Showing posts with label हमारा खान पान. Show all posts
Showing posts with label हमारा खान पान. Show all posts

Sunday, April 24, 2016

कईं बार जब पानी के बताशों का ज़िक्र होता है ..

जी हां, कईं बार जब पानी के बताशों का ज़िक्र होता है तो मुझे सामने वाली की बात बड़े ध्यान से सुनती होती है ...कारण अभी बताता हूं...

पानी के बताशे खाने से होने वाली जलन
कुछ लोग आ कर कहते हैं कि पानी के बताशे खाने से मुंह में बहुत जलन होती है ..कुछ लोगों में तो यह परेशानी दो चार दिन से होती है और अकसर यह मुंह के छालों की वजह से होती है ...लगाने वाली दवाई दे देते हैं..दो चार दिन में सामान्यतयः सब कुछ ठीक हो जाता है..

लेकिन कुछ लोगों में इस तरह की जलन लंबे अरसे से चल रही होती है ..इन में अकसर गुटखे-पान मसाले वाले घाव परेशानी का कारण होते हैं। उसे समझाने की पूरी कोशिश की जाती है कि इस के स्थायी इलाज के लिए तुम्हें गुटखे-पान मसाले को हमेशा से ही थूक देना पड़ेगा..वरना इन ज़ख्मों की वजह से कुछ का कुछ बन जायेगा...फिर बिगड़ी बात बन भी नहीं पाएगी।

अचानक मुंह जल गया किसी का 
कुछ साल पहले की बात है एक महिला मेरे पास आई ..उस का तालू पूरी तरह से जला हुआ था...यह कोई पांच साल पहले की बात होगी..मैंने पूछा कि क्या कुछ गर्म खा लिया था..कहने लगी ...नहीं। थोड़ा और अच्छे से पूछने पर उसने बताया कि कल शाम को उस का बेटा पानी के बताशे लाया था..बस वही खाए थे...कुछ समय बाद ही यह सब हो गया...

समझ में आ गया...और उस के बाद भी ऐसे बहुत से केस आने लगे ..तालू के घाव ही नहीं, मुंह के अंदर अन्य ज़ख्म भी पानी के बताशों की वजह से दिख जाते हैं...रिसर्च करने पर यही पता चला कि आज कर ईमली-विमली महंगी है, लोग बताशे का पानी बताने के लिए भी सस्ता जुगाड़ इस्तेमाल करने लगे हैं..टार्टरिक एसिड...जैसे ही अनुमान गड़बड़ाया तो बस इस पानी से मुंह तो जलेगा ही।

अब पानी का बताशा ही नहीं खाया जाता
जब कोई गुटखा-पान मसाले खाने वाला आता है और उस के मुंह की हालत देख कर अगर उस से यह पूछा जाए कि पानी के बताशे खा लेते हो...तो बहुत बार यही जवाब मिलता है कि पहले तो खा लेते थे, अब मुंह इतना नहीं खुलता कि बताशा अंदर जा पाए...ऐसे मरीज़ों का मुंह देखने पर पता चलता है कि उन में अकसर सब-म्यूक्स-फाईब्रोसिस नाम की बीमारी हो चुकी होती है जो कि मुंह के कैंसर की पूर्वावस्था होती है .. (oral pre-cancerous lesion) ..इन्हें भी सब तरह के नुकसान दायक पदार्थों का सेवन बंद करने के लिए तो लंबा-चौड़ा सिर दुःखाने वाला लेक्चर तो देना ही होता है, साथ ही इस का पूरा इलाज भी किया जाना ज़रूरी होता है ..

इस अवस्था के बारे में आप इस लिंक पर जाकर अच्छे से पढ़ सकते हैं... मुंह का पूरा न खुलना एक भयंकर समस्या--ऐसे भी और वैसे भी। 

पानी के बताशों के नाम पर मैंने भी आप को कितना बोर कर दिया...कोई बात नहीं...आज कल पानी के बताशे खाने का अंदाज़ भी कुछ कुछ बदला हुआ है ...बचपन में दो मटके होते थे रेहड़ी पर लाल कपड़ा बंधा होता था..एक में खट्टा पानी और दूसरे में मीठा...मुझे हमेशा से मीठा पानी अच्छा लगता है....और साथ में एक पतीले में चने और उबले आलू हुआ करते थे ...देश के विभिन्न भागों में इन का नाम भी अलग अलग... बंबई में पानी पूरी...पंजाब हरियाणा दिल्ली में गोल गप्पे ...बस मुझे इतने ही नाम पता हैं...

गोल गप्पे घर लाकर खाने में मजा नहीं आता...ऐसा लगता है कि बंदा कोई एक्सपेरीमेंट कर रहा है..पहले उसे फोड़ो, फिर उस में मटर भरो, फिर पानी...अब तो कुछ दुकानों पर प्लेट में ये गोल गप्पे परोसे जाते हैं...कटोरी या गिलास में खट्टा-मीठा पानी..

पिछले साल से कुछ दुकानों में देख रहा हूं .अब मटकों की जगह इस तरह के डिस्पेन्सरों ने ले ली है... और परोसने वाले ने इस तरह के पतले से दस्ताने पहने होते हैं...इस तरह के पतले तो ठीक लगते हैं..लेिकन एक जगह पर देखा कि उसने डाक्टरों वाले ग्लवज़ पहने हुए थे...अजीब सा लगा था उस दिन...कुछ दिन पहले मैंने इस लड़के की फोटो खींची तो कहने लगा ...व्हाट्सएप पर डालेंगे?...हंसने लगा। पता नहीं मेरे जैसे दिन में कितने लोग फोटो खींच के उसे परेशान कर देते होंगे!😊😊

ग्राहकों को बुलाने के लिए कुछ न कुछ नया करते रहना पड़ता है ...कुछ दुकाने अब बोर्ड लगाने लगी हैं कि यहां पर आर-ओ का पानी इस्तेमाल होता है ...

पानी के बताशों से याद आया ...कुछ िदन पहले मेरे पास पांच दस मिनट का फ्री टाईम था...मुझे और कुछ करने को दिखा नहीं... मैंने सामने पानी बताशे की दुकान में २० रूपये का टोकन लिया...खाने लगा ...मैंने सोचा था ..पांच छः होंगे..लेिकन उस दिन मैंने १०-१२ बताशे खाए बहुत दिनों बाद...तबीयत खराब रही अगली दिन भी ..अब इन सब की इतनी संख्या में खाने की आदत नहीं रही...


वैसे आलू की टिक्की भी अच्छी लगती है ..लेकिन जो पुदीने की चटनी, और पतला प्याज और मीठी चटनी आज से ४० साल पहले मेले में खाया करते थे ...उस का ज़ायका तो अब नाक में ही है ...एक बात अच्छी यह है कि अब बहुत सी जगहों पर कुल्फी की तरह आलू की टिक्की भी इस तरह की मिट्टी की प्लेटों में परोसी जाने लगी है ...

अब इस बात को यहीं विराम देते हैं... फिल्म की बात करते हैं...शाम से ज़ी-क्लासिक चैनल पर कर्मा फिल्म आ रही है ..तीस साल पहले शायद कहीं वी सी आर पर देखी होगी...पॉयरेटेड वीसीडी से ...उस के बाद शायद कभी कभी टीवी पर थोडी बहुत...आज फिर से इसे देख रहा हूं और हैरान हूं कि सभी कलाकारों ने इतना बढ़िया काम किया है ...


 Tags.. #पानीकेबताशे #गोलगप्पे #पानीपूरी #ओरलसबम्यूक्सफाईब्रोसिस #गुटखापानमसाला 

Monday, April 18, 2016

बिन पानी सब सून...

बचपन में सातवीं आठवीं कक्षा तक हम लोग पैदल ही स्कूल आते जाते थे...पंद्रह बीस मिनट का रास्ता था..कोई शाबाशी वाली बात भी नहीं और ना ही कोई शर्म महसूस करने वाली बात है..क्योंकि उस दौर में अधिकतर बच्चे ऐसे ही जाते थे...आज के कुछ बच्चे घर के सामने मोड़ से स्कूल की ए.सी बस पकड़ते हैं लेकिन उन का बस्ता उठाने के लिए घर का रामू साथ चलता है..किधर पानी पर कुछ लिखने लगा हूं और किधर चला जा रहा हूं..

हम लोग जब स्कूल से घर की तरफ़ लौट रहे होते थे तो हमें आधे रास्ते में एक प्याऊ का इंतज़ार रहता था...हमारे देखते देखते ही बना था..लेकिन वहां पर एक बहुत बुज़ुर्ग पानी िपलाया करता था...हर समय...एक बार और भी लिखने योग्य है कि बचपन में बच्चे तो खुद फकीर हुआ करते हैं...यही बीस, पच्चीस, पचास पैसे टोटल हुआ करते थे सुबह स्कूल जाते समय, लेकिन इतनी अकल तो ज़रूर थी कि अकसर उस प्याऊ पर पानी पीने के बाद गिलासों के पास अकसर पांच या दस पैसे अकसर चुपचाप रख दिया करते थे...यह बात आज भी बड़ा सुकून देती है...उसी प्याऊ के आसपास ही एक दो भुट्टा बेचने वाले और एक बैल को घुमा कर गन्ने का रस बेचने वाला हुआ करता था...जैसे पैसे जेब में होते वैसे ही कुछ न कुछ ले लिया करते थे...

हमारी तीन चार लड़कों की यही ब्रेक-जर्नी हुआ करती थी...उस के बाद हमारी अगली यात्रा शुरू हुआ करती थी..इत्मीनान से ...यहां तक सिर पर चढ़ाने के लिए हमारे पास टोपियां तक नहीं होती थीं...शायद बाज़ार में मिलती ही नहीं थीं...मां रोज़ाना कहती कि सिर पर गीला रूमाल या छोटा तोलिया रख कर चला करो...लेिकन इतने समझदार हम कब से होने लगे!...उस बात को एक कान से डाल कर दूसरे से निकाल दिया करते! वैसे तो एक काला चश्मा दिला दिया गया था लेिकन उसे लगाने में शर्म महसूस होती थी ....पता नहीं क्यों, लेकिन कभी इस काले चश्मे का शौक भी तबीयत से पूरा हो ही नहीं पाया...अब कसर निकाल रहा हूं शायद, काला चश्मा नज़र वाले नंबर का बनवा लिया है ...

अच्छा हो गई भूमिका...

हां, तो पीने वाले पानी की बात कर रहा था...यह लखनऊ की ही बात नहीं है, सब जगह ही लगभग एक जैसे हालात हैं...पिछले साल मैं एक दिन यहां के एक बाज़ार में टहल रहा था तो मैंने देखा कि एक दुकानदार ने सौ पचास पानी के छोटे छोटे पाउच भी रखे हुए थे..एक एक दो दो रूपये में बिक रहे थे..

कुछ दिन पहले एक चौराहे पर खस्ता कचौड़ी खाते हुए यह देखा कि अगर किसी ने पानी पीना है तो उसे पानी के पाउच के अलग से चुकाने होंगे...


