Saturday, September 26, 2009

जब चिकित्सा-कर्मी ही बीमारी परोसने लगे …

अभी उस दिन ही हम लोग चर्चा कर थे चीन में कुछ लोगों की पागलपंथी की जिन्होंने एच.आई.व्ही दूषित सिरिंज से हमला कर के आतंक फैला रखा है।
और आज डेनवर कि यह खबर दिख गई कि वहां के एक अस्पताल के सर्जीकल विभाग में एक 26 वर्षीय चिकित्सा-कर्मी को बीस साल की सजा हो गई है।
इस का दोष ? –इस महिला ने उस अस्पताल में दाखिल दर्जनों लोगों को हैपेटाइटिस-सी इंफैक्शन की “सौगात” दे डाली। इस न्यूज़-रिपोर्ट में यह भी दिखा कि यह अस्पताल में भर्ती मरीज़ों की दर्द-निवारक दवाईयां पार कर जाया करती थी।
और फिर उन के सामान में हैपेटाइटिस-सी संक्रमित सिरिंज सरका दिया करती थी---यह महिला स्वयं भी हैपेटाइटिस-सी से संक्रमित थी।
यह तो ऐसी बात है जिस की कभी कोई मरीज़ शायद कल्पना भी नहीं कर सकता। मैं सोच रहा हूं कि दुनिया में हर देश की, हर समुदाय की अपनी अलग सी ही समस्यायें हैं---हमारे देश का मीडिया अकसर दिखाता रहता है कि किस तरह से दूषित रक्त का धंधा चल रहा है –—देश में कुछ जगहों पर कमरों में लोगों ने अवैध रक्त-बैंक ( रक्त की दुकानें) की दुकानें खोल रखी हैं।
और अमीर देशों की हालत देखियें कि वहां पर वैसे तो वैसे तो कानूनी नियंत्रण कितने कड़े हैं लेकिन वहां भी अगर बाड़ ही खेत को खाने पर उतारू हो जाये तो ……..!
हैपेटाइटिस-सी 
हैपैटाइटिस-सी की बीमारी एक खतरनाक बीमारी है जिस के फैलने का रूट हैपेटाइटिस बी जैसा ही है ---दूषित रक्त, दूषित सिरिंजों, संक्रमित व्यक्ति के विभिन्न शारीरिक द्व्यों ( body fluids of the infected individuals) जिन में वीर्य, लार आदि सम्मिलित हैं। इस से संक्रमित व्यक्ति से यौन संबंधों के द्वारा भी इस का संचार होता है।
हैपेटाइटिस सी से संबंधित जानकारी इस पेज पर पड़ी हुई है।
और दूषित रक्त में जो हैपैटाइटिस सी का मुद्दा है उसके बारे में यह कहा जाता है कि हमारे यहां तो ब्लड-बैंकों में इस टैस्ट को अनिवार्य किये हुये तो कुछ ही समय हुया है ----इस का मतलब उस से पहले सब कुछ राम भरोसे ही चल रहा था –लेकिन इस बीमारी के कुछ पंगे ये हैं कि इस से बचाव का अभी तक कोई टीका नहीं है और शरीर में इस बीमारी के कईं कईं वर्षों तक कोई लक्षण ही नहीं होते।

एक ग्राम कम नमक से हो सकती है अरबों ड़ॉलर की बचत !

अमेरिकी लोग अगर रोज़ाना लगभग साढ़े तीन ग्राम नमक की बजाये लगभग अढ़ाई ग्राम नमक लेना शुरू कर दें तो वहां पर 18 बिलियन डॉलरों की बचत हो सकती है।
केवल बस इतना सा नमक कम कर देने से ही वहां पर हाई-ब्लड-प्रैशर के मामलों में ही एक सौ दस लाख मामलों की कमी आ जायेगी। यह न्यू-यॉर्क टाइम्स की न्यूज़ रिपोर्ट मैंने आज ही देखी।
ऐसा कुछ नहीं है कि वहां अमेरिका में यह सिफारिश की जा रही है और भारत में कुछ और सिफारिशें हैं। हमारे जैसे देश में जहां वैसे ही विशेषकर आम आदमी के लिये स्वास्थ्य संसाधनों की जबरदस्त कमी है ---ऐसे में हमें भी अपनी खाने-पीने की आदतों को बदलना होगा।
जबरदस्त समस्या यही है कि हम केवल नमक को ही नमकीन मानते हैं। यह पोस्ट लिखते हुये सोच रहा हूं कि नमक पर तो पहले ही से मैंने कईं लेख ठेल रखे हैं ---फिर वापिस बात क्यों दोहरा रहा हूं ?
इस सबक को दोहराने का कारण यह है कि इस तरह की पोस्ट लिखना मेरे खुद के लिये भी एक जबरदस्त रिमांइडर होगा क्योंकि मैं आचार के नमक-कंटैंट को जानते हुये भी रोज़़ इसे खाने लगा हूं और नमक एवं ट्रांस-फैट्स से लैस बाकी जंक फूड तो न के ही बराबर लेता हूं ( शायद साल में एक बार !!) लेकिन यह पैकेट में आने वाला भुजिया फिर से अच्छा लगने लगा है जिस में खूब नमक ठूंसा होता है।
और एक बार और भी तो बार बार सत्संगों में जाकर भी तो हम वही बातें बार बार सुनते हैं लेकिन इस साधारण सी बातों को मानना ही आफ़त मालूम होता है, ज़्यादा नमक खाने की आदत भी कुछ वैसी ही नहीं हैं क्या ?
इसलिये इस पर तो जितना भी जितनी बार भी लिखा जाये कम है ---एक छोटी सी आदत अगर छूट जाये तो हमें इस ब्लड-प्रैशर के हौअे से बचा के रख सकती है।

Tuesday, September 22, 2009

ताकत से लैस हैं ये खाद्य-पदार्थ – 2. अंकुरित दालें

कच्चे खाने ( raw food) पर लिखी गई एक बहुत ही बढ़िया इंगलिश की किताब मैंने पढ़ी थी – Raw Energy –अभी भी मेरे पास पड़ी होगी कहीं किताबों के ढेर में । मैं इस में लिखी बातों से बहुत प्रभावित भी हुआ और उन से इत्तफाक भी रखता हूं।

