Saturday, July 16, 2011

पेट का साइज़ कम कर के हो रहा है मोटापे का उपचार



पेट का साइज कम करवा कर मोटापा कम करने का क्रेज़ ज़ोर पकड़ रहा है –अभी कुछ दस दिन पहले ही टाइम्स ऑफ इंडिया में एक रिपोर्ट थी, आपने भी देखी होगी – Scalpel helps teen fight flab. इस में बताया गया था कि किस तरह से सर्जरी के द्वारा पेट का साइज़ कम करवा कर, लगभग दो-अढ़ाई लाख रूपये खर्च कर के लोग अपने बच्चों को मोटापे से निजात दिलाने का जुगाड़ कर रहे हैं।

सब से पहले तो थोड़ा यह देख लें कि यहां यह जिस पेट को कम करने की बात हो रही है यह है क्या...यह वह पेट नहीं है जिस पर हाथ फेर कर लोग कहते हैं ...पापी पेट! नहीं, यह पेट जिस का साइज सर्जरी से कम करने की बात की जा रही है यह शरीर में एक थैली की तरह का अंग है जिस में हमारा खाना जाता है ... फंडा यही है कि जब सर्जरी के द्वारा इस का साइज़ ही कम दिया जाए ताकि न रहेगा बांस न बजेगी बांसुरी ... जब इस में खाने की कैपेसिटि ही कम होगी तो इंसान कम ही तो खायेगा, कहीं बांध के थोड़ा रख लेगा।

हां, तो जिस सर्जरी की बात हो रही है पेट के साइज को कम करने की इसे बेरिएटरिक सर्जरी (bariatric surgery) कहते हैं और भारत के मुंबई जैसे महानगरों में ऐसे केसों की संख्या बढ़ने लगी है – 2008 में 1200, 2009 में 2200 और अब 2010 के आंकड़ें 3000 केस बताते हैं ... ये आंकड़े मेरे नहीं है, टाइम्स की स्टोरी में दिये गये हैं जिस का लिंक ऊपर दिया गया है।

एक बात समझ में नहीं आई –इस रिपोर्ट में लिखा है लैंसट नामक मैडीकल जर्नल में छपा है कि लगभग 5 में से एक भारतीय पुरूष और 6 में से एक से ज़्यादा भारतीय महिलायें ओव्हरवेट (मोटे) हैं... और साथ ही लिखा है कि कुछ शहरी इलाकों में तो 40 प्रतिशत जनसंख्या इस मोटापा रोग से पीड़ित हैं।

लेकिन चंद मिनटों बाद जब मेरी नज़र रिटर्ज़ की साइट पर पड़ी तो मुझे बड़ी हैरानगी हुई ...नीचे लिखा तो है विश्व स्वास्थ्य संगठन के सौजन्य से ये आंकड़े हैं लेकिन उस में मुझे भारत का नाम सब से नीचे देख कर पहले तो चिंता सी हुई लेकिन जब ठीक से पढ़ा तो समझ आई कि इस के अनुसार तो भारत में मोटापे की दर सब से कम है....इस इमेज में आप इसे देख सकते हैं। इस में आप यह भी देख सकते हैं कि किस तरह से अनुमान लगाया गया है कि अगले तीन वर्ष में मोटापा कम करने वाली दवाईयों का बाज़ार कितने अरबों-खरबों का हो जाएगा।



चलो, यार, इन आंकड़ों के चक्कर में ज़्यादा क्या पड़ना.....यह तो हमें दिख ही रहा है ना कि देश तो मोटा हो ही रहा है.... कोई शक ही नहीं है इस में ...बच्चों को भी यह रोग छोटी अवस्था से ही अपनी चपेट में लेना शुरू कर रहा है—thanks to the junk and fast foods , lack of physical activity, over-indulgence in TV and net leading to “couch potatoes”.

मैंने जब ऊपर वाली पेट को कम करने वाली खबर पढ़ी थी तो यही सोच रहा था कि अन्य कईं तरह के क्रेज़ अलग अलग समय पर उत्पन्न हो जाते हैं --- कहीं यह भी एक नया क्रेज़ न उभर आए --- अब अगर मां-बाप ही युवाओं की इस तरह की सर्जरी के लिये जिद्द करने लगेंगे तो आखिर चिकित्सक कहां तक उन्हें ऐसा करवाने से रोक पाएंगे?

