Sunday, February 27, 2011

एनर्जी ड्रिंक्स से बचे रहने में ही है बचाव

इस तरह की चीज़ों के बारे में हम लोगों को पता भी बच्चों से ही चलता है ..इन लोगों की स्कूल आदि में बातें चलती होंगी। एनर्जी ड्रिंक्स के बुरे प्रभाव तो समाचार पत्रों में आते ही रहते हैं। मुझे तो ऐसा लगता है कि आज के युवा वर्ग को इन कोल्ड-ड्रिंक्स की लत लगा देने के बाद अब अगली बारी है इन एनर्जी ड्रिंक्स को पापुलर करने की।

कुछ दिन पहले मैं भी एक डिपार्टमैंटल स्टोर गया हुआ था ... मैंने उस से पूछा कि क्या यहां पर भी एनर्जी ड्रिंक्स मिलती हैं, तो मुझे उस शेल्फ की तरफ़ ले गया जहां पर इस तरह की ड्रिंक्स सजी हुई थीं। एक कैन की कीमत थी अस्सी रूपये और चार कैनों का एक पैक था...डिस्काउंट रेट पर।

उस के ऊपर लिखी इंफरमेशन पढ़ी .. वही सब जो मैडीकल न्यूज़ में दिख रहा था पिछले कुछ दिनों से कि ये सब ड्रिंक्स कैफ़ीन (caffeine) जैसे तत्वों से लैस होते हैं जिन से बहुत से नुकसान होते हैं ....और इन पर लिखा तो रहता है कि इन में कॉफी के एक कप चाय के बराबर कैफीन है लेकिन इस में इस से कहीं ज़्यादा मात्रा में कैफ़ीन होती है। कारण ? – इस में कंपनियों ने कईं तरह के हर्बल इनग्रिडीऐंट भी डाले होते हैं जिन की वजह से कैफ़ीन की मात्रा खूब बढ़ जाती है।

आज कल जिस तरह से ये ड्रिंक्स पापुलर हो रही हैं, इस से तो यही लगता है कि जब कोई भी वस्तु विकसित देशों से निकाले जाने के कगार पर होती है तो उसे हमारे यहां पापुलर करना शुरू कर दिया जाता है। आप इस लिंक पर जा कर इस के बारे में देखिये .... Energy drinks dangers.

कईं विकसित देशों में तो 12 से 17 साल के वर्ग के एक तिहाई युवा इस तरह की ड्रिंक्स नियमित रूप से लेने लगे हैं... और इन ड्रिंक्स के युवाओं के स्वास्थ्य पर होने वाले प्रभावों का भी उन देशों में पिछले कईं वर्षों से अध्ययन किया जा रहा है और विशेषज्ञों के अनुसार इन ड्रिंक्स की वजह से बच्चों एवं युवाओं को दौरे (seizures) पड़ सकते हैं, उन के हृदय की धड़कन में अनियमितताएं(irregular heart rhythm) आ सकती हैं, उच्च रक्तचाप(high blood pressure) हो सकता है, और यहां तक की इस रिपोर्ट में (जिस का लिंक मैंने ऊपर दिया है) तो यह भी कहा गया है कि इस से मौत तक हो सकती है।

सोचने की बात तो यही है कि अगर कोई खाध्य वस्तु इतने पंगे कर सकती है तो उसे ट्राई ही क्यों किया जाए। और कोई इतनी सस्ती भी नहीं है ये ड्रिंक्स। अपनी देसी पेय पदार्थों में ऐसा क्या है कि वे एनर्जी न दे सकेंगे। सभी खिलाड़ी उन देसी चीज़ों को ही इस्तेमाल कर के पले-बड़े हैं।

ध्यान आ रहा है बाबा रामदेव की दो चार दिन पहले सुनी बात का --- एक सभा को संबोधित करते हुये वे कोल्ड-ड्रिक्स की पोल खोल रहे थे कि किस तरह से ये हमें केवल नुकसान ही पहुंचाती हैं। एक खिलाड़ी का नाम लेकर बच्चों को समझाने की कोशिश कर रहे थे कि यह जो आप लोग विज्ञापन में उस खिलाड़ी को कोल्ड-ड्रिंक के समर्थन में बोलते सुनते हो ना, यह ड्रिंक्स ये खिलाड़ी लोग स्वयं नहीं पीते, ग्रामीण पृष्टभूमि से आने वाले ये स्टार देसी पेयों को पी-पीकर ही इतने बड़े हो गये कि इन कंपनियों की इन की नज़र पड़ सके।

