Sunday, July 10, 2011

डोपिंग के कुछ अनछुए पहलू

कुछ दिनों से खूब सुन रहे हैं किस तरह से कुछ खिलाड़ीयों का डोप टैस्ट पॉजीटिव आया है। अफरातफरी में राष्ट्रीय खेल संस्थान के बाहर कैमिस्टों पर छापे मारे गये, प्रतिबंधित दवाईयां पकड़ी गईं ...रिकार्डों में भी गड़बड़ थी, और प्रिंट मीडिया में इस बात का भी खुलासा किया गया कि वहां से बिना डाक्टरी नुस्खा के ही कोई भी दवाई खरीदी जा सकती है।
चलिये थोड़े दिनों की बात है..धूल नीचे बैठ जायेगी...और हमारी यादाश्त वैसी भी कोई विशेष तेज़ तो है नहीं ---अब इस देश का आमजन किस किस तरह के आंकड़े याद रखे ... थोड़ी ही दिनों में वह किसी और घोटाले के चटखारे लेने लगेगा, ऐसे में कहां यह डोपिंग वोपिंग वाली बात किसी को याद ही रहने वाली है।
लेकिन असल मुद्दा यह है कि क्या इस तरह की दवाईयां केवल पटियाला के इस संस्थान के बाहर कैमिस्टों की दुकानों से ही मिलती हैं.... इस बात पर लगता है कि कोई यकीन करेगा ? --- इस देश में कहीं से भी कुछ भी खरीद लो...बस तमाशा देखने के लिये पैसा फैंकने की ज़रूरत है।
दो एक दिन पहले मुझे सायना नेहवाल की एक बात जो मैंने पेपर में देखी, वह मुझे बिल्कुल ठीक लगी। वह कह रही थी कि कुछ खिलाड़ी इतने पढ़े लिखे हैं नहीं ...इस वजह से वे इस सारी बात को अच्छी तरह से समझ ही नहीं पाते। उन्हें इस बात का आभास तक भी शायद नहीं होता होगा कि वे जिन सप्लीमैंट्स को ले रहे हैं उन में किस तरह के प्रतिबंधित साल्ट मिले हुये हैं।
जो भी हो, खिलाडि़यों को इन सब बातों का पूर्ण ज्ञान तो दिया ही जाना चाहिये.... लेकिन डोपिंग के ये कुछ किस्से तो सारे देश के सामने आ जाते हैं लेकिन जो डोपिंग इस देश के हर शहर में, हर गांव में हो रही है उस का कोई क्या करे।
आज का युवा एवं युवतियां सुडौल शरीर के लिये जो तरह तरह के सप्लीमैंट्स कैमिस्टों से खरीद लाते हैं उन में ये सब लफड़े वाली दवाईयां मिली रहती हैं ---और यह धंधा करने वाले इतने बेखौफ़ हैं (यह हर कोई जानता है कि इस बेखौफ़ी के पीछे क्या राज़ है !!) कि अधिकतर सप्लीमैंट फूड्स पर इन साल्टों के बारे में कुछ भी लिखा ही नहीं होता। इसलिये युवा वर्ग अंधेरे में ही ये सब खाता रहता है।
इस सब प्रतिबंधित पदार्थों के बहुत नुकसान हैं ---- कुछ ही दिनों में मांसपेशियां सुडौल हो जाएं केवल यही न देखा जाए... ये दवाईयां ऐसी होती हैं जिन्हें किसी प्रशिक्षित चिकित्सक के नुस्खे के बिना खाना खतरा मोल लेने जैसा है।
ये जिम वाले भी जो पावडर- वाउडर एक्सरसाईज़ करने वालों को थमा देते हैं इन में भी इन्हीं ऐनाबॉलिक स्टीरायड्स की मिलावट तो रहती ही है। मैं इतनी बार अमेरिकी फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन की साइट पर इस तरह की चेतावनियां पढ़ चुका हूं कि मुझे यही लगने लगा है कि अगर अमेरिका जैसे देश में यह सब बार बार सामने आता रहता है तो हम लोग तो इस के बारे में चुप ही रहें तो बेहतर होगा-- यहां तो कुछ भी बिकता है, बस थोड़ी बहुत इधर-उधर सैटिंग करने की बात है !!
इस पोस्ट के माध्यम से जो बात रेखांकित की जा रही है कि डोपिंग के मामले केवल वही नहीं हैं जो मीडिया हमारे सामने ले आता है -- शायद हज़ारों-लाखों किस्से इन सप्लीमैंट्स के कारण देश में हो रहे होंगे --- शायद कोई मैडल वैडल जीतने से कहीं ज़्यादा ज़रूरी है कि खिलाड़ियों की सेहत ठीक रहे ... क्योंकि बार बार अमेरिकी फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन भी चेता दिया करती है कि प्रतिबंधित दवाईयों का बेरोकटोक इस्तेमाल ख़तरों से खाली नहीं है। और झोलाछाप डाक्टर भी इस तरह के धंधों में तबीयत से चांदी कूटे जा रहे हैं !!