Thursday, January 23, 2014

सरकारी मीडिया पर सेहत संबंधी जानकारी ..२

इस श्रृंखला की पहली कड़ी में मैंने कल ऑल इंडिया रेडियो विविध भारती पर प्रसारित होने वाले सेहत संबंधी कार्यक्रमों की समीक्षा की थी। आज ज़रा देखते हैं कि दूरदर्शन जैसे सरकारी चैनल पर सेहत संबंधी जानकारी किस तरह से उपलब्ध करवाई जा रही है।

डी डी न्यूज़ पर टोटल हैल्थ -- 
यह कार्यक्रम डी डी न्यूज़ चैनल पर हर रविवार की सुबह साढ़े आठ बजे से साढ़े नौ बजे तक प्रसारित किया जाता है।
इस कार्यक्रम की जितनी प्रशंसा की जाए कम है .. और मैं यह सिफ़ारिश करता हूं कि इसे हर व्यक्ति को रविवार सुबह देखना चाहिए। आप इस के हर एपीसोड से कुछ न कुछ नया सीखेंगे, इस की गारंटी मैं लेता हूं।

किसी एक मैडीकल अवस्था से संबंधित इस कार्यक्रम में तीन-चार चोटी के विशेषज्ञ आमंत्रित किये जाते हैं। इस प्रोग्राम का सिलसिला पिछले कईं वर्षों से चल रहा है। यह लाइव कार्यक्रम है।

इस कार्यक्रम के फार्मेट की जितनी प्रशंसा की जाए कम है। सब से पहले इसे प्रस्तुत करने वाले उस मैडीकल अवस्था की संक्षिप्त जानकारी देंगे ..और बहुत बार तो यह ऑडियो-विजुअल भी होती है। विशेषज्ञों का परिचय करवाया जाता है और इस बात के लिए डी डी न्यूज़ चैनल बधाई का पात्र है कि ये विशेषज्ञ बेहद अनुभवी बुलाते हैं...जैसा कि मैं अकसर कहता हूं कि जिन का एक एक शब्द अनुभव की कसौटी पर परखा हुआ होता है। बिल्कुल आम भाषा में बिना किसी तकनीकी मकड़जाल (technical jargon) के अपनी बात देश के सामने रख पाने में भी जैसे इन सब विशेषज्ञों ने  महारत हासिल की हो।

जिस शारीरिक अथवा मानसिक तकलीफ़ के ये विशेषज्ञ होते हैं उस के बारे में प्रोग्राम के प्रिज़ेटर चर्चा शुरू करते हैं.. उन की बातचीत से ही पता चल जाता है कि वे भी विषय के बारे में पूरी रिसर्च कर के आये हैं। बीच बीच में दर्शक फोन के द्वारा अपनी समस्याएं उन विशेषज्ञों को बताते हैं और वे उन का समुचित मार्गदर्शन (जितना वे दूर बैठे कर सकते हैं) करते हैं।

मैं प्रिज़ेंटर्ज़ की रिसर्च के बारे में कह रहा था ...उन दोनों ने उस विषय के बारे में इतनी अच्छी रिसर्च कर रखी होती है जैसे कि आम आदमी की उस विषय से सभी संभावित जिज्ञासाओं को उन्होंने भांप लिया हो। अच्छा लगता है सरकारी चैनल पर इतना उत्कृष्ठ सेहत संबंधी कार्यक्रम देख कर।

एक बात और यह भी है कि आप इस कार्यक्रम में अपनी समस्या के समाधान के लिए इन्हें ई-मेल भी भेज सकते हैं ...यहां तक कि इस लाइव कार्यक्रम के दौरान भी आप इन्हें ई-मेल भेज सकते हैं जिन्हें अकसर ये उस कार्यक्रम के दौरान ही विशेषज्ञों के समक्ष रख कर आप की सहायता करते हैं।

लाइव कार्यक्रम के दौरान फोन करने के लिए लैंडलाइन फोन के साथ साथ इन्होंने एक टोल-फ्री नंबर भी दिया होता है।
मैं अकसर इस कार्यक्रम को देखता हूं --इस बार रविवार २६जनवरी को गणतंत्र दिवस की वजह से प्रसारित नहीं किया जायेगा। इस प्रोग्राम के हर एपीसोड से आप कुछ न कुछ ऐसा सीख सकते हैं जो आप को पहले से न पता हो......और यह बात थ्यूरी जैसी कोई बात नहीं होगी, आप उन सीखी हुई बातों को अपनी सेहत की रक्षा एवं सुधार करने के लिए सहजता से अपने जीवन में उतार भी सकते हैं।