पानी का पाउच कल्चर अब आम सी बात हो गई है ...आज शाम एक बिज़ी चौराहे पर इस पानी बेचने वाले को देखा..दो दो रूपये में ठंडे पानी की थैलियां बेच रहा था...कोई बात नहीं, मेहनत कर के थोड़ी बहुत कमाई कर रहा है बंदा, और वैसे भी सस्ते में आने जाने वालों को एक सुविधा मिली हुई है...ध्यान दीजिए कि पानी के पाउच वे वाले नहीं जो मैं और आप आज कल ब्याह शादियों में पीते हैं...वे सील होते हैं...लेकिन यह पानी एक साधारण सी पतली पन्नी में बिकता है, उसे रोकने के लिए ऊपर धागा लपेटा होता है ...पीने के लिए यहां एक प्रथा है, धागा कोई नहीं खोलता, पन्नी के निचले हिस्सो को थोड़ा फाड़ कर मुहं से लगा लिया जाता है.. 😎😎
यह भी इतिहास के पन्नों में दर्ज हो ही जाए कि देश में २०१६ में पानी का एक पाउच दो रूपये में बिकता था...
कुछ और ज्यादा िलखने को मन नहीं कर रहा ...सारी दुनिया सुबह से लेकर शाम तक ज्ञान बांटने की होड़ में लगी हुई है, मैं भी...अपने आप को दूसरे से श्रेष्ठ बताने, दिखने, कहने में कोई कोर-कसर नहीं रखी जाती ... है कि नहीं।

बचपन के उन सुखद दिनों का असर कहूं या कुछ कहूं....मुझे भी किसी प्याऊ पर बैठ कर पानी पिलाने का बहुत मन करता है ...अब सोचने वाली बात है कि मुझे रोक कौन रहा है!....बहुत बार लगता है कि ये सब काम करने हैं ज़रूर...किसी दिखावे के लिए नहीं, न ही किसी से वाहवाही लूटने के लिए....इसी बात से तो नफ़रत है, बस तन-मन-धन से इस के बारे में कुछ करने की तमन्ना है।

मुझे बहुत बार लगता है कि जितनी भे ये धार्मिक, अध्यात्मिक संगठन होते हैं किसी भी शहर में इन के पास पब्लिक की गाढ़ी कमाई का बहुत सा पैसा होता है ..और इन्होंने जगहें भी शहर के व्यस्त इलाकों में ले रखी होती हैं, क्या यें इस तरह के ठंड़े पानी के प्याऊ नियमित नहीं चला सकते...कुछ चलाते तो हैं, लेिकन बड़ी खस्ता हालत में दिखते हैं ये प्याऊ...

क्या लिखूं और इस के बारे में ....अचानक दो चार पहले सिंधी नववर्ष वाले दिन एक प्रोग्राम में गया हुआ था..राज्यपाल राम नाईक सिंधी समाज की प्रशंसा करते हुए यह कह रहे थे कि इस की यह खासियत है कि ये जहां जाते हैं वहीं के माहौल में घुल मिल जाते हैं ...उन्होंने कहा जिस तरह से पानी का कोई रंग नहीं होता...लेकिन जिस में मिला दो लगे उस जैसा...

वैसे यह शोर फिल्म का गीत भी उसी दौर का ही है ..जब हम लोग ९-१० की आयु के थे...१९७२ के जमाने में....

जाते जाते सोशल मीडिया की ताकत का अंदाजा लगा लें कि अाज मेरे कितने ही व्हाट्सएप ग्रुप पर कितने ही लोगों ने दिलीप कुमार को अल्ला को प्यारा हुआ बता दिया ...फिर कुछ लोगों ने तुरंत उन्हें जिंदा कर दिया..यह सिलसिला सारा दिन चलता रहा 😄.......ईश्वर, अल्लाह, गॉड इस महान हस्ती को उम्रदारज़ करे...आमीन!


Monday, August 18, 2014

मुन्ना भाई फसाई..

मुन्ना भाई फसाई...... मुझे भी आज की टाइम्स ऑफ इंडिया के संपादकीय पन्ने पर यह शीर्षक देख कर थोड़ी हैरानी तो हुई। साथ में ही यह भी लिखा था........मुन्ना भाई फसाई-- जिसे बिरयानी में पंक्षियों की बीट तो पसंद है लेकिन स्विस चाकलेट नापसंद है।
Munna Bhai FaSSAI (Times of India, 18Aug 2014)

दो मिनट उस कॉलम को पढ़ने के बाद बात समझ में आने लगी कि यहां तो भारतीय खाध्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (Food Safety and Standards Authority of India) ...FSSAI....नामक संस्था की बात की जा रही है।
पढ़ते पढ़ते मुझे ध्यान आया कि पंद्रह दिन पहले मैंने भी तो इस संस्था के बारे में कुछ लिखा था......खाद्य पदार्थों में मिलावट की जांच के लिए। 

लिखा तो था मैंने कईं बार इस के बारे में लेकिन मुझे यह बिल्कुल ध्यान नहीं रहता कि लिखा क्या था, अच्छा लिखा था, कहने का मतलब उस के बारे में अच्छा अच्छा लिखा था कि नहीं, यह नहीं याद अब। इसीलिए लिंक ऊपर दे दिया है। वैसे भी जैसे हलवाई अपनी तैयार की हुई मिठाई खाने से परहेज करता है, मैं भी वैसा ही हूं अपने लेख पढ़ने से कतराता ही हूं। कारण आप को बताने की ज़रूरत नहीं।

बहरहाल, जिस तरह से हिंदोस्तान के हर बाज़ार में रेहड़ी, छाबों, फुटपाथों पर खाने पीने की चीज़ें बिकती हैं, कईं बार यही लगता है कि यार इन को आखिर कौन कंट्रोल कर रहा है। बस, इतना ज़रूर सुनते हैं कि जब ज़्यााद गर्मी पड़ती है तो गन्ने का रस बेचने वालों की ऐसी की तैसी हो जाती है, दीवाली या अन्य बड़े त्योहारों के आसपास हलवाईयों की ......या कभी कभी पके फल बेचने वालों पर सेहत विभाग का नजला गिर जाता है। इस के अलावा कभी कभी इधर उधर से घी, मावा, तेल, बेसन आदि के सैंपल तो भरे जाते हैं लेकिन उन में से कितनों को कैद हुई, यह मेरे बताने की ज़रूरत नहीं, आप सभी आंकड़ों से परिचित हैं।

कईं बार होता है मैं बाज़ार में किसी समोसा-कचौड़ी-जलेबी की दुकान पर रूकता हूं........फिर जब हर पीस पर बीसियों मक्खियां भिनभिनाते देखता हूं तो बिना कुछ खरीदे ही वहां से निकल लेता हूं। यह पिछले कुछ महीनों में कईं बार हो चुका है।

यह क्या यह तो मैं अपनी ही रिपोर्ट तैयार करने लग गया। नहीं, नहीं, ऐसी बात नहीं है ...टाइम्स आफ इंडिया के इस कॉलम में भी यही बताया गया है कि देश में हर जगह स्ट्रीट फूड बिक रहा है, हम जितनी मरजी ढींगे मार लें, लेकिन इन विक्रेताओं की क्वालिटी कंट्रोल पर कितना नियंत्रण है, यह भी जगजाहिर है। फिर भी यह सब धड़ल्ले से बिकता रहता है, लोग बार बार बीमार, बहुत बीमार होते रहते है।

टाइम्स आफ इंडिया का यह कॉलम मैंने पढ़ा तो है, लेकिन मेरी इंगलिश इतनी अच्छी नहीं है कि मैं सब कुछ अच्छे से समझ लूं। पर जो मैं बात अच्छे से समझ गया हूं यह जो संस्था है फसाई इसे देश की इस तरह के खुले में, धूल मिट्टी में तर-बतर खाद्य पदार्थों की तरफ़ तो देखने की इतनी फुर्सत नहीं है लेकिन बाहर से जो आयात की गई खाने-पीने की वस्तुएं आती हैं .... करोड़ों-अरबों का माल विभिन्न बंदरगाहों पर रूका रहता है क्योंकि इस फसाई संस्था द्वारा कोई न कोई आपत्ति लगी होती है।

"FSSAI was given the mandate to make eating safer. But it is for a reason that trade calls it FaSSAI, HIndi for 'trapped'! "... (from the column) 
और फसाई के साथ मुन्ना भाई लगने का अभिप्राय तो आप जानते ही हैं।

कॉलम में लिखा है किस तरह से इस कार्यालय के अंदर आयात किये जाने वाले खाद्य पदार्थों पर नियंत्रण पर मंथन होता है और उसी दफ्तर के बाहर कुलचे-छोले बेचने वाले से उसी दफ्तर में काम करने वाला बाबू लंच के समय वहीं पर यह सब खाता है और बार बार साथ में हरी मिर्च की फरमाईश करता है।

अच्छा लगा यह कॉलम देख कर, बहुत कुछ सोचने पर मजबूर करता दिखता है।

लगता है आप का ज़ायका तो खराब हो गया यह पढ़ कर......यह बात तो ठीक नहीं है, आज कृष्ण जन्माष्टमी है......शुभ दिन है, ज़ायका अभी ठीक किए देते हैं...... अभी अभी अनूप जलोटा जी के एक कार्यक्रम से लौटा हूं.....एक घंटे से भी ज़्यादा उन्हें लाइव सुनने का सौभाग्य मिला आज .......एक बहुत ही अच्छा अनुभव रहा.....उन के सभी सुप्रसिद्ध भजन सुन कर मज़ा आ गया..........कभी कभी भगवन को भी भक्तों से काम पड़े......

Friday, August 15, 2014

ज़्यादा नमक का सेवन कितना खतरनाक है....

इस का जवाब आज की टाइम्स ऑफ इंडिया के पहले पन्ने पर मिलेगा कि ज़्यादा नमक के सेवन से हर वर्ष कितने लाखों लोग अपनी जान गंवा रहे हैं.....ज़्यादा नमक खाने का मतलब सीधा सीधा -- उच्च रक्त चाप (हाई ब्लड-प्रेशर) और साथ में होने वाले हृदय रोग। आप इस लिंक पर उस न्यूज़-रिपोर्ट को देख सकते हैं......बड़ी विश्वसनीय रिपोर्ट जान पड़ रही है.....अब इस रिपोर्ट के पीछे तो किसी का कोई वेस्टेड इंट्रस्ट नज़र नहीं ना आ रहा, लेकिन हम मानें तो....
 1.7 million deaths due to too much salt in diet

 भारत में तो लोग और भी ज़्यादा ज़्यादा नमक खाने के शौकीन हैं.... आप इस रिपोर्ट में भी देख सकते हैं। यह कोई हैरान करने वाली बात नहीं है..क्योंकि जिस तरह से सुबह सवेरे पारंपरिक जंक फूड--समोसे, कचोरियां, भजिया.... यह सब कुछ सुबह से ही बिकने लगता है..... और जिस तरह से वेस्टर्न जंक फूड--बर्गर, पिज्जा, नूड्लस.... और भी पता नहीं क्या क्या.......आज का युवा इन सब का आदि होता जा रहा है, इस में कोई शक नहीं कि २० वर्ष की उम्र में भी युवा  मोटापे और हाई-ब्लड-प्रैशर का शिकार हुए जा रहे हैं.

