Tuesday, September 30, 2014

लखनऊ का वनस्पति उद्यान -एक स्लाईड शो

अच्छा, संक्षेप में बात करता हूं ..आज मैं लखनऊ के सुप्रसिद्ध वनस्पति उद्यान गया था.....क्यों गया था, क्या किया वहां, कितनी देर रूका, कैसा अनुभव रहा, क्या सीखा......ये सब बातें बाद में..क्योंकि इस समय थक चुका हूं....थकावट इसलिए हो गई कि वहां मैंने बहुत सी तस्वीरें खींची......और फिर ध्यान आया कि आप से साथ शेयर भी तो करनी हैं.....बस, इसी चक्कर में १०० के करीब फोटो की एडिटिंग में और फिर इन का स्लाईड शो बनाने के चक्कर में पूरे छः घंटे का समय लग गया......इसलिए अभी तो आप इस स्लाईड-शो को देखिए........बाद में एक दो दिन के बाद में अपना सारा अनुभव और कोशिश करूंगा कि एक एक तस्वीर के बारे में आप से जानकारी शेयर करूं.......अच्छा तो देखिए आप इस स्लाईड शो को.....


Created with flickr slideshow.

Saturday, September 27, 2014

सिंघाडे और कुट्टू के आटे के बारे में चंद बातें...

सूखे हुए सिंघाडे 
आज हम एक किरयाना स्टोर पर गये तो वहां एक आदमी सूखे हुए सिंघाडे उठा रहा था..मैंने सूखे हुए सिंघाडे पहले नहीं देखे थे...बताने पर कहने लगा कि इस को पीस कर आटा तैयार किया जाता है जो व्रत में इस्तेमाल होता है। यह सिंघाडे १५० रूपये किलो बिक रहे थे जब कि सिंघाडे का आटा १४० रूपये किलो बिक रहा था। उस का और दुकानदार का वार्तालाप मैं सुन रहा था कि आज कल कुछ लोग इस तरह से सूखे सिंघाडे ले जा कर घर में उस को पीस कर उस का आटा बनाते हैं।

उस बंदे ने पूछा कि आटा आप सस्ता बेच रहे हो और सिंघाडे महंगे तो दुकानदार ने बड़ी साफ़गोई से उसे कहा कि यह जो आटा हम लोग बेच रहे हैं यह इस तरह के साबुत सिंघाडे से तो तैयार होता नहीं है, इस में सिंघाडे के टुकड़े इस्तेमाल होते हैं.....ज़ाहिर सी बात है अगर दुकानदार स्वयं ही यही कह रहा तो सिंघाडे के टुकड़े ही नहीं बल्कि उन की गुणवत्ता पर भी सवालिया निशान तो थोड़ा सा लग ही जाता है।

कुट्टू के आटे के पैकेट भी सामने ही पड़े हुए थे... यह एक सौ रूपये किलो के हिसाब से बिकता है ...और कुट्टू जिस का आटा बनता है, वह भी उस ने साबुत रखे हुए थे...८० रूपये किलो।

कुट्टू जिस का आटा बनता है... 
सिंघाडे और कुट्टू के आटे से तैयार व्यंजन हम लोगों ने भी खूब खाए....व्रत के नाम पर इस के तरह तरह के तेल और घी से तैरते हुए व्यंजन तैयार किए जाते हैं। हिंदी के समाचार पत्रों वाले भी बड़ा योगदान कर रहे हैं लोगों को जागरूक करने के लिए। दो दिन पहले ही मैंने हिन्दुस्तान अखबार में एक डॉयटीशियन का बहुत अच्छा लेख लिखा जिस में उसने बडे़ सुंदर ढंग से लिखा हुआ था कि लोग व्रत में सिंघाडे और कुट्टू के आटे से तेल से लैस पूरियां, पकौड़े, टिक्कीयां तो खूब खाते रहते हैं और इस तरह से वसा से युक्त पदार्थ सेहत के साथ खिलवाड़ है.....उन्होंने बड़ी अच्छी सलाह दी कि लोगों को चाहिए व्रत के दिनों में इन आटों से चपातियां बना कर खाया करें..........अच्छा लगा उन का यह सुझाव।

कुछ साल पहले जब मीडिया में खबरें छपती थीं कि कुट्टू का आटा व्रत के दिनों में खाने से इतने लोग बीमार हो गये, इतने लोग बहुत बीमार हो गये और इतने लोगों की मौत हो गई। बहुत बुरा लगता था.......लेकिन फिर सरकार ने इस तरफ़ बहुत ध्यान देना शुरू किया और इस तरह के आटे की बिक्री पर पैनी निगाह रखी कि इस की गुणवत्ता से कोई समझौता नहीं हो।

लेकिन आज कल आप देखिए कि पहले ज़माने के दिनों की तरह शायद कुट्टू और सिंघाडे के आटे के खुले में बिकने वाले ढेर तो होते ही होंगे ... हर आदमी का अपना बजट है, लेकिन फिर भी इस तरह के पैकेट सिंघाडे और कुट्टू के आटे के बिकने लगे हैं... और यहां तक कि सूखे सिंघाडे और कुट्टू भी बिकते हैं।

वैसे कुट्टू के आटे में इतनी जल्दी खराबी आती क्यों है, मैंने अभी गूगल सर्च किया तो पता चला. आप भी इस लिकं पर जाकर पढ़ सकते हैं...

मैं इस लेख को लिखने लगा तो मैंने कुट्टू का आटा लिख कर गूगल सर्च किया...तो बहुत से अच्छे लिंक मिल गये। मैं सोच रहा था कि बस कुट्टू को हिंदी में लिखने की देर है, सब कुछ मिल जाता है लेकिन हिंदी में लिखना आना चाहिए।

आखिर कुट्टू क्या होता है?
कुट्टू के आटे के फायदे..
क्यों बदनाम हुआ कुट्टू का आटा...

हां, सिंघाडे से याद आया......मैंने भी बचपन में सिंघाडे और शकरकंदी ( sweet potato) खूब खाए, अकसर यह दोनों घर ही में तैयार किए जाते थे......और जितने मेरे बच्चों को नूडल्स और पिज़ा पसंद है, मुझे सिंघाडे और शकरकंदी भी उतने ही पसंद थे और आज भी हैं.......लेकिन अब मुझे सिंघाडे खाने में कुछ ज़्यादा रूचि नहीं रही... पिछले कुछ वर्षों से हरे रंग के छिलके वाले सिंघाडे मिलते हैं (हम लोग काले रंग के सिंघाडे खाया करते थे...पता नहीं क्या डालते थे उस में उन के छिलके को काला करने के लिए......लेिकन फिर पता चला कि कुछ डाई वाई का इस्तेमाल किया जाता है तो इन्हें खाने में रूचि न रही)...


इस लिंक में कुट्टू के आटे के बहुत ही लुभावने व्यंजन दिख तो रहे हैं , .....कुट्टू के आटे की पूरी.... लेकिन तेल वेल की तऱफ़ ध्यान दीजिएगा......इसलिए मेरी तो सलाह है कि इस तरह के खान पान से दूर ही रहें.......बस, सीधी सादी चपातियां आदि बना लेनी चाहिए इन आटों से......ये तले वले के चक्कर में पड़ेगें तो इतने दिन तक खाते खाते वजन बढ़ाने का पूरा इंतजाम हो जाएगा......और फिर लोग कहते हैं कि इतने व्रत रखते हैं फिर भी वजन कम होने का नाम नहीं ले रहा।

इस कुट्टू सिंघाडे की कथा का समापन एक भेंट से करते हैं.......



स्तन रोग के बारे में कुछ काम की बातें...

इस का शीर्षक देख के बिल्कुल भी दूर न भागने की कोशिश करिएगा.....मैं भी लेक्चर टाइप की बातों से बहुत दूर भागता हूं क्योंकि सिर बहुत जल्दी भारी हो जाता है। तो हुआ यूं कि आज एक सुप्रसिद्ध कैंसर सर्जन डा विनय गर्ग को सुनने का मौका मिला.. वे स्तन रोग के बारे में अपनी प्रस्तुति देने आए थे।

मैं कईं बार लोगों से शेयर करता हूं कि जब डाक्टर लोग बोलते हैं ना उन्हें बड़े ध्यान से सुनना चाहिए.... क्योंकि ये लोग अपने बीस-तीस-चालीस वर्ष के अनुभव को एक घंटे में आप के साथ बिल्कुल निःस्वार्थ भाव से शेयर कर लौट जाते हैं।

इन डाक्टर साहब ने भी स्तन रोग के बारे में बहुत ही महत्वपूर्ण बातें शेयर कीं......जो मुझे याद रह गईं वह मैं जल्दी से आप से साझा करना चाहता हूं ताकि फिर से न भूल जाऊं...

