Wednesday, April 29, 2009

जिह्वा (जुबान) का कैंसर एक कोबरे के समान है...


यह शब्द मेरे उस 48 वर्षीय मरीज़ ने आज मुझ से कहे जिसे जिह्वा का कैंसर है--- पिछले डेढ़ महीने से ही डायग्नोज़ हुया है। बायोप्सी वगैरह हो चुकी है। सी.टी स्कैन सब टैस्ट हो चुके हैं। इस के इलाज के लिये उसे आप्रेशन के लिये कहा गया है जिसमें जुबान का आधा हिस्सा सर्जरी से निकाल दिया जायेगा। और इस के आसपास के क्षतिग्रस्त एरिये की भी कांट-छांट की जायेगी।

इस बंदे को मैं अच्छी तरह से जानता हूं ----बड़ा ही ज़िंदादिल सा इंसान लगता था मुझे । लगता क्या था आज भी बहुत गर्मजोशी से बात कर रहा था लेकिन आज बेचारा दर्द से इतना परेशान था कि कहने लगा कि यह बीमारी तो डाक्टर साहब एक कोबरे के समान है।

इस व्यक्ति को जुबान की दाईं तरफ़ के नीचे दो-तीन महीने से एक जख़्म सा था --- उस के आस पास ही खराब दांतों के नुकीले टुकड़े पड़े हुये थे। उसे उन टुकड़ों को जब भी निकलवाने की सलाह दी जाती थी तो वह हमेशा यही कह कर टाल दिया करता था कि मैंने तो कभी भी दांत डाक्टर से निकलवाया नहीं है, मेरे तो जितने भी दांत निकले हैं अपने आप ही निकले हैं, इसलिये ये टुकड़े भी अपने आप ही निकल जायेंगे।

यह बंदा पिछले कईं सालों से तंबाकू-चूने के मिश्रण को मुंह में रखता रहा है...और रोज़ाना थोड़ी बहुत ड्रिंकिंग का भी शौकीन है। जैसा कि आप जानते ही हैं कि तंबाकू और शराब तो तरह तरह के कैंसर ( विशेषकर मुंह के कैंसर के लिये) के लिये एक किल्लर कंबीनेशन तो है ही और साथ में मुंह का खराब स्वास्थ्य्। टूटे, फूटे, नुकीले दांत मुंह में पड़े हुये जिन्हें निकलवाया नहीं गया।

आज उस मरीज़ से मिल कर मूड बहुत खराब है। क्या है ---- छोटी सी उम्र में ही बंदा तंबाकू की तबाही का शिकार हो गया। आप का मेरी यह पोस्टें देख कर अनुमान हो ही जाता होगा कि मैं तंबाकू का कितना घोर विरोधी हूं ---क्योंकि हम इस तरह के केस आये दिन देखते रहते हैं और फिर अपने आप को कितना बेबस पाते हैं।

मन में विचार आ रहा है कि कैसे भी हो बच्चों को सिगरेट, बीड़ी , गुटखा पान मसाले से बचा कर रखना चाहिये और जब भी पता चले कि बच्चे या नवयुवक इस तरह के व्यसनों से ग्रस्त हैं और अल्कोहल भी ले रहे हैं तो सभी ढंग अपना कर उन को बचाने की कोशिश करनी चाहिये ।

तंबाकू चबाने वाले, बीडी सिगरेट पीने वाले, गुटखा खाने वाले कब इस तरह के केसों से सीख लेंगे...................यह सोच सोच कर मेरा सिर दुखता है। इसी मरीज़ के बारे में कुछ और बातें अगली पोस्ट में करूंगा।

Tuesday, April 28, 2009

थायरायड ग्लैंड का हारमोनल लोचा ---- 1.