इस किताब में कच्चे खाने की सिफारिश करते हुये बार बार यह कहा गया है कि धीरे धीरे हमें अपने खाने में कच्चे खाने को अधिक से अधिक जगह देना चाहिये। उन दिनों मैं बंबई में सिद्ध समाधि योग (turning point in my life !!) के प्रोग्रामों में भी जाया करता था –इसलिये इस किताब में लिखी बातों ने मेरे ऊपर बहुत असर किया।

दरअसल पका हुया खाने के चक्कर में हम लोग पहले तो बेशकीमती विटामिन और खनिज तत्व गंवा बैठते हैं और फिर बाद में विटामिनों की गोलियां निगल कर इन की भरपाई करने का विफल प्रयास करते रहते हैं।

हम अकसर थोड़ा बहुत सलाद खा कर ही इत्मीनान कर लेते हैं -- मुझे याद है हम लोग जिस योग-क्लास में जाया करते थे वहां पर Raw food तैयार करवा कर हमें खिलाया जाता था। हमें बार बार यह भी कहा जाता था कि जब आप कच्चा खाना खा रहें हैं तो आप को इस बात का ज़्यादा ध्यान रखने की ज़रूरत नहीं होती कि कहीं आप ओव्हर-ईटींग तो नहीं कर रहे, और आप जितना चाहे खा लें, ज़्यादा कैलोरी की चिंता करने की भी आफ़त नहीं।

 

चलिये, आज के विषय पर लौटते हैं – अंकुरित दालें ---इन की जितनी भी प्रशंसा की जाये उतनी ही कम होगी। मैं जिस किताब की बात कर रहा हूं उस में इन अंकुरित दालों एवं अनाजों को पावर-डायनैमो ( sprouts are compared to power dynamos). आप स्वयं अंदाजा लगा सकते हैं कि ये कितनी अथाह शक्ति का स्रोत होंगे।

मैं जितनी बार भी अपने किसी मरीज़ को अंकुरित दालें आदि खाने की सलाह देता हूं तो मुझे यही जवाब मिलता है कि हां, हां, कभी कभी खाते हैं। लेकिन आगे पूछने पर पता चलता है कि वे इन अंकुरित दालों को भी पका कर ही कभी कभी खाते हैं। यह पूछने पर कि क्या इन अंकुरित दालों को बस ऐसे ही बिना पकाये खाया है, तो लगभग हमेशा यही जवाब मिला है कि यह तो हम से नहीं हो पाता।

क्या आपने कभी अंकुरित दालें आदि बिना पकाये खाई हैं ? मैंने पिछले 15 सालों में खूब खाई हैं। कैसे  ? --- लगभग आधी कटोरी अगर आप ले कर उस में थोड़ा सा नींबू डाल लें तो आराम से खाया जाता है। और फिर सेहत के लिये थोड़ा स्वाद का ध्यान तो छोड़ना ही होगा। वैसे, अगर आप को इन्हें खाने में दिक्तत सी आये तो आप इन के दो-चार चम्मच लेने से शूरूआत कर सकते हैं।

स्वाद के लिये जहां तक इन में नमक डालने की बात है, किसी भी उम्र के लिये उस की सिफारिश नहीं की जा सकती क्योंकि इस से यू ही उच्च रक्तचाप होने की संभावना बढ़ती है----इसलिये जितना नमक कम लिया जाये उतना ही बेहतर है। अकसर बच्चों के भी बचपन में ही स्वाद डिवैल्प होते हैं इसलिये उन्हें भी बचपन से ही जितना हो सके किसी तरह कम  नमक-मिर्ची वगैरह की ही आदत डाली जाये तो उम्र भर सेहतमंद रहेंगे।

वैसे मुझे याद हैं जब मैंने 1994 में अंकुरित दालों आदि को खाना शूरू किया तो मेरे को भी थोड़ी कठिनाई तो होती थी ---- लेकिन हमारे उस बंबई वाले ग्रुप में जब सभी खाते थे तो फिर आराम से यह सब हो जाता था और जब हमें वीकएंड-रिट्रीट के लिये बंबई के पास मुरबाड आश्रम ले कर जाया जाता था तो वहां तो हमें पूरा कच्चा खाना ( raw food) ही दिया जाता था।

और मैंने जिन अंकुरित दालों आदि को खूब खाया है और आज कल भी अकसर खाता ही हूं वे हैं साबुत मूंग की दाल ( हरी, छिलके वाली दाल), मसर की दाल आदि, मेथी दाना भी अकुरित कर के कईं बार खाया है। वैसे कहते तो हमें कईं तरह के अनाज को अंकुरित कर  के खाने को भी थे लेकिन वह पता नहीं कभी हो नहीं पाया।

अनुभव के आधार पर भी कह सकता हूं कि ये अंकुरित दालें आदि तो पावर-डायनैमो ही हैं। इन का नियमित सेवन बेइंतहा फायदेमंद है ----इन के क्या क्या गुण गिणायें ? अगर आप ने अभी तक ट्राई नहीं किया तो अभी शूरू करिये। अगर शूरू शूरू में दिक्तत लगे तो आप इन्हें दाल-रोटी के साथ उस तरह से इस्तेमाल कर सकते हैं जिस तरह कभी कभी सेव, भुजिया आदि को लेते हैं।

और जो लोग अकेले रहते हैं, होस्टल में रहते हैं या जिन्होंने टिफिन लगा रखा है उन्हें भी ये अंकुरित बहुत रास आयेंगे। इन्हें तैयार करने में कोई विशेष ताम-झाम की भी ज़रूरत नहीं होती। आसानी से सब हो जाता है। बस इन का सेवन करने की इच्छा होनी चाहिये।

मुझे ध्यान आ रहा है कि हमें उस योग क्लास में कभी कभी इन अंकुरित दालों को पानी में भिगाये हुये पोहे में डाल कर भी दिया जाता था जिन में कच्ची गाजर आदि को भी कद्दूकश कर के डाला होता था और थोड़ा गुड़ भी ----सचमुच वे दिन भी क्या दिन क्या थे !!

