Sunday, February 16, 2014

२१ वीं सदी की मदर टैरेसा... डा कैथरिन हैमलिन

कुछ दिन पहले मैंने दा हिंदु में एक लेख देखा था, हैडलाइन ही बड़ी अच्छी लगी थी.....At 90, this doctor is still calling .... जैसा कि मेरे साथ होता है मैंने एक दो लाइनें पढ़ी लेकिन बाद में पढ़ने के लिए इसे छोड़ दिया। फिर बाद में किसे याद रहता है, मेरी डाक्टर श्रीमति जी इस तरह की ख़बरों का विशेष ध्यान रखती हैं। वह एक बहुत उमदा सामान्य चिकित्सक हैं...पूरी ईमानदारी से अपना काम करती हैं।

इसलिए अभी अभी जब उन्होंने यह अखबार मुझे थमाई और इस लेख को देखने को कहा तो मैंने कहा कि मैंने देखा तो था लेकिन पूरा पढ़ा नहीं था।

अभी भी पूरा नहीं पढ़ा....अभी एक दो पैराग्रॉफ ही पढ़े हैं और सोचा कि साथ साथ इस का अनुवाद करता हूं......ताकि हिंदी जानने वालों तक भी इस तरह की शख्सियतों के बारे में पता चले।

तो चलिए उस लेख का अनुवाद शुरू करते हैं..........

निकोलस क्रिस्टॉफ लिखते हैं.............. हम पत्रकार लोग बड़े बड़े हादसों के बारे में, हवाई दुर्घटनाओं के बारे में, भ्रष्ट नौकरशाहों के बारे में और पेशेवार मुजलिमों के बारे में तो लिखते ही रहते हैं, लेकिन आज इच्छा हो रही है कि इस काम से एक ब्रेक लिया जाए और एक हीरो के काम की प्रशंसा की जाए।
कैथरीन हैमलिन एक आस्ट्रेलियाई महिला रोग विशेषज्ञ है जिसे आप २१वीं सदी की मदर टैरेसा कह सकते हैं जिस ने अपने जीवन का अधिकतर हिस्सा इथोपिया में बिताया है।

बच्चे के जन्म के समय होने वाली एक चोट (child birth injury) जिसे ओब्सटैट्रिक फिस्चुला कहते हैं.....यह महिला डाक्टर ने इस चोट के इलाज में क्रांति ले आई।

ओब्सटैट्रिक फिस्चुला का मतलब है ऐसा फिस्चुला (अर्था्त् आप इसे एक सुराख भी कह सकते हैं) .. जो तब होता है जब शिशु के जन्म के समय शिशु बर्थ-क्नॉल (जन्म की नली) में अटक जाता है और बड़े आप्रेशन के द्वारा बच्चे का जन्म कर पाने के लिए वहां कोई डाक्टर उपलब्ध नहीं होता।

लगभग बीस लाख महिलाएं और इन में बहुत सी टीनएज युवतियां इस तरह के फिस्चुला से त्रस्त हैं। शिशु तो ज़िंदा रहा नहीं पाता लेकिन इस फिस्चुला से प्रभावित महिलाओं का पेशाब एवं मल त्याग पर कोई कंट्रोल नहीं रहता......इस का मतलब उन का पेशाब अपने आप ही निकलने लगता है, और कईं बार तो मल भी अपने आप ही योनि  (vagina) से बहने लगता है।

सामाजिक स्तर पर इस तरह की महिलाओं अपमानित, बहिष्कृत सा महसूस करती हैं ..उन से बदबू आती है और वे शर्मिंदा महसूस करती हैं।

Dr Hamlin and her late husband, Reg, set up a fistula hospital in Addis Ababa, Ethiopia,and their work proves that it is possible to repair the injuries cheaply. This hospital trained generations of doctors to repair fistulas adn provided a model that has been replicated in other countries.

जनवरी में जब इस देवी का जन्मदिन मनाया गया तो उस के बेटे रिचर्ड ने उस के पुराने मरीज़ों की भीड़ के सामने कहा ...कैथरीन का एक बेटा और ३५००० बेटियां हैं।
Dr Hamlin gave the crowd a pep talk about the need for a big push to improve the world's maternal care. "We have to eradicate Ehtiopia of this awful thing that's happening to women: suffering, untold suffering, in the countryside," she said. "I leave this with you to do in the future, to carry on."
इथोपिया ने इस महीने डा हेमलिन को नोबल शांति पुरस्कार के लिए नामित किया है।

डा हेमलिन के काम की दाद इसलिए भी देनी होगी क्योंकि वे अपने ठीक होने वाले मरीज़ों को अन्य मरीज़ों की सहायता हेतु भी सक्षम करती हैं।

Mahabouba Muhammad was sold at age 13 to be second wife of a 60-year-old man. She became pregant, delivered by herself in the bush and suffered a severe fistula. Villagers, believing Mahabouba to be cursed, left her for the hyenas (एक तरह के जंगली जानवर). But she fought off the hyenas & because nerve damage from labour had left her unable to walk- crawled for miles to get help. At Dr Hamlin's hospital, she underwent surgery and now is a nurse's aide at the hospital.

