी बड़ी बीमारी दिये जा रहे हैं... अकसर मैं सोचता हूं कि इस तरह की बीमारियां इन लोगों के द्वारा जो किसी को दे दी जाती हैं क्या ये मर्डर नहीं है। लेकिन इन तक कभी कोई पहुंचता ही नहीं पाता क्योंकि सिद्ध कौन करे कि फलां फलां को उस ने यह टीका लगाया था, इसलिये उस की मौत हो गई।

और दूसरे यह जो नशे लेते हैं ये एक दूसरी की इस्तेमाल की गई सिरिंजो, सूईंयों का इस्तेमाल करते हैं और हैपेटाइटिस सी, बी और एचआईव्ही जैसे रोगों को मोल ले लेते हैं।

कईं बार मैंने मेलों में देखा है ये जो टैटू आदि लोग गुदवा लेते हैं इन मशीनों के द्वारा भी यह रोग फैलता है। और आज के युवाओं को तो तरह तरह की पियरसिंग (body piercing) करवाने का खूब क्रेज़ है, इसलिये कौन देखता है कैसी मशीन इस्तेमाल की जा रही है. और तो और एक्यूपैंचर के इलाज के दौरान भी अगर अगर ठीक सूईंयां इस्तेमाल नहीं की जातीं, तो भी यह रोग फैल सकता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन की साइट में लिखा हुआ है कि जिन लोगों में यह इंफैक्शन हो जाती है उन में से 60से 70 प्रतिशत लोगों में यह क्रॉनिक (chronic) रूप ले लेती है अर्थात् उन का लिवर एक लंबी चलने वाली बीमारी का शिकार हो जाता है ... 5 से 20 प्रतिशत मरीज़ों में लिवर-सिरहोसिस (liver cirrhosis) हो जाता है .. अर्थात् लिवर सिकुड़ जाता है, उस में गांठे पड़ जाती हैं, और यूं कह लें वह फेल हो जाता है और अन्ततः 1 से 5 प्रतिशत लोगों की लिवर सिरहोसिस अथवा लिवर के कैंसर से मौत हो जाती है।

लेकिन आज चिकित्सा विज्ञान ने इतनी प्रगति कर ली है कि हैपेटाइटिस सी का इलाज भी संभव है ---नये नयी नयी ऐंटी-वॉयरल दवाईयां आ चुकी हैं लेकिन इस के लिये मरीज़ को टैस्ट तो करवाना होगा, जल्द इलाज भी तो शुरू करवाना ही होगा.......लेकिन ये सारी की सारी बातें मुझे तो किताबी लगती हैं ....न तो अधिकतर लोग टैस्ट करवा ही पाते हैं, और अगर करवा भी लेते हैं तो महंगा इलाज कौन करवाये ---क्या नशे की सूईंयां आपस में शेयर करने वाले ये सब कर पाने में समर्थ होते होंगे, क्या गांव के मेलों में ज़मीन पर बैठ कर टैटू गुदवाने वाले ये सब काम कर पाते होंगे................आंकड़े कुछ भी मुंह फाड़ फाड़ कर बोलें, लेकिन वास्तविकता किसी से भी छुपी नहीं है।

मैं सोचता हूं क्यों इन नीमहकीमों को जो इस तरह के धंधे करते हैं, संक्रमित सूईंयों से भोली भाली जनता को बीमारी ठोकते रहते हैं, जो मेलों में ये टैटू वैटू का धंधा करते हैं इन पर क्यों शिकंजा नहीं कसा जाता....हम गन्ने का गंदा रस बेचने वाले का तो ठेला बंद करवा देते हैं लेकिन ये यमदूत के एजेंट खुले आम अपना गोरखधंधा जमाये रखते हैं।

अब आता हूं इस पोस्ट के शीर्षक की तरफ़ कि हैपेटाइटिस सी का इलाज तो है लेकिन कितने लोग इस सुविधा का लाभ उठा पाते होंगे --- क्या आप किसी ऐसे शख्स को जानते हैं जो यह इलाज करवा पाया ?....कहने का मतलब है कि अधिकतर लोग जो इन रोगों से संक्रमित होते हैं वैसे ही अभाव की ज़िंदगी जी रहे होते हैं, उन की अनेकों दैनिक मुश्किलों की तरह से यह भी एक अन्य मुश्किल है... न कभी टैस्ट न कभी इलाज....जब लिवर बिल्कुल जवाब दे देता है, बेचारे मर जाते हैं ....लेकिन कसूर किसी का कोई नहीं कहता ....सब कहते हैं बस पीलिया हुआ था, मर गया .....बहुत तकलीफ़ में था, बस मुक्ति मिल गई ....।