ऐसी सर्जरी होती तो है लेकिन morbid obesity के लिये अर्थात् उस तरह के मोटापे के लिये जहां मोटापा इतना बढ़ चुका है कि बंदा अपनी चलने-फिरने के भी योग्य नहीं है, अपनी दैनिक-क्रियाएं करने में सक्षम नहीं रहा ....ऐसे केसों में उन के चिकित्सक ऐंडोक्राईनॉजिस्ट विशेषज्ञ के साथ सलाह-मशविरा कर के सर्जरी का निर्णय लेते हैं।

इस पोस्ट को विराम देते देते ध्यान आ रहा है कि अमेरिका में एक न्यूज़ रिपोर्ट ने बवाल मचा रखा है जिस में यह छपा था कि जो बच्चे बहुत ज़्यादा मोटे हैं, इस की वजह से जिन के बीमारी से ग्रस्त होने की आशंका बुहत ज़्यादा होगी उन्हें सरकार को उनके मांबाप से अलग कर के अपने पास रख कर उन का लालन-पालन करना होगा --- लेकिन ऐसा हो नहीं पायेगा ---लोगों ने खूब हो-हल्ला किया इस बात पर ..... लेकिन इस से एक आइडिया तो कम से कम हम हिंदोस्तानियों को मिल ही गया कि अब गब्बर के ज़माने को बीते बहुत साल हो गये – अब तो बच्चों को दाल-भाजी-रोटी खिलाने के लिये बस इतना ही काफ़ी है --- चुपचाप यह खाना खा ले, अगर चिप्स-बर्गर-नूडल खा खा के मोटा हो गया तो सरकार उठा कर ले जायेगी...।

पता नहीं इस लेख को समाप्त करते समय क्यों उन जबरदस्ती नसबंदी वाले दिनों की याद आ गई ...समझने वाले समझ गये जो न समझे वो अनाड़ी हैं ।

इस ब्लॉग के बहुत से अन्य लेखों में मोटापे कम करने वाली दवाईयों और अन्य तरह तरह के इलाजों के बारे में बहुत से लेख पहले भी लिखे जा चुके हैं... थोड़ी मेहनत करिये...लिंक जान बूझ कर नहीं दे रहा हूं क्योंकि थोड़ी मेहनत करेंगे तो सेहत के लिये भी अच्छा रहेगा।

नकली दवाईयों की फैक्टरी पकड़ी गई


आज की दा हिंदु में खबर छपी है कि फरीदाबाद में एक नकली दवाईयों की फैक्टरी पकड़ी गई है ... और लाखों रूपये की नकली दवाईयां बरामद की गई हैं। आतंकवादी घटनाओं से जितना सारा देश हिल जाता है उतना इस तरह की खबरों को सुनने से क्यों नहीं हिलता .... मेरे विचार में दोनों ही बातें बेहद शर्मनाक है। आतंकी तो पीठ में छुरा घोंपने जैसी बात करते हैं, लेकिन ये जो अपने ही सफेदपोश जिन्हें समाज अपना ही कहता है, ऐसा धंधा करने वाले लोग आतंकियों की श्रेणी में कब आएंगे?

किसी भी सरकारी अस्पताल में हाल-बेहाल घंटों इंतज़ार करने वाले मरीज़ों के चेहरों को याद भी नहीं करते ऐसा धंधा करने वाले लोग – वे लोग घंटों डाक्टर की इंतज़ार में भूखे-प्यासे इंतज़ार करते रहते हैं कि डाक्टर उन के मरीज़ को देखेगा, बढ़िया सी दवाई लिखेगा ...कोई बात नहीं अच्छी कंपनी की दवाई खरीद लेंगे कैसे भी ..अपना मरीज़ ठीक होना चाहिए। लेकिन मैं जिस खबर की बात कर रहा हूं उस में मशहूर कंपनियों की दवाईयों के नकली बनाए जाने की बात कही गई है।

यही सोच रहा हूं कि आम आदमी आखिर मरे तो मरे कहां, अगर आतंकी हमलों से बच भी गया तो बेचारा इन नकली दवाईयों की वजह से कोई सफेदपोश, संभ्रांत आतंकी उसे मार गिरायेगा। सोच रहा हूं पहली बार तो इस तरह की दवाईयां पकडी नहीं गई ...हम लोग लगातार नियमित तौर पर ये सब भंडे फूटते देखते सुनते रहते हैं लेकिन आगे के आंकड़े पता करने की बात है ---उन का आगे जा कर बना क्या, कितनो को सज़ा हुई .....कितनो को कोई ऐसा सबक मिला कि उन्होंने ऐसे धंधों से तौबा कर ली।

बात यह नहीं है कि इतने लाखों की दवाईयां पकड़ी गईं----लेकिन सोचने वाली बात यह है कि ये नकली दवाओं का धंधा करने वाले मौत के सौदागर पता नहीं कितने वर्षों से इन धंधों में लिप्त रहते हुये कितने हज़ारों-लाखों लोगों की ज़िंदगी से खिलवाड़ करते रहे .... यह तो तय है कि इन की नकली दवाईयों से हज़ारों-लाखों ज़िदगीयां खत्म तो हुई ही होंगी ...लेकिन उस बात का हिसाब कौन रखेगा। यह भी तय है कि बिना किसी साक्ष्य के पिछली करतूतों को किस सफ़ाई से ढक दिया जाएगा।