एक बात तो उन्होंने यह बड़ा ज़ोर दे कर कही कि महिलाओं में स्तन की हर गांठ कैंसर नहीं होती....इस बात का खूब प्रचार प्रसार होना चाहिए..क्योंिक जैसे ही किसी महिला को अपने स्तन में गांठ का पता चलता है, वह और उस का परिवार इतने खौफ़जदा हो जाते हैं कि वे इलाज करवाने ही नहीं पहुंचते या डर के कारण इलाज करवाने में बहुत देरी कर देते हैं.... इसलिए स्तन की गांठ का एक क्वालीफाईड डाक्टर द्वारा निरीक्षण एवं जांच होनी चाहिए ताकि समुचित इलाज करवाया जा सके।

दूसरी बात... जो उन्होंने बताई वह यह कि शहरों में स्तन कैंसर गांवों की तुलना में ज़्यादा होता है...आंकड़े ये हैं भारत के ..शहरों में २८ केस हर एक लाख की पापुलेशन पर और गांवों में यह आंकड़ा १८ केस हर एक लाख की पापुलेशन पर पाया जाता है। इस का कारण भी उन्होंने साफ़ साफ़ बताया कि शहरों में अब महिलाएं भी पुरूषों के साथ कंधे से कंधे मिला कर काम कर रही हैं, अपने कैरियर की तरफ़ ज़्यादा ध्यान देने लगी हैं, इसलिए आम तौर पर शहरी कन्याएं शादी देर से करती हैं, इसलिए बच्चे भी देर से होते हैं, गर्भपात के केसों की संख्या भी बढ़ रही हैं, और बच्चों को स्तनपान कम करवाया जाता है ...और करवाया भी जाता है तो बहुत कम समय के लिए.... शहरी महिलाओं में इन सब के साथ साथ तनाव बहुत अधिक होने के कारण स्तन कैंसर होने का रिस्क ग्रामीण महिलाओं की तुलना में ज़्यादा होता है। गांव में तो महिलाएं बच्चों को ३ साल, ५ साल तक स्तनपान करवाती हैं, इस सब का परिणाम यही होता है कि उन में स्तन कैंसर का खतरा कम हो जाता है...।

इन्हीं कारणों की वजह से ही वे बता रहे थे कि इस बीमारी को हॉरमोनल बीमारी या लाइफ-स्टाईल डिसीज़ भी कहा जाने लगा है।

डाक्टर साहब बार बार इसी बार को रेखांकित कर रहे थे कि इस के बारे में जितनी ज़्यादा अवेयरनैस बढ़ाई जाए उतना ही अच्छा है।

वह यह भी शेयर कर रहे थे कि अब स्तन कैंसर के केस छोटी उम्र में भी पाए जाने लगे हैं....... कहने लगे कि मैं १९ वर्ष की युवती में भी स्तन कैंसर को पाया है। तभी मुझे भी ध्यान आ रहा था कि मेरे पास भी दो चार दिन पहले एक महिला अपने मुंह की किसी समस्या से आई थीं ...पहले ही उसने मुझे बता दिया था कि वह स्तन कैंसर का इलाज करवा चुकी हैं....उस की भी उम्र भी २५-२८ के करीब की ही होगी।

एक बात का उन्होंन विशेष ज़िक्र किया कि आज कर हर डेयरी में किस तरह से गाय-भैंसों को वैज़ोप्रेसिन- ऑक्सीटोसिन के इंजैक्शन लगा लगा कर ही उन का दूध निकाला जा रहा है जिस से भी महिलाओं में हार्मोनल लोचा हो जाता है...

अच्छा...थोड़ा सांस लेकर अभी बाकी बातें बाद में लिखता हूं ...इस से अगली पोस्ट में, अभी बहुत सी काम की बातें करनी हैं।

Thursday, September 25, 2014

रोस्ट चिकन है फूड पाइप कैंसर का प्रमुख कारण...

परसों की टाइम्स ऑफ इंडिया में यह खबर बड़ी प्रमुखता से प्रकाशित हुई थी कि मद्रास में चिकित्सकों ने एक रिसर्च में पाया है कि रोस्ट चिकन --जिस चिकन को मिर्च-मसाले और तेल-वेल लगा कर गैस पर या कोयलों के ऊपर ग्रिल किया जाता है...क्या कहते हैं इसे बारबीक्यू....कुछ ऐसा ही कहते हैं ना......जो लोग ऐसा रोस्ट चिकन खाते हैं उन में फूड पाइप (oesophagus) का कैंसर होने का खतरा कईं गुणा बढ़ जाता है... अल्कोहल का भी इस में प्रमुखता से नाम था। वैसे तो मिर्च-मसाला, आचार आदि की भी फूड-पाइप के कैंसर में भूमिका बताई जाती है।

मद्रास में की गई इस मैडीकल रिसर्च में यह बताया गया है कि किस तरह से चिकन एवं मछली को सीधा गैस या कोयले पर सेंकने से कोयले एवं गैस के धुएं में मौजूद कैंसर पैदा करने की क्षमता रखने वाले कैमीकल चिकन एवं मछली की सतह पर चिपक जाते हैं, जिस से फूड-पाइप के कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है।

Smoked meat now deadlier than liquor (Times of India)

मैं कल सोच रहा था कि आज तक तो इस तरह से सेंक कर कुछ न कुछ खाने का चलन भी बढ़ता ही जा रहा है, जैसे बहुत सी जगहों पर आजकल पनीर के टिक्के भी इसी तरह सेंक कर ही सर्व किए जाते हैं।

जो मैडीकल रिसर्च भारत में हो रही है उस पर भी थोड़ी नज़र तो रखनी ही चाहिए, बस ज़्यादा नहीं, थोड़ा थोड़ा पता रहना चाहिए, अंदर की बात चाहे पता हो या ना हो, लेकिन जब मैडीकल वैज्ञानिकों ने यह कह दिया कि रोस्टेड चिकन एवं मछली को खाने में इस तरह का लफड़ा है, तो फिर ऐसे चीज़ों से परहेज़ करना ही मुनासिब लगता है , है कि नहीं ?

वैसे एक बात बताऊं जहां भी इस तरह का रोस्टेड सा कुछ भी बन रहा होता है, उस वस्तु को खाने की इच्छा बड़ी हो जाती है, क्योंिक इस तरह के स्टालों के आसपास गजब का अरोमा  होता है। वैसे तो मैंने पिछले बीस वर्ष से नान-वैज नहीं खाया, कोई धार्मिक कारण नहीं, बस इच्छा ही नहीं हुई कभी।

मैं जब इस तरह के टॉपिक पर कुछ लिखता हूं तो बहुत बोझिल सा महसूस करता हूं...... हर रोज नईं रिसर्च ...यह खाओ, यह मत खाओ, इस में यह लफड़ा, इस का यह फायदा, इस के साथ साथ मैडीकल रिसर्च को प्रभावित करतीं मार्कीट शक्तियां......ऐसे में कैसे कोई भी अपने आप को इतना अपडेट रख सकता है, थोड़ा मुश्किल ही जान पड़ता है। कोई कहता है टमाटर खाओ तो इस बीमारी से बचो, यह वाला तेल इस्तेमाल करो तो इस से बच जाओगे......कईं बार तो इतनी सूचना से खिचड़ी सी ही बन जाती है।

मुझे तो लगता है कि ठीक है, हम इधर उधर से ज्ञान तो अर्जित करते रहें, कोई बुराई नहीं है.....लेकिन कुछ फंडे बिल्कुल क्लियर रखें जैसे कि संतुलित आहार की बात, शारीरिक परिश्रम की बात, टहलने का नियम, योग-प्राणायाम् की आदत, तंबाखू- एवं अन्य नशों से दूरी बनाएं रखें, और अच्छा प्रेरणात्मक साहित्य पढ़ें......बस और क्या, हम तो इतना ही कर सकते हैं।

दवा का रिएक्शन मुंह में कैसा दिखता है?

यह आदमी अपने मुंह का घाव दिखाते हुए... 
कल मेरे पास एक ४५-५० वर्ष की उम्र का आदमी आया...उसने कहा कि उसने कोई दवा खाई थी दो तीन दिन पहले जिस से उस के सारे शरीर में खुजली होने लगी और मुंह में बहुत बड़ा घाव हो गया।

यह तो पक्का ही था कि उसे दवाई लेने से ही यह घाव हुआ था क्योंकि एक टेबलेट लेने के कुछ घंटे बाद ही इस तरह मुंह में छाला सा हो गया जो तुरंत फूट गया और यह बढ़ कर यह घाव बन गया। 

इस घाव की तस्वीर आप यहां देख रहे हैं....देखने में काफ़ी बड़ा तो लग रहा है, इस आदमी को परेशान भी बहुत कर रहा है...उससे कुछ भी खाया पिया नहीं जा रहा। 

लेिकन आप चिंता न करें, यह घाव तो तीन-चार दिन में ठीक हो ही जाएगा.......बिना किसी ऐंटीबॉयोटिक जैसी दवाईयों के.....इस पर दिन में चार पांच बार मुंह में लगाने वाली दर्द निवारक एवं ऐंटीसेप्टिक जैल लगानी होगी..... कुछ के नाम मैं यहां लिख रहा हूं......Dentogel, Dologel, Zytee, Emergel आदि.....इन में से किसी भी एक जैल का इस्तेमाल किया जा सकता है। घाव में दो बूंद लगाने पर इसे पांच मिनट बाद थूक देना होता है.....विशेषकर खाना खाने से पहले इस का इस्तेमाल खाने से होने वाली दिक्कत को बहुत कम कर देता है। 

अकसर किसी भी दर्द-निवारक टेबलेट खाने की भी ज़रूरत नहीं होती.......अगर है तो कोई भी हल्की फुल्की दवा ली जा सकती है। 

टुथब्रुश एवं जुबान साफ़ करने वाली पत्ती का इस्तेमाल नियमित जारी रखना होगा.......ताकि किसी तरह की इंफैक्शन से बचा जा सके। 

एक बात बताऊं जब मैंने इस आदमी से पूछा कि आप को किस दवाई से ऐसा हुआ तो वह नाम ही नहीं बता पाया....न ही उस के पास वह दवाई मौजूद थी......इसलिए यह ध्यान रखना चाहिए की अगर इस तरह की कोई तकलीफ़ हो भी जाए तो चिकित्सक के पास कम से कम वह दवा तो दिखाने के लिए जाना ही चाहिए, ताकि आप वह दवा किसी दूसरे ट्रेडनेम से भी फिर से खाए जाने से बच सकें। 

दवा का जब किसी को रिएक्शन होता है तो नाना प्रकार के लक्षण हो सकते हैं......सारे शरीर में खुजली, इधर उधर फफोले से पड़ जाना, मुंह में फफोले और घाव आदि हो जाना.......और भी बहुत हैं, लेकिन छोड़िए क्या करेंगे खाली-पीली सभी के बारे में जान कर.......यही शुभकामना है कि आप स्वस्थ रहें। 

हां, यार, एक ध्यान आया....कुछ साल पहले लोग कुछ ज़्यादा ही सीधे हुआ करते थे शायद......कुछ लोग दांत की दर्द से निजात पाने के लिए ऐस्प्रिन की गोली को पीस कर मुंह में दुःखते दांत के सामने टिका दिया करते थे......दर्द तो कहां दूर हो पाता था, लेकिन इसी तरह का ज़ख्म ज़रूर कईं दिन तक परेशान किए रहता था।

यह तो था इन साहब के मुंह का हाल, कल मैंने एक सांस्कृतिक कार्यक्रम में किशोर दा का यह गाया हुआ यह गीत एक आर्टिस्ट की आवाज़ में सुना ... इन्हें लखनऊ में जूनियर किशोर दा कहते हैं.......अच्छा लगा अपने बचपन के दिनों का गीत सुन कर .....आप भी सुनिए... यह दिल के हाल की बात कर रहा है.........

