Friday, August 14, 2009

स्वाईन-फ्लू ---वैसे आंकड़े तो बस आंकड़े ही हैं !!


मुझे किसी भी बीमारी के आंकड़े बहुत अजीब से लगते हैं ---कितना आसान है किसी अखबार में या टीवी में यह दिखा देना कि इस बीमारी से रोज़ाना दो मौतें हो रही हैं जब कि टीबी से हर मिनट में दो मौतें, दिल की बीमारी से दिन में 6301 मौतें, मधुमेह से 5479 मौतें, धूम्रपान/तंबाकू की वजह से 2740 मौतें, कैंसर से 1507 मौतें हो जाती है-----यह सब कह कर शायद लोगों को समझाने बुझाने की कोशिश की जाती है।


लेकिन मैं कभी भी इन आंकड़ों से प्रभावित कम ही होता हूं ---मुझे लगता है कि जिन दूसरी बीमारियों की वजह से होने वाली हम हज़ारों मौतें गिनाते हैं, उन की बात अलग है, वे बहुत हद तक लोगों की जीवन-शैली से संबंधित हैं, दारू पीने वाला जानता है कि वह अपना लिवर खराब कर रहा है, तंबाकू इस्तेमाल करने वाला भी बहुत कुछ पहले से जानता है ----और दूसरी बात यह कि ये लोग अकसर अचानक ही तो लुप्त नहीं हो जाते---अकसर तिल तिल मरते हैं, है कि नहीं ? इसलिये परिवार वालों को भी अपने मन को समझाने का अच्छा खासा टाइम मिल ही जाता है।


लेकिन आप देखिये कि यह जो नया फ्लू आया है ----बैठे बैठे अचानक किसी के घर का कोई सदस्य –छोटा हो या बड़ा अगर इस की चपेट में आ जाये और कुछ ही दिनों में उस का नंबर आ जाये तो सारे परिवार के लिये कितने सदमे की बात है। शायद इस का अनुभव किसी दूसरे के लिये लगाना मुमकिन नहीं होगा। आंकड़े कुछ भी चीख-चिल्ला रहे हों, लेकिन उस परिवार के लिये तो आंकड़े 100 प्रतिशत हो गये कि नहीं ?


आंकड़ों की बात छिड़ी है तो मैं आज के दा हिंदु में स्वाईन-फ्लू से संबंधित एक ग्राफिक देख कर बड़ा हैरान परेशान हूं--- उस का सोर्स वर्ल्ड हैल्थ आर्गेनाईज़ेशन बताया गया है ---- आप के साथ मैं वहां दी गई सूचना साझी कर रहा हूं --


बीते समय में हो चुके फ्लू पैनडैमिक ( past flu pandemics) ---
सन 1918 – स्पैनिश फ्लू --- 200-400लाख मौतें
सन 1957- ऐशियन फ्लू ---- 10- 40 लाख मौतें
सन 1968- हांग-कांग फ्लू ---- 10—40 लाख मौतें


वैसे यह फ्लू की विभिन्न महांमारियों के दौरान हुई मौतों की गिनती की रेंज मेरी समझ में नहीं आई , 200से 400 लाख मौतें ----इतना जबरदस्त अंदाज़ा। बहरहाल, आप देखिये कि 1918 के 40-50 साल के बाद जो फ्लू की महांमारियां फैलीं उन में हुई मौतों की संख्या पहली महांमारी के मुकाबले लगभग पांच फीसदी ही रहीं।


इस से हमें और भी आशा बंधती है --- क्योंकि 1957 और 1968 का दौर भी वह दौर था जब डॉयग्नोसिस एवं उपचार के क्षेत्र में इतनी उन्नति नहीं हुई थी ---आज तो हम लोग टैस्टिंग की बात कर रहे हैं, वायरस को खत्म कर देने वाली दवाईयां हमारे पास हैं, वायरस से होने वाली बीमारियों के बेसिक फंडे हम समझ चुके हैं, जन-संचार के माध्यमों ने जबरदस्त तरक्की की है, लेकिन इस के साथ ही साथ हम ने अपने पर्यावरण को भी तहस-नहस करने में कोई कसर नहीं छोड़ी जो कि इस तरह के नये नये जीवाणुओं को पैदा करने के लिये एवं पनपने हेतु एक सुनहरा मौका देती है ------अब इन सब का क्या परिणाम होगा, यह तो आने वाला समय ही बतायेगा।


घबराने वाली तो कोई बात है ही नहीं, बस कुछ ज़रूरत बातें समझ लेने के बाद मानने की बात है। जो भी है, महांमारी तो अब बिना फैल ही रही है---- फ्लू की जितनी पुरानी महांमारियां हुई हैं उन में फ्लू फैलने वाली वायरसों को जितना फैलने में छः महीने लगे थे उतना तो यह एच1एन1 वॉयरस छः हफ्तों में ही फैल चुकी है।