दरअसल हम लोग कभी इस तरफ़ ध्यान ही नहीं देते कि इस तरह का सारा खाना किस तरह से नमक से लैस होता है, जी हां, खराब तरह के फैट्स (वसा) आदि के साथ साथ नमक की भरमार होती है इन सब से। और किस तरह से बिस्कुट, तरह तरह की नमकीन आदि में भी सोडियम इतनी अधिक मात्रा में पाया जाता है और हम लोग कितने शौकीन हैं इन सब के.....यह चौंकाने वाली बात है। आचार, चटनियां भी नमक से लैस होती हैं। और कितने दर्ज़जों तरह के आचार हम खाते रहते हैं। ज़रूरत है कि हम अभी भी संभल लें.......वरना बहुत देर हो जाएगी।

और एक बात यह जो आज के युवा बड़े बड़े मालों से प्रोसैसड फूड उठा कर ले आते हैं....रेडीमेड दालें, रेडीमेड सब्जियां, पनीर ...और भी बहुत कुछ मिलता है ऐसा ही, मुझे तो नाम भी नहीं आते.....ये सब पदार्थ नमक से लबालब लैस होते हैं।

मैं अकसर अपने मरीज़ों को कहता हूं कि घर में जो टेबल पर नमकदानी होती है वह तो होनी ही नहीं चाहिए...अगर रखी होती है तो कोई दही में डालने लगता है, कोई सब्जी में, कोई ज्यूस में....... नमक जितना बस दाल-साग-सब्जी में पढ़ कर आता है, वही हमारे लिए पर्याप्त है। और अगर किसी को हाई ब्लड-प्रैशर है तो उसे तो उस दाल-साग-सब्जी वाली नमक को भी कम करने की सलाह दी जाती है।

मुझे अभी अभी लगा कि यह नमक वाला पाठ तो मैं इस मीडिया डाक्टर वाली क्लास में आप सब के साथ मिल बैठ कर पहले भी डिस्कस कर चुका हूं.......कहीं वही बातें तो दोहरा नहीं रहा, इसलिए मैंने मीडिया डाक्टर ब्लाग पर दाईं तरफ़ के सर्च आप्शन में देवनागरी में नमक लिखा तो मेरे लिए ये लेख प्रकट हो गये......यकीन मानिए, इन में लिखी एक एक बात पर आप यकीन कर सकतें......बिना किसी संदेह के.......

मीडिया डाक्टर: केवल नमक ही तो नहीं है नमकीन ! (जनवरी १५ २००८)
मीडिया डाक्टर: एक ग्राम कम नमक से हो सकती है ... सितंबर २६ २००९
मीडिया डाक्टर: नमक के बारे में सोचने का समय ...(मार्च २९ २००९)
आखिर हम लोग नमक क्यों कम नहीं कर पाते (जून १६ २०१०)
श्रृंखला ---कैसे रहेंगे गुर्दे एक दम फिट (अक्टूबर ४ , २००८)
आज एक पुराने पाठ को ही दोहरा लेते हैं (जनवरी २९ २००९)
मीडिया डाक्टर: श्रृंखला ---कैसे रहेंगे ... (अक्टूबर १ २००८)

सर्च रिजल्ट में तो बहुत से और भी परिणाम आए हैं ..जिन में भी नमक शब्द का इस्तेमाल किया गया था।  मेरे विचार में आज के लिए इतने ही काफ़ी हैं।

आज इस विषय पर लिख कर यह लगा कि इस तरह के पाठ बार बार मीडिया डाक्टर चौपाल पर बैठ कर दोहराते रहना चाहिए......अगर किसी ने भी आज से नमक कम खाना शुरू कर दिया तो जो थोड़ी सी मैंने मेहनत की, वह सफल हो गई। मेरे ऊपर भी इस लिखे का असर हुआ.....मैं अभी अभी जब दाल वाली रोटी (बिना तली हुई).. खाने लगा तो मेरे हाथ आम के आचार की शीशी की तरफ़ बढ़ते बढ़ते रूक गये। ऐसे ही छोटे से छोटे प्रयास करते रहना चाहिए।

यह पाठ तो हम ने दोहरा लिया, आप अपनी कापियां-किताबें बंद कर सकते हैं .....और आज स्वतंत्रता दिवस के मौके पर एक दूसरा पाठ भी दोहराने की ज़रूरत है......मैं तो इसे अकसर दोहरा लेता हूं.....आप भी सुनिए यह लाजवाब संदेश...

Tuesday, August 12, 2014

बिना काटे आम खाना बीमारी मोल लेने जैसा

फिर चाहे वह लखनऊवा हो, सफ़ेदा हो या दशहरी ....किसी भी आम को बिना काटे खाने का मतलब है बीमार होना। अभी आप को इस का प्रमाण दे रहा हूं।

मुझे वैसे तो आमों की विभिन्न किस्मों का विशेष ज्ञान है नहीं लेकिन यहां लखनऊ में रहते रहते अब थोड़ा होने लगा है। वैसे तो मैं भी कईं बार लिख चुका हूं कि आम को काट कर खाना चाहिए, उस के छिलके को मुंह से लगाना भी उचित नहीं लगता ---हमें पता ही नहीं कि ये लोग कौन कौन से कैमीकल इस्तेमाल कर के, किन किन घोलों में इन्हें भिगो कर रखने के बाद पकाये जाने पर हम तक पहुंचाते हैं......तभी तो बाहर से आम बिल्कुल सही और अंदर से बिल्कुल गला सड़ा निकल आता है।

मेरी श्रीमति जी मुझे हमेशा आम को बिना काट कर खाने से मना करती रहती हैं। और मैं बहुत बार तो बात मान लेता हूं लेकिन कभी कभी बिना वजह की जल्दबाजी में आम को चूसने लगता हूं। लेकिन बहुत बार ऐसा मूड खराब होता है कि क्या कहें.....यह दशहरी, चौसा, सफ़ेदा या लखनऊवा किसी भी किस्म का हो सकता है। सभी के साथ कुछ न कुछ भयानक अनुभव होते रहते हैं।

आज भी अभी रात्रि भोज के बाद मैं लखनऊवा आम चूसने लगा.......अब उस जैसे आम को लगता है कि क्या काटो, छोटा सा तो रहता है, लेकिन जैसे ही मैंने उस की गुठली बाहर निकाली, मैं दंग रह गया......वैसे इतना दंग होने की बात तो थी नहीं, कईं बार हो चुका है, हम ही ढीठ प्राणी हैं, वह अंदर से बिल्कुल सड़ा-गला था....अजीब सी दुर्गंध आ रही थी, तुरंत उसे फैंका।

काटे हुए लखनऊवे आम का अंदरूनी रूप 
अभी मुझे इडिएट-बॉक्स के सामने बैठे पांच मिनट ही हुए थे कि श्रीमति ने यह प्लेट मेरे सामने रखते हुए कहा...विशाल के बापू, आप को कितनी बार कहा है कि आम काट के खाया करो, यह देखो। मैं तो यार यह प्लेट देख कर ही डर गया। आप के लिए भी यह तस्वीर इधर टिका रहा हूं।

मेरी इच्छा हुई कि उसे उलट पलट कर देखूं तो कि बाहर से कैसा है, तो आप भी देखिए कि बाहर से यही आम कितना साफ़-सुथरा और आकर्षक लग रहा है। ऐसे में कोई भी धोखा खा कर इसे काटने की बजाए चूसने को उठा ले।

बाहर से ठीक ठाक दिखता ऊपर वाला लखनऊवा आम 
लेकिन पता नहीं आज कर चीज़ों को क्या हो गया है, कितनी बार इस तरह के सड़न-गलन सामने आने लगी है।

अब दाल में कंकड़  आ जाए, तो उसे हम थूक भी दें, अगर ऐसे आम को चूस लिया और गुठली निकालने पर पर्दाफाश हुआ तो उस का क्या फायदा, कमबख्त उल्टी भी न हो पाए.......अंदर गया सो गया। अब राम जी भला करेंगे।

पहले भी मैं कितनी बार सुझाव दे चुका हूं कि आम की फांकें काट कर चमच से खा लेना ठीक है।

वैसे श्रीमति जो को आम इस तरह से खाना पसंद है.........अब मुझे भी लगने लगा है कि यही तरीका या फिर काट कर चम्मच से खाना ही ठीक है, कम से कम पता तो लगता है कि खा क्या रहे हैं, वरना तो पता ही नहीं चलता कि पेट में क्या चला गया। फिर अब पछताए क्या होत.......वाली बात।

आम खाने का एक साफ़-सुथरा तरीका 
दो दिन पहले ही मैं पढ़ रहा था कि किसी दूर देश में किस तरह से भुट्टे (मक्के) में किसी तरह की बीमारी को मानव जाति में किसी बीमारी से लिंक किया जा रहा है और वहां पर हड़कंप मचा हुआ है। उस जगह का ध्यान नहीं आ रहा, कभी ढूंढ कर लिंक लगाऊंगा।

यह पहली बार नहीं हुआ .....बहुत बार ऐसा हो चुका है, और बहुत से फलों के साथ ऐसा हो चुका है। मेरी श्रीमति जी मुझे हर एक फल को काट कर खाने की ही सलाह देती रहती हैं....... अमरूदों, सेबों के साथ भी ऐसे अनुभव हो चुके हैं.

मुझे बिल्कुल पके हुए पीले अमरूद बहुत पसंद हैं.......मैं उन्हें ऐसे ही बिना काटे खा जाया करता था, लेकिन मिसिज़ की आदत चाकू से काटने के बाद भी उस का गहन निरीक्षण करने के बाद ही कुछ खाती हैं या खाने को देती हैं।

ऐसी ही एक घटना पिछले साल की है .....उन्होंने मेरे सामने एक अमरूद काट कर रखा कि आप देखो इस में कितने छोटे छोटे कीड़े हैं, मैंने तुरंत कहा कि यह तो बिल्कुल साफ सुथरा है, इस में तो कीड़े हैं ही नहीं, लेकिन जब उन्होंने मुझे वह कीड़े दिखाए तो मैं स्तब्ध रह गया........मुझे अपनी गलती का अहसास हुआ कि मैं कितनी गलती करता रहा। वैसे मैंने अमरूद में मौजूद कीड़ों के खाए जाने पर होने वाले नुकसान के बारे में नेट पर बहुत ढूंढा लेकिन मुझे कुछ खास मिला नहीं, लेिकन बात फिर भी वही है कि मक्खी देख कर तो निगली नहीं जाती।

हां, मैंने उस अमरूद में मौजूद कीड़ों के चलने -फिरने की एक वीडियो ज़रूर बना ली और अपने यू-ट्यूब चैनल पर अपलोड कर दी, आप भी देखिए.........(और गल्ती से इसे पब्लिक करना भूल गया..)