और हां, इसे पढ़ने के बाद आप अंकुरित अनाज के अपने अनुभव बांटिये जिन के इस्तेमाल का मुंझे कोई खास अनुभव नहीं है।

ताकत से लैस हैं ये खाद्य-पदार्थ –1. आंवला

 

Photo Courtesy : berrydoctor.com

आज का मानव क्यों इतना थका सा है, परेशान सा है, हर समय क्यों उसे ऐसे लगता है कि जैसे शरीर में शक्ति है ही नहीं? अन्य कारणों के साथ इस का एक अहम् कारण है कि हम लोगों ने अपनी सेहत को बहुत से हिस्सों में बांट दिया जाता है या कुछ स्वार्थी हितों ने हमें ऐसा करने पर मजबूर कर दिया है।

जहां तक ताकत के लिये इधर उधर भागने की बात है, ये सब बेकार की बातें हैं, इन में केवल पैसे और सेहत की बरबादी है। हम लोग अपनी परंपरा को देखें तो हमारे चारो और ताकत से लैस पदार्थ बिखरे पड़े हैं, लेकिन हम क्यों इन को सेवन करने से ही कतराते रहते हैं !!

चलिये, आज मैं आप के साथ इन ताकत से लैस खाने-पीने वाली वस्तुओं के बारे में अपने अ्ल्प ज्ञान को सांझा करता हूं---निवेदन है कि इस लेख की टिप्पणी के रूप में दूसरे अन्य ऐसे पदार्थों का भी आप उल्लेख करें जिन के बारे में आप भी कुछ कहना चाहें। 

आंवला --- या अमृत फल ?

  अब आंवले की तारीफ़ के कसीदे मैं पढूं और वह भी आप सब गुणी लोगों के सामने तो वह तो सूर्य को दीया दिखाने वाली बात हो जायेगी।

सीधी सी बात है कि हज़ारों साल पहले जब श्रषियों-मुनियों-तपी-तपीश्वरों ने कह दिया कि आंवला तो अमृत-फल है तो मेरे ख्याल में बिना किसी तरह के सोच विचार के उसे मान लेने में ही बेहतरी है।

अब, कोई यह पूछे कि आंवला खाने से कौन कौन से रोग ठीक हो जाते हैं ----मुझे लगता है कि अगर यह प्रश्न इस तरह से पूछा जाये कि इस का सेवने करने से कौन कौन से रोग ठीक नहीं होते हैं, यह पूछना शायद ज़्यादा ठीक रहेगा।

वैसे भी हम लोग बीमारी पर ही क्यों बहुत ज़्यादा केंद्रित हो गये हैं –हम शायद सेहत पर केंद्रित नहीं हो पाते ---हम क्यों बार बार यही पूछते हैं कि फलां फलां वस्तु किस किस शारीरिक व्याधि के लिये ठीक रहेगी, हमें पूछना यह चाहिये कि ऐसी कौन सी चीज है जो हमें एक दम टोटली फिट रखेगी।और यह आंवला उसी श्रेणी में आने वाला कुदरत का एक नायाब तोहफ़ा है।

इसे सभी लोग अपने अपने ढंग से इस्तेमाल करते हैं---ठीक है किसी भी रूप में यह इस्तेमाल तो हो रहा है। मैं अकसर  तीन-चार रूपों में इस का सेवन करता हूं ----जब इस सा सीजन होता है और बाज़ार में ताजे आंवले मिलते हैं तो मैं रोज़ एक दो कच्चे आंवलों को काट कर खाने के साथ खाता हूं ---जैसे स्लाद खाया जाता है, कुछ कुछ वैसे ही।

और कईं बार सीजन के दौरान इस का आचार भी ले लेता हूं --- और अब बाबा रामदेव की कृपा से आंवला कैंड़ी भी ले लेता हूं ----बच्चों के लिये तो ठीक है लेकिन फ्रैश आंवला खाने जैसी बढ़िया बात है ही नहीं।

और कुछ महीनों के लिये जब आंवले बाज़ार से लुप्त हो जाते हैं तो मैं सूखे आंवले के पावडर का एक चम्मच अकसर लेता हूं ---बस आलसवश बहुत बार नहीं ले पाता हूं।

बाज़ार में उपलब्ध तरह तरह के जो आंवले के प्रोडक्टस् मिलते हैं मैं उन्हें लेने में विश्वास नहीं करता हूं ----क्योंकि मुझे उन्हें लेने में यही शंका रहती है कि पता नहीं कंपनी वालों ने उस में क्या क्या ठेल ऱखा हो !! इसलिये मैं  स्वयं भी यह सब नहीं खरीदता हूं और न ही अपने किसी मरीज़ को इन्हें खरीदने की सलाह देता हूं। इस मामले में शायद आंवले का मुरब्बा एक अपवाद है लेकिन जिस तरह से वह अब बाज़ार में खुला बिकने लगा है, उस के बारे में क्या कहें, क्या ना कहें !

हमारे एक बॉस थे --- वे कहते थे कि उन के यहां तो आंवले के पावडर को सब्जी तैयार करते समय उसमें ही मिला दिया जाता है --- लेकिन पता नहीं न तो मैं इस से कंविंस हुआ और न ही घर में इस के बारे में एक राय बन पाई।

अगर किसी को  अभी तक आंवला खाने की आदत नहीं है और झिझक भी है कि इसे कैसे खाया जायेगा तो आंवला कैंडी से शुभ शूरूआत करने के बारे में क्या ख्याल है ?

Monday, September 21, 2009

ग्लूकोज़ की बोतल भी देती है ताकत !!

पिछले पोस्ट में हम लोग कुछ ताकत की दवाईयों की चर्चा कर रहे थे ---कुछ दवाईयां तो छूट ही गईं। ग्लूकोज़ की बोतल, ग्लूकोज़ पावडर,कैल्शीयम की गोलियां, और खाने में मछली, चिकन-सूप, चिकन एवं मांसाहारी आहार.