Further Reading
Hepatitis C -- WHO site

दारू पर भी चेतावनी आने की चर्चा गर्म है


अभी दो दिन पहले ही मैं एक जगह पढ़ रहा था कि मुंबई में एक कैंसर गोष्ठी में विशेषज्ञों द्वारा यह अपील की गई कि शराब पर भी कैंसर से संबंधित चेतावनी होनी चाहिए.... उन की बात बिल्कुल उचित लगी क्योंकि अब यह सिद्ध हो चुका है कि तंबाकू और अल्कोहल एक किल्लर कंबीनेशन है---बेखौफ़ हत्यारा हो जाता है पैदा जब तंबाकू और दारू मिल जाते हैं। चलिए अभी तो उस ग्रुप ने अपना मत रखा है ---अब इस पर कम से कम अगले दस-बीस सालों तक कमेटियां बनेंगी, शायद अधिसूचनाएं भी जारी हों, फिर कोर्ट में केस होंगे ...दारू बेचने वाले करेंगे कि हम तो मर गये, लुट गये .....फिर यह सब कुछ टाला जाएगा--- तो इस टालमटोल में असल में क्या सामने आयेगा, यह तो दस-बीस बाद ही पता चलेगा।
लेकिन जो खबर मैंने आज देखी मुझे पढ़ कर अच्छा लगा ....आस्ट्रेलिया में यह निर्णय लिया गया है कि अब से वहां पर बिकने वाली शराब पर स्वास्थ्य संबंधी चेतावनी लिखी रहा करेगी। आस्ट्रेलिया में यह दारू-वारू पीने की समस्या बहुत ही जटिल है। बच्चे छोटी आयु से ही इस के चक्कर में पड़ जाते हैं --- औसतन पंद्रह-साढ़े पंद्रह साल की उम्र तक तो ये लोग दारू पीना शुरू कर ही देते हैं। महिलाएं भी इस में कहां पीछे हैं।
इसलिये वहां पर यह निर्णय लिया गया है कि निम्नलिखित चेतावनियां शराब पर लिखी जाने लगेंगी ...
Kids & Alcohol don’t mix
It is safest not to drink while pregnant
Is your drinking harming yourself or others
मैं जो खबर पढ़ रहा था –एसोसिएटेड प्रैस की साइट पर उस में एक जगह यह भी लिखा था कि क्रिकेटर डेविड बून ने 1989 ने सिडनी से लंदन की हवाई यात्रा के दौराना 52 बियर की बोतलें पी थीं। और मुझे आज से पहले यह भी नहीं पता था कि अमेरिका सहित 14 देश ऐसे हैं जहां पर शराब की बोतलों पर चेतावनी लिखी जाती है।
यह बातें हो गईं अमीर देशों के अमीर लोगों की ....लेकिन यहां पर तो ज़्यादातर देशी, ठर्रा, नकली, मिलावटी, नारंगी , सतरंगी, पाउच में, थैली में ......पता नहीं क्या क्या बिक रहा है। सैंकड़ों लोग जो इन ज़हरीली दारू की वजह से बेमौत मर जाते हैं उन का मीडिया में कभी कभी ज़िक्र आ ही जाता है ...रोती, विर्लाप करती महिलाएं व छोटे छोटे बच्चे..... लेकिन हज़ारों लाखों जो दारू की वजह से तिल तिल मरते रहते हैं उन की फिकर कौन कर रहा है। सुबह सवेरे जब कभी किसी ठेके के सामने से गुज़रने का अवसर मिलता और लोगों को प्लास्टिक की छोटी छोटी बोतलों से मदिरापान करते देखता हूं तो इन पीने वाले लोगों के अलावा मुझे हर इंसान पर गुस्सा आता है ...चलिये, वो तो अलग बात है।
काश, हमारे यहां भी यह चेतावनी का प्रावधान हो जाए ---पहले तो उस में बीसियों साल लग जाएंगे, फिर सोचता हूं उस से हो भी क्या जाएगा ....ये जो चेतावनी आस्ट्रेलिया में शुरू की जा रही हैं, इतने से आम हिंदोस्तानी का क्या बनेगा.... यह चेतावनियां हमारे लिये नहीं हैं ...हमारे लिये तो हैं ...तरह तरह की डरावनी तस्वीरें उन लोगों की जिन का लिवर खराब हो गया ... पेट फूल गया .... खून की उल्टीयां हो रही हैं, शौच में रक्त आने लगा है ..... और यह सब इस देश में दारू की वजह से होने वाले रोगों के आम से लक्षण हैं।
मुझे ध्यान आ रहा है इस देश की विभिन्न आध्यात्मिक लहरों का ---अनेकों लोगों के अनुभव सुनता हूं...उन की ज़िंदगी को नज़दीक से देखता हूं जिन्होंने ऐसी ही किसी आध्यात्मिक लहर के प्रभाव में आने के बाद दारू पीनी छोड़ दी, और अब वे दूसरों को भी इस ज़हर से दूर रहने के लिये प्रेरित कर रहे हैं। इन के बच्चे भी इन के प्रभाव में आने की वजह से दारू से दूर ही रहते हैं। मुझे यह चमत्कार बहुत अचंभित करता है...दारू तो दारू, विभिन्न प्रकार के अन्य नशों से भी दूर ही रहते हैं.... great Indians! मैं इन आध्यात्मकि लहरों के दूसरे पहलुओं में घुसना नहीं चाहता क्योंकि यह एक बहुत बड़ा मुद्दा है......लेकिन कुछ आध्यात्मिक पहलू अगर करोडों लोगों के इसी लोक को खुशग़वार बनाने में जुटे हैं तो आखिर बुराई क्या है। मैं निरंकारी सत्संग में जाता हूं और वहां पर अनेकों लोगों के अनुभव सुनता हूं कि आत्मज्ञान बोध के बाद कैसे उन्होंने नशा को त्याग दिया ..... क्योंकि गुरू की तरफ़ से सभी तरह के नशों को इस्तेमाल करने पर मनाही लगाई है, बस अनुयायी के लिये इस आदेश से बढ़ कर क्या है!..... this is incredible India.
और अब करते हैं डंडे की बात ---जैसा कि हरियाणा में कईं बार अपने पतियों की दारू से परेशान बेचारी महिलाएं कर चुकी हैं ...धरना, विरोध, दारू की दुकान के आगे लफड़ा—ये सब बातें कितनी कारगर होती होंगी इस सामाजिक बुराई को उखाड़ने में, इस के बारे में कुछ कह नहीं सकता। लेकिन बात तो तब ही बनती है जब सोच बदलती है.....दूसरे रास्ते, ये चेतावनियां, ये डरावनी फोटू-वोटू वाले रास्ते बडे कठिन से हैं, दुर्गम हैं...परिणाम क्या निकलेंगे, कौन कहे............
PS…. Without malice towards anybody --- no moral policing here!
जाते जाते इस गीत का ध्यान आ गया ---पता नहीं पिछले पचास वर्षों में इस गीत ने कितने लोगों को पीने के लिये उकसाया होगा ....

