Thursday, June 11, 2009

मेरा पिंड ( मेरा गांव मेरा देश)

कल समीर लाल जी की एक बहुत ही बेहतरीन पोस्ट पढ़ने का हैंग-ओव्हर अभी तक नहीं टूटा है। उन्होंने ने कितने सुंदर एवं भावुक शब्दों में अपने गांव की मिट्टी को याद किया--- कल शाम ऐसे ही उन का ब्लॉग फिर से लगाया तो साठ के करीब टिप्पणीयां देख कर दंग रह गया। समीर जी की पोस्ट का नशा उतरने का मेरे लिये एक कारण एक और था --- आज दोपहर मेरे बेटे ने ज़ी-पंजाबी पर एक बहुत प्रसिद्ध पंजाबी गायक साबर कोटी का एक प्रोग्राम लगाया हुआ था। उस प्रोग्राम के बारे में बताने से पहले साबर कोटी का एक गीत सुनना चाहेंगे ?

कंडे जिन्ने होन तिक्खे, फुल ओन्हा हुंदा सोहना,
साडे अपने नहीं होय, तां परायां कित्थों होना .....
( कांटे जितने नुकीले हों, फूल उतना ही सुंदर होता है,
अगर हमारे अपने ही अपने न हुये तो बेगानों से क्या शिकवा )



हां, तो उस प्रोग्राम का नाम था ---मेरा पिंड। यह ज़ी-टीवी का एक रैगुलर प्रोग्राम है जिस में यह किसी शख्सियत को उस के गांव में ले जाकर इंटरव्यू करते हैं। मैं इस प्रोग्राम का बुहत शौकीन हूं। मुझे नहीं पता कि यह किस दिन कितने बजे आता है लेकिन जब कभी ऐक्सीडैंटली बच्चे रिमोट के साथ पंगे लेते हुये इस लगा लेते हैं तो बस फिर तो मैं इस के दौरान दिखाये जाने वाले कमर्शियल्ज़ के दौरान भी उसी चैनल पर ही डटा रहता हूं।

पंजाबी गायक साबक कोटी बिल्कुल ठेठ पंजाबी में अपनी पिंड ( गांव) की यादें बहुत भावुक हो कर दर्शकों से साझी कर रहा था जिन्हें सुन कर बहुत ही अच्छा लग रहा था। मैं अकसर कहता रहता हूं कि जब कोई दिल से अपनी बात रख रहा होता है तो बस फिर तो बात ही निराली होती है।

मुझे अपनी मां-बोली पंजाबी से बहुत ही प्यार है --- मैं इस के प्रचार-प्रसार के लिये अपने स्तर पर काम करता रहता हूं। घर में भी हम सब लोग पंजाबी में ही बात करते हैं --- मुझे बड़ा गर्व है कि मेरे बेटे भी बहुत अच्छी पंजाबी बोलते हैं। ऐसा हम लोग जान-बूझ कर करते हैं --- इस का कारण है कि दूसरी भाषायें तो आदमी विभिन्न मजबूरियों के कारण सारी उम्र सीखता ही रहता है। लेकिन अपनी मां-बोली मां के दुलार की तरह है --- शुरूआती वर्षों में इस का जितना अभ्यास कर लिया जाये वह भी कम है।

मैं प्रोग्राम देखते हुये बेटे को यही कह रहा था कि कितनी बढ़िया पंजाबी बोल रहा है कोटी --- मैंने फिर कहा कि दरअसल इस तरह के लोग जब बोलते हैं तो इन की बोली से भी इन के गांव की मिट्टी की खुशबू आती है। आज साबर कोटी को ज़ी-पंजाबी पर बोलते देख कर ऐसे लग रहा था कि भाषा कोई भी हो, बस जब तक उस की टांग न घुमाई जाये, बार बार स्लैंग का इस्तेमाल न किया जाये ---- तो फिर सब कुछ बढ़िया ही लगता है।

साबर कोटी ने हमें अपने पिंड की गलियों की सैर कराई, वह हमें उस स्कूल ले गया जहां पर उस ने पांचवी कक्षा तक पढ़ाई की थी। अपने स्कूल में जा कर वह भावुक हो रहा था ---उसे अपने उस स्कूल मास्टर की याद आ गई थी जिस ने उसे पहली पहली बार स्कूल की स्टेज पर गीत गाने का अवसर दिया था।