थायरायड ग्लैंड गले के अगले हिस्से में चमड़ी एवं मांसपेशियों के नीचे स्थित है। इस की आकृति एक तितली जैसी लगती है और इस का वज़न एक आउंस ( लगभग 25 ग्राम) से भी कम होता है।

इतना
छोटे होते हुये भी यह थायरायड ग्लैंड ( थायरायड ग्रंथि) बेहद महत्त्वपूर्ण हारमोन्ज़ उत्पन्न करते हैं। ये हारमोन्ज़ हमारे शरीर की विभिन्न प्रक्रियाओं के साथ साथ हमारी ग्रोथ ( growth) को नियंत्रण करता है।
थायरायड को अपना काम करने के लिये आयोडीन नामक एक कैमीकल ऐलीमेंट चाहिये होता है जिसे हमारा शरीर खाने एवं पानी से ग्रहण करता है। सारे शरीर में आयोडीन की कुल मात्रा 50 मिलीग्राम( अर्थात् एक ग्राम का भी बीसवां हिस्सा) होती है। इस में से 10-15 मिलीग्राम आयोडीन तो थायरायड ग्रंथि में ही जमा होता है। थायरायड इस आयोडीन को टायरोसीन( एक इशैंशियल अमाइनो एसिड) के साथ मिला कर बहुत महत्त्वपूर्ण हारमोन्ज़ (थायरायड हारमोनज़) पैदा करता है।
थायरायड ग्लैंड से ये थायरायड हारमोन्ज़ निकल कर रक्त में मिलने के पश्चात् शरीर की कोशिकाओं में पहुंचते हैं. ये हमारे विकास ( ग्रोथ) एवं हड्डियों की बनावट, हमारी यौवनावस्था ( प्यूबर्टी) के साथ साथ बहुत सी शारीरिक प्रक्रियाओं का नियंत्रण करती हैं। अगर थायरायड ग्लैंड ठीक से काम नहीं करता तो शरीर के बहुत से हिस्सों में बहुत सी परेशानियां हो जाती हैं।

थायरायड की बीमारी आखिर है क्या ?जब थायरायड उपर्युक्त मात्रा में हारमोन्ज़ उत्पन्न नहीं कर पाये तो उसे थायरायड की बीमारी कहते हैं। अगर यह ग्लैंड कुछ ज़्यादा ही काम ( ओवर एक्टिव) कर रहा है तो यह हमारे रक्त में ज़्यादा मात्रा में हारमोन्ज़ रिलीज़ कर देता है और इस अवस्था को हाइपरथायरायडिज़्म कहते हैं।

इस के विपरित हाइपोथायरायडिज़्म में थायरायड के द्वारा कम मात्रा में हारमोन्ज़ उत्पन्न किये जाते हैं और कोशिकाओं के स्तर पर सारी प्रक्रियायें धीमी पड़ जाती हैं।

ये दोनों अवस्थायें बिल्कुल अलग हैं लेकिन इन दोनों में ही थायरायड ग्लैंड का साइज़ बढ़ जाता है। एक बड़े आकार का थायरायड ग्लैंड गले के अगले हिस्से की चमड़ी के नीचे एक लंप की तरह फील किया जा सकता है। और अगर इस का आकार इतना बढ़ जाये कि यह बड़ा हुआ लंप दूर से ही दिखने लगे तो इसे ग्वायटर ( goiter) कह दिया जाता है। जिन लोगों को खान-पान में आयोडीन की मात्रा उपर्युक्त मात्रा में नहीं मिल पाती उन में यह ग्लैंड का आकार बड़ा हो जाता है।
---------
क्रमशः -----

Monday, April 27, 2009

चिकित्सक हिंदी में इन विषयों पर लिखें...


पिछले कईं सालों से देख रहा हूं कि विकसित देशों में कोई छोटी मोटी स्टडी चूहे पर भी हो रही होती है तो उसे हमारेयहां के हिंदी एवं अंग्रेज़ी क अखबार बड़े चाव से छापते हैं। ठीक हैं, छापिये ....लेकिन सब से पहले आप को आमआदमी की आम शारीरिक समस्यायों एवं उन से जुड़े मुद्दों पर लिखना होगा।