लगता है आज से एक बार फिर संकल्प करना होगा कि बिना काटे केवल आम ही नहीं, कोई भी फल खाना ही नहीं,  यह बहुत बड़ी हिमाकत है.............आप भी सावधान रहियेगा।

मछली खाने का सलीका

अगर किसी रिपोर्ट का शीर्षक यह है ... Relearning how to eat Fish...... तो मेरी तरह आप को भी यही लगेगा कि शायद यहां मछली के खाने का कुछ विशेष सलीका बताया जा रहा होगा।

मैं झट से उस लिंक पर क्लिक कर के उधर पहुंच गया इस उम्मीद के साथ कि शायद इस में लिखा हो कि मछली खाते समय इस के कांटों से कैसे अपना बचाव करना है क्योंकि बचपन में जाड़े के दिनों में चंद बार जो भी मछली खाई उस का कभी भी मज़ा इसलिए नहीं आया कि ध्यान तो हर पल उधर ही अटका रहा कि कहीं हलक में कांटा-वांटा अटक न जाए...हर बार खाते समय बंगाली बंधुओं का ध्यान कि कैसे वे लोग मछली इतनी सहजता से खा लेते हैं और वह भी चावल के साथ........और हैरानी की बात सारे कांटे मुंह के अंदर ही अलग करते हैं और इक्ट्ठे होने पर बाहर फैंक देते हैं. मेरे को यह बात हमेशा अचंभित करती है।

हां, तो मैंने उस लिंक पर जाकर देखा कि वहां तो बातें ही बहुत ज़्यादा हाई-फाई हो रही हैं, न तो मेरी समझ में कुछ आया न ही मैंने कोशिश की...क्योंकि जितने नियंत्रण की, जिस तरह से मछली की श्रेणियों की बातें और जितनी एहतियात मछली खरीदने वक्त करने को कहा गया, मुझे वह सब बेमानी सा लगा.........क्योंकि यहां पर ऐसा कुछ भी कंट्रोल तो है नहीं, जो बिक रहा है, लेना हो तो लो, वरना चलते बनो।

अगर खाने का सलीका नहीं सिखाया जा रहा इस लिंक में तो मैंने लिंक क्यों टिका दिया........केवल इस कारण से कि अपने मछली खाने वाले बंधु न्यूयार्क टाइम्स की इस रिपोर्ट से कुछ तो जान लें, शायद कुछ काम ही आ जाए। 

Tuesday, October 29, 2013

सुपर मार्कीट की दही से याद आया...


किसी भी सुपर मार्कीट में तरह तरह के ब्रांडों की दही, लस्सी, श्रीखंड आदि को देख कर यही लगने लगता है कि आखिर ये देश को परोस क्या रहे हैं, बड़े दिनों से मैं इस के बारे में सोच रहा था…
चलिए आप के साथ बीते दिनों की कुछ यादें ताज़ा कर लेते हैं… १९७० के दशक में यही १९७३-७४ के साल रहे होंगे..डीएवी स्कूल हाथी गेट, अमृतसर, हम लोग यही पांचवीं छठी कक्षा में पढ़ते होंगे…हमारे स्वर्गीय अजीज उस्ताद ..मास्टर हरीश चंद्र जी …आधी छुट्टी से दो चार मिनट पहले हम में से किसी को एक पोली थमाते (२५ पैसे के सिक्के को पंजाबी में पोली ही कहते हैं..अब तो बंद हो चुका है वह सिक्का ही) –मधुर, सतनाम, राकेश, भट्ट या फिर किसी की भी — ड्यूटी लगा देते कि जाओ दही लाओ… हमेशा उन के स्टील के रोटी के डिब्बे में एक डिब्बा खाली रहता था ..जिस में वह ताज़ा दही मंगवाते थे। और मेरे नाना जी भी मास्टर ही तो थे, वे भी अकसर आते वक्त अपने साथ बाज़ार से ताज़ा दही लाते थे… उन का खाना भी एक दम फिक्स..दो गर्मागर्म ताज़ा चपाती, एक कटोरी ताज़ी दाल-सब्जी, एक कटोरी दही ………बस।

पुराने दिनों की याद दिलाता यह दही का बर्तन
वैसे भी हम लोग दही अकसर बाज़ार में मिट्टी के बड़े बड़े बर्तनों में ही बिकता देखा करते थे…ज़माना बहुत ही बढ़िया था, अन्य बीमारियों की तरह यह लालच रूपी कोढ़ का भी नामोनिशान न था, लोग इतने शातिर न थे, बेईमानी के तरीके शायद न जानते होंगे… इसलिए उस बाज़ार की दही को भी कभी कभी खाना मन को भाता था।
होस्टल में रहते हुए तो कईं बार नाश्ते में आधा किलो दही में बर्फ़ चीनी डलवा के खाने का आनंद आ जाता था, सब कुछ बढ़िया तरीके से पचा भी लेते थे।
फिर कुछ साल बाद ये बातें सुनने में आने लगीं कि दूध में मिलावट होने लगी है, बाज़ार में बिकने वाली दही में  ब्लाटिंग पेपर मिला रहता है, लेकिन पता नहीं मुझे इस का कभी यकीं न हुआ… फिर भी बाज़ार में बिकने वाले दही से दूरी बढ़ने सी  लगी। और अभी कुछ साल पहले से जब से इस सिंथेटिक दूध और इस से बनने वाले विभिन्न उत्पादों के बारे में सुना तो बाज़ार में बिकने वाले दही-पनीर से नफ़रत हो गई।
ब्लिक की इस ऩफ़रत को भुनाने के लिए सुपर मार्कीट शक्तियां पहले ही से तैयार बैठी थीं…. इतनी तरह के दही के ब्रांड, पनीर आदि देख कर हैरानगी होती है। मान लेते हैं कि शायद सुपर मार्कीट से उठा कर अपने शापिंग कार्ट में इन्हें डालने वालों के लिए इन की कीमत कुछ खास मतलब न रखती होगी, लेकिन मिल तो यह सब कुछ बहुत मंहगे दामों में ही रहा है।
मैं अकसर सोचता हूं कि घर में तो अकसर हम लोग एक दिन का दही अगले दिन नहीं खाते …नहीं खाते ना.. फ्रिज़ में रखने के बावजूद वह खट्टी सी लगने लगती है। लेकिन ये सुपर मार्कीट में बिकने वाली दही में ऐसा क्या सुपर रहता होगा कि यह पंद्रह दिन तक खराब न होती होगी। ज़ाहिर सी बात है कि इन उत्पादों की इस तरह की प्रोसैसिंग होती होगी, इन में कुछ इस तरह के प्रिज़र्वेटिव डले रहते होंगे जो इन्हें १५ दिन तक ठीक ऱख सकते हों। लिखते लिखते ध्यान आ गया कि यह विषय शोध के लिए ठीक है, करते हैं इस पर कुछ। और जितना जितना ज़्यादा प्रोसैसेड फूड हमारे जीवन में आ रहा है, उस के सेहत पर प्रभाव हम देख ही रहे हैं। 
पहले तो सुपर मार्कीट में यह देख कर ही सिर चकराने लगता है कि यार दही की भी क्या एक्सपॉयरी डेट होती है क्या। दही तो बस वही है जो जमे और सभी उस का उसी दिन आनंद ले लें। लिखते लिखते ध्यान आ गया, एक रिश्तेदार का जो दही का इतना शौकीन कि दही जमने की इंतज़ार में कईं बार ऑफिस से लेट हो जाया करता था।  और हां, ये सुपर मार्कीट वाले एक्सपॉयरी डेट वाले दिन से दो तीन दिन पहले उसे आधी कीमत पर बेचने लगते हैं। इस के बारे में मैं क्या कहूं, आप समझ सकते हैं ऐसा दही किस श्रेणी में आता होगा।
अभी उस दिन की ही बात है…मैंने देखा कि मेरे साथ खड़े एक अजनबी ने जब सुपर मार्कीट से दही का डिब्बा उठाया तो मेरे से रहा नहीं गया, मैंने कह ही दिया, आप थोड़ा फ्रेश डेट का लें… मेरी बात सुन कर वह कहने लगा ….अभी तो एक्सपॉयरी को दो दिन हैं, वैसे भी आधा रेट में मिल रहा है।

इस पीढ़ी ने तो कभी जिम ने जाकर कॉर्डियो न किए………
मेरे विचार में अगर आप के पास कोई घरेलू विक्लप नहीं है तो ही आप को इस तरह के प्राड्क्ट्स इन सुपर मार्कीट में जा कर खरीदने चाहिए….जैसा कि मेरे साथ हुआ, घर से बाहर था कुछ दिन, दही वही खा नहीं पाया, पेट  कुछ ठीक सा न था, इसलिए वहां से लेकर दही कुछ दिन खाया तो ….लेकिन कमबख्त दही ऐसा जैसा कि कोई लेसदार दवाई खा रहा हूं… फिर भी पेट तो ठीक हो ही गया…….मेरा कहने का भाव यही है कि कभी कभी एमरजैंसी के लिए इस तरह का दही-पनीर लेना तो ठीक है, लेकिन निरंतर लगातार इस तरह के प्रोडक्ट्स खरीदने में और विशेषकर अगर आप के पास घरेलू विकल्प हैं तो बात मेरे तो समझ में नहीं आती…….सोचते सोचते दिमाग की ही दही होने लगती है। पंद्रह पंद्रह दिन ठीक रहने वाले दही…………यह क्या बात है, इस पर शोध होना चाहिए। मेरी समझ तो मुझे कहती है कि इसे तो बस एक दवाई की ही तरह से ले सकते हैं.
और हां ध्यान आ गया, इन सुपर मार्कीट शेल्फों पर आजकल प्रो-बॉयोटिक की छोटी छोटी शीशियां भी तो बिकने लगी हैं, दस दस रूपये की …जस्ट शार्ट-कट–जो दही खाने की तकलीफ़ न उठाना चाहते हों बस एक अदद शीशी पी लें तो हो गया उन का लैक्टोबैसीलाई का कोटा पूरा…………जिस तरह से बंबई में टाइम्स ऑफ इंडिया के साथ साथ उस का एक शार्टकट संस्करण भी बिकता है ..जिस पर बीस मिनट लिखा रहता है… उन के लिए जो बेवजह के विज्ञापन को पढ़ कर सिर को दुखाना न चाहते हों..
दुनिया बहुत बदल रही है, शायद इतनी तेज़ी की तो ज़रूरत ही नहीं है, सोचने वाली बात है कि इतनी तेज़ तर्रारी में मुनाफ़ा किस का और नुकसान किसका……….मुनाफ़ा केवल सुपरमार्कीट वालों का……और नुकसान हम सब उपभोक्ताओं का —पैसे का भी, सेहत का भी……..आप क्या सोचते हैं इस के बारे में?