ग्लूकोज़ की बोतल वाली ताकत

---बहुत से लोगों से अकसर नीम-हकीम इस ग्लूकोज़ की बोतल के द्वारा ताकत दिलाने का झूठा विश्वास दिला कर तीन-चार सौ रूपये ऐंठ लेते हैं, लेकिन ताकत कहां से आयेगी !

दरअसल अभी भी देश में यही सोच है कि अगर किसी भी कारण से कमज़ोरी सी लग रही है तो एक-दो शीशी ग्लूकोज़ की चड़वाने से यह छू-मंतर हो जायेगी।

लेकिन ग्लूकोज़ चढ़ाने के लिये क्वालीफाईड चिकित्सकों के अपने कारण होते हैं--- administration of intravenous fluids has got its own indications. लेकिन मरीज़ की फरमाईश पूरी करने के चक्कर में कईं बार बहुत पंगा हो जाता है।

ग्लूकोज़ की बोतल चढ़ाने के लिये बहुत से कारण है---कईं बार उल्टी-द्स्त किसी को इतने लग जायें कि शरीर में पानी की कमी सी होने लगे (डि-हाईड्रेशन) तो भी इस के द्वारा शरीर में शक्ति पहुंचाई जाती है।

ग्लूकोज़ का पैकेट

--- अकसर ग्लूकोज़ के पैकेट का भी कुछ लोगों में बहुत क्रेज़ है । बिना किसी विशेष कारण के ही यह पैकेट खरीद कर पिलाना शूरू कर दिया जाता है।

बात यह है कि यह भी डाक्टर की सलाह के अनुसार ही खरीदा जाना चाहिये। एक बात का विशेष ध्यान रखें कि कभी भी डाक्टर से अपनी तरफ़ से अलग अलग चीज़ों के नाम जैसे कि ग्लूकोज़ का पावडर आदि मरीज़ को पिलाने की बात स्वयं न करें। अगर ज़रूरत होगी तो वह स्वयं ही बता देगा।

अगर अपनी मरजी से पिला रहे हैं तो फिर चीनी पीस कर ही पानी में निंबू-नमक के मिश्रण के साथ पिला दें।

कैल्शीयम की गोलियां

--- एक तो इन कैल्शीयम की गोलियों का बहुत बड़ा क्रेज़ है लेकिन इस में भी यह देखा गया है कि जिस वर्ग  को ये मिलनी ज़रूरी होती हैं वे ही नहीं खा पाते। और जिन को ज़रूरत नहीं होती वे फिज़ूल में छकते रहते हैं और अपने आप को शरीर में ज़्यादा कैल्शीयम जमा होने के दुष्परिणामों से कईं बार बचा नहीं पाते।

सब से पहली तो यह बात है कि आहार संतुलित होना बहुत ही ज़रूरी है----लेकिन पता नहीं क्यों मुझे मंहंगाई की वजह से और समाज में व्याप्त खाने से संबंधित भ्रांतियों की वजह से यह सलाह देनी कईं बार बहुत घिसी-पिटी सी लगती है, लेकिन फिर भी देनी तो पड़ती ही है।

दरअसल यहां लैपटाप पर कोई सेहत के विषय पर पोस्ट लिखनी बहुत आसान सी बात है लेकिन वास्तविकता उतनी ही भयानक है। आज जिस तरह का मिलावटी, कैमीकल दूध जगह जगह पकड़ा जा रहा है , ऐसे में कैसे मान लें कि दूध में कैल्शीयम होगा ही -------इस का क्या कहें, लेकिन बस यूरिया, डिटरजैंट, और तरह तरह के कैमीकल न हों तो गनीमत समझिये।

दूसरा मेरा व्यक्तिगत विश्वास है कि ये अगर किसी को ये कैल्शीयम आदि लेने के लिये कहा भी जाये तो बढ़िया कंपनी का खरीदना चाहिये ---चालू किस्म की कंपनियां क्या करती होंगी, इस का अनुमान भली-भांति लगाया जा सकता है।

अगली पोस्ट में देखेंगे कि कौन कौन से खाद्य पदार्थ ताकत के वास्तविक भंडार हैं।

इन्हें भी देखें ---

ताकत की दवाईयां –कितनी ताकतवर ?

ताकत की दवाईयों की लिस्ट

 

Saturday, September 19, 2009

ताकत की दवाईयों की लिस्ट

इस तरह की दवाईयों की लिस्ट यहां देने से पहले यह कहना उचित होगा कि ऐसी कोई भी so-called ताकत की दवा है ही नहीं जो कि एक संतुलित आहार से हम प्राप्त न कर सकते हों, वो बात अलग है कि आज संतुलित आहार लेना भी विभिन्न कारणों की वजह से बहुत से लोगों की पहुंच से दूर होता जा रहा है।

जो लोग संतुलित आहार ले सकते हैं, वे महंगे कचरे ( जंक-फूड – पिज़ा, बर्गर,  ट्रांसफैट्स से लैस सभी तरह का डीप-फ्राईड़ खाना आदि) के दीवाने हो रहे हैं, फूल कर कुप्पा हुये जा रहे हैं  और फिर तरह तरह की मल्टी-विटामिन की गोलियों में शक्ति ढूंढ रहे हैं। दूसरी तरफ़  जो लोग सीधे, सादे हिंदोस्तानी संतुलित एवं पौष्टिक आहार को खरीद नहीं पाते हैं , वे डाक्टरों से सूखे हुये बच्चे के लिये टॉनिक की कोई शीशी लिखने का गुज़ारिश करते देखे जाते हैं।

मैं जब कभी किसी कमज़ोर बच्चे को, महिला को देखता हूं और उसे अपना खान-पान लाइन पर लाने की मशवरा देता हूं तो मुझे बहुत अकसर इस तरह के जवाब मिलते हैं ----

क्या करें किसी चीज़ की कमी नहीं है, लेकिन इसे दाल-सब्जी से नफ़रत है, आप कुछ टॉनिक लिख दें, तो ठीक रहेगा।

( कुछ भी ठीक नहीं रहेगा, जो काम रोटी-सब्जी-दाल ने करना है वे दुनिया के सभी महंगे से महंगे टॉनिक मिल कर नहीं कर सकते)

--इसे अनार का जूस भी पिलाना शूरू किय है, लेकिन खून ही नहीं बनता ..