नकली दवाई का धंधा ... माफ़ कीजिए, यह नाम सुनते ही इस तरह का धंधा करने वाले शैतानों की मानसिकता के बारे में सोच कर घिन्न आने लगती है। एक उदाहरण देखिये ---आज कल यह Drug Resistance अर्थात् जब किसी बीमारी के जीवाणुओं पर कोई दवा असर करना बंद कर देती है, उसे हम कह देते हैं कि ये ढीठ हो गये हैं.... इसे ही ड्रग-रिसिस्टैंस कहते हैं ... सब से बड़ा मुद्दा है आज चिकित्सकों के सामने टीबी की बीमारी के इलाज में टीबी की दवाईयों का काम न कर पाना। है ना, यह तो आप भी यहां वहां देखते सुनते ही हैं।

अब देखिए..गरीब मज़दूर, टीबी हुई ...पहले तो सरकार को कितना प्यार से समझाना बुझाना पड़ता है कि खा ले दवाईयां ठीक हो जाएगा, चलो जी उस ने कहीं से मुफ्त में लेकर या कहीं से कैसे भी जुगाड़ कर के मार्कीट से दवाईयां ले भी लीं .. लेकिन अगर दवाईयां किसी शैतान की फैक्टरी से निकली नकली या घटिया किस्म की दवाईयां हैं, तो उस की स्थिति में सुधार नहीं होगा, तो चिकित्सकों के पास और कोई चारा नहीं होगा, और स्ट्रांग दवाईयां दी जाने लगेंगी, लेकिन अगर वे भी नकली-घटिया हैं तो उस गरीब को कोई मौत के मुंह से बचा के तो दिखाए।

यह तो एक उदाहरण थी .. किसी भी बीमारी के लिये यह कल्पना कीजिए कि ऐसी वैसी दवाईयां क्या कोहराम मचाती होंगी....शूगर में, ब्लड-प्रैशर में, किसी इंफैक्शन में ... किसी भी स्थिति में यह दवाईयां मरीज़ों की हालत बद से बदतर ही करती हैं। मैं आप से पूछता हूं कि ऐसा धंधा करने वाले आतंकी क्यों नहीं है।

आज सुबह पेपर में देखा कि अमिताभ ने बंबई बम विस्फोटों के संदर्भ में लोगों से कहा है कि आप सब अब पुलिस की तरह ही अपना रवैया रखो --- अर्थात् फूंक फूंक कर कदम रखो .... सोच रहा हूं कहने सुनने के लिये बातें अच्छी लगती हैं, बुद्धिजीवि सोच है.....काश, इन नकली दवाईयों के लिये भी कुछ समाधान सामन आ जाए ... एक छोटा सा सुझाव यह है कि कोई भी दवाई खरीदते समय उस का बिल ज़रूर लिया करें... ऐसा करना अपने आप में ऐसे धंधों को न पनपने देने की एक रोकथाम ही है। चालू किस्म की दवाईयां, बस अड्डों में जो बसों में जो बिल्कुल सस्ती दवाईयां बेचते होंगे, वे क्या बेचते होंगे, इस में अब कोई शक नहीं होना...............और यह तो है कि यह नकली दवाईयों के धंधे का कोढ़ इतना फैल चुका है कि इस की कल्पना भी करना कठिन है।

कल्पना करिये तो बस इस बात की अगर दमे के अटैक के समय दी जाने वाली दवाई नकली निकले, हार्ट अटैक में दिया जाने वाला टीका मिलावटी हो, बच्चे के निमोनिये के टीके नकली हैं, आप्रेशन के वक्त बेहोश करने वाली दवाई नकली हो, गर्भवती औरत को रक्त बढ़ाने के लिये दी जाने वाली दवाईयां घटिया हों.................................सिर दुःखता है न सोच कर.... दुःखना ही चाहिये, यह पाठकों की मानसिक सेहत की निशानी है, अगर सिर दुःखेगा तो ही आप और हम सजग रहेंगे, जितना हो सकेगा पूरे प्रयास करेंगे कि ऐसी दवाईयों से बचा जा सकें (?????) ..हर दवाई का बिल लें, यहां वहां से खुली दवाईयां, टैबलेट न लें..... इस के अलावा एक आम करे भी तो क्या करे.............ध्यान आ रहा है कि बड़ी बड़ी मशहूर कंपनियों की दवाईयों को अगर इन नकली फैक्टरियों ने मिट्टी पलीत कर दी है तो ये जो झोलाछाप, गांवों-कसबों-शहरों में बैठे नीम हकीम ये जो खुली दवाईयां खिलाये जा रहे हैं, यह क्या खिला रहे होंगे, सोचने की बात है!!

कोई नहीं, इतनी टेंशन लेने की बात नहीं है, थोड़ी दार्शनिक सोच रखेंगे तो ही यहां जी पाएंगे---जो हो रहा है अच्छा हो रहा है, जो हुआ अच्छा ही हुआ और जो होगा वह भी अच्छा ही होगा...........तो फिर चिंता काहे की, यही बातें आप वाले सत्संग में भी बार बार दोहराई जाती हैं ना .......... शुभकामनाएं।