Monday, June 27, 2011

आम के आम .... रोगों के दाम !

यह तो लगभग अब सारी जनता जानती है कि फलों को पकाने के लिये तरह तरह के हानिकारक मसालों का इस्तेमाल होता है....लेकिन हरेक यही सोच कर आम चूसने में लगा है कि क्या फर्क पड़ता है, सारी दुनिया के साथ ही है, जो सब का होगा, अपना भी हो जाएगा, कौन अब इन मसालों-वालों के पचड़े में पड़े।

कुछ समय तक मेरी भी सोच कुछ ऐसी ही हुआ करती थी ...पिछले आठ-दस वर्षों से ही सुनते आ रहे हैं कि फलों को जल्दी पकाने के लिये कैल्शीयम कार्बाइड (calcium carbide) नामक साल्ट इस्तेमाल किया जाता है। और कईं बार आप सब ने भी नोटिस तो किया ही होगा कि फलों पर राख जैसे पावडर के कुछ अंश दिखते हैं, यही यह कैल्शीयम कार्बाइड होता है।

कुछ साल पहले जब यह मसालों वालों का पता चला तो कुछ पढ़े-लिखे लोगों ने फलों की धुलाई अच्छे से करनी शुरू कर दी ....तीन-चार साल हो गये हैं मेरे पास इस मौसम में कुछ मरीज़ ऐसे आने लगे जिन के मुंह में अजीब सी सूजन, छाले, घाव .....जिन का कारण ढूंढना मेरे लिये मुश्किल हो रहा था.... बिल्कुल कैमीकल से जलने जैसी स्थिति (chemical burn) ....और लगभग सभी केसों में आम चूसने की बात का पता चलता। मैं अपने मरीज़ों को तो आम के छिलके को मुंह लगाने से मना करता ही रहा हूं ....और मैंने भी दो-तीन साल से चम्मच से ही आम खाना शुरू कर दिया। लेकिन अब चार-पांच दिन से आम खाने की इच्छा नहीं हो रही --- कारण अभी बताऊंगा।

लगभग एक सप्ताह पहले की बात है ... इंगलिश की अखबार में --- The Hindu/ The Times of India में एक खबर दिखी की दिल्ली शासन ने आम को पकाने के लिये इस्तेमाल किये जाने वाले कैल्शीयम कार्बाइड पर प्रतिबंध लगा दिया है। प्रिंट मीडिया अपनी भूमिका बखूबी निभा रहा है ---बार बार अहम् बातें दोहरा कर हमें चेता रहा है। वह खबर ही ऐसी थी कि पढ़ कर बहुत अजीब सा लगा कि अगर देश की राजधानी में बिक रहे फलों के साथ यह सब हो रहा है तो हमारे शहर में कौन सा रत्नागिरी से फार्म-फ्रैश आम बिक रहे हैं।

पिछले कुछ दिनों से फलों को नकली ढंग से पकाने के तरीकों के लिये गूगल-सर्च कर रहा था। फिर calcium carbide लिख कर गूगल किया --- आप भी करिये- ज़्यादातर परिणाम अपने देश के ही पाएंगे की फलां जगह पर इस पर बैन हो गया है, फलां पर इस से पकाये इतने टन फलों को नष्ट कर दिया गया है। वैसे तो मैंने भारत की सरकारी संस्थाओं Indian Council of Medical Research एवं Health and family welfare ministry की वेबसाइट पर इस विषय के बारे में जानकारी ढूंढनी चाही लेकिन कुछ नहीं मिला।

जो जानकारी मुझे नेट पर मिली, उस में जितनी इस समय मुझे याद है, वह मैं आप सब से सांझी करना चाहता हूं। हां, तो जिस कैमीकल—कैल्शीयम कार्बाइड से पकाये आम या अन्य फल हम इतनी बेफिक्री से इस्तेमाल किये जा रहे हैं--- वह एक भयंकर कैमीकल है जिसे वैल्डिंग के वक्त इस्तेमाल किया जाता है। और बहुत सी जगहों पर इस को फलों को पकाने के लिये इस्तेमाल किये जाने पर प्रतिबंध है।

अगर आपने कभी देखा हो तो फलों के विक्रेता इस कैमीकल की पुड़िया फलों के बक्सों में रख देते हैं। यह कैमीकल सस्ते में मिल जाता है –50-60रूपये किलो में आसानी से इसे हासिल किया जा सकता है और एक किलो 50-60 किलो आम पकाने के लिये काफी होता है, ऐसा भी मैंने नेट पर ही पिछले दिनों पढ़ा है।

कैल्शीयम कार्बाइड जब नमी (जो कि कच्चे फलों में तो होती ही है) के संपर्क में आता है तो इथीलीन गैस (Ethylene gas) निकलती है, जो फलों को पकाने का काम करती है। और इस क्रिया के दौरान आरसैनिक एवं फॉसफोरस जैसे कैमीकल भी निकलते हैं जो कि हमारे शरीर के प्रमुख अंगों पर बहुत बुरा प्रभाव डालते हैं। यहां तक की गुरदे फेल, कैंसर, पेट के अल्सर, सिरदर्द, दस्त आदि तक के खतरे गिनाये गये हैं।

मुझे यही लगता है कि कोई मीटर तो लगा नहीं हुआ हमारे शरीर में यह दर्शाता रहे कि इस ने इतने आम खाये हैं और इतना आरसैनिक या फॉसफोरस इस के शरीर में प्रवेश कर चुका है ....या कोई ऐसा मीटर जो यह बता सके कि इस ने गलत विधि से तैयार किये गये इतने फल खाए इसलिये इस के गुर्दे बैठ गये हैं......डाक्टर लोग भी क्या सकें....उन को भी निश्चिता से कहां चल पाता है कि कैंसर का, गुर्दे फेल होने का या अन्य तरह तरह के भयंकर रोगों की किसी व्यक्ति में जड़ आखिर है कहां ?

बस इसी अज्ञानता की वजह से इस तरह का गोरख-धंधा करने वाले का काम चलता रहता है। किसी जगह पर शायद मैंने यह भी पढ़ा है कि Prevention of Food Adulteration Act (PFA Act) के अंतर्गत भी कैल्शीयम कार्बाइड के इस्तेमाल पर पाबंदी है लेकिन फिर भी हो क्या रहा है, हम चैनलों पर देखते हैं, प्रिंट मीडिया में पढ़ते रहते हैं। पता नहीं क्यों इस तरह का धंधा करने वालों को आम आदमी की सेहत के साथ इतना बड़ा खिलवाड़ करने में ज़रा भी तरस नहीं आता !

मैं कहीं यह पढ़ रहा था कि प्राकृतिक ढंग से तैयार हुये आम  तो जून के अंत से पहले  मार्कीट में आ ही नहीं सकते ..लेकिन इतने बढ़िया कलर के रंगों वाले आम  मई में इन कैमीकल्स की कृपा से ही आने लगते हैं। और एक जगह पढ़ा कि जो आम बिल्कुल एक जैसे पके, बढ़िया कलर के चमकते हुये दिखें वे तो शर्तिया तौर पर इस मसाले से ही पकाये होते हैं। अकसर आपने नोटिस किया होगा कि बाहर से कुछ आम इतने खूबसूरत और अंदर से सड़ा निकलता है या तो स्वाद बिलकुल बकबका सा मिलता है।नेट पर सर्च करने पर आप पाएंगे कि इस तरह से पके आमों की निशानियां भी बताई गई हैं।

स्वाद बकबका निकले या एक-दो आम खराब निकलें बात उस की भी नहीं है, असली मुद्दा है कि हम इन फलों के नाम पर किस तरह से हानिकारक तत्व अपने अंदर इक्ट्ठा किये जा रहे हैं..... और पपीता, केले आदि को भी इन्हीं ढंगों से पकाने की बातें पढ़ने को मिलीं। एक जगह यह भी पढ़ा कि कैल्शीयम कार्बाइड का घोल तैयार किया जाता है और किसी जगह पर यह दिखा कि फलों में इस का इंजैक्शन तक लगाया जाता है – लेकिन इस बात की कोई पुष्टि हुई नहीं .... न ही यह बात मुझे ही हजम हुई .... अब पता नहीं वास्तविकता क्या है, वैसे अगर इस तरह की कैमीकल की पुड़िया के जुगाड़ से ही फल-विक्रेताओं का काम चल रहा है तो वे क्यों इन टीकों-वीकों के चक्कर में पड़ते होंगे। लेकिन इन के गोदामों में क्या क्या चल रहा है, ये तो यही जानें या मीडिया वाले ही हम तक पहुंचा सकते हैं।

जो भी हो, इतना तो तय है कि इस कैमीकल के इस्तेमाल से आरसैनिक एवं फॉसफोरस जैसे हानिकारक पदार्ध निकलते हैं....अब कोई यह समझे की हमने फल धो लिये, छिलके को मुंह नहीं लगाया, काट के चम्मच से खाया .....इस से क्या फल के अंदर जो इन कैमीकल्स से प्रभाव हुआ वह खत्म हो जाएगा, आप को भी लगता है ना कि यह नहीं हो सकता, कुछ न कुछ तत्व तो अंदर धंसे रह ही जाते होंगे।

केला का ध्यान आ रहा है, आज से बीस-तीस साल पहले प्राकृतिक तौर पर पके हुये केले का स्वाद, उस की मिठास ही अलग हुआ करती थी ...और आज केला छील लेने पर जब उसे चखा जाता है तो लगता है कोई गलती कर दी, उसे फैंकने की इच्छा होती है लेकिन उस का रेट ध्यान में आते ही जैसे तैसे निगल लिया जाता है।

अभी अभी एक मित्र ने लिखा कि आखिर करें क्या, जो मिल रहा है बाज़ार में वही तो खाएंगे......मुझे लगता है कि अब हालात इतने खराब हो गये हैं कि या तो पब्लिक फल व्यापारियों पर दबाव बनाए, सरकार दबाव बनाए, पीएफए एक्ट (Prevention of Food Adulteration Act ) के अंतर्गत कड़ी कार्यवाही हो ताकि हम तक सही वस्तुएं पहुंचे।

लेकिन दिल्ली दूर ही लगती है अभी तो....इसलिये मैंने तो पिछले चार पांच दिनों से आम खाना बंद कर दिया है, फिलहाल तो मुझे यही करना आसान लगा , वैसे भी पता नहीं पहले से कितने कैमीकल खा चुके हैं.........पता नहीं कितने दिन आमों से दूर रह पाऊंगा लेकिन अभी तो बंद ही हैं, लेकिन आप  मेरे लिखे ऊपर मत जाइये, स्वयं calcium carbide लिख कर गूगल करिये, फिर सोच विचार कर कोई निर्णय लीजिए।

Sunday, March 13, 2011

प्रो-बॉयोटिक्स ड्रिंक्स में ऐसा क्या है जो दही में नहीं !