(कैसे बनेगा खून जब तक दाल-सब्जी-रोटी ही नहीं खाई जायेगी, यह कमबख्त अनार का जूस भर-पेट खाना खाने के बिना कुछ भी तो नहीं कर पायेगा)

विटामिन-बी कंपैल्कस विटामिन

--- जितना इस ने लोगों को चक्कर में डाला हुआ है शायद ही किसी ताकत की दवाई ने डाला हो। किसी दूसरी पो्स्ट में देखेंगे कि आखिर इस का ज़रूरत किन किन हालात में पड़ती है। इस में मौजूद शायद ही कोई ऐसा विटामिन हो जो कि संतुलित आहार से प्राप्त नहीं किया जा सकता। अपने आप ही कैमिस्ट से बढ़िया सी पैकिंग में उपलब्ध ये विटामिन आदि लेना बिल्कुल बेकार की बात है।

किसी दूसरे लेख में यह देखेंगे कि आखिर इस विटामिन की गोलियां किसे चाहिये होती हैं ?

डाक्टर, बस पांच लाल टीके लगवा दो !!

एक तो डाक्टर लोग इन लाल रंग के टीकों से बहुत परेशान हैं। क्या हैं ये टीके----इन टीकों में विटामिन बी-1, बी –6 एवं बी –12 होता है और कुछ परिस्थितियां हैं जिन में डाक्टर इन्हें लेने की सलाह देते हैं। लेकिन पता नहीं कहां से यह टीके ताकत के भंडार माने जाने लगे हैं, यह बिल्कुल गलता धारणा है।

अकसर मरीज़ यह कहते पाये जाते हैं कि मैं तो हर साल बस ये पांच टीके लगवा के छुट्टी करता हूं। बस फिर मैं फिट ------- आखिर क्यों मरीज़ों को ऐसा लगता है, यह भी चर्चा का विषय है।

मैं खूब घूम चुका हूं और अकसर बहुत कुछ आब्ज़र्व करता रहता हूं ----इस तरह की ताकत की दवाईयों की लोकप्रियता के पीछे मरीज़ कसूरवर इस लिये हैं कि जब उन्होंने कसम ही खा रखी है कि डाक्टर की नहीं सुननी तो नहीं सुननी। अगर डाक्टर मना भी करेगा तो क्या, वे कैमिस्ट से खरीद कर खुद लगवा लेंगे। और दूसरी बात यह भी है कि शायद कुछ चिकित्सकों में भी इतनी पेशेंस नहीं है, टाइम नहीं है कि वे सभी ताकत के सभी खरीददारों से खुल कर इतनी सारी बातें कर पाये। इमानदारी से लिखूं तो यह कर पाना लगभग असंभव सा काम है -----वैसे भी लोग आजकल नसीहत की घुट्टी पीने में कम रूचि रखते हैं, उन्हें भी बस कोई ऐसा चाहिये जो बस तली पर तिल उगा दे-----वो भी तुरंत, फटाफट !!

जिम में मिलने वाले पावडर

---- कुछ युवक जिम में जाते हैं और वहां से उन्हें कुछ पावडर मिलते हैं ( जिन में कईं बार स्टीरायड् मिले रहते हैं) जिन्हें खा कर वे मेरे को और आप को डराने के लिये बॉडी-वॉडी तो बना लेते हैं लेकिन इस के क्या भयानक परिणाम हो सकते हैं और होते हैं ,इन्हें वे सुनना ही नहीं चाहते। अगर इन के बारे में जानना हो तो कृपया आप Harmful effects of anabolic steroids लिख कर गूगल-सर्च करिये।

अगर कोई किसी तरह के सप्लीमैंट्स लेने की सलाह देता भी है तो पहले किसी क्वालीफाईड एवं अनुभवी डाक्टर से ज़रूर सलाह कर लेनी चाहिये।

संबंधित पो्स्टें

मूंगफली खाने पर प्रतिबंध

पिस्ते की गिरि

पौरूषता बढ़ाने वाले सप्लीमैंट्स 

Friday, September 18, 2009

ताकत की दवाईयां --कितनी ताकतवर ?

अगर ताकत की दवाईयों में ज़रा सी भी ताकत होती तो चिकित्सक सब से ज़्यादा ताकतवर होते -- लेकिन ऐसा नहीं लगता। जब दिन में कितने ही मरीज़ किसी डाक्टर से यह पूछें कि डाक्टर साहब, ताकत के लिये भी कुछ लिख दीजिये, तो खीज की बजाए दया आती है इस तरह के प्रश्न करने वाले पर।
क्योंकि सच्चाई तो यही है कि इन ताकत की दवाईयों में ताकत होती ही नहीं हैं ---- पहले तो हम लोग यह ही नहीं जानते कि आम आदमी की ताकत की परिभाषा क्या है और यह ताकत वाली दवाई आखिर किस बला का नाम है।

जहां तक मुझे याद है इस ताकत की दवाई का इश्तिहार हम लोग पांचवी-छठी कक्षा में दीवारों पर लिखा देखा करता थे --- क्या ? ताकत के लिये मिलें ---फलां फलां हकीम से।

यह कौन सी ताकत की बात होती होगी यह आप जानते ही हैं --वैसे भी हिंदी के कुछ अखबारों में आजकल इस तरह के विज्ञापन बिछे रहते हैं।

लेकिन यहां पर हम ताकत के इस मसले की बात नहीं कर रहे हैं क्योंकि ये सब बातें पहले काफी हो चुकी हैं। तो फिर आज एक दो कुछ और बातें करते हैं।

इतनी सारी महिलायें कमज़ोरी की शिकायत करती हैं और दूसरी दवाई के साथ कुछ ताकत के लिये भी लिखने के लिये कहती हैं। लेकिन लिखने वाला ज़्यादातर केसों में जानता है कि ये सब ताकत के कैप्सूल, गोलियां दिखावा ही है ---इन से कुछ नही ं होने वाला। हां, अगर महिला में खून की कमी (अनीमिया ) है और उस की तरफ़ ध्यान दिया जाये, उस के शरीर में कैल्शीयम की कमी को पूरा करने की बात हो तो ठीक है, वरना ये तथाकथित ताकत के कैप्सलू, टीके, टैबलेट क्या कर लेंगी ---- केवल मन को दिलासा देने के लिये बस ये सब ठीक हैं।

कुछ मातायें बच्चों के लिये टॉनिक की फरमाईश करती हैं ---- और आप को देखने पर लगता है कि बच्चा तो ठीक ढंग से खाना भी न खाता होगा। ऐसे में क्या करेंगे टॉनिक ?

