Wednesday, October 14, 2009

बेशक तस्वीरें बोलती हैं .....

प्रजातंत्र के महोत्सव के दिन चुनाव की तस्वीरें सुबह से ही टीवी पर दिखने लगती हैं और अगले दिन अखबारों में भी खूब दिखती हैं।
इन तस्वीरों में बहुत बड़ी बड़ी, नामी-गिरामी, रईस हस्तियों को वोट डालते दिखाया जाता है ----इस के बारे में मेरे क्या विचार हैं ? --यह तो भई लिखने की कतई इच्छा ही नहीं हो रही, क्यों यह सब लिख कर खाली-पीली टाइम खराब करने का ?
चुनाव के दिन सारा दिन टीवी के लगभग सभी चैनलों पर यही दिखता रहता है कि फलां फलां ने वोट वहां डाला, उस की बीवी ने वहां डाला, साथ में उस के बेटे भी थे और बहू भी थी। फिर उन के साथ एक दो बातें भी दिखाई जाती हैं। और दूसरे चैनल पर दिख जाता है कि किस हस्ती ने नाश्ते से पहले, किस ने मंदिर जाने के बाद और किस ने सुबह के भ्रमण के तुरंत बाद वोट डाला। सोचने की बात यह है कि Agenda Setting Theory के अंतर्गत आखिर मीडिया कौन सा एजैंडा सैट कर रहा है ?
ओ..हो....इतना महान काम कर दिया, वोट डाल के। जिस अंदाज़ में ये सब लोग अपनी उंगली पर काली स्याही से लगा निशान मीडिया के सामने दिखाते हैं उसे देख कर सिरदर्द होने लगता है। इतनी भी कौन सी बड़ी बात है ---प्रजातंत्र है, जहां करोड़ों लोगों ने वोट किया, आप लोगों ने भी किया ---इस में आखिर इतनी बड़ी बात है क्या यह कभी भी मेरी समझ में नहीं आयेगी।
वैसे सोचने की बात है कि अगर कुछ नामी गिरामी हस्तियां मीडिया को अपनी यह उंगली दिखाते फिरते हैं तो इस में इन का क्या कसूर ? --- लगता है कि वोट वाले दिन इन हस्तियों को जो इतनी ज़्यादा कवरेज मिलती है इस में दोष मीडिया का ही है। मुझे तो यह सब देख कर बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता।
और अगले दिन जो लगभग सभी अखबारों के पहले पन्ने पर फोटो छपते हैं उन्हें देख कर भी कोई खास तबीयत खुश नहीं होती। आठ-दस बहुत ही बुज़ुर्ग महिलायों की तस्वीरें तो दिख जाती हैं जिन्हें उन के रिश्तेदारों ने स्वयं उठाया होता है। इन बुज़ुर्ग महिलायों की इतनी उम्र हो चुकी होती है कि शायद ही उन्हें पता होता होगा कि कौन से चुनाव हो रहे हैं और कौन कौन से प्रत्याशी हैं ?

Credit - The Hindu, Oct 14,2009
हां, लेकिन कुछ कुछ तस्वीरें ऐसी भी इन अखबारों में दिख जाती हैं जो कि आप को छू जाती है। ऐसी ही एक फोटो मेरे पसंदीदा अखबार दा-हिंदु में आज छपी है ---- आप देखिये की इस देवी की तस्वीर सारी अखबार पर हावी पड़ रही है। यह फोटो अखबार के पहले पन्ने पर छपी है। यह अम्मा वोट देने के बाद वापिस घर लौट रही हैं।
दा हिंदु में छपने वाली तस्वीरें होती भी ऐसी ही हैं जो कि पाठक को बहुत सोचने पर मजबूर करती हैं। मुझे कहने में यह कोई झिझक नहीं है कि आज तक चुनाव से संबंधित मैंने जितनी भी तस्वीरें देखी हैं यह उन सब में से बेहतरीन है।
मैं इस तस्वीर को लगभग दस मिनट तक देखता रहा ---शायद मैं इस के चेहरे की हरेक सिलवट में छिपी हुई बीसियों कहानियां पढ़ने की नाकाम कोशिश कर रहा था।
इस तस्वीर को देख कर कोई ऐसा होगा जो इस की हिम्मत की दाद दिये बिना रह सके। यह तस्वीर है भी तो परफैक्ट---तस्वीर में पूरा फोकस अम्मा पर होते हुये भी बैकग्राउंड में पूरी चुनावी एक्टिविटी को कैप्चर किया गया है।
अरे भाई, मीडिया वालो, चुनाव के दिन बड़े बड़े रइसों, नामी-गिरामी हस्तियों की तस्वीरें खींचने से थोड़ी सी भी फुर्सत मिले तो इस तरह की जिंदादिल, जिवंत, जीवित देवियों की तस्वीरें विभिन्न चैनलों पर सुबह सुबह से ही बार बार फ्लैश किया करें ---अगर इन से दो बातें भी करें तो कितना बढ़िया होगा । आप सोच रहे हैं कि इस तरह की इन देवियों को इस से क्या हासिल होगा ?
इन को क्या हासिल होगा ? --- शायद ये तो फायदे -नुकसान जैसी चीज़ों से बहुत ऊपर उठ चुकी हैं, लेकिन इन तस्वीरों को चुनाव के दिन बार बार दिखाने से हमारे कुछ युवा लोगों को शायद चुल्लू भर पानी की ज़रूरत महसूस होने लगे ----- शायद उन्हें इस देवी की हालत देख कर कुछ तो प्रेरणा मिले कि यार, अगर यह वोट देने जा सकती हैं तो हम क्यों नहीं ? ---बहुत हो गई सुस्ती , हम भी नहा धो कर अपने अधिकार का इस्तेमाल कर के आते हैं !!
तो, हो गई न इस तरह की फोटो से वोटों का प्रतिशत बढ़ाने में मदद। बहरहाल, मैं इस गुमनाम देवी के ज़ज्बे को दंडवत् प्रणाम् करता हूं और सभी चिट्ठाकरों की ओर से इन के स्वास्थ्य एवं दीर्घायु की कामना करता हूं।