Tuesday, September 23, 2014

जब कोई अस्पताल कहता है......सर्वे भवंतु सुखिनः सर्वे संतु निरामयाः



कल मैंने अपनी एक मरीज़ के हाथ में जो इलाज की डॉयरी देखी उस पर लिखा था......सर्वे भवंतु सुखिनः सर्वे संतु निरामयाः। अच्छा लगा यह पढ़ कर कि मरीज को दी जाने डायरी पर कितनी अच्छी बात लिखी है.....सब सुखी रहें, निरोगी रहें ..सब का क्लयाण हो, कोई दुःखी न रहे।

यही लगा कि सरकारी अस्पताल ही इस तरह की सुंदर पहल कर सकते हैं....यह छोटी बात नहीं है, एक मरीज़ ही जान सकता है कि उसे डाक्टर से मिलने से पहले ही इस तरह की बात कितना सुकून दे सकती है.....जैसे कि सब उस की अच्छी सेहत के लिए दुआ कर रहे हों।

बात एक बार मैंने एक सत्संग में भी सुनी थी कि किसी भी सरकार की सफ़लता का आंकलन इस बात से भी होना चाहिए कि उस के कार्यकल में कितने अस्पताल बंद किए गये......बात को पचाना तो मुश्किल है, लेकिन सतसंग की वैसे कहां हम सारी बातें पचा ही लेते हैं ....इसे भी ऐसे ही निगल लें.........महात्मा के कहने का आशय यही था कि लोग इतने निरोगी, सेहतमंद और खुशहाल हो जाएं कि उन्हें किसी अस्पताल में जाने की आवश्यकता ही न रहे, और सरकारों को धीरे धीरे अस्पताल ही बंद करने पड़ जाएं। बात पचाने लायक है या नहीं, लेकिन आमीन कहते हुए तो हमें कुछ खर्च नहीं ना करना पड़ता। तो चलिए मिल कर कहे देते हैं......आमीन!!

हां, तो मैं उस महिला की डॉयरी की बात कर रहा था......उस के अगले कवर को तो मैंने आप को दिखा दिया, उस पर लिखे को आप से शेयर कर दिया......उस डॉयरी के पिछले कवर पर भी कुछ उपयोगी जानकारियां मिलीं....बहुत ही बढ़िया..अब लोग कहां से टीकाकरण के शैड्यूल को याद कर पाएं, उन की सुविधा के लिए इस जानकारी को भी पिछले कवर पर छपवाया गया है, और साथ में नीचे स्वच्छता का संदेश कितना सुंदर है..........मुझे भी कल ही Cleanliness is next to Godliness का सही तर्जुमा पता चला........मैंने इस वाक्य का अनुवाद बहुत बार करता था, लेकिन ठीक नहीं लगा मुझे अपने आप को भी......लेकिन कल पता चला .........ईश्वर-परायणता के पश्चात स्वच्छता का ही स्थान है। ....वाह जी वाह....कितनी सुंदर बात है।

कुछ अस्पतालों में इस तरह की डॉयरी इश्यू नहीं की जाती.....वहां पर मरीज़ अपनी अपनी डॉयरी या कोई कापी बाज़ार से खरीद लेते हैं...और हर बार वही लेकर आते हैं..कईं बार मरीज बहुत बड़ी बड़ी भारी भरकम डॉयरी खरीद लेते हैं तो मैंने उसे कहता हूं कि यार, आप लोगों ने बीमार ही थोड़े पड़े रहना है, बिल्कुल पांच-दस रूपये में बिकने वाली छोटी डायरी इस काम के लिए खरीदा करो। बात सुन कर वे बहुत खुश हो जाते हैं।

हां, तो डॉयरी के ऊपर कुछ सुंदर से संदेश देख कर अच्छा लगता है.......कितनी ही उपयोगी जानकारियां और भी हैं, जच्चा बच्चा से संबंधित, टीबी के इलाज से संबंधित, खानपान के बारे में टिप्स, स्वच्छ पानी के बारे में कुछ संदेश.....कुछ भी इन दो तीन पन्नों में डाला जा सकता है.....इस से मरीज़ों के बारे में कईं तरह के भ्रम गायब हो सकते हैं......मिसिज़ एक सरकारी अस्पताल में एक सामान्य चिकित्सक हैं, आज एक मधुमेह का मरीज उन से कहने लगा कि क्या करवाएं बार बार जाकर रक्त की जांच.....खाने से पहले और बाद में जो रक्त इतना ज़्यादा निकाल लेते हैं वे तो उसे भी बेच देते हैं। कितनी अज्ञानता व्याप्त है और यह मैं एक महानगर के लोगों की बात कर रहा हूं।

परसों एक बुज़ुर्ग मिला... कहने लगा कि मुझे दूसरे शहर में भेजा गया था दिल की बीमारी के इलाज के लिए...वहां से मुझे किसी दूसरे प्राईव्हेट अस्पताल में भेजा जा रहा था (मरीज़ को वहां पैसा नहीं भरना होता, सरकारी विभाग के द्वारा भेजे गये मरीज़ों का कुछ अस्पतालों में बिलिंग प्रणाली से इलाज किया जाता है..मरीज से कुछ नहीं लिया जाता, बिल उस के विभाग को भुगतान के लिए भेज दिया जाता है)...तो मैंने तो मना कर दिया....मैंने डाक्टर को कहा कि पहले तो आप मेरे को यह बताओ कि जो मेरे हार्ट का ईको-टैस्ट आपने किया है, उस में खराबी है कहां.........पता नहीं वह किस पूर्वाग्रह की वजह से ऐसी बातें कर रहा था कि उसने तो उस प्राईव्हेट अस्पताल में जाने से साफ़ मना कर दिया......तीन चार लाख बिल विभाग भरता है और सब लोगों की कुछ न कुछ सैटिंग तो ज़रूर होती होगी........उसे शक था कि बिना वजह कहीं उस का आप्रेशन न कर दिया जाए।

अब आप देखिए कि एक आमजन अगर डाक्टर को इस तरह की बात कर के एक तरह से चुनौती दे कि मुझे यह बताओ की दिल की ईको में खराबी है कहां, यह बात आप अपने दो टके के पुराने ट्रांजिस्टर को ठीक करवाने जाते हैं तो वहां पर उस मैकेनिक से ऐसी बात नहीं कर सकते.....नहीं ना करते?..........अकसर मरीज़ों की बातें सुन कर यही लगता है कि अभी भी कम्यूनिकेशन की बहुत ही कमी है। कईं तरह की बातों की वजह से लोग पूर्वाग्रहों से ग्रस्त हो जाते हैं.....इसी बुज़ुर्ग की बीवी ने तुरंत कहा कि इन के चाचा के बेटे जो केवल ६० वर्ष के ही थे और जिन के दो दिल के आप्रेशन हुए लेकिन वे बच नहीं सके.........शायद यही बात उन के मन में अटक गई थी।

सोचने की बात यह है कि अब इस तरह के भ्रम दूर करने की जिम्मेदारी चिकित्सक की नहीं तो किस की है ?

Monday, September 22, 2014

ज़हरखुरानी से भी बचना होगा...

सुनने में आया है कि अब तो ज़हरखुरानी की घटनाएं स्प्रे से भी होने लगी हैं......बहुत चिंताजनक बात है। पहले तो सफर के दौरान बिस्कुट, खाने या मिठाई में कुछ मिला कर ज़हरखुरानी की घटनाएं की जाती थीं लेकिन यह स्प्रे का अब नया लफड़ा शुरू हो गया लगता है। लोग मास्टर माईंड से हो गये हैं....ऐसे ही थोड़ा कहा जा रहा है कि अब सपेरे ने सांपों को पिटारे में यह कह कर बंद कर दिया है कि अब इंसान को काटने के लिए इंसान ही काफ़ी हैं।

अब रेलवे भी इस तरह की ज़हरखुरानी के बारे में यात्रियों को सचते करने के लिए एक अभियान चलाएगी।

अभी मैं जब पोस्ट लिखने लगा तो मुझे ध्यान आया कि रेल मंत्रालय ने एक वीडियो भी तो जारी किया था ...जिस पर मैंने एक टिप्पणी भी दी थी......पता नहीं उस लंबी चौड़ी टिप्पणी को वहां तो किसी ने देखा या नहीं, आप इसे यहां ज़रूर पढ़ सकते हैं........पहले तो वह वीडियो ही देखिए... 