यौन-रोग सूज़ाक की बेअसर होती दवाईयां

क्या सूज़ाक का नाम नहीं सुना? – ये जो लोग पहले सिनेमाघरों, बस अड्डों और रेलवे स्टेशनों के बाहर हर किसी को एक इश्तिहार सा थमाते दिखते थे – जिस में किसी खानदानी नीम हकीम द्वारा हर प्रकार के गुप्त-रोग का शर्तिया इलाज का झांसा दिया जाता था, उस लिस्ट में कितनी बार लिखा तो होता था – आतशक-सूज़ाक जैसे रोग भी ठीक कर दिये जाते हैं। खैर वे कैसे ठीक करते हैं, अब सारा जग जानता है, केवल मरीज़ को उलझा के रखना और उन से पैसे ऐंठना ही अगर झोलाछापों का ध्येय हो तो इन से बच के रहने के अलावा कोई क्या करे।

हां, तो इस योन रोग सूज़ाक को इंगलिश में ग्नोरिया रोग (Gonorrhoea) कहते हैं – समाचार जो कल दिखा है वह यह कि इस रोग के इलाज में इस्तेमाल की जाने वाली दवाईयां बेअसर हो रही हैं और आने वाले समय में इस का इलाज करना मुश्किल हो जायेगा--- जब दवाईयां ही काम नहीं करेंगी तो इलाज क्या होगा!!

