Tuesday, January 8, 2008

जटरोफा के बीजों से सावधान रहिए !

जटरोफा कुरकास(जंगली अरंडी) सारे भारतवर्ष में पाया जाने वाला एक आम पौधा है। जटरोफा के बीजों में 40प्रतिशत तक तेल होता है। इससे बायोडीज़ल प्राप्त करने हेतु सैंकड़ों प्रोजेक्ट चल रहे हैं। जटरोपा के बीजों से प्राप्त तेल मनुष्य के खाने योग्य नही होता।

जटरोपा के विषैले गुण इस में मौजूद कुरसिन एवं सायनिक एसिड नामक टाक्स-एल्ब्यूमिन के कारण होते हैं। वैसे तो पौधे के सभी भाग विषैले होते हैं लेकिन इन के बीजों में इस की सर्वाधिक मात्रा होती है। इन बीजों को खा लेने के पश्चात शरीर में होने वाले दुःप्रभाव मूल रूप से पेट एवं आंतों की सूजन के कारण उत्पन्न होते हैं।

गलती से जटरोफा के बीज खा लेने की वजह से बच्चों में इस तरह के हादसे आए दिन देखने-सुनने को मिलते रहते हैं। इन आकर्षक बीजों को देख कर बच्चे अनायास ही इन्हें खाने को उतावले हो उठते हैं।

इस के बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता कि इस पौधे के कितने बीज खाने पर विषैलेपन के लक्षण पैदा होते हैं। कुछ बच्चों की तो सिर्फ तीन बीज खा लेने ही से हालत पतली हो जाती है, जब कि कुछ अन्य केसों में पचास बीज खा लेने पर भी बस छोटे-मोटे लक्षण ही पैदा हुए। धारणा यह भी है कि इन बीजों को भून लेने से विष खत्म हो जाता है, लेकिन भुने हुए बीज खाने पर भी बड़े हादसे देखने में आये हैं।

उल्टियां आना एवं बिल्कुल पानी जैसे पतले दस्त लग जाना इन बीजों से उत्पन्न विष के मुख्य लक्षण हैं। पेट-दर्द, सिर-दर्द, बुखार एवं गले में जलन होना इस के अन्य लक्षण हैं। इस विष से प्रभावित होने पर अकसर बहुत ज्यादा प्यास लगती है। इस के विष से मृत्यु की संभावना बहुत ही कम होती है।

क्या करें ..........
बेशक जटरोफा बीज में मौजूद विष को काटने वाली कोई दवा (एंटीडोट) नहीं है, फिर भी अगर बच्चे ने इन बीजों को खा ही लिया है तो आप घबराएं नहीं।
बच्चे को किसी चिकित्सक के पास तुरंत ले कर जाएं। अगर बच्चा सचेत है, पानी निगल सकता है तो चिकित्सक के पास जाने तक भी उसे पेय पदार्थ (दूध या पानी) पिलाते रहें जिस से कि पेट में मौजूद विष हल्का पड़ जाए। चिकित्सक के पास जाने के पश्चात् अगर वह जरूरी समझते हैं तो अन्य दवाईयों के साथ-साथ वे नली द्वारा (IV fluids)कुछ दवाईयां शुरू कर देते हैं। इस अवस्था का इलाज सामान्यतयः बहुत सरल है। 6घंटे के भीतर अकसर बच्चे सामान्य हो जाते हैं।

रोकथाम---------------बच्चों को इन बीजों के बारे में पहले से बता कर रखें। उन्हें किसी भी पौधे को अथवा बीजों को ऐसे ही खेल-खेल में खा लेने के प्रति सचेत करें। स्कूल की किताबों में इन पौधों का विस्तृत वर्णन होना चाहिए। अध्यापकों को भी कक्षाओं में बच्चों को इन बीजों से संबंधित जानकारी देते रहना चाहिए।

खुद मोल खरीदा जाने वाला एक शैतान ...


कुछ समय पहले एक 17वर्षीय किशोर से मिलने का मौका मिला जो अपने पिता के साथ मेरे पास मुंह के छालों के इलाज के लिए आया था। उस के मुंह के अंदर एक नज़र मारने मात्र से पता चला कि उस के मुंह के अंदर एक गाल पर सफेद, झुर्रीदार दाग एवं एक ज़ख्म है। उसे इस के बारे में न तो कुछ पता ही था और न ही उसे इस की कोई तकलीफ ही थी। सीधी सी बात है कि जब उसे यह ही नहीं पता था कि गाल के ऊपर ऐसा-वैसा कुछ है तो कितने समय से यह है, यह पूछने का तो सवाल ही न उठता था। दोस्तो, इस अवस्था तो ओरल-ल्यूकोप्लेकिया (oral leukoplakia) कहा जाता है ----यह मुंह के कैंसर की कैंसर पूर्व-अवस्था (प्री-कैंसर) है। अगर किसी भी रूप में तंबाकू का उपभोग इस अवस्था में भी छोड़ दिया जाए तो स्थिति के आसानी से काबू आने के काफी चांस होते हैं। लेकिन सोचने वाली बात तो यही है दोस्तो कि तंबाकू छोड़ने के लिए इस अवस्था में पहुंचने तक आखिर इंतजार ही क्यों किया जाए ?--- इस अवस्था में पहुंचने पर भी अगर तंबाकू, गुटखे, पानमसाले एवं पान से मोह बना रहे तो यह प्री-कैंसर की अवस्था मुख कैंसर का रूप भी धारण कर सकती है।