मैं सोच रहा हूं कि मैं अगले कम से कम छः महीने तक कुछ ऐसे ही विषयों पर लिखूंगा। इतने ज़्यादा मरीज़थॉयरायड ग्रंथि की तरह तरह की बीमारियों के दिखने लगे हैं---ठीक है, आयोडीन युक्त नमक खाया जाये लेकिनइस के बारे में बाकी बातें भी तो आम आदमी तक पहुंचनी बहुत ही लाज़मी हैं ।

लगभग सारा हिंदोस्तान आड़ा-टेढ़ा हो कर चलता है , यह समस्या महिलायों में तो बहुत ही ज़्यादा है , इस कीरोकथाम के बारे में खूब चर्चा की जाये। इस के इलाज के बारे में , इस से संबंधित तरह तरह के टैस्टों के बारे मेंलिखा जाये और यह भी लिखा जाये की कौन सा इलाज किस के लिये कितना उपर्युक्त है।

इतनी ज़्यादा औरतों के कूल्हे की हड्डी टूट जाती है और वे सारी उम्र के लिये अपाहिज हो जाती हैं। इस के बारे मेंज़्यादा से ज़्यादा बातें करें और ज़्यादा बातें रोकथाम की भी की जायें----ज़्यादा महंगे महंगे इलाज गिना कर आमआदमी की परेशानियां और न बढ़ाई जायें।

पानी के बारे में जितना लिखा जाये उतना ही कम है। लोगों में इस के बारे में बहुत ही ज़्यादा अज्ञानता है। इस के शुद्धिकरण की बातें खोली जायें।

मैं पिछले लगभग एक-दो महीने से देख रहा हूं कि कुछ हिंदी समाचार पत्रों की वेबसाइटें भी मसालेदार खबरों में ज़्यादा रूचि ले रही हैं, होगी भई उन की अपनी मज़बूरी होगी किसी भी बहाने सैक्स संबंधी तरह तरह की सामग्री परोसना। इतना सब कुछ अजीब सा लिखा जा रहा है कि उन साइटों पर वापिस जाने की इच्छा ही नहीं होती।

हिंदोस्तान में कितने ज़्यादा लोग हैं जो कईं कईं वर्षों से घुटने के दर्द से कराह रहे हैं, टांगों में दर्द है, आंखों की रोशनीकम होने से रोज़ाना ठोकरें खाते फिरते हैं, नियमित शारीरिक जांच करवा नहीं पाते। इन के बारे में कौन लिखेगा मुझे यह कहने में कोई हिचकिचाहट नहीं है कि हिंदी के पाठकों तक जितनी अच्छी जानकारी पहुंचनी चाहिये वह पहुंच नहीं रही है।

इस के अलावा इन विषयों पर लिखा जाये ---नियमित शारीरिक जांच, बच्चों में विटामिन ए की कमी, महिलायोंमें रक्त की एवं कैल्शीयम की कमी।

मुझे यह लगता है कि जनमानस को किसी भी तरह से भ्रमित करने की कोशिश न की जाये। उन्हें महंगे महंगेइलाजों के फायदे गिनाते रहने की बजाये ( जो कि बहुत से लोग अफोर्ड कर ही नहीं पाते) ..कुछ इस तरह की बातेंबतायें जिन से उन के मन में विश्वास पैदा हो कि जरूरी नहीं कि हर महंगी वस्तु उत्तम ही हो। विशेषकर खाने पीने की आदतों की उदाहरण लेकर ये बातें जनमानस के सामने रखी जा सकती हैं। घर में आसानी से उपलब्ध तरहतरह के अनाज एवं दालों से भी एक उत्कृष्ठ आहार तैयार किया जा सकता है।

ऐसी और भी बहुत ही छोटी छोटी बातें हैं जो कि चिकित्सकों को तो छोटी लगती हैं लेकिन जनमानस के लिये बहुतबड़ी बातें होती हैं। अगर वे इन को अपने जीवन में उतार लेते हैं तो जीवन में बहार आ सकती है।

तो मैं अगले कुछ महीनों पर इस ब्लॉग पर कुछ इस तरह की ही सामग्री जुटाया करूंगा। देखते हैं यह सफ़र कैसा रहता है।

Saturday, April 25, 2009

मैडीकल रिसर्च किस दिशा में जा रही है ?