सोचता हूं कि हर तरफ़ इतना गोरखधंधा चल रहा है कि मैडीकल विषयों के बारे में कंटैंट डिवेल्पमैंट का यही मतलब दिखने लगा है कि आमजन को किस तरह से नईं नईं हानिकारक वस्तुओं के बारे में लगातार जागृत रखा जाए...................मेरे विचार में तो एक बात तो है कि इस तरह की वस्तुएं बनाने वालों के पास इतना अथाह पैसा है कि वे इन की मार्केटिंग के लिये किसी भी हद तक जा सकते है।

लेकिन अगर आम आदमी ने कांटों से अपने आप को बचाना है तो सारी दुनिया पर कारपेट बिछाने की बजाए अगर अपने पैरों में ही चप्पल डाल ली जाए तो बात बन जाती है... है कि नहीं ? केवल जागरूक रहना ही एक हथियार है – यह देखना कि हम क्या खा रहे हैं, क्यों खा रहे हैं, और इस के हमारे शरीर में क्या प्रभाव हो सकते हैं।




तंबाकू कंपनियां पचास वर्षों तक बेचती रहीं सफ़ेद झूठ

मुझे याद है कि सत्तर के दशक में मेरे जो रिश्तेदार उन दिनों 35-40 रूपये का सिगरेट का पैकेट पिया करते थे, सारे परिवार में उन का अच्छा खासा दबदबा हुआ करता था कि इन की इतनी हैसियत है कि ये अपनी सेहत के प्रति जागरूक होते हुये “फोरेन ब्रांड” के सिगरेट पीते हैं... और आज से चालीस साल पहले चालीस रूपये की बहुत कीमत हुआ करती थी।

और मुझे याद है कि कभी कभी इस तरह के पैकेट लाने की अपनी ड्यूटी भी लगा करती थी और अमृतसर में तो ये केवल तब एक-दो महंगे पनवाड़ियों से ही मिला करते थे.. और मैं इन्हें खरीदते वक्त पता नहीं बिना वजह क्यों इतना “व्हीआईपी-सा” महसूस कर लिया करता था।

कल्पना करिये 1970 के दशक की ...रईस लोगों की एक तरह से ब्रेन-वाशिंग हो चुकी थी कि पैसे के बलबूते वे अपनी सेहत की भी रक्षा कर सकते हैं। मुझे अच्छी तरह से याद है कि आम आदमी—बीड़ीबाज या फिर एक रूपये का लोकल ब्रांड  इस तरह के “बहुत कम नुकसानदायक” सिगरेट पीने वालों को हसरत भरी निगाहों से देखा करता था।

आप ने भी पढ़ा –मैंने लिखा है ...बहुत कम नुकसानदायक सिगरेट... क्योंकि उन दिनों इस तरह के विदेशी ब्रांड़ों के सिगरेटों के बारे में ऐसा ही सोचा जाया करता था। और यह बात लोगों के मन में घर कर चुकी थी कि महंगा है तो बिना नुकसान के ही होगा।

किसी की भी बढ़ती संपन्नता का प्रतीक सा माने जाना लगा था इन सिगरेटों को --- मेरे बड़े भाई ने और कज़िन्स ने भी 1980 तक ये सिगरेट ही इस्तेमाल करना शुरू कर दिये थे। कुछ वर्षों बाद जब चर्चा होती थी कि यही सुनने को मिलता था कि हम तो भई चालू, घटिया किस्म के सिगरेट नहीं पीते, अपना तो यही ब्रांड है। और उस समय मैं भी यही समझने लगा था कि इतना महंगा है (उन दिनों शायद यह 50-60 रूपये का पैकेट मिला करता था) तो ठीक ही होगा।

फिर लगभग बीस वर्ष पहले यह सुनने में आया कि यह जो भ्रम फैलाया जा रहा है कि महंगे विदेशी ब्रांड वाले फिल्टर सिगरेट तरह तरह के विषैले तत्वों को फिल्टर करने के नाकामयाब हैं.... लेकिन तब भी बात लोगों की समझ में कहां आ रही थी?