आज शाम को मैं एक शापिंग माल गया हुआ था...वहां मैंने देखा कि एक खूब लंबी शेल्फ प्रो-बॉयोटिक की छोटी छोटी बोतलों से सजी पड़ी थी। मैंने देखा कि यह 65 मि.ली की पांच बोतलों के पैक हैं....दस रूपये की एक बोतल और पांच बोतलें पचास रूपये की... खुली नहीं मिलती, पूरा पैकेट लेना ही होगा। ब्रांड का नाम तो चाहे कोई जापानी सा ही था लेकिन तैयार कहीं यहीं दिल्ली विल्ली के पास ही हुआ था .....वैसे भी उस पर Fermented Milk Drink लिखा हुआ था और साथ में प्रो-बॉयोटिक की प्रशंसा के पुल बांधे गये थे।

और यह भी लिखा गया था कि अच्छी सेहत के लिये इसे रोज़ाना इस्तेमाल किया करें ...एक्सपॉयरी तारीख तैयार होने के छःमहीने तक थी। मैं इसी सोच में पड़ गया कि यार, सुबह का दही तो इस देश में शाम को लोगों के हलक से नीचे नहीं उतरता कि यह खट्टा है, यह पुराना है, यह वो और यह वो ...... लेकिन अब जापानी नाम वाले ब्रांड हमें यह पतले दही जैसा पेय भी छः छः महीने पुराना खिला के छोड़ेंगे !!

बड़ी बड़ी अंतर्राष्ट्रीय कंपनियां इन प्रो-बॉयोटिक प्रोडक्ट्स की तारीफ़ों के जितने भी पुल बांध लें, लेकिन हिंदोस्तानी दही इन सब से कईं गुणा बेहतर है।

प्रो-बॉयोटिक ड्रिंक्स में कुछ ऐसे जीवाणु होते हैं जो हमारे पेट एवं आंतड़ियों के स्वास्थ्य के लिये बहुत लाभदायक होते हैं, इन्हें लैक्टोबैसिलाई (Lactobacilli) कहा जाता है, वैसे तो ये हमारे पाचन-तंत्र अर्थात् आंतड़ियों में हमेशा उपलब्ध रहते हैं और भोजन को पचाने में सहयोग देते हैं लेकिन कईं बार शरीर में कुछ रोगों की वजह से अथवा कुछ दवाईयों के कारण इस तरह के लाभदायक जीवाणु नष्ट हो जाते हैं जिस की वजह से इन्हें बाहर से दिया जाना होता है। अधिकतर केसों में इस तरह की कमी रोज़ाना दही का इस्तेमाल करने से पूरी हो जाती है लेकिन बहुत कम बार ऐसा भी होता है कि फिज़िशियन इस तरह के जीवाणुओं को कैप्सूल के रूप में भी चंद दिनों के लिये लेने की सलाह देते हैं....लेकिन यह बहुत कम ही होता है।

अकसर पेट-वेट खराब होने पर आप के फैमली डाक्टर भी आप को दही भात, खिचड़ी दही, दही केला आदि ही लेने की सलाह देते हैं, और लोग ये सब खाने से एक दम फिट हो जाते हैं।

ऐसे में इन प्रो-बॉयोटिक ड्रिंक्स के चक्कर में पड़ने से क्या होगा ! --- कुछ भी नहीं होगा, अगर आप रोज़ाना दही लेते हैं तो इन सब के चक्कर में पडने की कोई ज़रूरत है नहीं। और अगर दही वही नहीं लेते तो फिर उस कमी को पूरा करने के लिये बहुत से प्रयास करने पड़ सकते हैं।

इस प्रो-बॉयोटिक ड्रिंक पर यह तो लिखा ही गया था – fermented milk product .. फर्मैंट से मतलब वही जामन लगा कर खमीर करने वाली बात, और इस के लिये स्किमड् मिल्क (skimmed milk) के इस्तेमाल करने की बात की गई है --- जो भी हो, मुझे लगता है कि इस तरह के प्रोडक्ट्स साधारण दही का कहां मुकाबला कर पाते होंगे --- दही इतना संवेदनशील और सजीव कि तैयार होने के कुछ घंटों के बाद ही उस की प्रवृत्ति ही बदल जाती है लेकिन ये बाज़ारी प्रोडक्ट्स छः छः महीने तक ठीक रह सकते हैं, इन्हें तो पता नहीं कैसे हम लोग पचाएंगे, जबकि यह बात ही नहीं पच रही।

इसे छः छः महीने तक ठीक रखने के लिये कुछ तो प्रोसैसिंग होती ही होगी, कुछ तो अन्य कैमीकल इस्तेमाल होते ही होंगे ... शापिंग माल में दूसरे अन्य प्रोसैसेड फूड्स की क्या कमी थी कि उस में ये प्रो-बॉयोटिक ड्रिंक्स भी शामिल कर दिये गये हैं। इसलिये बिना वजह इन के चक्कर में न ही पड़ा जाए तो बेहतर होगा। जिस तरह से इस तरह की वस्तुओं की बिक्री को बढ़ावा देने के लिये विज्ञापन दनादन आते हैं लगता तो यही है कि ये कंपनियां भी अपने मंसूबों में देर-सवेर कामयाब हो ही जाएंगी।

दही की इतनी तारीफ़े तो कर डाली लेकिन इस बात का ध्यान रखना तो ज़रूरी है ही कि यह भी तो कहीं कैमिकल युक्त दूध से तो तैयार नहीं किया गया !

Further reading ---
An Introduction to Probiotics
एक प्रश्न जिस से मैं बहुत परेशान हूं 



Sunday, February 27, 2011

एनर्जी ड्रिंक्स से बचे रहने में ही है बचाव

इस तरह की चीज़ों के बारे में हम लोगों को पता भी बच्चों से ही चलता है ..इन लोगों की स्कूल आदि में बातें चलती होंगी। एनर्जी ड्रिंक्स के बुरे प्रभाव तो समाचार पत्रों में आते ही रहते हैं। मुझे तो ऐसा लगता है कि आज के युवा वर्ग को इन कोल्ड-ड्रिंक्स की लत लगा देने के बाद अब अगली बारी है इन एनर्जी ड्रिंक्स को पापुलर करने की।

कुछ दिन पहले मैं भी एक डिपार्टमैंटल स्टोर गया हुआ था ... मैंने उस से पूछा कि क्या यहां पर भी एनर्जी ड्रिंक्स मिलती हैं, तो मुझे उस शेल्फ की तरफ़ ले गया जहां पर इस तरह की ड्रिंक्स सजी हुई थीं। एक कैन की कीमत थी अस्सी रूपये और चार कैनों का एक पैक था...डिस्काउंट रेट पर।

उस के ऊपर लिखी इंफरमेशन पढ़ी .. वही सब जो मैडीकल न्यूज़ में दिख रहा था पिछले कुछ दिनों से कि ये सब ड्रिंक्स कैफ़ीन (caffeine) जैसे तत्वों से लैस होते हैं जिन से बहुत से नुकसान होते हैं ....और इन पर लिखा तो रहता है कि इन में कॉफी के एक कप चाय के बराबर कैफीन है लेकिन इस में इस से कहीं ज़्यादा मात्रा में कैफ़ीन होती है। कारण ? – इस में कंपनियों ने कईं तरह के हर्बल इनग्रिडीऐंट भी डाले होते हैं जिन की वजह से कैफ़ीन की मात्रा खूब बढ़ जाती है।

आज कल जिस तरह से ये ड्रिंक्स पापुलर हो रही हैं, इस से तो यही लगता है कि जब कोई भी वस्तु विकसित देशों से निकाले जाने के कगार पर होती है तो उसे हमारे यहां पापुलर करना शुरू कर दिया जाता है। आप इस लिंक पर जा कर इस के बारे में देखिये .... Energy drinks dangers.

कईं विकसित देशों में तो 12 से 17 साल के वर्ग के एक तिहाई युवा इस तरह की ड्रिंक्स नियमित रूप से लेने लगे हैं... और इन ड्रिंक्स के युवाओं के स्वास्थ्य पर होने वाले प्रभावों का भी उन देशों में पिछले कईं वर्षों से अध्ययन किया जा रहा है और विशेषज्ञों के अनुसार इन ड्रिंक्स की वजह से बच्चों एवं युवाओं को दौरे (seizures) पड़ सकते हैं, उन के हृदय की धड़कन में अनियमितताएं(irregular heart rhythm) आ सकती हैं, उच्च रक्तचाप(high blood pressure) हो सकता है, और यहां तक की इस रिपोर्ट में (जिस का लिंक मैंने ऊपर दिया है) तो यह भी कहा गया है कि इस से मौत तक हो सकती है।

सोचने की बात तो यही है कि अगर कोई खाध्य वस्तु इतने पंगे कर सकती है तो उसे ट्राई ही क्यों किया जाए। और कोई इतनी सस्ती भी नहीं है ये ड्रिंक्स। अपनी देसी पेय पदार्थों में ऐसा क्या है कि वे एनर्जी न दे सकेंगे। सभी खिलाड़ी उन देसी चीज़ों को ही इस्तेमाल कर के पले-बड़े हैं।

ध्यान आ रहा है बाबा रामदेव की दो चार दिन पहले सुनी बात का --- एक सभा को संबोधित करते हुये वे कोल्ड-ड्रिक्स की पोल खोल रहे थे कि किस तरह से ये हमें केवल नुकसान ही पहुंचाती हैं। एक खिलाड़ी का नाम लेकर बच्चों को समझाने की कोशिश कर रहे थे कि यह जो आप लोग विज्ञापन में उस खिलाड़ी को कोल्ड-ड्रिंक के समर्थन में बोलते सुनते हो ना, यह ड्रिंक्स ये खिलाड़ी लोग स्वयं नहीं पीते, ग्रामीण पृष्टभूमि से आने वाले ये स्टार देसी पेयों को पी-पीकर ही इतने बड़े हो गये कि इन कंपनियों की इन की नज़र पड़ सके।

सोचता हूं कि हर तरफ़ इतना गोरखधंधा चल रहा है कि मैडीकल विषयों के बारे में कंटैंट डिवेल्पमैंट का यही मतलब दिखने लगा है कि आमजन को किस तरह से नईं नईं हानिकारक वस्तुओं के बारे में लगातार जागृत रखा जाए...................मेरे विचार में तो एक बात तो है कि इस तरह की वस्तुएं बनाने वालों के पास इतना अथाह पैसा है कि वे इन की मार्केटिंग के लिये किसी भी हद तक जा सकते है।

लेकिन अगर आम आदमी ने कांटों से अपने आप को बचाना है तो सारी दुनिया पर कारपेट बिछाने की बजाए अगर अपने पैरों में ही चप्पल डाल ली जाए तो बात बन जाती है... है कि नहीं ? केवल जागरूक रहना ही एक हथियार है – यह देखना कि हम क्या खा रहे हैं, क्यों खा रहे हैं, और इस के हमारे शरीर में क्या प्रभाव हो सकते हैं।




Wednesday, June 16, 2010

आखिर हम लोग नमक क्यों कम नहीं कर पाते ?