संदेश अच्छा लगा लेकिन यह बहुत ही संक्षिप्त सा लगा। बात समझ में आ जाती है कि किस तरह से अपटुडेट लोग भी इस तरह के धंधों में संलिप्त होते हैं। 
देश में कुछ जगहें विशेष तौर पर कुख्यात हैं जहां पर इस तरह की ज़हरखुरानी की घटनाएं बहुत आम हैं। उदाहरण के तौर पर मैं हरियाणा के अंबाला का नाम जानता हूं। यहां पर अप्रवासी श्रमिक या फिर फौजी जो अपने घरों की तरफ़ लौट रहे होते हैं तो उन की चाय, काफ़ी आदि में भी कुछ बेहोशी का कुछ मिला कर उन से लूटपाट कर ली जाती है।  
मुझे कईं बार बहुत हैरानगी इसलिए भी होती है कि किसी दूसरे की तो बात मान भी ली जाए कि वे किसी की चिकनी-चुपड़ी बातों में आ गए... लेकिन फौजी भाई जो देश के दुश्मनों के दांत खट्टे किए रहते हैं अपने ही लोगों के अपनेपन के बहकावे में आ जाते हैं।  
एक ध्यान आ रहा है कि किस तरह से ये शातिर लोग विभिन्न हथकंडे अपनाते हैं ..दूषित बिस्कुट, चाय को देते समय अपनी उंगली को चाय में डुबो देना जिस पर पहले ही से कुछ लगा रहता है, यह सब मैंने सुना है और अकसर मीडिया मेें भी देखते सुनते ही रहते हैं।  इस तरह के प्रामाणिक हथकंड़ों से भी जनता को आगाह किया जाना चाहिए। बाकी सुझाव बाद में कभी भेजेंगे...
मुझे अच्छे से याद है कि कुछ रेल स्टेशनों पर या यहां तक की गाडि़यों में जनता को सचेत करने के लिए नोटिस भी चसपा किये जाते हैं...........अंबाला छावनी स्टेशन पर तो मैंने स्वयं देखा है कि गाड़ी रूकने के बाद आरपीएफ के जवान इस तरह की ज़हरखुरानी से आगाह करने वाली एनाउंसमैंट्स प्लेटफार्मों पर कर रहे होते हैं।  
अब सोचने की बात है कि अब सरकार इस से बढ़ कर क्या करें, थोड़ी जिम्मेवारी तो पब्लिक की भी बनती है कि नहीं।
बहरहाल, आज रेल विभाग का यू-ट्यूब चैनल देख कर अच्छा लग रहा है कि देश की जनता तक जनोपयोगी संदेश पहुंचाने के लिेए इसे कितने कारगर ढंग से इस्तेमाल किया जाना प्रारंभ हुआ है।  
शुभकामनाएं भविष्य के लिए भी.........यह जनमानस के कल्याण का काम यूं ही चलता रहे। आमीन। 

मुंह से बोतल खोलना मर्दानगी की निशानी तो नहीं लेकिन......

आज सुबह यह बंदा आया था....कि एक दांत में दस दिनों से असहाय दर्द है.....तुरंत कहने लगा कि चाउमीन बच्चे खाने लगे तो पास में रखी सॉस की बोतल को जल्दी जल्दी में दांतों से खोलने के चक्कर में दांत पर दबाव पड़ा और बस दर्द शुरू हो गया।

मैं उस की बात से ही समझ गया था कि लफड़ा क्या है, बाद में मुंह का चैक-अप करना तो बस एक फार्मेलिटि सी ही लग रही थी। दस दिन से इसे दांत में भयंकर दर्द है और पहले तो सूजन भी आ गई थी, अब सूजन तो नहीं है लेकिन कह रहा था कि खाने का एक कोर भी उस दांत के नीचे चले जाने से जान निकल जाती है, बहुत ज़्यादा ठंडा लगने लग गया है, यहां तक कि हवा भी लगती है तो दांत में दर्द होने लगता है।

जैसा कि इस तरह के पंगे लेने से अकसर होता है, इस का दांत क्रैक हो गया है......क्रैक होने की एक लाइन दांत दिख रही है, शायद आप इस तस्वीर में देख नहीं पा रहे होंगे, नीचे की तस्वीर में जिस जगह पर यह औज़ार टिका हुआ है, वह क्रैक लाइन ही है।

अकसर इस तरह के दांत कुछ ही दिनों में चटक जाते हैं.....यह दांत भी कुछ दिनों में ही ..या फिर दो एक हफ़्ते में ही अंदर से टूट जायेगा। और इस का कोई इलाज नही होता....सारा दांत तो नहीं टूटेगा.....लेकिन एक हिस्सा अवश्य अलग हो जायेगा......बाद में बचे हुए भाग की रिपेयर हो जाती है।

अब बात यह उठती है कि क्या इस क्रैक दांत के क्रैक हिस्से को अभी ही क्यों न अलग कर दिया जाए। मैं ऐसा करना ठीक नहीं समझता क्योंकि दांत क्रैक होते हुए भी मन में यही सोचता है कि यह क्रैक तो ठीक हो ही जाएगा.....ऐसे में अगर दांत के एक हिस्से को अलग कर भी दिया जाए तो मरीज़ को हमेशा यही लगता है कि यह बस सकता है, यह ठीक हो सकता था। इसलिए थोड़े दिन का इंतज़ार करना ठीक रहता है.......जैसे ही दांत का चटका हुआ हिस्सा बिल्कुल पूरी तरह से हिलने लगेगा तो मरीज़ इसे निकलवाने के लिए और पूरे इलाज करवाने के लिए तैयार होता है।

इस तरह के दांत के चटकने के केस अकसर आते ही रहते हैं......बहुत से केस तो इस तरह के ही होते हैं जिसमें किसी ने कोल्ड-ड्रिंक या कोई भी बोतल को दांत से खोलने की कोशिश की, या फिर खाना खाते खाते अचानक दांत के नीचे कोई कंकड़ आ जाए तो भी दांत का ऐसा हाल हो सकता है.....या फिर जो लोग सुपारी चबाने के शौकीन होते हैं, उन में भी कईं बार सख्त किस्म की सुपारी को चबाने से ऐसी आफ़त हो जाती है।

बेहतर यही है कि हम इस तरह की आदतें न ही डालें..... कब यह सब परेशानी हो जाए कोई कह नहीं सकता, यही बंदा जो मेरे पास आया था जिस के दांतों की आप तस्वीर देख रहे हैं, वह बता रहा था कि वैसे तो वह बीयर की बोतल भी दांतों से ही खोल लेता है लेकिन सॉस की बोतल पर ज़रूर कुछ मजबूर सा ढक्कन फिक्स हुआ रहा होगा। मैं सोच रहा था कि जब तुमने पहली बार ही ढक्कन को इस तरह के दांतों से खोला होगा, उसी दिन ही तुम्हें कोई अच्छी नसीहत दे देता तो तुम्हारा अच्छा भला दांत बच सकता था।

तो आपने इस पोस्ट से क्या सीख ली?........ मुझे पता है कि आप जवाब में कुछ नहीं कहेंगे, कोई बात नहीं। 

Sunday, September 21, 2014

पुरूषों का सेक्स हार्मोन भी बना एक धंधा

 इस न्यूज़-रिपोर्ट का स्क्रीन शॉट
पुरूषों में उम्र बढ़ने के साथ जब टेस्टोस्टीरोन नामक हार्मोन के स्तर में कमी आने लगे तो मांसपेशियां ढिलकने लगती हैं, कुछ लोगों को सेक्स में कुछ इश्यू होने लगते हैं और पुरूष थका थका सा रहने लगे तो अमेरिका में इस के लिए क्या किया जा रहा है, इस के लिए आप को इस न्यूज़-रिपोर्ट पर क्लिक कर के देखना होगा.....
FDA to Probe Testosterone Therapy Claims, Safety

इतना तो पता पहले ही था कि विदेशों में इस तरह के लक्षणों के इलाज के लिए मेल-सैक्स हार्मोन टेस्टोस्टीरोन को पुरूषों को दिया जाता है। यहां यह बताना ज़रूरी होगा कि यह हार्मोन टेस्टोस्टीरोन वैसे तो प्राकृतिक ढंग से ही पैदा होता है लेकिन बढ़ती उम्र के साथ यह जितनी मात्रा में शरीर में उत्पन्न होता है उस में कमी आने लगती है.....कईं बार तो इसे Male menopause (पुरूषों की रजोनिवृत्ति) की संज्ञा दी जाती है......जैसे कि महिलाओं में रजोनिवृत्ति के समय मासिक धर्म होना बंद हो जाता है।

हां, इस हार्मोन का उम्र के साथ कम होना एक स्वाभाविक सी बात है....लेकिन वियाग्रा के जमाने में कोई इसे आसानी से माने तो कैसे माने। हर बात पर कुदरत से पंगा लेना एक जुनून ही बन चुका है शायद।

हां, तो आप भी इस रिपोर्ट में देख सकते हैं कि किस तरह से दवा इंडस्ट्री को जब यह पता चला कि टेस्टोस्टीरोन का धंधा तो एक अच्छा खासा धंधा है तो बस बाकी फिर देर क्या थी।

ऐसा नहीं है कि टेस्टोस्टीरोन हार्मोन को ऐसे लोग को ही दिया जा रहा है.....कुछ लोग जिन में इस हार्मोन का प्राकृतिक स्तर वैसे ही कम होता है क्योंकि उन में पौरूष ग्रंथियां ठीक से विकसित नहीं हो पाती (hypogonadism) उन में तो यह हार्मोन दिया ही जाता है......एक अनुमान के अनुसार २०१४ में अमेरिका में २३ लाख पुरूष यह हार्मोन ले रहे हैं जिन में से आधों को इस की ज़रूरत ही नहीं है।

