Thursday, January 8, 2015

घर जैसा अपना घर..

अभी मुझे खुशी हुई.. बेटा स्कूल से आ कर सुना रहा है कि अभी किसी स्टेशनरी की दुकान पर दुकानदार ने उस से ७० रूपये की बजाए.. ५० रूपये देने को कहा.. बताने लगा कि मैंने उसे कहा कि आपने इस रिफिल के नहीं जोड़े....और मैंने उसे पूरे ७० रूपये दिए...उस की ऐसी बातें सुन कर अच्छा लगता है .. कहता है...पापा, छोटी छोटी इन की दुकानें होती हैं, १०-२० तो इन की कमाई होती है!!

मैंने उसे शाबाशी दी और आशीर्वाद दिया कि ऐसा ही बने रहना। बचपन से ही ऐसी बातें करता है.. आवारा कुत्तों के लिए एक बड़ा सा हाउस बनाऊंगा, पिछले दिन वाली रोटी अगर हमारे लिए ठीक नहीं तो जानवर के लिए कैसे ठीक हो सकती है, घर में अलग अलग कमरे नहीं होने चाहिए.....एक बड़ा सा हाल हो, और सब के पलंग उस में लाइन से बिछे हों....बहुत सी बातें ऐसी ही करता है िक मैं ईश्वर का यही शुक्रिया करता हूं कि नैतिक शिक्षा में तो पास हो गया लगता है। ईश्वर इस की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करे।

हां, घर की बात चली..कमरों की, बिस्तरों की.....दोस्तो, मेरे भी इस बारे में कुछ विचार हैं।

मुझे ऐसे लगता है कि हम लोग अपने घरों को आने वाले मेहमानों के लिए तैयार करते रहते हैं.....और मेहमान जब आते हैं तो दो-तीन दिन में चले जाते हैं और लोकल मित्र आिद तो चाय-नाश्ता या लंच-डिनर कर के नौ दो ग्यारह हो जाते हैं। है कि नहीं?

लेकिन अधिकतर घरों में ज़्यादा फोकस यही होता है कि ड्राईंग रूम को तो मेहमान के आने पर ही खोला जाए.. मिट्टी आ जायेगी....हम लोग इस मामले में बड़े लक्की हैं, दोस्तो......हम लोग अधिकतर अपने ड्राईंग रूम का ही इस्तेमाल करते हैं, बिल्कुल लाउंज की तरह इस में डेरा लगाए रहते हैं। एक रिश्तेदार के यहां जाते हैं ..इतना महंगा आलीशान घर, और उस से भी आलीशान ड्राईंग-रूम...लेकिन वह खुलता किसी मेहमान के आने पर ही है.....सारे परदे खिंचे रहते हैं, टनाटन.......हवा अंदर आने का कोई जुगाड़ नहीं, बस एसी ज़रूर लगे हुए हैं.......सब कुछ कितना नकली, नीरस और निर्जीव सा जान पड़ता है !! मुझे नहीं लगता उन्होंने कभी खिड़कियां खोली भी हों!!



यार, ड्राईंग रूम में फर्नीचर, कलीन, परदे ऐसे कि जो आने वाले को अच्छे लगें... बड़ी अजीब सी बात लगती है.....यही नहीं, हम लोग घर में विशेषकर ड्राईंग-रूम में सामान भी इस ढंग से रखने की कोशिश करते हैं कि आने वाला बस वाह वाह कह उठे।

मैं इसे ठीक नहीं मानता। अतिथि का पूरा सम्मान होना चाहिए.....उस के खाने-पीने और आराम करने का पूरा ध्यान रखा जाना चाहिए....और हमारे देश में तो वैसे भी अतिथि देवो भवः। अतिथि हर तरह से खुश रहना चाहिए, यह हमारे देश के संस्कार हैं......बहुत अच्छी बात है, लेकिन घर की व्यवस्था ऐसी हो कि उसे इंप्रेस किया जा सके, यह बेवकूफी है....कब आयेगा अतिथि, यार, कभी आयेगा भी कि नहीं, कितना समय ठहरेगा.......ठहरेगा भी कि नहीं...लेिकन हम लोग अपने ३६० दिनों को उन पांच दिनों के चक्कर में गंवा बैठते हैं।

इंकलाब की पुरवाई कल हमारे ड्राईंग-रूम में चली..
दोस्तो, यह तो आप अच्छे से जानते हैं कि अतिथि केवल सम्मान चाहता है....अगर हम उस का दिल से सम्मान कर रहे हैं, तो साधारण आतिथ्य से भी वह बहुत खुश होता है। इस पर आगे कुछ लिखना बंद करता हूं......आप सुधि पाठक हैं।