यह तो शत-प्रतिशत सच ही है कि नमक का ज़्यादा इस्तेमाल करने से ब्लड-प्रेशर होता ही है---वही चोली दामन वाला साथ, कितनी बार हम लोग इस के बारे में बतिया चुके हैं। लेकिन फिर भी जब मैं अपने आस पास देखता हूं तो पाता हूं कि लोग इस के बारे में बिल्कुल भी सीरियस नहीं है। हां, अगर खुदा-ना-खास्ता एक बार झटका लग जाता है तो थोड़ा बहुत बात समझने में आने लगती है।
लेकिन मेरी समस्या यह है कि मैं जब भी नेट पर नमक के बारे में कोई भी गर्मागर्म खबर पढ़ता हूं तो मुझे अपने देशवासियों का ख्याल आ जाता है --- इसलिये बार बार वही घिसा पिटा रिकार्ड चलाने लग जाता हूं।
शायद ही मुझे किसी मरीज़ से यह सुनने को मिला हो कि वह नमक का ज़्यादा इस्तेमाल करता है। किसी को भी पूछने पर यही जवाब मिलता है कि नहीं, नहीं, हम तो बस नार्मल ही खाते हैं। इस के बारे में हम एक बार बहुत गहराई से चर्चा कर चुके हैं कि आखिर कितना नमक हम लोगों के लिये काफ़ी है? और दूसरी बात यह कि एक बार मैंने यह भी बताने का प्रयास तो किया था कि केवल नमक ही नमकीन नहीं है।
अच्छा तो देश में यह भी बड़ा वहम है कि पाकिस्तानी नमक कम नमकीन है। नमक तो बंधुओ नमक ही है।
अच्छा तो अभी अभी मैं पढ़ रहा था कि इस नमक की वजह से अमेरिका में भी बहुत हो-हल्ला हो रहा है क्योंकि वहां लोग ज़्यादा प्रोसैसड खाध्य पदार्थ ही खाते हैं और यह तो नमक से लैस होता ही है लेकिन हमें इतना खश होने की ज़रूरत नहीं --हम लोग भी जहां हो सके नमक फैंक ही देते हैं ---लस्सी, रायता, आचार, लस्सी, गन्ने का रस, फलों के दूसरे रस (अगली बार जब जूस पीने लगें तो दुकानदार के चम्मच का साइज देखियेगा, आप को उस का हाथ रोकना चाहेंगे) .....बिस्कुट, तरह तरह के भुजिया, नमकीन, ......लिस्ट इतनी लंबी है कि एक पोस्ट भी कम पड़ेगी इसे लिखने में।
हां, तो अमेरिका में भी लोगों को नमक कम खाने की सलाह देते हुये यह कहा गया है कि वे रोज़ाना डेढ़ ग्राम से ज़्यादा नमक न लिया करें -- और जो आजकल सिफारिशें हैं उस के अनुसार सभी लोगों को चाय के एक चम्मच से ज़्यादा (जिस में लगभग दो-अढ़ाई ग्राम नमक आता है) नमक नहीं लेना चाहिये और जिन लोगों को उच्च रक्तचाप है या कोई और रिस्क है उन्हें तो डेढ़ ग्राम से ज्यादा नहीं लेना चाहिये। लेकिन अभी नई पैनल ने सिफारिश की है कि कोई भी हो, डेढ़ ग्राम से ज़्यादा बिलकुल नहीं।
आज जब मैं यह लिख रहा हूं तो यही सोच रहा हूं कि अगर हम लोग बस इसी बात को ही पकड़ लें तो कितने करोड़ों लोग रोगों से बच जायेंगे, कितनों का ब्लड-प्रैशर कंट्रोल होने लगेगा, दवाईयां कम होने लगेंगी और शायद आप का डाक्टर आप का सामान्य रक्तचाप देखते हुये उन्हें बिल्कुल ही बंद कर दे।
लेकिन एक बात है कि इस डेंढ़ ग्राम नमक का मतलब वह नमक नहीं है जो केवल दाल-सब्जी में ही डलता है, इस में सभी अन्य तरह के नमक के इस्तेमाल सम्मिलित हैं। मेरी सलाह है हमें भी शुरूआत तो करनी ही चाहिये --कोई ज़्यादा मुश्किल नहीं है, मैं भी कभी भी जूस में नमक नहीं डलवाता, दही में नमक नहीं, लेकिन रायते में बिना नमक के नहीं चलता, मैं सालाद के ऊपर नमक नहीं छिड़कता....लेकिन जब बीकानेरी भुजिया खाने लगता हूं तो यह सारा पाठ भूल जाता हूं ---इसलिये अब ध्यान ऱखूंगा।
किस्मत में क्या लिखा है, क्या जाने ---लेकिन जहां तक हो सके तो विशेषज्ञों की राय मानने में ही समझदारी है, केवल मुंह के स्वाद के लिये हम लोग किसी चक्कर में पड़ जाएं ....यह तो बात ना हुई। अमेरिका में तो होटल वालों ने भी अपने खाद्य़ पदार्थों में नमक कर दिया है।
इस रिपोर्ट से यह भी पता चलता है कि एक नमक इंस्टीच्यूट का कहना है कि नहीं, नहीं यह डेढ़ ग्राम नमक वाला फंडा ठीक नहीं है, वे कहते हैं कि सारी दुनिया में लोग तीन से पांच ग्राम नमक रोज़ाना खाते हैं क्योंकि यह उन की ज़रूरत है।
लेकिन मैं तो उस डेढ़ ग्राम नमक वाली बात की ही हिमायत करता हूं क्योंकि मैं नमक ज़्यादा खाने से होने वाले रोगों के भयंकर परिणाम देखता भी हूं, रोज़ाना सुनता भी हूं। वैसे आपने क्या फैसला किया है। लेकिन यह क्या, आप कह रहे हैं कि यार, अब शिकंजी, लस्सी भी फीकी ही पिलाओगे क्या ? ----बंधओ, इतने अच्छे बच्चे बनने की भी क्या पड़ी है, कभी कभी तो यह सब चलता ही है। वैसे शिंकजी में कभी कम नमक डाल कर देखिये।
जाते जाते यह बात लिखना चाह रहा हूं कि हम लोग गर्म देश में रहते हैं, गर्मियों में पसीना खूब आता है ---जिस से नमक भी निकलता है, इसलिये हमें गर्मी के दिनों में थोड़ी रिलैक्सेशन मिल सकती है ---लेकिन वह भी ब्लड-प्रैशर से पहले से ही जूझ रहे लोगों को तो बि्लकुल नहीं। मुद्दा केवल इतना है कि दवाईयों से भी कहीं ज़्यादा नमक की मात्रा के बारे में जागरूक रहें...............आप के स्वास्थ्य की कामना के साथ यहीं विराम लेता हूं। .

Friday, June 4, 2010

मूंगफली मुक्त अमेरिकी उड़ाने ?

अमेरिका में कुछ लोगों को मूंगफली से एलर्जी है इसलिये वहां पर एयरलाइन कंपनियां अपनी उड़ानों को मूंगफली मुक्त करने पर गंभीरता से विचार कर रही हैं। आप स्वयं भी cnn यह रिपोर्ट पढ़ सकते हैं --US considers banning peanuts on planes.
यह मानना पड़ेगा कि उन देशों में यह एलर्जी वगैरह की टैस्टिंग बहुत बढ़िया ढंगों से की जाती है। क्या आपने अपने यहां भी कभी सुना कि किसी को मूंगफली से एलर्जी है, मैंने तो नहीं सुना। एक बात और भी है ना कि यहां तो वैसे ही हमारे पास सेहत से जुड़े इतने बड़े बड़े मुद्दे हैं कि अब इस मूंगफली की एलर्जी को कौन ढूंढवाता फिरे ?
अमेरिका में तो केवल मूंगफली से ही नहीं, इन उड़ानों के दौरान मूंगफली से बनी अन्य चीज़ों पर भी रोक लगाने का मामला विचाराधीन है। मूंगफली से और क्या बनता है? -- आप भी मेरी तरह गज्जक (चिक्की) के बारे में सोच रहे हैं, लेकिन इस से मक्खन भी बनता है (Peanut butter).
कुछ महीने पहले मैंने एक लेख लिया था कि कैसे विदेश में कुछ स्कूलों ने बच्चों के मूंगफली खाने पर प्रतिबंध लगा दिया है-- क्योंकि वहां कुछ बच्चों को इस से एलर्जी होती है।
चलिये, वहां तो इस तरह के प्रतिबंध लगाये जा रहे हैं, विचाराधीन हैं---लेकिन हम यहां क्या करें ? आप भी मेरी तरह मूंगफली का जश्न तब तक मनाते रहें जब तक कि कोई विदेशी कंपनी के महंगे टैस्ट आपके या मेरे कान खींच कर यह न कह दे कि ओए, यह क्या खा रहा है, तेरे को तो इस से एलर्जी है?
यह तो मानते ही हैं कि मूंगफली प्रोटीन का एक बेहत उमदा स्रोत है। और हमारे देश में खून की कमी (एनीमिया) की बीमारी बहुत आम है। इसलिये मैं हरेक को विशेष कर कमज़ोर महिलाओं को एवं सभी बच्चों को यह सलाह देता हूं कि ठीक है सर्दियों में मूंगफली खाएं लेकिन रात को अगर एक मुट्ठी मूंगफली के कच्चे दाने पानी में भिगो के सुबह गुड़ के साथ नाश्ते के समय खा लें तो बहुत बढ़िया रहता है। मैं भी कईं साल ऐसा करता रहा हूं।
कईं बार ऐसा प्रश्न सामने आता है कि यह सब क्या ग्रीष्मकाल में भी ? ---जी हां, बिल्कुल गर्मी के मौसम में भी इसे भिगो कर खाते रहें --- यह सेहत के लिये, खून की कमी को पूरा करने के लिये बहुत बढ़िया देसी जुगाड़ है। लेकिन यह ध्यान रहे कि ऐसे लोग जो पहले ही से ओवर-व्हेट हैं, स्थूल काया के हैं, मोटापे से परेशान हैं, वे इस के इस्तेमाल से बच कर रहें।
और एक बात ---अब हमें आने वाले समय में सचेत रहना होगा कि हम लोग इन उड़ानों के दौरान जेब में मूंगफली डाल पर हवाईअड्डों पर न दिखें ---- और न ही वहां रह रहे अपने सगे-संबंधियों के लिये मूंगफली से तैयार किये कुछ उम्दा खाद्य पदार्थ ही वहां लेकर जाएं -----कहीं ऐसा न हो कि उड़ान के दौरान किसी को मूंगफली से एलर्जी का अटैक हो जाए और आप के लिये आफ़त हो जाए।
अपने यहां कोई दिक्कत नहीं ---खाते जाएं....चबाते जाएं --मस्त रहें, लेकिन छिलके केवल डस्टबिन में --नहीं तो घर में भी डांट पड़ती है और बाहर लोग बड़े अजीब ढंग से घूरने लगते हैं।
संपादित --15:30......इस पोस्ट पर आई टिप्पणीयां देख कर लगा है कि मैडीकल लेखन में हर बात को खोल के लिखना कितना ज़रूरी है, मुझे लगता है कि मेरी मूंगफली से एलर्जी वाली बात को पाठकों ने वह एलर्जी समझ लिया है जिस के बारे में हम लोग अकसर कह देते हैं कि यार, मुझे यार तेरी इस बात से बड़ी एलर्जी है , मुझे उस से बड़ी एलर्जी है। लेकिन यहां बात हो रही है मैडीकल एलर्जी की ---जिस में मूंगफली खाने से या उस के संपर्क में आने से वही सब कुछ होता है जो किसी को दवाई की या किसी इँजैक्शन से एलर्जी के कारण होता है ---सारे शरीर में सूजन, खाज-खुजली, सांस लेने में दिक्तत, घबराहट और यहां तक कि बहुत बार तो इस के लिये तुरंत कुछ टीके भी लगवाने पड़ सकते हैं ---कईं बार कुछ एैंटी-एलर्जिक दवाईयों से भी काम चल जाता है।