किस तरह से पुरूषों को लेबल करने के लिए कि इन में इस हार्मोन का स्तर कम है, क्या क्या धंधे हो रहे हैं, यह आप इन पंक्तियों में स्वयं पढ़ लें ...कि टैस्ट को ठीक ढंग से ठीक समय पर ठीक विशेषज्ञ द्वारा किया ही नहीं जाता।
इसी रिपोर्ट से ......पढ़ने के लिए क्लिक करिए
चिंताजनक बात यह है कि जिन लोगों में इस तरह का हार्मोन बिना वजह बिना ठीक तरह से टेस्ट किये ही दिया जाने लगता है उन में दिल के दौरे या दिमाग में अटैक (स्ट्रोक) का खतरा बहुत ज़्यादा बढ़ जाता है।

यह हुई बात अमेरिका की.........ज़रा इन देशी हकीमों आदि की भी, नीम हकीमों की भी बात थोड़ी कर लें.......क्या आप को नहीं लगता कि ये लाखों करोड़ों की दौलत में डूबने वाले लालची किस्म के खानदानी नीम हकीम मरीज़ों को यह सब खिला खिला कर उन की अच्छी भली सेहत खराब नहीं कर रहे होंगे........अगर उन्हें दूसरी अनाप शनाप ताकत की दवाईयां खिला खिला कर कुछ बचता होगा तो।

अगर इन के शाही-बादशाही कोर्सों की या इन के इंजैक्शनों की टेस्टिंग होगी तो उन में भी यही सब कुछ तो मिलेगा........लेकिन इन की नकेल कसे तो कसे कौन!! सरकारी सांड की तरह फलते-फूलते जा रहे हैं ......अब तो केबल टीवी पर भी १०-१५ मिनट के स्लॉट खरीद कर लोगों को ताकत बेचने लगे हैं.......ये ताकत के बादशाह !!

चलो यह तो एक बात हुई, लेकिन इस गाने का यहां क्या काम?......पता नहीं यार, अच्छा लगे तो देख  लेना .........गुड नाइट......

नेट पर बिकने वाली सेहत

इतने वर्ष हो गये नेट पर मेडीकल विषयों पर लिखते हुए ... अब यह पक्का लगने लगा है कि नेट पर जो हम लोग सेहत संबंधी विषयों के बारे में पढ़ते हैं, उसे हैंडल करना बेहद मुश्किल और जोखिम भरा काम है।

आए दिन मैडीकल रिसर्च से नईं नईं बातें सामने आ रही हैं...लेिकन बहुत सी बातें अभी भी रिसर्च की स्टेज तक ही होती हैं कि विभिन्न कारणों की वजह से --(इस में मार्कीट शक्तियों की भी बहुत भूमिका है).. उन्हें आगे कर दिया जाता है।

कोई भी नेट पर मैडीकल सामग्री पढ़ने वाला आसानी से भ्रमित हो जाता है.....जिस टेस्ट की नहीं भी ज़रूरत वह जा कर करवा के आ जाएगा, जिस जांच की ज़रूरत है वह करवाएगा नहीं, नईं नईं दवाईयों के चक्कर में या नेट पर ऑनलाइन दवाईयों के चक्कर में पड़ सकता है.....और तो और, कुछ विषयों के ऊपर पढ़ कर कईं तरह की काल्पनिक बीमारियों के चक्कर में अपने मन का चैन खो बैठता है। इस तरह के पचड़ों में पड़ने की लिस्ट खासी लंबी है, कहां तक गिनवाएं।

मैं जनसंचार (मॉस कम्यूनिकेशन)  पांच वर्ष पढ़ने के बाद से पिछले सात वर्षों से निरंतर नेट पर सेहत संबंधी विषयों पर लिख रहा हूं...इसलिए जेन्यून और फालतू जानकारी के बीच अंतर जानने में दिक्कत नहीं होती..लेिकन फिर भी बहुत बार तो मैं भी कंटाल जाता हूं.......अभी अभी खबर पढ़ी कि ये आर्टिफिशियल स्वीटनर्ज़ हैं, इस से भी मधुमेह के रोगियों में रक्त में शर्करा की मात्रा बढ़ जाती है। इस का स्क्रीन शाट यहां लगा रहा हूं।

लो, कर लो बात......
यही कारण है कि मैं किसी को भी सलाह नहीं देता कि नेट पर कुछ भी पढ़ कर आप अपनी सेहत के बारे में महत्वपूर्ण फैसले करें....यह आप के हित में है ही नहीं। आप के फैमली डाक्टर का न तो कोई विक्लप बना है, शायद न ही बन सकता है। उस से बात कर के ही आप की कईं चिंताएं हवा हो सकती हैं।

हां, नेट में अगर जानना हो तो ह्लकी फुल्की जानकारी सेहत के बारे में....किसी टेस्ट के बारे में कोई जानकारी चाहिए हो तो वह पढ़ लें, समझ लें, किसी भी आप्रेशन के बारे में कुछ भी ऐसे ऊपरी ऊपरी जानकारी पा सकते हैं, लेकिन कोई भी निर्णय इस आधार पर लेने की कोशिश न करें.......क्या है ना, डाक्टर लोग बीसियों वर्षों तक हज़ारों मरीज़ देखने के बाद इस मुकाम तक पहुंचते हैं कि आप से चंद मिनट बात कर के, आप के कुछ टेस्ट करवा के, आप की सेहत के.. बारे में जान लेते हैं.........आप कैसे ये सब निर्णय ले सकते हैं।

एक और मशविरा .... डाक्टर से आप जितने प्रश्न करें, आप का अधिकार है...लेकिन अगर अपना नेट से पढ़ा मैडीकल ज्ञान दिखाने के लिए अगर आप कुछ कह रहे हैं तो वह भी चिढ़ जाता है, आखिर है तो वह भी इंसान, उसे कुछ भी समझते देर नहीं लगती। बेहतर हो कि डाक्टर के सामने बिल्कुल अनाड़ी (और दरअसल हम हैं भी... डाक्टर की तुलना में) की तरह ही बिहेव करें......कुछ ज़्यादा लिख दिया.......चलिए, इतना तो कर ही सकते हैं कि जो डाक्टर साहब कह रहे हैं, उसे अच्छे से समझने की कोशिश करें।

नेट पर पढ़ा करें कि खुश कैसे रहें, जीवनशैली को कैसे पटड़ी पर लाएं, खाना पीना कैसे ठीक करें, व्यायाम कैसे नियमित करने की आदत डालें, विचार कैसे शुद्ध हों (जी हां, यह भी जाना जा सकता है).....कैसे शांत रहना सीखें.....बस इतना ही काफ़ी है ......लेकिन आप कहेंगे कि इन के बारे में क्या पढ़ें, डाक्टर, यह सब तो क्या हम पहले ही से नहीं जानते क्या?.......तो फिर उन्हें व्यवहार में लाने से आप को कौन रोक रहा है। 

घड़ीसाज़ ने भी जवाब दे दिया...

६५ वर्ष पुरानी हमारे घर की घड़ी 
 उस दिन जब मैंने लखनऊ के आलमबाग में एक घड़ी की दुकान से सैल बदलवाया तो वहां बैठा एक बुज़ुर्ग घड़ीसाज़ मुझे बहुत अनुभवी लगा। उसे देखते ही मुझे मेरे घर में बरसों से बेकार पड़ी एक उस बुज़ुर्ग जितनी ही पुरानी घड़ी की याद आ गई. मैंने सोचा कि उस का मुआयना और इलाज इन्हीं से करवाएंगे।

आज दोपहर में मैं जब उसे लेकर उस कारीगर के पास गया तो उसे देखते ही उसने कहा कि इस का कुछ नहीं हो सकता,  मैंने कहा कि आप देख तो लें....शायद कुछ हो जाए...तब उस ने कहा कि इस के कलपुर्ज़े ही बीसियों साल पहले मिलने बंद हो गये।

मैंने पूछा कि शायद पुर्ज़े बदलने की ज़रूरत ही न हो, उसने कहा कि ऐसा हो ही नहीं सकता....जब कोई मशीन चलती है तो उस के पुर्ज़े तो घिसते ही हैं। बहरहाल, उसने अपने किसी दूसरे साथी को आवाज़ लगा कर पूछा कि प्रेम, इसे देखो, इस का कुछ हो सकता है। एक तरह का सैकेंड ओपिनियन ले रहा था वह बुज़ुर्ग।

उस ने भी उस घड़ी को देखते ही दूर से अपना फैसला सुना दिया.......कुछ नहीं, इस का कुछ नहीं हो सकता।
मुझे बहुत बुरा लगा.......जैसा मरीज़ों को भी लगता होगा जब कोई डाक्टर किसी मरीज़ को ऐसा जवाब देता होगा।
बहरहाल, आप को इस घड़ी के बारे में कुछ विशेष बातें बताने लगा हूं।

जब से मैंने होश संभाला इस क्लॉक को घर में देखा..... सीमेंट की एक शेल्फ पर एक कमरे में बनी हुई थी..... सरकारी घरों में शो-पीस तो हुआ नहीं करते थे।

उस शेल्फ पर मैंने बचपन से ही तीन चीज़े पड़ी देखीं......उस पर मेरी मां द्वारा एक बढ़िया सा कढाई किया हुआ मेजपोश बिछा रहता था....जिस पर तीन चीज़ें--- एक फ्रेम की हुई मेरे दादा जी की फोटो, बीच में यह घड़ी और तीसरी एक फोटो..मेरे पिता जी के इष्टदेव बाबा बालकनाथ जी की तस्वीर जिस पर वह रोज़ाना सुबह धूप-बत्ती किया करते थे।

हां, तो बात घड़ी की हो रही है......इस घड़ी को चाबी रोज़ाना दी जाती थी, और अधिकतर ....अधिकतर क्या, लगभग हर रोज़ मेरे पिता जी ही इसे चाबी दिया करते थे। दूसरा कोई भी चाबी देने लगता तो लफड़ा कर बैठता....थोड़ा सा भी ज़्यादा ज़ोर लगाने पर यह चाबी देने वाला बटन खराब हो जाता था, फिर उसे बनवाना पड़ता था।

