Thursday, September 11, 2014

ह्यूमन वेस्ट टपकाने वाला पुल...

आप को याद होगा मैंने लखनऊ के एक रेलवे पुल के बारे में लिखा था ....अगर आपने उस पोस्ट को देखा होगा....रेलवे पुल के नीचे से गुज़रते वक्त क्या आपने कभी यह सोचा?

कल शाम को फिर वही नज़ारा......मुझे इसी पुल के नीचे से गुज़रना था.....लेकिन अचानक लोगों को काफ़ी संख्या में खड़े होते देख कर एक बार तो अचानक लगा कि ज़रूर कोई न कोई ट्रैफिक पुलिस का अभियान चल रहा होगा, ट्रैफिक वाले दो-तीन दिन से बड़े मुस्तैद से दिख रहे थे। 


लेकिन फिर अचानक उस स्कूल के लौंडे की बात याद आ गई जो मैंने पिछली पोस्ट में आपसे शेयर की थी कि चलती गाड़ी से पुल के नीचे चल रहे लोगों पर ह्यूमन वेस्ट (शौच, मल, थूक और गुटखा-पानमसाला की पीक).. गिरने का अंदेशा रहता है। 

पिछली बार जैसा कि मैंने बताया था कि रूकने वाले सभी स्कूटर-मोटरसाईकिल चलाने वाले ही होते हैं... मैं भी स्कूटर पर था..

जैसा कि आप इस कल की तस्वीर में देख सकते हैं कि गाड़ी पुल के ऊपर से गुज़र रही थी ...एक बार तो मुझे लगा कि कुछ नहीं होता, ऐसे ही बेकार में रूके रहो, आगे बढ़ने की इच्छा हुई तो......लेकिन तुरंत अकल ने कमीज़ पहन कर यह समझाया कि तू यह सोच, अगर उस स्कूली लौंडे की बात का तुझे आज ही प्रमाण मिल गया तो क्या करेगा, तू जा पायेगा बाज़ार जहां भी तू जा रहा है...... बाज़ार तो क्या, मल, शौच कमीज़ पर ढो कर बच्चे तेरा घर तक भी पहुंचना मुश्किल हो जायेगा। 

इसलिए बाकी लोगों की तरह मैंने भी स्कूटर को रोकने में ही समझदारी समझी और अपने मोबाईल के कैमरे से यह तस्वीर खींच ली जिस में गाड़ी पुल के ऊपर से गुज़र रही है और नीचे लोग अपने कपड़े बचाने के लिए खड़े हैं......गाड़ी के गुज़र जाने की प्रतीक्षा में। 

आज अभी हिंदुस्तान अखबार देखी है तो पता चला कि लखनऊ में दो ओव्हर-ब्रिज बनने वाले हैं.........ध्यान यही आया कि वह तो ठीक है, लेकिन क्या इस तरह के पुल का कुछ हो सकता है......सोचने वाली बात यह है कि यह नीचे सड़क पर चलने वालों की कितनी सिरदर्दी है। हर बार रूको....जब भी गाड़ी गुज़र रही हो, वरना मैला, शोच और थूक पीप से अपना दिन खराब करने का रिस्क मोल लो। 

हां, यार, एक बात और........लखनऊ में यही पुल एक ऐसा पुल नहीं है.......वैसे तो मैं लखनऊ को ज्‍यादा जानता नहीं हूं, लेकिन इस तरह के पुल मैंने लखनऊ के आलमबाग एरिया में भी देखे.....शायद मवैया एरिया के आसपास।

इस से पहले मेरा कभी इस और ध्यान ही नहीं गया है..........कभी आप भी लखनऊ आईए तो इन से सावधान रहिएगा, फिर न कहिएगा कि किसी ने सचेत नहीं किया था........वैसे तो यह झंझट केवल दो पहिया वाहनों पर और पैदल चलने वाले के लिए ही है। 

पता नहीं इस समय सड़क की बातें करते करते यह आशा फिल्म का यह गीत कहां से ध्यान में आ गया.....शायद १९८० में देखी थी यह फिल्म......गीत भी बड़ा पापुलर हुआ था....लीजिए सुनिए ......यह भी सड़क की ही बात कर रहा है...... लेकिन बातें यह सारी की सारी सही कह रहा है.....ये हंसते हैं लेकिन दिल में....यह गाते हैं लेकिन महफिल मे...........हम जीते हैं ये पलते हैं........


मां तुझे सलाम....

मेरी मां पिछले तीन चार दिनों से अपनी बुक-शेल्फ को ठीक करने में व्यस्त दिख रही थीं।

उन्होंने कल सभी किताबों की एक सूची तैयार की होगी।

अभी अभी बताने लगीं कि वह दो लिस्टें बनाना चाहती थीं और इसलिए दो कागज़ के पन्नों के बीच एक कार्बन भी रखा था लेकिन नीचे वाले पन्ने पर कुछ भी लिखा नहीं आया।

जैसा कि मेरे जैसे लोग ओव्हर-कॉन्फिडैंट और ओव्हर क्लेवर भी समझते हैं अपने आप को.......मुझे यही लगा कि उन्होंने दो पन्नों के बीच कार्बन को गलत तरीके से रख दिया होगा, और मैंने उन से भी यही कहा।

वैसे यह गलती मैं भी कईं बार करता हूं और लिखने से पहले पेन को ऐसे ही घिसा कर चेक भी कर लिया करता हूं कि नीचे वाले कागज़ पर भी छप रहा है कि नहीं। बॉय-चांस उन के हाथ में वे दो पन्ने और कागज़ थे, मैंने उन से लिए और अपने नाखून से ऊपर वाले पन्ने पर कुछ लिखना चाहा......नीचे वाले पन्ने पर नहीं आया तो मुझे लगा कि हां, यह कार्बन ही उल्टा पड़ा था।