मैंने तो एक बार इस कार्यक्रम में यह ई-मेल भेजी कि आप का कार्यक्रम जनता जनार्दन के लिए तो सर्वश्रेष्ठ हैल्थ कार्यक्रम है ही, यह ऐसा प्रोग्राम है जहां से डाक्टर लोग भी कुछ न कुछ नया सीख सकते हैं क्योंकि इन के विशेषज्ञ बेहद अनुभवी, सुलझे हुए और देश के प्रिमियर चिकित्सा संस्थानों से आए होते हैं जिन का अनुभव बोल रहा होता है और वे अपना २५-३० वर्ष या इस से भी ज़्यादा अनुभव आप के सामने खोल कर रख देते हैं.......और यह सब कुछ जब बिल्कुल किसी कंफ्लिक्ट ऑफ इंटरेस्ट (conflict of interest) की बदबू के बिना होता है तो इस की महक ही अलग होती है। मैंने कभी भी इस प्रोग्राम को देखते यह महसूस नहीं हुआ कि इस में बुलाए गये किसी भी विशेषज्ञ का किसी भी तरह का कंफ्लिक्ट ऑफ इंटरेस्ट हो, ऐसा ही नहीं सकता कि इस कार्यक्रम के विशेषज्ञों का चयन ही ऐसा होता है, ये सब इस तरह के मुद्दों के बारे में बेहद सचेत जान पड़ते हैं। अच्छी बात है।

कार्यक्रम के दौरान बीच बीच में ऑडियो-विजुएल से जटिल बातों को बिल्कुल साधारण शैली से समझा भी दिया जाता है। और एक बात, चूंकि अकसर ये बड़े बड़े विशेषज्ञ सरकारी संस्थानों से होते हैं ये कईं बार किसी किसी परेशान मरीज़ को अपनी ओपीडी के दिन भी बता देते हैं कि वे फलां फलां दिन आ कर उन से परामर्श कर सकते हैं।

मैं यह पोस्ट बेहद संजीदगी और पूरी जिम्मेदारी से लिख रहा हूं क्योंकि मुझे पता है कि सेहत से संबंधी किसी भी कार्यक्रम की सिफ़ारिश करने का लोगों पर क्या प्रभाव पड़ सकता है। मैं इस कार्यक्रम की गुणवत्ता पर शत-प्रतिशत सहमत हूं, इसलिए इसे नियमित देखने की सिफ़ारिश कर रहा हूं।

जिस समय यह कार्यक्रम प्रसारित किया जाता है ..रविवार सुबह .. उसी समय ये भी सूचना साथ में टीवी स्क्रीन पर कईं बार दिखती है कि यह कार्यक्रम कब पुनः प्रसारित किया जायेगा ...पहले यह उसी दिन --रविवार की शाम को ही डी डी न्यूज़ पर ही प्रसारित किया जाता था ...सुबह वाले लाइव कार्यक्रम की रिकार्डिंग का रिपीट टैलीकास्ट। लेकिन अब शायद इसे अगले दिन अर्थात् सोमवार को दोपहर १२ बजे और शाम ७.३० बजे डी डी इंडिया पर पेश किया जाता है। कृपया आप इस रिपीट प्रसारण के चैनल के बारे में लाइव कार्यक्रम के दौरान जान लें क्योंकि मुझे अच्छे से इस के बारे में याद नहीं है।

और एक बात जो बहुत ठीक लगी इस के बारे में कि ये एक सप्ताह पहले अपने अगले प्रोग्राम के विषय की घोषणा कर देते हैं......चाहे तो आप इन्हें पत्र लिख कर या ई-मेल कर के पहले से ही अपनी बात रख सकते हैं, प्रतिक्रिया दे सकते हैं।  बात रखने तक तो बात ठीक है लेकिन अगर प्रतिक्रिया भेज रहे हैं तो इन से किसी जवाबी मेल या ई-मेल की अपेक्षा न करें क्योंकि यह इन का एक कमज़ोर पक्ष है। शायद इन्हें इस तरफ़ भी सोचने की ज़रूरत है।

एक बहुत उपयोगी बात यह भी है कि वैसे तो नेट पर सेहत संबंधी बातों की भरमार है लेकिन अगर इस तरह का कार्यक्रम आप को इंटरनेट पर किसी भी समय देखने को मिले जिस में आप की ही अपनी भाषा में सीधे-सादे अंदाज़ में विशेषज्ञों ने आपके परिवेश की उदाहरणें लेकर ही अपनी बात रखी हो तो आप को कैसा लगेगा? ...यह भी कोई पूछने की बात है, अच्छा ही लगेगा, बहुत अच्छा लगेगा।

तो फिर एक खुशखबरी यह भी है कि इस कार्यक्रम के कुछ अंश डीडीन्यूज़ के ऑफिशियल यू-ट्यूब चैनल पर भी अपलोड कर दिये जाते हैं...जिन्हें आप उस यू-ट्यूब पर जा कर खंगाल सकते हैं। वैसे एक नमूने के तौर पर मैं इसी प्रोग्राम का एक अंश यहां एम्बैड किये दे रहा हूं......इसे देखियेगा लेकिन अगली २ फरवरी रविवार को सुबह ८.३० बजे डी डी न्यूज़ पर इसे देखना मत भूलियेगा। आप को भी यह कार्यक्रम पसंद आयेगा। वैसे मैं तो डीडीन्यूज़ चैनल को लिखने वाला हूं कि इस कार्यक्रम के सभी एपीसोड (फुल लैंथ) अपने यू-ट्यूब चैनल पर अपलोड कर दें क्योंकि हर एपीसोड देश के नेट-यूज़र्ज के लिए बेशकीमती है.........such vital information just a click away......