हां, तो दोस्तो कल हमने ड्राईंग रूम में कुछ चेंज किये...हम लोगों ने ड्राईग रूम में रखा एलसीडी एक दो महीने से सब की सहमति से बंद कर रखा है... तीन चार महीनों के लिए......इसलिए इसे देख देख कर चिढ़ होती थी, उसे एक ठिकाने लगा दिया और डाइनिंग टेबल को ड्राईंग रूम में घसीट लिया ताकि इत्मीनान से कोई भी पढ़ लिख भी तो सके। यहां पर रोशनी आदि का भी बढ़िया इंतजाम है, इसलिए अच्छा लगता है यहां बैठना।

वह बात दूसरी है कि मेहमान आए उसे यह व्यवस्था उतनी बढ़िया न लगे तो इस में इतनी कौन सी बड़ी बात है.......मुझे लगता है कि मेहमान को इन सब बातों में उलझने की फुर्सत ही कहां होती है, ये सब हमारे ही ख्याली-पुलाव होते हैं।


परदों की बात आए तो देखा जाता है कि हम भारी भरकम महंगे महंगे परदे टांग तो देते हैं और ये फिर अगली आठ-दस साल तक सारे कुनबे का सिर दुःखाए रहते हैं.....है कि नहीं? बिल्कुल साधारण से सूती कपड़े के परदे कितना सुकून देते हैं यह मुझे ही पता है क्योंिक मैं स्टडी में हमेशा इसी तरह के कूल से परदे ही टंगवाने पसंद करता हूं।

ये विचार मेरे पर्सनल हैं....घर की साज सज्जा में कोई नियम नहीं होने चाहिए......सब कुछ सहमति से सब के मन की खुशी से तय होना चाहिए.......मुझे तो यह भी बड़ा अजीब लगता है कि घरों में सजाने के लिए हज़ारों रूपये की पेन्टिंग्ज़ और शो-पीस रखे जाते हैं........कईं बार स्थानीय शिल्पकारों द्वारा बिल्कुल सस्ते से बिकने वाले लकड़ी और मिट्टी से तैयार शो-पीस ज़्यादा खुशी देते हैं, बिल्कुल उसी तरह जिस तरह खालिस २२ कैरेट सोने के गहनों से लदी किसी महिला के सामने एक साधारण सी दिखने वाली पत्थर और नकली मोतियों की माला पहन कर ही बाजी मार जाती है।

पोस्ट के माध्यम से एक यूनिवर्सल सच्चाई को किसी और को नहीं, अपने आप को एक बार याद दिलाने का एक उपाय किया है.....वैसे कुछ वर्ष पहले भी यह काम किया था....यह लिख कर.......अब इस कंबल के बारे में भी सोचना होगा। 

बिना सिर पैर वाली बातें लिखते लिखते मुझे वह गीत याद आ गया जिसे आपने बरसों से भुला दिया होगा......अब ऊपर वाली सभी बातों को एक तरफ़ हटा कर, पूरी तन्मयता से इसे सुनिए......दो पंछी दो तिनके ..कहो ले के चले हैं कहां.........ये बनाएंगे इक आशियां......मुझे भी यह गीत बहुत पसंद है।। काश, हम सब के मकान सही मायनों में घर बने रहें.....यह आज के समय की मांग के साथ साथ चुनौती भी है!!

ज्ञान बांटने की होड़ लगी हो जैसे..

अभी मैं अखबार पढ़ रहा था.. रेडियो सिटी चल रहा था।

तभी रेडियो सिटी की आर जे बोलीं कि जिसे देखो आज ब्लड-प्रेशर हो रहा है, जिसे देखो कहता है..मैं चल नहीं सकता... ऐसे में आप को करना क्या है, आप को अपनी दवाई रात में सोने से पहले खानी होगी... इससे इस बीमारी के ऊपर कंट्रोल ज़्यादा बढ़िया होता है और हार्ट-अटैक आदि का खतरा कम हो जाता  है।

रेडियो जॉकी तर्क यह दे रही थीं कि रात में में कोई काम तो करना नहीं होता, बस आराम ही करना होता है, इसलिए एक बार अगर रात में दवाई ले ली तो उच्च रक्त चाप का बेहतर कंट्रोल हो पाएगा।
Photo credits/nlm.nih.gov
यह तर्क बिल्कुल बेबुनियाद सा लगा... वैज्ञानिक तथ्यों से रहित.....मुझे अपना समय याद आ गया...१९९४ के आसपास की बात है, मुझे थोड़ा रक्तचाप रहने लगा था...बंबई में रहते थे तब...उन्हीं दिनों मैंने प्राणायाम् और मेडीटेशन (ध्यान) सीखा....मेरी कोशिश रहती थी कि प्राणायाम् के तुरंत बाद तो कभी कभी रक्त चाप की जांच करवा ही लूं।