रोज़ाना एक ही समय में इसे चाबी भरना भी जैसे घर में एक इवेंट हुआ करता था।

लेकिन इस घड़ी में अलॉर्म लगाना तो एक और भी बड़ा काम.........सारे घर को पता रहता था कि आज घड़ी में कितने बजे का अलॉर्म लगा है और किस काम के लिए लगा है, कोई पेपर वेपर की तैयारी करनी है या कोई गाड़ी वाड़ी पकड़ने का चक्कर है।

आज मैं अपने बेटे को भी यह सारा किस्सा सुना रहा था....किस्सागोई करते करते मैं यही सोच रहा था कि उस ज़माने में भी गजब का सब्र हुआ करता था...घर में किसी ने भी टाइम देखना है तो हर किसी को उस कमरे में आना ही होगा जिस की शेल्फ पर यह सजी रहती थी......नहीं तो, अपना आल इंडिया रेडियो जब टाइम बताये तो तब सुन लिया जाता था.....मुझे याद है, चाय वाय के टाइम तो रेडियो के प्रोग्रामों --खबरों आदि के साथ बंधे हुए थे।

इस घड़ी की कार्य-प्रणाली जिसे मैं आज तक न समझ पाया...
और एक बात, यह जो आप ने इस घड़ी के पिछले हिस्से की तस्वीर देखी..उस के विभिन्न बटनों को समझना मेरे लिए किसी साईंस एक्सपैरीमेंट जैसा था.....वैसे भी मैं अकेले में इस से पंगे लेता रहता था....जब भी इस में कोई भी रूकावट आती तो शक की सूईं सब से पहले मेरे पर ही जैसे रूक जाया करती... कि इसने ही छेड़खानी की होगी।

आज मैं अपनी मां जी से इस घड़ी की बातें शेयर कर रहा था तो उन्होंने मेरे ज्ञान में एक और इज़ाफ़ा कर दिया....उन्होंने बताया कि जब तेरे पिता जी ने यह घड़ी १९५० में ५० रूपये में खरीदी थी तो हमारे घर के आस पास इसे देखने आये थे.... कि अलॉर्म वाली घड़ी आई है जो कि रात के समय टिमटिमाती भी है.....टिमटिमाना तो मुझे भी याद है जब मैं अपने पिता जी के साथ रात में सोने की कोशिश किया करता तो बत्ती बंद होने के बावजूद इस में से हरे टिमटिमाते से सितारे अच्छे लगते.... यह रेडियम के कारण है।

पिता जी की घड़ी जिसे मैंने शायद १९८० से उन की कलाई पर देखा
चालीस वर्ष बाद आज मेरी कलाई पर...

अपने टेबल का दराज देख रहा था तो मेरे पिता जी की एक घड़ी पर भी नज़र पड़ गई......मैंने उन्हें १९८० के आसपास इसे पहने देखा......लगभग बीस वर्षों से यह ऐसे ही पड़ी है, आज मैंने पहनी तो अच्छा लगा......इसे कोई चाबी वाबी नहीं देनी पड़ती और न ही सेल बदलवाने का झंझट है......इस के डायल पर SEIKO -- Automatic लिखा हुआ है.... अच्छा लगा ...इस तरह की चीज़ों को आस पास रखने से बहुत से अहसास कायम रहते हैं.........आज कल मैं शायर मुन्नवर राणा साहब को पढ़ रहा हूं........शायद इतने सारे अहसास उस की वजह ही से लौट आ रहे हैं।


Saturday, September 20, 2014

बोरों में लाश किसकी-- जानवर या इंसान

आज बाद दोपहर मैं लखनऊ के आलगबाग से बंगला बाज़ार की तरफ़ आ रहा था...जिस रोड से मैं आ रहा था उसे व्ही.आई.पी रोड कहते हैं.....शायद इसलिए कि जब माननीय लोग हवाईअड्डे की तरफ़ जाते हैं तो इन की गाड़ियों के काफ़िले इस रोड से ही निकलते हैं, मुझे ऐसा लगता है कि इसीलिए नाम भी यही पड़ गया होगा।





नहरिया के ऊपरी सतह से निकला बोरा...


हां, तो उस व्हीआईपी  रोड के एक तरफ़ तो है बौद्ध विहार नामक एक स्मारक.....बहुत बढ़िया स्मारक है, देखने लायक....सुश्री माया वती के कार्यकाल के दौरान तैयार हुआ था। लेकिन कुछ दिनों से व्ही आई पी रोड के बीच में एक बंद रास्ता खोल दिया गया है। और इस स्मारक की दीवार के आगे एक नहर है.......इसे यहां की भाषा में नहरिया कहते हैं......लेकिन मुझे यह किसी नाले जैसा ही लगता है।

आज मैंने आते हुए देखा कि वहां पर लोगों का तांता लगा हुआ है......मैं भी रूक गया, पूछने पर पता चला कि नीचे नहर में दो बोरे पड़े हैं. कुछ दिनों से पड़े हुए थे, लोगों ने बदबू की शिकायत की तो आज उन्हें पुलिस की देखरेख में और जेसीबी मशीन की मदद से उठाया जा रहा है।

मैंने भी आगे होकर देखा कि एक वर्कर नीचे जा कर उन में से एक बोरे को रस्से से बांध रहा था....और फिर जेसीबी मशीन के द्वारा उसे ऊपर उठा लिया गया। वह वर्कर उस के बाद वापिस ऊपर आ गया।

जे सी बी मशीन में चंद लम्हों में वे बोरे ऊपर उठा कर रख दिए....आप इन तस्वीरों मेें देख रहे हैं...

उस के बाद वही बोरे जेसीबी ने सावधानी से उठाये और चलती बनी......पुलिस भी वहां से हट गई......और जनता भी तितर बितर हो गई।

हर कोई एक दूसरे से पूछ रहा था कि इन बोरों में लाश जानवर की है या इंसान की है?......तभी किसी ने एक बोरे की तरफ़ इशारा किया कि देखो, जानवर के पांव जैसा एक बोरे से बाहर दिख रहा है। लेकिन किसी ने इस बात की पुश्ति नहीं की कि आखिर क्या था उन बोरों में।

वहां खड़ा एक आदमी कहने लगा कि अगर जानवर की ही लाश होती तो उसे इतने टुकड़ों में काट कर बोरे में बंद कर के भला फैंकने की क्या ज़रूरत थी?...बात तो सही लग रही थी।

अब यह रहस्य कल के अखबार में शायद खुल जाए कि क्या था उन बोरों में.......पुलिस तहकीकात में क्या पता चला......मुझे वहां खड़े खड़े सोनी टीवी के सीआईडी सीरियल का ध्यान आ रहा था।

एक बार जर्नलिज़्म के एक प्रोफैसर ने क्लास मे एक शेयर मारा था....पूरा तो अभी याद नहीं, लेकिन कुछ शब्द ऐसे थे कि......
अब कौन देखने जाए कहां से उठ रहा है धुआं....
कल सुबह अखबार में पढ़ लेंगे आग कहां लगी है।। 

आज हमारे समाज का भी कुछ ऐसा ही हाल हो गया है। सनसनी हर तरफ़ दिख रही है लेकिन इस के आगे किसी को कोई सरोकार नहीं.......कुछ मतलब नहीं। दो मिनट में तांता लग जाता है तीसरे मिनट में तितर बितर हो जाता है........आज सुबह किसी फेसबुक मित्र की एक पोस्ट देखी थी ...अब सपेरे ने यह कह कर सांप अपने पिटारों में बंद कर दिये हैं.....कि अब इंसान को काटने के लिए इंसान ही काफ़ी है।

Thursday, September 18, 2014

इन मिलावटखोरों के कारनामे...

आज फेसबुक पर एक मित्र ने एक वीडियो शेयर की थी....उसे देख कर मेरा तो जैसा दिमाग घूम गया। किसी चैनल ने मिलावटखोरो की पोल खोल कर रखी थी।

शायद आपने भी यह सब देखा-सुना तो होगा.....लेकिन प्रत्यक्ष प्रमाण के साथ सब कुछ देखना बड़ा विचलित करता है...।

इस गुज़रे सीज़न में हम ने तरबूज खूब खाए....घर के ही सामने मंडी में एक दुकानदार तरबूजों का बड़ा सा ढेर लगा कर बैठा करता था कि कोई भी तरबूज फीका नहीं होगा और हर तरबूज अंदर से लाल ही होगा। एक-दो-तीन-चार.....सभी के सभी तरबूज एक दम लाल और मीठे......यार, यह तो कोई पहुंची हस्ति लगती है........लेकिन मन में कहीं न कहीं विचार तो आता ही था कि कुछ न कुछ तो लफड़ा है ही......इस विषय पर मैंने छःसात वर्ष पहले भी कुछ लिखा था.....मिलावटी खानपान के कुछ केस ये भी हैं.......लेकिन इस वीडियो ने सब कुछ देख कर एक बार फिर से विश्वास पक्का हो गया कि ये हरामी मिलावटखोर किसी के भी सगे नहीं है, ये तो चंद सिक्कों के लिए कुछ भी बेच दें.....।



वीडियो में आप यह भी देख सकते हैं कि किस तरह से सब्जियों पर रंग चढ़ाया जा रहा है, हम सब को बीमार, बहुत बीमार तैयार करने की तैयारियां....घोर शर्मनाक.