योग सेहत के लिये अच्छा है, स्तनपान करवाना मां के स्वास्थ्य के लिये भी उत्तम है, गर्भावस्था के दौरान हल्का-फुल्का परिश्रम करना गर्भवती महिला के लिये अच्छा है, धूप में बाहर निकलने से पहले फलां-फलां सन-स्क्रीन लगा लें, .......और भी ऐसी बहुत सी रिसर्चेज़ हो रही हैं जिन्हें मैं रोज़ाना देखता रहता हूं।

एक प्रश्न यह उठता है कि क्या यह बातें हम पहले से नहीं जानते हैं ......यह सब बातें तो हज़ारों साल पहले हमारे शास्त्रों ने हमें सिखा दिया था। लेकिन हमारी समस्या यही है कि हम तब तक किसी बात को मानने से हिचकिचाते रहते हैं जब तक कि उस पर फॉरन की मोहर नहीं लग जाती। योग के साथ भी तो यही हुआ ---योग जब योगा बन कर आया तो लोगों की उस में रूचि जागी।

बहुत सी अखबारें , उन के ऑन-लाइन एडिशन देखने पर यही पाता हूं कि ज़्यादा जगहों पर बस तड़का लगाने पर ज़ोर दिया जा रहा है। किसी हैल्थ अथवा मैडीकल रिसर्च की आम आदमी के लिये प्रासांगिकता क्या है , इस का अकसर ध्यान नहीं रखा जाता।

इतना ज़्यादा ज़ोर उन स्टडीज़ को ही दिया जाता है जो कि अभी चूहों पर हो रही है, फिर खरगोशों पर होंगी ......या कुछ ऐसी रिसर्च जो कि बहुत ही कम लोगों पर हुई है उसे भी बहुत महत्व दिया जाता है। इस तरह के वातावरण में एक आम पाठक का गुमराह होना लगभग तय ही है। अब हर कोई तो हरेक फील्ड की जानकारी हासिल करने से रहा ऐसे में अच्छे पढ़े लिखे लोग भी इस तरह के लेखन के शिकार हुये बिना नहीं रह सकते।

मैंने कुछ प्रकाशनों को लिखा भी है कि आप लोगों विभिन्न प्रकार की स्वास्थ्य संबंधी सामग्री जुटाने से पहले किसी विशेषज्ञ से बात कर लिया करें -----वही छापें, उसे ही ज़्यादा महत्व दें जो कि एक आम आदमी बिना किसी खास हिलडुल के साथ अपने जीवन में तुरंत उतार लें।

सोचता यह भी हूं कि मैडीकल रिसर्च में तरक्की तो बहुत ही हुई है लेकिन इस का उतना फ़र्क क्या लोगों की ज़िंदगी पर भी पड़ा है, मुझे तो लगता है नहीं। लोगों की तकलीफ़ें तो लगता है वहीं की वहीं है।

किसी बीमारी को जल्द ही पकड़ने के क्षेत्र में तो बहुत उन्नति हुई है और कुछ बीमारियों के इलाज में भी बहुत सुधार हुया है लेकिन मुझे नहीं लगता कि इन का लाभ किसी भी तरह से आम आदमी को पहुंचा है .....शायद इस सब का फायदा उन चंद लोगों को ही पहुंचा है जिन की पहुंचे बड़े शहरों के बड़े कारपोरेट अस्पतालों तक है। वरना आम आदमी तो पहली ही कीतरह धनाधन टीबी से मर रहे हैं, दारू की आदत के शिकार हो रहे हैं, तंबाकू लाखों-करोड़ों लोगों को अपना ग्रास बनाये जा रहा है।

अगर मैडीकर फील्ड में इतनी ही तरक्की हो रही है तो इन सब की तरफ़ क्यों इतना ध्यान नहीं दिया जा रहा है। तंबाखू से होने वाले फेफड़े के कैंसर को प्रारंभिक अवस्था में पकड़ने पर इतना ज़ोर दिया जा रहा है लेकिन इस कमबख्त तंबाकू को ही जड़ से ही खत्म क्यों नहीं कर दिया जाता।