लेकिन समस्या कुछ हद तक अब यह है कि ये ताकत की दवाईयां अब लोगों के दिलो-दिमाग पर इस कद्र छा चुकी हैं कि इन के बारे में ज़्यादा सच्चाई भी इन्हें नहीं पचती। अगर उन्हें इतनी लंबी चौड़ी नसीहत पिलाने की कोशिश भी की जाती है तो डाक्टर के चैंबर के बाहर जाकर वे उस नसीहत को थूक देते हैं। अगर ऐसा नहीं होता तो लोगों में इन ताकत की शीशियों, इंजैक्शनों एवं कैप्सूलों के बारे में ऐसी राय न देखने को मिलती जैसी कि आज दिख रही है।

अगली पोस्ट में देखेंगे कि आखर ताकत की दवाईयों से भला ताकत ही क्यों गायब है और इस के साथ साथ यह भी जानना होगा कि आखिर ये ताकत की दवाईयां किस बला का नाम है !!

संबंधित पो्स्टें ......

Thursday, September 10, 2009

इंटरनेट पर दवाई खरीदने का पंगा

इंटरनेट पर किस किस तरह की दवाईयां खरीदी जा रही हैं और इन के कितने बुरे प्रभाव पड़ सकते हैं, इसे देखने के लिये बीबीसी न्यूज़ की इस स्टोरी पर क्लिक करें।
ऐसा कहा गया है कि ब्रिटेन में लगभग दो करोड़ लोग इंटरनेट पर दवाईयां खरीदते हैं और फिर इन के दुष्परिणामों से बचने के लिये डाक्टरों के चक्कर काटते रहते हैं।
बिना अपने डाक्टर से बात किये किसी भी दवाई को स्वयं ही ले लेना अच्छा खासा डेयरिंग का काम हैं। मैं अकसर सोचा करता था कि शायद हम लोग ही इतनी डेयरिंगबाज हैं लेकिन यहां तो ….।
एक बात यह भी है कि जो दवाईयां इंटरनेट से खरीदी जाती हैं वे जैन्यून होते हुये भी नुकसान कर सकती हैं कि क्योंकि आम व्यक्ति को न तो उस की खुराक का, न ही अन्य ड्रग-इंटरएक्शनज़ का पता रहता है इसलिये इस काम में बहुत लफड़ा है।
इन दवाईयों में सब तरह की दवाईयां शामिल हैं जैसे कि सैक्स से संबंधित तकलीफ़ों के लिये , वज़न कम करने हेतु और कुछ युवक तो इंटरनेट पर स्टीरॉयड्स जैसी दवाईयां खरीद कर खा रहे हैं और तरह तरह की बीमारियों को बुलावा दे रहे हैं।
जैसे जैसे आज की पीड़ीं नेट पर आश्रित सी हो रही है इस से लगता है कि आने वाले समय में यह ट्रैंड बड़ जायेगा---समय रहते ही समझ जाने में समझदारी है।

अन्य पोस्टें
खुली बिकने वाली दवाईयां
आप भी कहीं नईं दवाईयों से जल्द ही इंप्रैस तो नहीं होते

Wednesday, September 9, 2009

तीस तरह के स्वाईन-फ्लू के वैक्सीन

चीन में सब से पहले स्वाईन-फ्लू का वैक्सीन तैयार हो चुका है और इसी हफ्ते से वहां पर लोगों को यह लगाना शूरू कर दिया जायेगा। वहां पर स्वाईन-फ्लू की स्थिति काफ़ी चिंताजनक है।
चीन में 1 अक्टूबर को उन का नैशनल डे ( National Day) है जिस में लाखों लोग शिरकत करते हैं और उस समारोह में बड़ी बड़ी हस्तियां भी मौजूद रहेंगी –इसलिये किसी तरह का रिस्क नहीं लिया जा सकता।
कल हम लोग वैक्सीन के इस्तेमाल के लिये विभिन्न देशों की अपनी अपनी प्राथमिकताओं की बात कर रहे थे --- चीन ने भी यह निर्णय़ लिया है कि इसी हफ्ते से उन दो लाख के करीब लोगों की वैक्सीन लगा दिया जाये जिन्हें चीनी नेशनल डे समारोह के कार्यक्रम में भाग लेना है।
ये वैक्सीन बनते कैसे हैं ?
मुख्यतः इस तरह का वैक्सीन तैयार करने के लिये वायरस को मुर्गी के अंडे में डाला जाता है और कुछ दिनों पश्चात उस के अंदर से तरल पदार्थ निकाल कर उसे शूद्ध कर लिया जाता है।
The main method is by injecting seed virus into embryonic chicken eggs and harvesting the fluid after several days and purifying it.
वैसे तो वैक्सीन बनाने की दो विधियां हैं--- 90प्रतिशत से भी ज़्यादा इंफ्लूऐंजा वैक्सीन इनऐक्टिवेटिड वैक्सीन ( “inactivated vaccines”) होते हैं –इस का मतलब यह है कि इस तरह का वैक्सीन मृत वायरस से तैयार होता है।
दूसरे तरह के वैक्सीन होते हैं लाइव-एटैनूएटेड ( “live attenuated vaccines) जिन्हें ऐसी एनफ्लुएंजा वॉयरस से बनाया जाता है जो कमज़ोर पड़ी होती है लेकिन मृत नहीं होती।
स्वाईन-फ्लू के तीस तरह के वैक्सीन
लगभग तीस तरह के वैक्सीन तैयार हो रहे हैं। जैसा कि पहले ही कहा गया है कि अधिकतर तो इनऐक्टिवेटिड वैक्सीन ही होंगे। यह जो तरह तरह के वैक्सीन तैयार हो रहे हैं इन को शुद्ध करने की प्रक्रिया अलग अलग है और कुछ में एक एडिटिव ( जिसे एडजुवेंट भी कहा जाता है) भी डाला जाता है ।
इस एडजुवेंट के रहने से वैक्सीन के द्वारा शरीर में ऐंटीबाडीज़ तैयार करने की शक्ति बढ़ जाती है और इसे किल्ड-वैक्सीन ( killed vaccines) में डाला जाता है।
वैक्सीन का दाम
इस वैक्सीन को बनाने वाली कंपनियां विभिन्न देशों के लिये अलग अलग दाम तय करेंगी। अमीर मुल्कों को इस की एक खुराक के लिये 10 से 20 यूएस डालर खर्च करने होंगे जब कि मध्यम वर्गीय देशों को इस का आधा दाम ही भरना होगा। और गरीब मुल्कों को तो उस से भी आधी कीमत में ये वैक्सीन उपलब्ध हो जायेंगे।