हम सब्जियों की बातें करते हैं तो इतनी महंगी तो पहले ही से हैं......मैं कल बाज़ार से निकल रहा था, मैंने एक जगह फुल गोभी देखी....अच्छी दिखी......एक छोटा सा पीस ..पचास रूपये में.......मैंने वजन करने के लिए कहा .. यह ४०० ग्राम से भी कम था......खरीद लिया क्योंकि फुल गोभी यहां लखनऊ में तोल के हिसाब से नहीं, प्रति पीस के हिसाब से मिलती है........खरीद तो ली मैंने ...लेकिन मैं यही सोच रहा था कि यार, यह फुल गोभी भी अब १२५ रूपये किलो बिकेगी क्या.  चलिए महंगी तो है ही, ऊपर से यह भी नहीं पता कि कितनी शुद्ध है, कितनी मिलावटी......किसी चैनल पर यह भी दिखा था कि ये जो फुल गोभी के बहुत साफ़ साफ़ पीस दिखते हैं...ये सफाई भी एक कैमीकल के घोल में इन्हें डुबो कर ही प्राप्त की जाती है।

जब मैंने इस वीडियो के कंटैंट अपनी मिसिज़ से शेयर किया तो उन्होंने भी यही किया कि हर तरफ़ ही मिलावट तो है ही, लेकिन कोई करे तो क्या करे, कैसे सब्जी को खाना बंद दे जनता....मैं भी यही सोचता हूं। लेकिन फिर भी इस तरह की चैनलों की कवरेज से लोग थोड़ा सचेत तो ज़रूर हो ही जाते हैं।

रही बात, विभिन्न मिलावटी वस्तुओं को घर ही में टैस्ट करने की बात........मुझे यह बात कभी भी प्रैक्टीकल नहीं लगी, और यह है भी नहीं। देखिए ना, वैसे किसी का लोंडा चाहे साईंस पढ़े या न पढ़े.. वह स्कूल में कोई प्रैक्टीकल कर पाए न पाए, लेकिन बापू बेचारा घर में विभिन्न तरह की मिलावटी जांच के लिए एक पूरी की पूरी प्रयोगशाला बना कर बैठ जाए........और किस किस चीज़ में मिलावट ढूंढता फिरेगा.......

जब मैं अपनी मिसिज़ से बात कर रहा था तो उन्होंने बताया कि कुछ अरसा पहले जब उन्होंने अपने किरयाने वाले से कहा कि किशकिश इतनी पीली पीली सी क्यों है, तो उसने जवाब दिया कि बाज़ार में कलर की हुई किशमिश भी मिल जाएगी, यही बात सौंफ के लिए भी है, जो ज़्यादा हरी हरी दिखे, वह भी कलर वाली हो सकती है, जिस तरह से बड़ी चमकती दमकती सब्जियां ......क्योंकि इस से यह तो पता चलता ही है कि इन के ऊपर विभिन्न कलर या कैमीकल तो इस्तेमाल किए ही गये होंगे और साथ में इन की चमक इस बात का भी प्रमाण है कि इन्हें कीट आदि से बचाने के लिए कितने रासायनिक कीटनाशक इस्तेमाल किए गये होंगे।

वैसे इस वीडियो में हो रही मिलावट के भयंकर कारनामे देख कर मन बहुत दुःखी हुआ..... इसलिए भी कि यह हरामी तो सेहतमंद को बीमार कर दें और बेचारे किसी भी लाचार, बीमार को मौत के घाट उतारने में भी रती भर संकोच नहीं करते......हरामी मिलावटखोरों में खौफ़ पैदा करने का एक उपाय है.....इन दल्लों का मुंह काला कर के, इन्हें गधे पर बैठा कर, जूतों का हार इन के गले में पहना कर, जूते मारते हुए सारे शहर में घुमाया जाना चाहिए......पानी में भिगो भिगो कर........शायद इस से इन के मन में कुछ खौफ़ पैदा हो पाए, शायद........... ।।।

Wednesday, September 17, 2014

वो हजामत के दिन, वे बरफी की यादें...

शायद आप में से कुछ सोच रहे होंगे कि यह हजामत का बरफी से क्या संबंध.....शायद कुछ को तो हजामत का मतलब ही न पता हो, या जिस हमाजत के बारे में वे सोच रहे हैं यह वह हजामत नहीं है।

सब से पहले तो हजामत का मतलब ही समझ लें.....वैसे मुझे यह भी नहीं पता कि सही शब्द हज़ामत है या हजामत, क्योंकि जब से होश संभाला पंजाब में अमृतसर की धरती पर हमेशा यही सुना कि बाल वध गये ने, जामत नहीं करवानी हल्ले... (बाल बढ़ गये हैं, अभी बाल नहीं कटवाने जाना).... जी हां, आपने ठीक समझा पंजाब में  ठेठ भाषा में बाल कटवाने को जामत करवाना ही कहते रहे हैं....यह १९६० के दशक के आखिरी और १९७० के दशक के पहले वर्षों की बातें आपसे साझी कर रहा हूं...हजामत समझ हमें लंबा लगता है, इसलिए शायद हम उसे आसानी से छोटा कह कर उस की भी जामत कर देते हैं।

फ्लैशबैक...

मैं पांच-सात-आठ वर्ष का बालक......अपने पिता जी की साईकिल के अगले डंडे पर बैठा हूं...पता नहीं उन्होंने उस पर बच्चों वाली काठी कभी क्यों नहीं लगवाई, लेकिन मुझे उस पर बैठने में दिक्कत बहुत हुआ करती थी....सब कुछ दुःखने लगता था.....क्योंकि मैं डंडे के दोनों तरफ़ एक एक टांग कर के बैठता और बार बार हिलता रहता कि नीचे चुभने वाला दर्द कम तो हो.......लेकिन जो भी वे भी बहुत अच्छे दिन थे, अपने पिता जी का साईकिल पर आगे बैठ कर किसे उम्र की उस अवस्था में बादशाह जैसे फील नहीं हुआ होगा.......मजे की बात तब बादशाह का पता ही कहां होता है!!

 नहीं यार यह मैं नहीं हूं..गूगल से
लो जी हम पहुंच गये...अमृतसर के हरीपुरा एरिया के एक नाई के यहां.......आज हेयर-ड्रैसर कहते हैं, तब तो नाई ही कहते थे.....वह माहौल अभी भी याद है...... उस की दुकान पर एक लकड़ी की कुर्सी हुआ करती थी, अब वह एडजस्ट तो हो नहीं पाती थी, इसलिए मेरे जैसे छोटे बच्चों के लिए एक लड़की का फट्टा रख कर उस पर मुझे बैठा दिया जाता था.. फिर एक कपड़ा बांध कर वह अपना काम शुरू कर दिया करता था।

एक बात का और भी ध्यान आ रहा है कि उस नाई की दुकान पर बहुत सी तस्वीरें ये हीरो-हारोईनों की मायापुरी और लोकल हिंदी के अखबार --पंजाब केसरी से काट कर आटे की लेवी से चिपकाई हुई होती थीं..विशेषकर हीरोईनों के विभिन्न मन-लुभावने पोज़ों को तरजीह दी जाती थी...... दो दिन से एक अभिनेत्री के क्लीवेज को लेकर इतनी चर्चा हो रही है, तब नाई की दुकान पर भी यह सब दीवारों पर चिपका पड़ा मिलता था।

मुझे याद है मुझे उस नाई की मशीन से बड़ा डर लगता था......इतनी आवाज़ करती थी, और बार बार उस का बालों में अटक जाना......कईं जगह से चमड़ी काट दिया करती थी वह मशीन...इसलिए मुझे जामत करवाने जाना कभी अच्छा नहीं लगता था, फिर भी मैं राजी हो जाया करता था, कारण अभी बताऊंगा।

जिस उस्तरे से वह कलमें बनाया करता था, वह भी मल्टी-पर्पज़ ही हुआ करता था.....हर पांच मिनट के बाद वह एक पुरानी चमड़े की बेल्ट पर रगड़ कर उस की धार लगाया करता था......फिर उस से किसी ग्राहक की शेव, किसी की बगलों के बाल, किसी के नाखून और किसी की जामत को फाईनल टच उसी उस्तरे से ही दिया जाता था।

कोई चूं चां नहीं किया करता था......बस, उस समय थोड़ी कोफ्त हुआ करती थी कि कोई जब जामत करवा रहा होता और एक दूसरा बंदा आकर अपना कुर्ता ऊपर उठा कर उसे बगलें साफ़ करने को कह देता.......नाई बड़ा सहनशील हुआ करता था, वह किसी को नाराज़ न करता।

मेरी जामत के दौरान मेरे पिता जी उस दुकान के बाहर अपने एक डेरी वाले दोस्त से गप्पबाजी किया करते...

जामत करवाने के बाद जब मैं थोड़ा थोड़ा सा परेशान उस कुर्सी से नीचे उतरता से मेरे पिता जी मुझे साथ वाली हलवाई की दुकान पर बरफी दिलवाने ले जाते।

उस दुकान की क्या तारीफ़ करूं.......मैंने इतनी बढ़िया बरफी कभी नहीं खाई..मुझे मेरे पिता जी मुझे पचास पैसे की या एक रूपये की बरफी दिला देते......मैं उस की खुशबू पर ही मुग्ध हो जाता ..और जामत के समय हुए अत्याचार को भूलते देर न लगती.....इतनी नरम और ताज़ी बरफी ...कि उस कागज़ के लिफ़ाफे में वे टुकड़ियां आपस में जुड़ जाया करती थीं....क्या कहूं कि इतना मज़ा तो आज तक किसी मिठाई में नहीं आया........