हां, तो मैं उस 17वर्षीय लड़के की बात कर रहा था, लेकिन वह लड़का तो यह मानने को तैयार ही न था कि उसने कभी भी तंबाकू को किसी भी रूप में इस्तेमाल किया है। लेकिन एक सच्चाई यह भी है कि ल्यूकोप्लेकिया की यह अवस्था सामान्यतयः इन खतरनाक उत्पादों के सेवन के बिना तो हो ही नहीं सकती। बार-बार एक ही बात पूछने पर लड़के ने आखिर बता ही दिया कि वह पिछले पांच वर्षों से तंबाकू-चूने का सेवन कर रहा है। उसने झट से अपनी जेब से तंबाकू-चूने का पाउच भी निकाल कर बाहर मेरी टेबल पर रख दिया।

शायद यह पढ़ कर आप भी सकते में आ गये होंगे लेकिन चौंकाने वाला कड़वा सत्य यही है कि अब छोटी उम्र में भी इस तरह की समस्या एक विकराल रूप धारण किए जा रही है। किशोरावस्था में ही इन रोगों की प्रारंभिक अवस्थाएं दिखना चिकित्सकों के लिए दुःखद चुनौती तो है , इस के साथ ही साथ समाज के लिए भी यह खतरे की घंटी है।

पिछले लगभग दो दशकों से मुंह के कैंसर से ग्रस्त रोगियों को अकाल मृत्यु का ग्रास बनते देख रहा हूं। हमारे देश में मुंह के कैंसर के रोगियों की संख्या बहुत ज्यादा है। इन में से अधिकांश के पीछे एक ही शैतान है---विलेन नं1---अर्थात् किसी भी रूप में तंबाकू का उपयोग। यह अकसर देखने में आया है कि लोग अकसर सिगरेट को ही ज्यादा बुरा समझते हैं जब कि वास्तविकता यह है कि स्मोकलैस तंबाकू( जिस के कश तो न खींचे जाएं, लेकिन जिसे चबाया जाए, गाल के अंदर रख कर चूसा जाए, गुटखा, ऩसवार, मसूड़ों के ऊपर लगाए जाने वाले तंबाकू वाले मंजन....लिस्ट काफी लंबी है) के भी सभी रूप बेहद घातक हैं।

आप इस विडंबना की तरफ भी गौर कीजिए - शरीर के अंदरूनी हिस्सों की तुलना में मसूड़े, गाल के अंदरूनी हिस्से, होंठ, जिह्वा, तालू ....ये सब शरीर के वे भाग हैं जिन में होने वाले किसी भी घाव अथवा बदलाव को बड़ी आसानी से प्रारंभिक अवस्था में ही देखा जा सकता है, फिर भी मुख-कैंसर के अधिकांश मरीज़ इस बीमारी के काफी उग्र रूप धारण कर लेने पर ही विशेषज्ञ के पास जाते हैं, लेकिन तब तक अकसर काफी देर हो चुकी होती है। जो मरीज मुंह में ल्यूकोप्लेकिया होने के बावजूद भी तंबाकू की गिरफ्त में हैं, दोस्तो, इसे हम धीरे-धीरे की जाने वाली आत्महत्या नहीं तो और क्या कहें ?--वैसे तो हमें नियमित रूप से स्वयं भी घर पर अपने मुख के अंदरूनी हिस्सों को शीशे में कभी-कभार जरूर देखते रहना चाहिए ताकि किसी तरह के बदलाव अथवा घाव को तुरंत पकड़ा जा सके।

दोस्तो, एक तो वैसे ही हमारे द्वारा किए जा रहे प्रकृति के अंधाधुंध शोषण के फलस्वरूप जल,वायु एवं खाध्य पदार्थों के प्रदूषण के बारे में तो हम सब को पता ही है, ऊपर से तंबाकू एवं शराब जैसे मादक पदार्थों को जले पर नमक छिड़कने के लिए खरीद कर हम अपनी ज़िंदगी से आखिर क्यों खिलवाड़ करते हैं !!---तंबाकू के तो , दोस्तो, सभी रूप ही घातक हैं, इस के सभी उत्पाद केवल उत्पात ही मचाते हैं। यहां तक कि हुक्का पीना भी खतरे से खाली नहीं है। समझदारी इसी में ही है कि हम इन सब वस्तुओं से मीलों दूर रहें , सीधा-सादा संतुलित आहार लें जिस में हरी-पत्तेदार सब्जियां एवं मौसमी फल भी प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हो।

हमारे देश में तो बहुत से लोग तंबाकू-चूने एवं गुटखे को होठों या गाल के अंदर दबा लेते हैं जहां से धीरे धीरे इस का रस चूसते रहते हैं। जिन लोगों को तंबाकू चबाने के इलावा शराब पीने की भी आदत है, उन में तो मुख-कैंसर होने की और भी ज्यादा संभावना रहती है। कुछ लोग तो इस तंबाकू-चूने के मिश्रण को रात में भी मुंह में दबा कर सो जाते हैं। बम्बई के टाटा हास्पीटल के एक पूर्व निर्देशक, डा.राव साहब, एक बार कह रहे थे कि अगर लोग रात को सोने से पहले अपने दांत साफ करने की आदत ही डाल लें तो भी मुंह के कैंसर के रोगियों की संख्या में भारी गिरावट आ जाएगी----इस का कारण यह है कि एक बार रात में सोने से पहले अपना मुंह साफ कर लेने के पश्चात तंबाकू-चूने अथवा गुटखे को मुंह में दबाने की भला किसे इच्छा होगी !! कितनी सही बात है !!!