Another former fistula patient is Mamitu Gashe, who helped doctors during her recovery and was soon recognised as a first-rate talent. Mamitu was illiterate but learned to perform complex fistula repairs and, because the hospital does so many, has become one of the world's experts in fistula surgery.

When distinguished professors and obstetrics from around the world come to this hospital for training in fistula repair, their teacher has often been Mamitu.

Dr Hamlin trains professional midwives and posts them in underserved areas -- because 85 percent of births in Ethiopia take place without a doctor or nurse present.

लेखक बताता है कि वह एक फिस्चुला भुगत चुकी एक महिला को मिला- उस ने बताया कि उस के पति ने उसे छोड़ दिया था.. और उस के मां बाप ने उस के रहने के लिए गांव से बाहर एक झोंपडा बना दिया ताकि उस के शरीर से निकलने वाली बदबू से किसी को कोई परेशानी न हो। उसे खाने पीने से डर सा लगने लगा ....because everything she consumed would soon be trickling down her legs. इस सब की वजह से वह डिप्रेशन में चली गई। वह दो वर्ष तक ऐसी ही तड़पती रही ...अंत में उस के मां-बाप ने डा हेमलिन के अस्पताल के बारे में सुना और उस के फिस्चुला की रिपेयर करवा दी गई।

फिस्चुला की सर्जरी पर खर्च कितना आता है? -- ५00 से १००० डालर.......Dr Hamlin's hospital is supported in the United States by Hamlin Fistula USA, while the Fistula Foundation supports fistula repairs worldwide.

In much of the world, the most dangerous thing a woman can do is become pregnant, and 800 die daily in childbirth. Many more suffer injuries.

ऐसी देवी के बारे में आप के क्या विचार हैं ?.........ऐसे लोग किसी भी अवार्ड के मोहताज नहीं होते लेकिन फिर भी एक नोबल शांति पुरस्कार तो कम से कम इन्हें देना तो बनता ही है।  God bless her at least with a healthy century!

Source: At 90, this doctor is still calling 
मुझे तो इस डाक्टर के बारे में पढ़ कर यह गीत याद आ गया.....



नकली दवाई के धंधे वालों को फांसी क्यों नहीं?

यह प्रश्न मुझे पिछले कईं वर्षों से परेशान किये हुए है।

हम लोग लगभग एक वर्ष पहले लखनऊ में आए...कुछ दिनों बाद हमें शुभचिन्तकों ने बताना शुरू कर दिया कि कार में पैट्रोल कहां से डलवाना है ..उन्होंने व्ही आई पी एरिया में दो एक पैट्रोल पंपों के बारे में बता दिया कि वहां पर पैट्रोल ठीक तरह से डालते हैं, मतलब आप समझते हैं कि ठीक तरह से डालने का क्या अभिप्राय है। 

कारण यह बताया गया कि ये पैट्रोल पंप जिस एरिया में हैं वहां से सभी मंत्रियों और विधायकों की गाड़ियों में तेल डलवाया जाता है। सुन कर अजीब सा लगा था, लेकिन जो भी हो, अनुभव के आधार पर इतना तो कह ही सकता हूं कि जो हमें बताया गया था बिल्कुल ठीक था। 

यह तो हो गई पैट्रोल की बात, अब आते हैं दवाईयों पर। नकली, घटिया किस्म की दवाईयों का बाज़ार बिल्कुल गर्म है। समस्या यही है कि हरेक बंदा समझता है कि नकली दवाईयां तो बाहर कहीं किसी और गांव कसबे में बिकती होंगी, हमें तो ठीक ही मिल जाती हैं, अपना कैमिस्ट तो ठीक है, पुराना है, इसलिए हम बिल मांगने से भी बहुत बार झिझक जाते हैं, है कि नहीं ?

 आज की टाइम्स ऑफ इंडिया में यह खबर दिखी ..  India-made drugs trigger safety concerns in US.
 हमेशा की तरह दुःख हुआ यह सब देख कर...विशेषकर जो उस न्यूज़-स्टोरी के टैक्स्ट बॉक में लिखा पाया वह नोट करें......

कश्मीर के एक बच्चों के अस्पताल में पिछले कुछ वर्षों में सैंकड़ों बच्चों की मौत का कारण नकली दवाईयों को बताया जा रहा है। एक आम प्रचलित ऐंटीबॉयोटिक में दवा नाम की कोई चीज़ थी ही नहीं............