मैंने फुर्ती से कार्बन पल्टा, नाखून से ऊपरी पन्ने पर कुरेदना चाहा तो भी नीचे वाले पन्ने पर कुछ नहीं आया।
इतने में मेरी मां कहती हैं कि कार्बन तो जैसे मैंने रखा था वैसे ही रखेंगे तो ही ठीक आएगा.........मैं भी यही समझा। लेकिन मां ने आगे बताया कि हां, मुझे लगता है कि लिखना ज़ोर से जाना चाहिए था। मैं भी उन की बात से सहमत हो गया... लेकिन मुझे एक बात और भी लगी कि जिस कागज़ के पन्ने पर वे लिस्ट तैयार कर रही थीं वह कुछ था भी मोटे किस्म का, इसलिए भी नीचे वाले कागज पर प्रिंट नहीं आया होगा।

बहरहाल, यह अभी अभी का किस्सा सिर्फ़ हम सब को याद दिलाने के लिए कि सारी माताएं कितनी सीधी होती हैं, बिल्कुल बच्चों जैसे होती हैं।

मेरी मां के बारे में चंद बातें....... मैं पचास की उम्र पार कर गया हूं लेकिन आज तक उन्होंने कभी भी मेरे ऊपर हाथ नहीं उठाया, यार, हाथ उठाना तो दूर कभी मुझे झिड़का तक नहीं... शायद यही कारण है कि मैं भी अपने बच्चों के साथ कुछ वैसा ही हूं। लेकिन मैं ऐसा नहीं कह सकता हूं कि मैंने अपने बच्चों पर हाथ नहीं उठाया-- दो एक बार तो मैंने कभी उन की चंपी की ही थी.......लेकिन वे शायद भूल चुके हैं या भूलने का नाटक करते हैं जब कहते हैं कि पापा ने हमें कभी नहीं मारा।

वैसे मेरे पिता जी ने मुझे एक बार थप्पड़ मारा था.....बस केवल एक बार, मैं बार बार उन के सिगरेट के पैकेट को कुर्सी से नीचे गिरा रहा था ...मुझे अच्छे से याद है, पांच-छः वर्ष का रहा होऊंगा।

अच्छा, मां की एक और तारीफ़........मुझे नहीं याद कि स्कूल, कॉलेज और बेरोज़गारी के चंद महीनों के दौरान मैंने अपनी मां से कुछ रूपयों की फरमाईश की हो और उस ने अपनी अलमारी के किसी कोने में पड़े वे पैसे मुझे खुशी खुशी न दिए हों। मेरे पिता जी ने भी मेरी किसी भी फरमाईश को नहीं टाला, कभी भी नहीं। कभी यह भी याद नहीं कि मैं मां के साथ बाज़ार गया होऊं और किसी भी चीज़ के मेरा मन मचल गया हो और मां ने वह तुरंत न दिलाई हो......चाहे वह गन्ने का रस, आईसक्रीम या कोई खिलौना, कुछ भी।

एक बात और, कभी भी कुछ भी कहा वह बात हमेशा मान ली......कभी भी कोई किंतु-परंतु नहीं। अगर कहीं जाने के लिए कह दो, तो ठीक.......कहीं न जाने का बहाना मैं बना दूं तो भी वे बिल्कुल राज़ी। हर बात में हां में हां मिलाने वाली मां...........शायद इस देश की सारी माताएं मेरी मां जैसी ही होती होंगी।

और एक बार, कभी नहीं याद कि कुछ खाने की इच्छा ज़ाहिर की हो, और इस मां ने रात में उठ कर भी वह न बनाया हो। स्कूल जाने से पहले दही-परांठे का नाश्ता उन अंगीठी के दिनों में भी, स्कूल के लिए लंच में परांठे और सब्जी, चार-पांच बजे घर आ कर गर्मागर्म खाना.. ये सब काम हर दिन करना उन की दिनचर्या में शामिल रहा और सब से बड़ी बात हंस हंस कर........अब क्या क्या लिखूं यार।

हर एक की बात में आ जाना........उस दिन मेरा छोटा बेटा अपनी दादी से बात कर रहा था......बीजी, हुन केले दर्जन विच दस ही मिलदे ने। और मुझे यह जान कर इतनी हैरानी हुई कि वे इस बात से हैरान तो हुई लेकिन उन्होंने उस की बात मान ली.........बाद में उसने बता दिया कि वह मजाक कर रहा था। मुझे खोसला का घोंसला फिल्म का वह संवाद बहुत अच्छा लगता है कि बच्चों की बातों में आने की कोई उम्र नहीं होती।

यार, ऐसे तो लिखता ही जाऊंगा....... फिर कभी...........लेकिन एक बात का विचार आ रहा है कि हम अपने मां-बाप से जिस तरह का बर्ताव पाते हैं.......वही शायद हम फिर अपनी ज़िंदगी में अपने संपर्क में आने वाले लोगों में बांटते चले जाते हैं... क्या मैं ठीक कह रहा हूं?

वैसे मेरी मां अपना एक ब्लॉग भी लिखती हैं.......आप यहां इसे देख सकते हैं.....क्या कहूं, क्या न कहूं?

पेशे-खिदमत है सभी मांओं की महानता को समर्पित पंजाब का यह सुपर-टुपर गीत..........उस गायकी की बादशाह कुलदीप मानक की आवाज़ में.........मां हुंदी ए मां ओ करमा वालेयो..........