Thursday, March 6, 2008

सिर्फ़ दस रूपये खर्च कर कीजिये बच्चों की सारी टेंशन खल्लास.....


जी हां, सवाल सिर्फ़ दस रूपये के एक नोट का है और आप अपने बच्चे की सारी टेंशन छू-मंतर कर सकते हैं। लेकिन नहीं, मैंने कोई इस तरह का काउंसलिंग का धंधा शुरू नहीं किया है और सर्विस में होने की वजह से ना ही कुछ ऐसा वैसा शुरू कर सकता हूं। तो, सुनिये फिर आप ने ये दस रूपये का नोट किसे थमाना है।

बात ऐसी है कि अभी अभी बाज़ार से लौटा हूं.....दुकान पर बिकते ये पोस्टर देखे। पोस्टर देखते ही माथा ठनका कि हो ना हो ये किसी प्रैक्टीकल की ही तैयारी हो रही है। जब पूछा तो पता चला कि ये पोस्टर आज कल खूब बिक रहे हैं.....ये मैट्रिक के साईंस प्रैक्टीकल के लिए बच्चों को खरीदने पड़ रहे हैं( अच्छी तरह से नोट कर लें इन शब्दों को .....खरीदने पड़ रहे हैं) ....। मज़े की बात तो यह भी है कि इन को किताबों की दुकान से खरीद कर लाने के लिये भी बच्चे को अपने बापू के साथ बाज़ार आने की ज़हमत उठाने की ज़रूरत ही नहीं है.....बस, बापू को इतना बताना ही काफी है कि आज रात से पहले पहले दो फलां-फलां पोस्टर उस दुकान से ज़रूर ले आईयो, अगर आप लोग मुझे साईंस में पास देखना चाहते हो। ठीक है, बेटा, तुम तब तक अगर टीवी के रोडीज़ शो से फ्री हो भी गये तो तुम आराम से थोड़ी इम्पार्टैंट तरह की छोटी-मोटी पर्चियां ज़रूर तैयार कर लेना।

कुछ इस तरह के ही आदेशों की पालना करता मुझे अपने साथ खड़ा बंदा दिख रहा था। बहुत सारे पोस्टर देखने के बाद आखिर उस ने दुकानदार को एक आंख वाला और एक बॉयोगैस वाला पोस्टर पैक करने का आर्डर दे ही डाला। पांच रूपये का एक पोस्टर था, सो कुल खर्च आया ..दस रूपये।

लेकिन अफसोस इस तरह के बॉयोगैस के कंसैप्ट और आंख की जानकारी तो भई उस पोस्टर पर ही रह जायेगी। जब तक तीन-चार बार अपनी समझ से बार बार इरेज़ करने वाले रबड़ का प्रयोग नहीं किया जायेगा, कैसे हो पायेगा यह पोस्टर को समझने वाला काम। लेकिन क्या करें................इतना टाईम नहीं है भई, अभी इंडियल आयडल से फ्री हुये ही थे कि ये फिल्मों के अवार्ड्स वाले कार्यक्रम धन-धना-धन शुरू हो गये हैं , फिर यह रोडीज़ भी तो देखना ज़रूरी है......ऐसा मौका फिर कहां मिलेगा...................इतना टाईट शैड्यूल और ऊपर से इन पोस्टरों को बनाने के झंझट में कौन पड़े..............क्या है ना पापाजी, चार रूपये का पोस्टर वैसे आता है और पूरी तरह से तैयार बना-बनाया पोस्टर अगर पांच रूपये में मिल रहा है तो आखिर फायदा ही है ना...................न स्कैच पैन खरीदने का झंझट, ना कहीं और माथा-पच्ची करने की ज़रूरत।क्या है ना डैड, आज कल सब कुछ फास्ट चलता है।

सोच रहा हूं कि प्रैक्टीकल के लिये रेडीमेड पोस्टरों की बाज़ार में उपलब्धता का तो मुझे आज पता चला है , लेकिन प्रैक्टीकल की कापियां तो हमारे समय में भी कई विद्यार्थी बाज़ार से ही 15-20 रूपये दे कर बनवाते थे। यह सिलसिला आठवीं कक्षा से शुरू हो जाया करता था..........लेकिन मुझे आज तक यही लगता था कि नो डॉयट, आज भी यह चलन तो है , लेकिन मैट्रिक तक ही है।

लेकिन मैंने फिर भी प्लस टू में पढ़ रहे एक लड़के से फैक्टस वैरीफ़ॉय करने में ही बेहतरी समझी। ---उस का जवाब मिला ...जी हां, आज कल तो बारहवीं की भी बनती हैं...बताने लगा कि ग्यारहवीं की भी बाज़ार से बनती तो हैं ,लेकिन अकसर बच्चे इन को इतना सीरियस्ली लेते नहीं है क्योंकि ये एग्ज़ाम तो स्कूल ही में निबट जाते हैं। आगे उस ने बताया कि इन्हें बनाने में 55, 65, 80 और 100 रूपये तक लगते हैं। मुझे यह क्रयूसिटि होनी लाज़मी थी कि इतना अंतर....................उस ने झट से उस का निवारण भी यह बतला कर कर ही दिया..............अंकल, दिस ऑल डिपेंड्स ऑन दा आर्टिस्ट्री।

बस , एक बार यही सोचने पर मजबूर हो गया हूं कि हमारे देश में यहां के युवाओं में वैज्ञानिक टेंपरामैंट को बढ़ावा देने के लिए इतने यत्न हो रहे हैं और ये दस रूपये खर्च कर के अपनी टेंशन खल्लास करने की फ़िराक में हैं।