इस तरह के गोरख-धंधे जहां चल रहे हों...बच्चों की दवाईयां नकली, घटिया और यहां तक कि विभिन्न प्रकार की दवाईयों के घटिया-नकली होने के किस्से हम लोग अकसर पढ़ते, देखते, सुनते ही रहते हैं। 

लिखना तो शुरू कर दिया लेकिन समझ में आ नहीं रहा कि लिखूं तो क्या िलखूं, सारा जहान जानता है कि ये मौत के सौदागर किस तरह से बच्चों से, टीबी के मरीज़ों तक की सेहत से खिलवाड़ किए जा रहे हैं। ईश्वर इन को सद्बुद्धि दे ...नहीं मानें तो फिर कोई सबक ही सिखा दे। 

आप कैसे इन नकली, घटिया किस्म की दवाईयों से बच सकते हैं ?.........मुझे नहीं लगता कि आप का अपना कोई विशेष रोल है कि आप यह करें और आप नकली, घटिया किस्म की दवाई से बच गये। ऐसा मुझे कभी भी लगा नहीं ..इतनी इतनी नामचीन कंपनियाों की दवाईयां......इसी टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर में यह भी लिखा हुआ है.....
"A Kampala cancer institute stopped buying drugs from India in 2011 after receiving countefeit medicines with forged Cipla labels"

बस आप एक ग्राहक के रूप में इतना ही कर सकते हैं कि जब भी कोई दवा खऱीदें उस का बिल अवश्य लें......इस में बिल्कुल झिझक न करें कि दवा दस बीस रूपये की तो है, बिल लेकर क्या करेंगे ?.....  नहीं, केवल यही एक उपाय है जिस से शायद आप इन नकली, घटिया किस्म की दवाईयों से बच पाएं, कम से कम इस पर तो अमल करें।  शेष सब कुछ राम-भरोसे तो है ही। 

बड़े बडे़ अस्पताल कुछ दवाईयों की टैस्टिंग तो करवाते हैं लेिकन जब तक दवाई के घटिया (Substandard) रिपोर्ट आती है, तब तक यह काफ़ी हद तक मरीज़ों में बांटी जा चुकी होती है, कभी इस की किसी ने जांच की ?.... दवाईयों की जांच मरीज़ों को बांटने से पहले होनी चाहिए या फिर सांप के गुज़र जाने पर लकीर को पीटते रहना चाहिए। 

मैं कईं बार सोचता हूं ये जो लोग इस तरह की दवाईयों का कारोबार करते हैं, अस्पतालों में भी ये दवाईयां तो पहुंचती ही होंगी, जो जो लोग भी इन काले धंधों में लिप्त हैं, वे आखिर इस तरह के पैसे से क्या कर लेंगे....ज़्यादा से ज़्यादा, एक दो तीन चार महंगे फ्लैट, बढ़िया लंबी दो एक गाड़ियां, विदेशी टूर, महंगे दारू, या फिर रंगीन मिज़ाज अपने दूसरे शौक पूरे कर लेते होंगे.....लेकिन इन सभी लोगों का इंसाफ़ इधर ही होते देखा-सुना है। कुछ न कुछ ऐसा हो ही जाता है जो इन दलालों और इन चोरों के परिवारों को हिलाने के लिए काफ़ी होता है। क्या ईमानदारों की ज़िंदगी फूलों की सेज ही होती है, यह एक अलग मुद्दा है...यह चर्चा का विषय़ नहीं है। 

लेकिन फिर भी समझता कोई नहीं है, मैंने अकसर देखा-सुना है कि लोग इस तरह के सब धंधे-वंधे करने के बाद, बंगले -वंगले बांध के, दुनिया के सामने देवता का चोला धारण कर लेते हैं। 

अभी तक खबरें आती रहती हैं किस तरह से यूपी में राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन में लिप्त लोगों ने लूट मचाई और इन का क्या हुआ यह भी बताने की ज़रूरत नहीं। 

दो चार िदन पहले मैं लखनऊ में हिन्दुस्तान अखबार देख रहा था.....शायद पहले ही पन्ने पर यह खबर थी कि एक मिलावटी कारोबारी को ऐसे मटर बेचने पर १० वर्ष की कैद हुई है जो सूखे मटरों को हरे पेन्ट से (जिस से दीवारों को पेन्ट करते हैं) रंग दिया करता था। अगर सूखे मिलावटी मटरों के लिए दस वर्ष तो मिलावटी, घटिया दवाईयों का गोरखधंधे वालों को और इन की मदद करने वालों के लिए फांसी या फिर उम्र कैद कोई ज़्यादा लगती है? नहीं ना....बिल्कुल नहीं. ....आप का क्या ख्याल है? आम आदमी वैसे ही महंगाई से बुरी तरह त्रस्त है, पता नहीं वह कैसे बीमारी का इलाज करवाने का जुगाड़ कर पाता है, ऊपर से नकली दवाई उसे थमा दी जाएगी तो उसे कौन बचाएगा?

इन बेईमानों, मिलावटखोर, बेईमान धंधों में लिप्त सभी लोगों को इन पर फिट होता एक गीत तो डैडीकेट करना बनता है........