लेकिन आज मैं यह खबर देख कर दंग रह गया हूं कि पिछले पचास वर्षों के दौरान तंबाकू कंपनियां झूठ ही बोलती रहीं। न्यू-यार्क टाइम्स में आज दिखी इस खबर से यह पता चला कि अमेरिका में एक अदालत ने यह कहा है कि कंपनियों को इस तरह के विज्ञापन समाचार पत्रों में देने होंगे कि वे पचास वर्षों तक यह झूठ बोल कर आमजन की सेहत के साथ खिलवाड ही करती रहीं कि कम टॉर वाला एवं कम निकोटिन वाले सिगरेट(लाइट सिगरेट –light cigarette) कम नुकसानदायक होते हैं और आदमी इन का आदि (addicted) भी नहीं होता।

कोर्ट ने यह भी कहा है कि इन कंपनियों को इस तरह के विज्ञापन भी खरीदने होंगे जिन में यह लिखा गया हो कि यह सब वे इस लिये करते रहे कि धूम्रपान करने वाले लोग इसे छोड़ने के बारे में सोचने की बजाए इस तरह के लाइट-सिगरेटों को अपना लें ताकि कंपनियों की अपनी सेहत, उनका मुनाफ़ा फलता फूलता रहे।

कंपनियों को यह भी कहा गया है कि वे ये भी घोषणा करें कि वे गलत प्रचार करती रहीं कि निकोटिन एडिक्टिव नहीं है ... वास्तविकता यह है कि इस की लत लग जाती है और चौंकने वाली बात यह भी है कि कंपनियां को यह भी घोषणा करनी होगी कि उन्होंने सिगरेटों के साथ कुछ इस तरह से छेड़छाड़ की कि जिससे इन्हें पीने वाले पक्के तौर पर इस व्ययसन का शिकार हो जाएं।

सोच रहा हूं कि आज के बाद स्कूली बच्चों को वह मुहावरा समझाने के लिये इसी उदाहरण को ले लेना चाहिए --- अब पछताए होत क्या, जब चिड़िया चुग गई खेत--- लेकिन अगर केवल खेत ही चुग गया होता तो बात और थी, यहां तो कईं कईं सालों तक स्वस्थ शरीर रूपी पकी फसलों को इस झूठ से आग ही लगती रही... लाखों, करोड़ों, शायद अरबों (हिसाब कमज़ोर है मेरा) लोग खा लिये इस ज़हर ने पिछले पचास वर्षों ने ---- तो क्या उन की कब्रों पर भी एक Sorry note रखा जाएगा कि ...We are sorry to hide the truth.

तो आज के बाद किसी भी पाठक को यह नहीं लगना चाहिये कि यह सिगरेट महंगा है, विदेशी है, कम टॉर वाला है , लाइट सिगरेट है... तो यह ठीक ही होगा, नहीं ऐसा बिल्कुल नहीं है, प्रूफ आप के सामने है.. अदालत ने कंपनियों को ही स्वीकार करने को ही कह दिया है। और हां, यह तो आप पहले ही से जानते ही हैं कि बीड़ी भी किसी तरह से भी सिगरेट से कम नुकसानदायक नहीं है, ज़्यादा तो हो सकती है ... .....ओ हो, यार, यह मैं भी किस रेटिंग में पड़ गया कि कम नुकसानदायक, ज़्यादा नुकसानदायक ..... ज़हर तो ज़हर ही है, विदेशों में बने, देश के महानगरों में बने या आदिवासी क्षेत्रों में तैयार हो .......इस का स्वभाव ही है कि इस ने जाने लेने ही लेनी हैं।

Anyway, Choice is yours --- Tobacco or Health……………..you can’t have both!

Source : 
U.S Presses Tobacco Firms to Admit to Falsehoods About Light Cigarettes and Nicotine Addiction. 

किसी भी फ़िक्र को कैसे धुएं में उड़ाया जा सकता है, गाने की बात और है .....लेकिन क्या आप को लगता है कि अगर रियल लाइफ में भी देवानंद ने इस धुएं का ही सहारा लिया होता तो क्या वह अभी 90 वर्ष की आयु में भी इतने एक्टिव दिखते ....