Wednesday, June 2, 2010

दाल-रोटी खाओ......प्रभु के गुण गाओ

आज कल लोग देशी टॉनिकों की बात नहीं करते--वे उन टॉनिकों की बात करते हैं जिन की मार्केटिंग में ये कंपनियां हाथ धो कर पीछे पड़ी हुई हैं। और पता नहीं लोग इन कंपनियों की बात सुनते भी हैं, हम सारा दिन दाल-रोटी-सब्जी खाने की बात करते हैं और हमारे बच्चे भी हमारी सुन कर राजी नहीं हैं--- वे भी कुछ कुछ दालों एवं ज़्यादातर सब्जियों की कटोरी को यूं पीछे सरकाते हैं जैसे उन में दवाई मिली हो।
वैसे कभी आपने यह सोचा है कि कुछ विदेशी कंपनियां जो इस तरह के टॉनिक-वॉनिक सप्लाई करती हैं वे तो कितने कितने जबरदस्त हथकंडे अपनाती हैं, अपने कर्मचारियों को आकर्षक इंसैंटिव भी देती हैं। लेकिन इन के द्वारा किये जा रहे प्रचार को काउंटर करने के लिये ----लोगों को जागरूक करने का ढांचा देखिये कितना ढीला ढाला है --- सभी अच्छे चिकित्सकों को सम्मान देते हुये मैं भी अकसर देखता हूं कि अधिकांश सरकारी हस्पतालों में डाक्टर लोग सुबह से शाम तक बीमारों की तीमारदारी में ही इतने मसरूफ़ रहते हैं कि आप को लगता है कि उन में से अधिकांश को इस तरह के जागरूकता अभियान का हिस्सा बनने का समय भी मिलता होगा।
तो फिर ऐसे में होता क्या है ? --लोगों को लगता है कि जो बाहर की कंपनियां फरमा रही हैं, वह एकदम दुरूस्त है, इन टॉनिकों को लेकर ही फिट रहा जा सकता है।
लेकिन मैं इस बात से बिल्कुल भी इत्तफाक नहीं रखता --क्या पहले लोग जीते नहीं थे --- देखा जाए तो जीते वही थे, आज तो लोग बस टाइम को धक्का मार रहे हैं।
एक बात और भी है कि सीधी सादी सी बातें भी तो लोगों को समझ में नहीं आती ---जो बातें कहने सुनने में कठिन लगें, लच्छेदार हों, मीठी चासनी में घुली हों, उन्हें वही भाती हैं।
यकीन मानिये जिस मां का बच्चा रोटी नहीं खाता, दाल सब्जी नहीं खाता ---यह लगभग एक राष्ट्रीय समस्या सी हो गई है-- वह जब डाक्टर से किसी टॉनिक के लिये पूछती है और अगर कोई भला डाक्टर अपना समय निकाल कर उस के चिप्स, बिस्कुट, भुजिया, बर्गर बंद करने की सलाह देता है और रोटी दाल सब्जी खाने की सलाह देता है तो उस मां को शायद यह सलाह सब से बेकार लगती होगी और जाते समय वह कैमिस्ट से कोई न कोई टॉनिक की शीशी तो ले ही लेती होगी।
क्या कहें, क्या न कहें---सब कुछ गोरखधंधा है --किसी कैमिस्ट की दुकान पर देखो तो उस के काउंटर पर और आसपास ढ़ेरों अनाप शनाप टॉनिक-ज्यूस बिखरे पड़े होते हैं ----रैसिपी तो सेहत की एक ही है ---सादा संतुलित आहार --जो सदियों से देश खाता आ रहा है --- दाल-रोटी-सब्जी-चावल, सलाद और मौसमी फल ---इस के अलावा कैमिस्टों की दुकान से फिटनैस ढूढना बेकार है।
मैं कईं बार बैठा बैठा सोचता हूं कि बचपन में जो बच्चे बहुत सी सब्जियों-दालों से दूर रहते हैं ----शायद छोटेपन में तो चल जाता है ---क्योंकि यह सब भी कमबख्त लाड-प्यारा की परिभाषा में आ जाता है कि अगर लल्लन नहीं खा रहा यह सब कुछ तो चलो उसे दो-तीन परांठे सेंक दें ----और यह दौर चलता ही रहता है। नतीजा यह हो जाता है कि लल्लन 10-12 साल तक फूल के कुप्पा हो जाता है ----और फिर फिटनैस ढूंढी जाती है देशी-विदेशी टॉनिकों में।
तो आज की इस पोस्ट से केवल इस बात को उठायें कि बच्चों को छोटी उम्र से ही सभी सब्जियां, दालें और अनाज खाने की आदत डालें और अगर किसी कारणवश यह सब आप से नहीं हो रहा तो एक बहुत ही ज़्यादा गंभीर मुद्दा है ----क्योंकि मेरा अनुभव तो यही कहता है कि जो बच्चे बचपन में इन कुदरती वरदानों से दूर रहते हैं वे फिर बड़े होकर भी पिज़्जा, बर्गर, हाट-डाग, चाइनीज़, हाका, कोल्ड-ड्रिंक्स, और इसी तरह की अनेकों वस्तुओँ से भूख मिटाते फिरते हैं --------सब कुछ होता है इन के पास बड़ी बड़ी डिग्रीयां, बढ़िया अंग्रेज़ी, बढ़िया पे-पैकेट, ब्रैंडेड कपडे, अतिआधुनिक मोबाइल फोन..............और भी सब कुछ जिस की कोई भी कल्पना कर सकता है लेकिन अच्छी सेहत, फिटनैस के बिना यह सब किसी काम का। अच्छी सेहत तो साधी सादे हिंदोस्तानी खाने से ही आयेगी ---- यकीन मान लें कि और कोई भी रास्ता नहीं है फिट रहने के लिये।
और अब बात कि अगर ये सब इतने टॉनिक बन रहे हैं तो ये किस के लिये ? ---ये बीमार लोगों के लिये हैं, सेहतमंद लोगों के लिये , न ही ये अच्छे खाने का विकल्प हो सकते हैं----ये जो टॉनिक-वॉनिक हैं, इन्हें अकसर क्वालीफाईड चिकित्सक बीमार लोगों को देते हैं ताकि उन को जल्दी से सेहतलाभ हो।
मेरे को जब भी कोई इस तरह के टॉनिकों आदि के बारे में बताता है, इन की तारीफ़ों के पुल बांधता है, मैं शिष्टाचार वश उस की बात तो सन लेता हूं ----लेकिन किसी भी सेहतमंद आदमी को इन की सिफारिश करना तो दूर---मैं कभी इन का नाम तक लोगों के सामने नहीं लेता और न ही अपनी ओपीडी में इन का कोई विज्ञापन ही चिपकने देता हूं -----क्या है, कईं बार लोग इस तरह के इश्तिहार से भी इन के चक्कर में आ जाते हैं। बहुत बार सोचता हूं कि हम लोगों को काम भी ढिढोरची जैसा ही है ------हर समय किसी न किसी बात का ढिंढोरा पीटते रहना --------ताकि अज्ञानता वश कोई चक्कर में न पड़े।
जाते जाते एक बात का ध्यान आ गया ---क्या आपने कभी सुना है कि फलां फलां बच्चा बचपन में तो दाल-सब्जी नहीं खाता था लेकिन बड़ा होकर वह सब खाने लग गया है ----अगर सुना है तो टिप्पणी में ज़रूर लिखना -----क्योंकि मैंने तो ऐसा कभी नहीं सुना।

Thursday, October 15, 2009

महेश भट्ठ की फिल्म -- प्लेट में ज़हर ( Poison on the platter)

कुछ दिन पहले मैं घर के पास ही की मार्कीट में सब्जी लेने गया हुया था ----सड़क किनारे लगी एक दुकान के मालिक ने बेहद सुंदर दिखने वाले बैंगनों की इशारा करते हुये कहा कि ये देखो, भुर्ते के लिये कितने बढ़िया बैंगन हैं. बेशक वे बैंगन इतने चमकीले, इतने बढ़िया आकार के और लगभग सभी बिल्कुल एक जैसे ही लग रहे थे ---अब इन बैंगनों का इतना अच्छा दिखना भी इन के लिये आफ़त हो गया --- मुझे देखने में लगा कि हो न हो इन बैंगनों में कुछ न कुछ नकलीपन तो है ।

दिमाग में तुरंत कईं प्रश्न कौंध गये --- कोई हाईब्रिड वैरेयटी( मैं इस की लाभ-हानियों के बारे में कुछ ज़्यादा नहीं जानता), क्या ये टीकों के तैयार तो नहीं किये गये या ये कुछ नये नये रासायनों की तो देन नहीं हैं। ध्यान तो एक बार बीटी बैंगन की तरफ़ भी गया।

आज सुबह राज भाटिया की यह पोस्ट देख कर पूरी स्टोरी जानने की इच्छा हुई। और इस के बारे मैंने सोचा कि इस मुद्दे के बार में और भी प्रामाणिक रिसर्च का पता लगाया जाए।

बस ऐसे ही घूमते घूमते मैं यहां पहुच गया जहां से मुझे पता चला कि फिल्मकार महेश भट्ट ने मार्च 2009 में एक फिल्म बनाई है --- Poison on the platter. इसलिये इस के यू-ट्यूब लिंक्स यहां लगा रहा हूं ----कुल चार पार्ट्स हैं, लेकिन दूसरे भाग शायद कुछ गड़बड़ सी लगती है ----यह मुझे पूरी नहीं दिख रही ।








वैसे थाली में ज़हर नाम की एक स्टोरी यहां भी दिखी।

भई मुझे तो यह सब जान कर डर सा लग रहा है, आप का क्या हाल है ? आप भी सोच रहे हैं न कि यार, अब हमारे भुरते को भी नज़र लग गई !!!!