इस में तो कोई शक ही नहीं कि किसी देश के भी सभी लोगों को यह वैक्सीन लग नहीं पायेगा। लेकिन ऐसा भी नहीं है कि जनता इस वैक्सीन से हिप्नोटाईज़ ही हो जाये।
वैक्सीन के अलावा भी बहुत सी ऐसी सावधानियां भी तो हैं जिन के द्वारा इस बीमारी से बचा जा सकता है ---जैसे कि लोगों द्वारा आपस में मिलते समय उपर्युक्त दूरी बनाये ( किस को मिस करने का मशवरा !) रखना, किसी एरिया में जब यह ज़्यादा फैल रहा हो तो वहां के स्कूल बंद कर देना, ज़्यादा भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से गुरेज करना, ऐंटीबॉयोटिक दवाईयां और अपनी साफ़-सफ़ाई का पूरा पूरा ध्यान रखना।
किसी भी देश की सारी जनता को यह वैक्सीन दो बार लगाया जा सके, यह अभी तो बिल्कुल असंभव सी बात है।
संबंधित पोस्टें
स्वाईन-फ्लू से बचाव ---लंबा-चौड़ा लफड़ा काहे के लिये ?
स्वाईन-फ्लू ---ये आंकड़े भी ना !!
स्वाईन-फ्लू ---क्यों सब मास्क लगा कर घूम रहे हैं ?

Tuesday, September 8, 2009

स्वाईन-फ्लू से बचाव का टीका


स्वाईन-फ्लू से बचाव का टीका इसी महीने में आ जाने की संभावना है। वल्र्ड हैल्थ आर्गेनाइज़ेशन के अनुसार अब तक तो इस महामारी का प्रकोप मद्दम सा ही रहा है लेकिन आगे जैसे सर्दी का मौसम दस्तक दे रहा है इस महामारी के वॉयरस के अपना रूप बदलने के आसार है ( mutation of the virus) जिस से यह बीमारी उग्र रूप धारण कर सकती है। लेकिन इस में घबराने की कोई बात नहीं है क्योंकि ये सब अनुमान ही है।
क्या यह टीका बाज़ार से खरीदा जा सकेगा ?
शुक्र है कि यह टीका किसी व्यक्ति द्वारा बाज़ार से खरीदा नहीं जा सकेगा, वरना जिस की पहुंच होती वह तो इसे लगवा लेता और जिन लोगों को यह टीका लगना बहुत ही ज़रूरी होता वे इस से वंचित ही रह जाते।
इस टीके के बारे में विभिन्न देशों की सरकारें यह तय करेंगी कि यह उस देश में किन किन लोगों को सब से पहले लगना है।
सभी देशों की सब से पहले प्राथमिकता तो होगी वहां के स्वास्थ्य वर्कर ताकि जिन लोगों ने इस बीमारी से ग्रस्त लोगों की देखभाल करनी है वे स्वयं तो तंदरूस्त रहें।
वैसे कुछ देश यह निर्णय ले सकते हैं कि यह टीका उपलब्ध होते ही छोटे छोटे स्कूल के बच्चों को एवं उन बच्चों को जो अभी प्री-स्कूल में हैं यह टीका लगा दिया जाये क्योंकि ये बच्चे आपस में ज़्यादा सटे रहते हैं।
कुछ देश वहां की गर्भवती महिलायों को सब से पहले सुरक्षा प्रदान करने का निर्णय ले सकते हैं।
जो भी हो, यह सब कुछ टीकों की उपलब्धता पर निर्भर करता है ---समृद्ध देशों ने तो अपने सारे लोगों को टीका लगाने की स्कीम तैयार की हुई है जब कि मध्यम वर्गीय देशों ने 1% से 15-20% लोगों के लिये ही टीके की स्कीम बनाई है।
ऐसा भी नहीं है कि जिन अमीर मुल्कों ने अपनी सारी जनसंख्या को इस से बचा लेने का मनसूबा बनाया हुया है, उन्हें शुरू में ही ऐसा करने का अवसर नहीं मिल पायेगा।
इन टीकों की भी पूरी वैरायिटि है
शायद आप को यह जानकर हैरानगी हो कि तीस तरह के टीके स्वाईन-फ्लू से बचाव के तैयार हो रहे हैं। अब यह सब कैसे हो रहा है, कैसे होते हैं ये तैयार और इन का दाम सरकार को कितना पड़ेगा, इस के बारे मे अगली पोस्ट में बात करेंगे। और यह भी चर्चा करेंगे कि अगर विकासशील देशों को इस की उपर्युक्त खराकें न मिल पाईं तो क्या होगा ?
इसे भी ज़रूर देखें ...
महामारी अब, वैक्सीन सितंबर में

