Sunday, December 16, 2007

अंग्रेज़ी अखबार के ये हैल्थ-कैप्सूल.........आखिर किस के लिए ..

अंग्रेजी का एक समाचार-पत्र जो काफी लोकप्रिय है उस में नियमित तौर पर एक छोटा-सा हैल्थ-कैप्सूल छपता है। उस में किसी भी स्वास्थ्य विषय के ऊपर एक संक्षिप्त एवं सटीक सी जानकारी दी जाती है। कई बार तो बात समझ में आ जाती है। लेकिन कईं बार यही नहीं पता चल पाता कि आखिर ये किस श्रेणी के पाठक के लिए लिखे जा रहे हैं-क्योंकि डाक्टर होते हुए भी उस में लिखी वस्तुओं( साग-सब्जियों आदि) का नाम भी मैं पहली बार ही देख रहा होता हूं। और भी रोचक बात यह है कि कई बार तो मैं उन का नाम डिक्शनरी में भी नहीं ढूंढ पाता। एक बात जो और बहुत अखरती है वह यह है कि इन हैल्थ-कैप्सूलों में हैल्थ के प्रति एक बड़ी फ्रैगमैंटिड सी एपरोच सी दी जाती है। पता नहीं मुझे कभी होलिस्टिक एपरोच की महक उस में नहीं आई- प्रोस्टेट कैंसर से बचने के लिए कुछ खाने को कहा जाता है और स्तन कैंसर से बचने को कुछ और खाने को कहा जाता है। यह तो एक उदाहरण मात्र थी। वैसे भी उस कैप्सूल में दिए गए आंकड़े विदेशी अध्यय़नों के ही होते है-- अपने देशी आंकड़े तो कभी मुझे दिखे नहीं। क्या समाचार -पत्र वाले इस तरफ ध्यान देने का कष्ट करेंगे ?

जाते जाते एक शेयर ध्यान में आ रहा है....
हीरे की शफक है तो अंधेरे में चमक,
धूप में आ के तो शीशे भी चमक जाते है।