उस के बाद साबर हमें गांव के एक पीर की जगह पर हम सब को ले गया ---- साबर बता रहा था कि वह हर वीरवार के दिन वहां पर अपनी हाज़िरी लगवाने ज़रूर आता है -- वह कितना भी व्यस्त क्यों न हो, वहां आने के लिये समय कैसे भी निकाल लेता है।

मैंने साबर कोटी का प्रोग्राम लगभग 10-15 मिनट देखा, मुझे तो बहुत आनंद आया। मुझे इस का मलाल है कि मैं प्रोग्राम शुरू से नहीं देख पाया। आप को पता है मुझे इतना मज़ा क्यों आया --- क्योंकि जब साबर कोटी अपने गांव की गलियां हमें दिखा रहा था तो मैं भी उस के साथ अपने बचपन की गलियों की यादों में बह गया था ---मैं भी याद कर रहा था उस नीम के पेड़ को जिसे मेरी मां ने अपने हाथों से लगाया था ---किस तरह हम लोग उस की छांव में कंचे ( गोटियां) खेलते रहते थे और फिर उस डालडे के प्लास्टिक वाले डिब्बे में जमा करते रहते थे ----फिर जब उस दिन का खेल खत्म हो जाना तो उन कंचों को पानी से धोना और बढ़िया-बढ़िया और थोड़े टूटे हुये कंचों को अलग अलग करना ----इसलिये कि कल सुबह वाले सैशन में पहले खराब कंचे लेकर ही बाहर जाना है।

और उसी पेड़ के नीचे जमीन पर गुल्ली-डंडे के खेल के लिये बनाई गई एक खुत्थी (टोया, डूंग) को भी याद कर रहा था --- जब मैं साबर कोटी के गांव की नालियां देख रहा था तो मैं भी अपने घर के बाहर नाली को याद कर रहा था जिस में से कितनी बार मैंने गेंद उठाया था ---और दो-चार बार शायद एमरजैंसी में उस नाली पर बैठा भी था ----किस लिये ? --( अब वह क्यों लिखूं जिसे लिख कर मुझे शर्म आ जाती है)--- आप समझ गये ना !!

मुझे उस घर के बाहर पड़ा एक पत्थर भी याद आ जाता है जिस पर मैं अपने पापा की इंतज़ार किया करता था कि आज उन की टोकरी में क्या पडा़ मिलेगा ---- बर्फी, पेस्टरी, केले, अंगूर, भुग्गा( पंजाब की एक मशहूर मिठाई) या फिर कईं बार केवल बेइंतहा प्यार ही प्यार।

और फिर मुझे साबर कोटी का गांव घूमते घूमते अपने मोहल्ले का वह मीठे पानी का वह हैंड-पंप भी याद आ जाता है जहां से प्री-फ्रिज के दिनों में डोल में ठंडा पानी भर कर लाया करता था। कमबख्त यादें बहुत परेशान करती हैं --- लेकिन जब इन्हें बांट लो ना तो बहुत अच्छा लगता है। मैं उस छोटी सी चारपाई को भी याद कर रहा था जिस पर बैठ क मोहल्ले की महिलायें कभी खत्म न होने वाली बातों में लगी रहती थीं --- अब ये मुंह की मैल उतारने वाले मंजे नहीं दिखते।

अब लोग बहुत बड़े हो गये हैं ----शायद मैं बहुत बड़ा हो गया हूं -----लेकिन जब गहराई से टटोलता हूं तो पाता हूं कि अब भी हम तो वहीं ही हूं ---- शायद उस निश्छलता पर बहुत से कवर डाल लिये हैं ----कितने कवर किस जगह उतारने हैं बस इतना पढ़ने लिखने के बाद वही सीख पाया हूं,और ज़्यादा कुछ नहीं। क्या यही विद्या है, यही सोच रहा हूं ------पता नहीं साबर कोटी पर लिखते लिखते किधर निकल गया कि उसी ज़माने की एक मशहूर फिल्म मेरा गांव मेरा देश फिल्म की याद आ गई ---- वह गीत याद आ रहा है ---- मार दिया जाये या छोड़ दिया जाये।
यादें तो बांटने वाली अनगिनत हैं ---बाकी फिर कभी । बाई साबर कोटी, तेरा बहुत बहुत शुक्रिया ---- तूं तां सानूं वी अपने दिन याद करा दित्ते। परमात्मा अग्गे एहो अरदास है कि तूं होर वी बुलंदियां छोहे।