मैं अकसर यह भी सोचता हूं कि हम लोगों ने बहुत से रोग स्वयं ही बुलाये होते हैं ----खाने पीने में बदपरहेज़ी, दारू, तंबाकू, शारीरिक परिश्रम करना नहीं, और ऊपर से तरह तरह के भ्रामक विज्ञापनों के चक्कर में आकर अपनी सेहत को खराब करना ................बस यही कुछ हो रहा है।

इसलिये मैडीकल रिसर्च को जानना ज़रूरी तो है लेकिन उस के प्रभाव मे बह ही जाना ठीक नहीं है, कुछ रिसर्च ऐसी है जो कि कुछ कंपनियों द्वारा ही प्रायोजित की गई होती है। इसलिये आंखें और कान खुले रखने बहुत ही ज़रूरी हैं।

बस, एक बात का ध्यान रखिये ----प्रश्न पूछने मत छोड़िये ---------यह आप की सेहत का मामला है।

Wednesday, April 22, 2009

चलिये रोहतांग घूम कर आते हैं

2007 की जून में हम लोग रोहतांग गये थे ...वहां की यादें आप के साथ बांट रहा हूं। आप को हमारी इन यादों में झांकने के लिये केवल इस पर क्लिक करना होगा ---------



तो फिर आप कब रोहतांग जाने का प्रोग्राम बना रहे हैं ?

Sunday, April 12, 2009

भारत में आ रहा है भयंकर किस्म का हैज़ा

आज सुबह यह न्यूज़-रिपोर्ट देख कर चिंता हुई कि भारत में एक भयंकर किस्म का हैज़ा दस्तक दे रहा है। एक के ऊपर एक मुसीबत ---- लोग अभी एक आपदा से उठ भी नहीं पाते और दूसरी सामने खड़ी दिखती है।
आगे गर्मी का मौसम होने की वजह से और भी एहतियात की ज़रूरत है। बात चिंताजनक तो है लेकिन जहां तक हो सके इस से बच कर ही रहना चाहिये।

बचाव के उपाय
इन के बारे में जानने के लिये यहां क्लिक करें
केवल उबला हुआ पानी अथवा जिस पानी को क्लोरीन से ट्रीट किया गया है ,वही सुरक्षित है। वैसे भी पानी की वजह से तो इतनी तकलीफ़े गर्मीयों में होती रहती हैं।
ध्यान रहे कि खाना अच्छी तरह से पका हुआ हो और जिस समय आप उसे लें वह गर्म हो।
कम पकी हुई अथवा कच्ची मछली से परहेज़ ही करना होगा।
खोमचे वालों से तरह तरह के खाद्य पदार्थ एवं पेय लेकर इस्तेमाल करना खतरे से खाली नहीं है।
ऐसे फल का सेवन करें जिस पर से छिलका आप ने स्वयं उतारा हो ----बाज़ार से कटे हुये फल लेकर खाना तरह तरह के रोगों को बुलावा देना ही है।

3231682806_bbca135886_m
हैज़े के मरीज़ों के इस्तेमाल के लिये बिस्तर
credit: flickr/Teseum

हैज़े के लिये टीके के बारे में विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुंह से ही सुनते हैं ---इस लेख में आप जब oral chlera Vaccines के अंतर्गत लिखी जानकारी देखेंगे तो पहली पंक्ति में आप एक शब्द देखेंगे ---parenteral cholera vaccine -- इस का भाव है कि इस से बचने का ऐसा टीका जिसे इंजैक्शन के द्वारा दिया जाता है जिस की वल्र्ड हैल्थ आर्गेनाइज़ेशन ने कभी सिफारिश नहीं की है। मुंह के रास्ते दिये जाने वाले टीके के बारे में पूरी जानकारी के लिये इस लिंक पर क्लिक करें।