उसी दौरान दो चार बार तो मुझे अपनी मिसिज़ के अस्पताल भी बाद दोपहर जाने का अवसर मिला.....कईं बार जब लंच-ब्रेक होता.. तो मैं पहले वहां पर १५-२० मिनट के लिए मेडीटेशन करता और फिर ब्लड-प्रेशर को नपवा लेता....सामान्य आने पर राहत महसूस होती।

फिर मुझे समझ आने लगी कि यह बात अजीब सी है...बी.पी का स्तर तो सारे दिन ही सामान्य रहना चाहिए...ठीक है सुबह और शाम की रीडिंग में थोड़ा अंतर हो सकता है, लेकिन इस तरह से प्राणायाम् अथवा ध्यान के तुरंत बाद बी पी जांच करवा के आश्वस्त हो लेना पूरी तरह से ठीक नहीं है।

फिर जब धीरे धीरे यह बी पी का लफड़ा समझ में आने लगा तो अपना ज्ञान इस तरह से झाड़ दिया...

हाई-ब्लडप्रेशर का हौआ.. भाग १

दोस्तो, माफ़ करना....सच में मुझे पता नहीं कि कुछ साल पहले क्या लिखा था इन पोस्टों में.....लेकिन इतना इत्मीनान है सच के अलावा कुछ न लिखा होगा। हलवाई को अपनी मिठाई का पता रहता है, इसलिए वह नहीं खाता उसे.....बरसों बाद मेरा भी अपने लेखों के साथ व्यवहार कुछ कुछ इसी तरह का ही होता है।

हां, तो उस रेडियोसिटी की आर जे की बातों पर वापिस लौटते हैं...उसने भी आज यही कहा कि आप ज़िंदगी का आखिर उखाड़ क्या लेंगे, क्या कोई अभी तक कुछ उखाड़ पाया है!

हाई-ब्लडप्रेशर का हौआ.. भाग२

व्हाट्सएप पर एक जोक आया था.....कि सतसंग में तो इस मौसम वही जाने की इच्छा होती है जहां ब्रेड-पकोड़े का प्रसाद मिले....वरना ज्ञान तो फ्री में व्हाट्सएप में कुछ बंट रहा है। यहीं नहीं, सारे सोशल मीडिया पर और मॉस-मीडिया (जन संचार) पर भी जैसे होड़ सी लगी हुई है..

इन माध्यमों की पहुंच बहुत ज्यादा है.... लेिकन इस तरह के ज्ञान का इस्तेमाल ज़रा सोच समझ कर के ही करिएगा.....जैसे अगर कोई विशेषज्ञ आप को दवाई लेने के समय के बारे में इस तरह की बात कहे तो उस की बात बिना किसी किंतु-परंतु के मान लीजिए... वरना इस तरह की हल्की-फुल्की बातें को गंभीरता से लेते हुए कहीं मान ने लें!

जहां तक दवाईयों लेने के समय की बात है...यह केवल और केवल आप का डाक्टर जानता है... खाली पेट, खाने के तुरंत बाद, खाने के दो घंटे बाद, रात को सोने से पहल, दिन में कितनी बार लेनी है ... पानी के साथ, दूध के साथ... बहुत तरह की बातें होती हैं, इस के पीछे वैज्ञानिक कारण होते हैं...इन्हें नज़र-अंदाज़ नहीं किया जा सकता है। एक बात पल्ले बांध लें कि हर दवाई का अलग मिजाज है....हां, बिल्कुल लोगों की तरह.......और इस मिजाज को रेडियो जाकी नहीं, अनुभवी चिकित्सक ही जानते हैं।

लेकिन एक बात ज़रूर है....ये रेडियो जॉकी आप को खुश रखने की कला में निपुण होते हैं......यार, ऐसे में वे भी तो हम सब के हाई ब्लड-प्रेशर को कंट्रोल करने में मदद तो कर ही रहे हैं जिस के लिए ये सब साधुवाद के पात्र हैं। सुबह सुबह अपनी चटपटी बातों से लोगों के चेहरों पर मुस्कान बिखेरने आ जाते हैं.

बस, यही बात करने की आज सुबह सुबह इच्छा हो गई...वैसे आज कल ब्लड-प्रेशर की जांच करने के लिए नये नये डिवाईस आ रहे हैं...कभी फिर इन के बारे में चर्चा करेंगे......बस, आप ज़रूरत से ज़्यादा न सोचा करें..यह एकदम सुपरहिट फार्मूला है।

आज सुबह यह गाना सुन लें?...बर्फी फिल्म का बहुत सुंदर गीत है... इत्ती सी हंसी, इत्ती सी खुशी....प्रियंका चोपड़ा और रणबीर कपूर को इन की बेहतरीन एक्टिंग के लिए १०० में से १०० अंक......याद है फिल्म देखते कितनी बार आंखें नम हो गई थीं (सच कहूं तो बस नम ही नहीं...) ...इतने संवेदनशील विषय को इतनी परपेक्शन के साथ परदे पर उतारने के लिए....