थोड़ा सा इस रोग के बारे में – यह रोग किसी संक्रमित व्यक्ति से संभोग से फैलता है और यह केवल vaginal sex से ही नहीं बल्कि ओरल-सैक्स एवं एनल सैक्स (मुथमैथुन एवं गुदा-मैथुन) से भी फैलता है। तो इस के लक्षण क्या हैं? –इस के लक्षणों के बारे में महत्वपूर्ण बात यह है कि लगभग 50फीसदी महिलाओं में तो इस के कोई लक्षण होते ही नहीं हैं, लेकिन 2 से 5 प्रतिशत पुरूषों में इस के कोई लक्षण नहीं होते।

इस के ऊपर भारतीयों की एक और विषम समस्या --- वे अकसर इन रोगों को छोटे मोटे समझ कर या झिझक की वजह से किसी क्वालीफाइड डाक्टर से मिल कर न तो इस का आसान सा टैस्ट ही करवाते हैं और न ही इस के लिये कुछ दिन दवाईयां लेकर इस से मुक्ति ही हासिल कर पाते हैं। नतीजतन यह रोग बढ़ता ही रहता है ... और महिलाओं में तो बांझपन तक की नौबत आ जाती है ...और भी बहुत सी परेशानियां – जैसे पैल्विक इंफेमेटरी डिसीज़(pelvic inflammatory disease), पेशाब में जलन आदि हो जाती हैं।

पुरूषों में भी इस रोग की वजह से पेशाब में जलन (पेशाब की जलन के बहुत से अन्य कारण है, केवल पेशाब की जांच से ही कारण का पता चल सकता है), अंडकोष में सूजन और गुप्तांग से डिस्चार्ज हो सकता है। लेकिन इन नीम हकीमों के चक्कर में सही इलाज से दूर ही रहा जाता है।

विश्व भर के हैल्थ विशेषज्ञों की यही राय है कि ऐसे यौन-जनित रोग जिन का इलाज नहीं करवाया जाता ये रोग एचआईव्ही संक्रमण को बढ़ावा देने में भी मदद करते हैं—क्योंकि इन की वजह से यौन अंगों पर जो छोटे मोटे घाव, फोड़े, फुंसियां होते हैं वे एचआईव्ही वॉयरस को शरीर में प्रवेश करने का एक अनुकूल वातावरण उपलब्ध करवाते हैं।

तो इस खबर पढ़ कर हरेक का यह कर्तव्य बनता है कि इस के बारे में जितनी भी हो सके जनजागरूकता बढ़ाए ताकि अगर किसी को इस तरह की कोई तकलीफ है भी तो वह उस से जल्द से जल्द निजात पा सके....फिर धीरे धीरे इस के जीवाणु इतने ढीठ (drug resistance) होने वाले हैं कि पछताना पड़ सकता है।

इस तरह के रोग अमीर देशों में बहुत हैं यह हम लोग अकसर देखते पढ़ते हैं ...बेपरवाह उन्मुकता जैसे बहुत से अन्य कारणों (जिन्हें आप जानते ही हैं) में से एक कारण यह भी है कि वहां लोग इस तरह के टैस्ट करवा लेते हैं ...लेकिन भारत में पहले तो ढंग के डाक्टर (मतलब क्वालीफाइड) के पास जाता ही नहीं और अगर वहां चला भी गया तो बहुत बात टैस्ट और दवाईयां करवाने लेने के लिये टालमटोल करता है, चलो थोड़ा दिन और देशी दवाई खा कर देख लेते हैं ...इन हालातों में वह आगे से आगे यह रोग तो संचारित करता ही है, अपना तो ऩुकसान करता ही है।
Further reading
Drug resistant STD now a global threat
स्वस्थ लोगों को बीमार करने की सनक या कुछ और