Monday, September 7, 2009

दूषित सिरिंज से हमला करने वालों की पागलपंथी

निःसंदेह यह एक पागलपंथी नहीं तो और क्या है कि दूषित सिरिंज से आम जनता पर हमला किया जाये। आज की दा हिंदु में यह खबर देख कर बहुत ही दुख हुआ कि किस तरह से एच-आई.व्ही संक्रमित सिरिंजों से लोगों पर हमला कर के चीन में 500 से भी ज़्यादा लोगों को आतंकित किया गया है। जी हां, यह एक आतंक ही है, और इस की सख्त से सख्त सज़ा होनी चाहिये। पता नहीं कैसी कैसी पागलपंथी, जूनून लोग पाल लेते हैं।
खबर में आप ने भी पढ़ा ही होगा कि जितने लोग भी इस तरह के हमलों से जृख्मी हुये हैं उन में से किसी को किसी को इंफैक्शन तो नहीं है लेकिन उन के ज़ख्मों का इलाज कर दिया गया है।
मैं इस बात से सहमत नहीं हूं ---क्योंकि मैं इस बात को भली-भांति जानता हूं कि जब किसी व्यक्ति पर इस्तेमाल की गई नीडल किसी को चुभती है तो फिर क्या बीतती है ---मैं तो हैल्थ संस्थानों में इस तरह के हादसों की बात कर रहा हूं लेकिन चीन में तो एक तरह से आतंकी गतिविधि के रूप में किसी सीधे-सादे बंदे के शरीर में दूषित सूईं घोंपी जा रही है।

इस तरह की वारदातों के कुछ ही दिनों के भीतर यह कह देना कि किसी को इन से इंफैक्शन नहीं हुई ---यह उचित नही ंहै। क्योंकि एच-आई-व्ही एवं हैपेटाइटिस बी, सी जैसे इंफैक्शन हैं जिन के बारे में कम से कम इस तरह की चोट लगने के कुछ हफ़्तों बाद ही पता चलता है। इसलिये इस तरह की पागलपंथी को जितना जल्दी हो सके रोका जाना चाहिये।

मैं जानता हूं एक डाक्टर को जिसे किसी मरीज़ को इंजैक्शन लगाते वक्त सूँई चुभ गई थी ---लेकिन जब उस मरीज़ के रक्त की जांच करवाई गई तो उस साथी के पैरों तले से ज़मीन निकल गई थी ----वह मरीज़ एचआईव्ही संक्रमित था। इसलिये तुरंत उस डाक्टर की कुछ हफ़्तों के लिये दवाईयां देनी शुरू की गईं ताकि अगर शरीर में कोई वॉयरस का कण चला भी गया है तो भी उस को जड़ से खत्म कर दिया जाये ----छः महीने तक टैस्ट होते रहे तब जा कर कही ंपता चला कि सब कुछ ठीक ठाक है और इन छः महीनों के दौरान उस डाक्टर की मनोस्थिति मैं ब्यां नहीं कर सकता ।
बार बार ऐसा लिखने का अभिप्रायः केवल इतना ही है कि यह दूषित सिरिंज से हमला करने वाली आतंकी वाले भी खूंखार आतंकी ही हैं ----- और जिस तरह से उस डाक्टर को दवाईयां शूरू की गईं और उस के टैस्ट छः महीने तक चलते रहे, ऐसा इस तरह के आतंकी हमले के हर शिकार के साथ कैसे हो पाता होगा। सब से पहले तो किसी को यह ही नहीं पता होगा कि जिस दूषित सिरिंज से यह वार किया गया था वह किन किन बीमारियों के विषाणुओं से लैस थी ------इसलिये आओ सब मिल कर प्रार्थना करें कि यह इश्वर इन सिरफिरों के दिल में थोड़ी करूणा पैदा करे।
वैसे इन चीनी आतंकियों की बात तो हम ने कर ली, लेकिन सोचने की बात यह भी है कि हमारे ही देश में जो लोग इस डिस्पोज़ेबल सिरिंजों एवं सूईंयों की री-साईक्लिंग करते हैं ---- क्या वे आतंकी नहीं है ? ...क्यों नहीं, ये भी सब के सब आतंकी हैं। चीनियों ने कह दिया की 530 केस हुये है ंपिछले दिनों लेकिन इन री-साईक्लिंग करने वाले दरिंदों के कितने लाखों-करोड़ों लोग शिकार हो चुके होंगे या रोज़ाना होते होंगे, ये आंकड़े किसी भी सरकारी फाइल
में नहीं मिलेंगे ------- इस मुद्दे पर कोई भी सूचना का अधिकार कानून काम ही नहीं करेगा !!

संबंधित पोस्ट

Friday, September 4, 2009

भारत ने किया हैजा-रिवार्ड घोषित

अभी अभी मैं बीबीसी न्यूज़ की साइट देख रहा था --जब मैंने इस तरह की खबर का शीर्षक देखा तो मुझे भी जानने की बहुत उत्सुकता हुई कि यह कैसा रिवार्ड। लिंक पर क्लिक करने पर पता चला कि उड़ीसा के कालाहांडी़ जिले में हैजे के तीन केस मिलने के बाद उड़ीसा के स्वास्थ्य-मंत्री द्वारा यह रिवार्ड घोषित किया गया है।
अब हैजे के किसी मरीज की जानकारी देने वाले को 200 रूपये का इनाम मिलेगा और जो हैजे का मरीज ठीक हो कर अस्पताल से घर जायेगा उसे लौटते हुये कुछ कपड़े एवं 200 रूपये दिये जायेंगे।
इस समाचार को स्वयं पढ़ने के लिये यहां क्लिक करिये।

इस नगद इनाम को देने का कारण यह बताया जा रहा है कि दूर-दराज में रहने वाले लोग इस बीमारी से ग्रस्त होते हुये भी यह समझते रहते हैं कि उन्हें भगवान द्वारा किसी कर्म की सज़ा दी जा रही है और इन सब धारणाओं के रहते वे अस्पताल नहीं आते।