जैसे थोड़े बड़े हुए तो पता चला कि वह बुज़ुर्ग मिठाईवाला सुबह से लेकर शाम तक उस कोयले वाली बड़ी सी अंगीठी में दूध को हिलाता रहता था और शाम को जो दो-तीन ट्रे बरफी की तैयार होती थी, वह हाथों हाथ बिक जाया करती थी।  ओ माई गॉड---- इतना सबर।

पहले तो नहीं कहते थे कि बरफी खरीदने के दो दिन के अंदर ही खा लें.....नहीं तो खराब हो जायेगी। अब पता ही नहीं चलता कि ये लोग क्या क्या मिला कर देते हैं.....दूध का कुछ भरोसा नहीं........अब बरफी खाते तो हैं, लेकिन कईं कईं महीने बीत जाने के बाद दो-चार टुकड़े.......और यह जानते हुए कि ये सेहत खराब ही करेंगे.....फिर भी दिल तो बच्चा है जी.......।।

मेरा बेटा मुझे कईं बार कहता है कि बाज़ार जाते वक्त बरफी ले कर आना........लेकिन मैं जानबूझ कर उस की फरमाईश पूरी नहीं करता......और कुछ ले आता हूं लेकिन अकसर बरफी नहीं लाता।

अच्छा, अगर आप के बचपन की भी कुछ यादें हैं इस तरह की ईमानदारी की बीमारी से ग्रस्त हलवाईयों से जुड़ी हैं, तो आप साझा क्यों नहीं करते.......लिखिएगा। अच्छा लगेगा।



बस क्या सेहत विभाग ही संभाल लेगा हमारी सेहत..

सेहत विभाग की टीमों का ध्यान करें तो मुझे अपनी २०-२५ वर्ष की उम्र वाले दिन याद आ जाते हैं.....तब, जून की गर्मी में गन्ने का रस पीने की इच्छा हुआ करती थी तो पता चलता था कि सेहत विभाग की टीमें छापे मार रही हैं, इसलिए गन्ने का रस बेचने वाले कुछ दिनों के लिए छुप कर बैठ गये हैं।

और उस के बाद इतने साल हो गये, त्यौहारों के सीजन में ....दीवाली, दशहरा, बैसाखी....हर दिन इस देश में एक उत्सव है... अखबारों में निकलने लगता है कि सिविल सर्जन की टीम ने फलां मिठाई की दुकान में छापा मारा, इतने बोरे खोए (मावा) के, इतने क्विंटल रसगुल्ले, बर्फी.... वहां से उठवा कर नष्ट करवा दी ....कईं बार वहां से सैंपल उठाने की बात भी हुई.....बस, उस के बाद फिर कभी खबर दिख गई तो ठीक, न दिखी तो ठीक कि उन मिलावटी सामान बेचने वाले दुकानदारों का आखिर हुआ तो हुआ क्या...

सभी सरकारें इतने इतने अभियान भी चलाती हैं ..अखबारों में, टीवी-रेडियो में भी......लेकिन सोचने वाली बात है कि क्या इस से हम लोगों की खाने पीने की आदतें सुधर गईं, हम ने कभी दूध एवं दूध से बनने वाले खाद्य पदार्थों को लेने से पहले कभी सोचा भी कि यार, इतना सारा दूध आखिर आ कहां से जाता है, हर तरफ़ पनीर की भरमार, हर तरफ़ मावे की हर तरह की मिठाईयां....

चलिए, बात आगे बढ़ाते हैं......मुझे लगता है कि सरकार जितना कर रही है, कर ही रही है, सिविल सर्जन के दस्ते भी कर ही रहे हैं.......लेकिन फिर भी मेरा यह मानना है कि बाहर से कुछ भी खरीद कर खाने के प्रति हमारी अपनी जिम्मेदारी कहीं ज़्यादा है......और इस में जहां तक मैं समझ पाया हूं शिक्षा और आर्थिक अवस्था की बहुत बड़ी भूमिका है।

आखिर हम कैसे सोच भी लें कि सरकारी दस्ते हर जगह हर खाने पीने के खोमचे तक पहुंच जाएंगे .....इस देश में यह एकदम असंभव सा प्रतीत होता है। हर गली, हर नुक्कड़, हर मोहल्ले, हर तिराहे-चौराहे पर दर्जनों खोमचे वाले मिल जाएंगे जो हमें कुछ भी खिला-पिला दें......

दस रूपये में बिक रहा जंबो बन-मक्खन..
दो दिन पहले मैं अपने घर के पास एक सब्जी मंडी में गया....वहां मैं अकसर देखता हूं कि ये समोसे-वोसे वाले तो रेहड़ीयों पर अपना सामान बेच रहे होते हैं.....अच्छा एक बात का ध्यान आया कि ये चीनी की चासनी में भीगे समोसे तो मैंने यहां लखनऊ में ही देखे हैं......कोई बात नहीं, हर जगह की अपनी खाने पीने की आदते हैं......।

हां, तो आज मैंने देखा कि एक रेहड़ी वाला इस तरह के बन-मक्खन बेच रहा था... दस रूपये का एक पीस दे रहा था.....जो बच्चे अपने मां-बाप के साथ आए हुए थे, वे मचल रहे थे, और इन बन-मक्खनों की खूब बिक्री हो रही थी। ठीक है, उस ने कांच से कवर तो किया हुआ था......लेिकन जिस तरह का रंग आप देख रहे हैं, और जिस तरह का मक्खन मैंने वहां देखा.....जिसे वह एक्स्ट्रा भी लगा कर देख रहा था.....देख कर सिर घूम रहा था। कुछ माताएं अपने दोनों बच्चों को दिखा कर सब से बड़े बन-मक्खन के लिए आग्रह करतीं तो उन्हें वह नाराज़ नहीं करता.......हां, हा, पता है मुझे, कह कर औरों से बड़ा बन थमा देता।

आप देख सकते हैं कि कैसे दस रूपये में इतना बड़ा बन और मक्खन बेचा जा सकता है........कम से कम यह मक्खन तो हो नहीं सकता। दुःख होता है ये सब कुछ बिकता देख कर।

बन-मक्खन का क्लोज़-अप..
पता ही नहीं कि इन तरह के मिलावटी खाद्य पदार्थों में किस किस चीज़ की मिलावट हो रही है, कौन बताएगा। बेचने वाला अपनी जगह ठीक है, वह तो कमीशन पर काम कर रहा है, उसे एक पीस में एक रूपया मिलता है... क्या करे, उसने भी बच्चों का पेट भरना है, अच्छा खरीदने वाले क्या करें, उन्हें भी कम पैसे में यह सब कुछ चाहिए.....इसीलिए मैं बहुत बार कहता हूं कि इस देश का सारी समस्याओं का समाधान इतना आसान भी नहीं है, बेहद जटिल हैं.... अब इसी बात को लें कि अगर लोग समझ जाएं कि कुछ भी हो, हम ऐसे खाद्य पदार्थ नहीं खरीदेंगे ...तो ये अपने आप ही बिकने बंद हो जाएंगे...अपने पास ही ये खोमचे वाले फल-फ्रूट, चना-कुरमुरा आदि बेचने लगेंगे। ....शायद मैं बहुत सोचता हूं इसलिए ऐसा सोच रहा हूं।

यह पेठे की मिठाई भी आजकल खूब बिकती है..
अभी थोड़ी दूर ही गया तो यह पेठे वाला मिल गया........आप देखिए कि किस तरह से खुले में यह सब बिक रहा है......वैसे तो मैं अकसर इस तरह से बिकते हुए पेठे पर खूब मक्खियां भिनभिनाते देखता हूं लेकिन आज कुछ कम ही दिखीं......लेकिन फिर भी इस तरह के पेठे में क्या है, कहां पे यह तैयार हुआ, इस की हैंडलिंग कैसे हुई......जब जनता यह सब सोचने लगेगी तो नहीं खरीदेगी यह सब।

एक बात अकसर सत्संग आदि में सुनाई जाती है कि सारे संसार पर कालीन या चटाई तो बिछाई नहीं जा सकती, इसलिए समझदारी इसी में है कि हम कांटों से बचने के लिए अपने एक जूता ही पहन लें...... काश, ऐसा हो जाए।


कंटीला परवल... सब्जी है यह भी एक...
लेकिन यार, जैसे राशन की दुकान  या सब्जी मंडी में जा कर मुझे किसी न किसी दाल का नाम जानने को तो मिलता है,  और नईं नईं सब्जियां भी देखने को मिलती हैं ...जिन्हें मैंने अभी तक चखा भी नहीं.... शायद इसलिए कि ये सब पंजाब-हरियाणा में बिकती देखी नहीं....या मुझे कभी इन की तरफ़ देखने की फुर्सत ही न थी.....पता नहीं......दो दिन पहले पता चला कि यह जो सुंदर सी तरकारी (सब्जी) आप इस तस्वीर में देख रहे हैं......यह है कंटीला परवल.....क्या आपने इसे कभी खाया है। दरअसल जो सब्जियां हम लोगों ने बचपन में नहीं खाई होतीं, वे हम लोग अकसर बड़े होकर भी नहीं खा पाते....जैसे कि मैं करेले से दूर भागता हूं........इसलिए मैं बच्चों के अभिभावकों को कहता रहता हूं कि इन्हें हर सब्जी, हर दाल खाने की आदते डालिए.......वरना बड़े होकर भी ये जंक-फूड़ को ही सुपर-फूड समझते रहेंगे। 

Saturday, September 13, 2014

उस दिन पेड़ वाले बाबा से मुलाकात हो गई...


दो चार दिन पहले की ही तो बात है....लखनऊ जंक्शन के पास ही एक बड़ा व्यस्त एरिया है...नाका हिंडोला... मैं उस के आस पास ही एक एफ.एम रेडियो को तलाश रहा था। अचानक मेरी नज़र एक संत जैसे दिखने वाले इंसान पर पड़ी ..जो कि एक हरे रंग के साईकिल पर जा रहा था...जिस पर पेड़ की फोटो भी बनी हुई थी..मुझे ऐसे लगा कि जैसे कोई दरवेश उस रास्ते से गुज़र रहा हो। अच्छा और भी लगा जब उस के साईकिल के कैरियर पर टिके हुए पीपे पर लिखा हुआ था..पेड़ वाला बाबा।



इच्छा हुई कि शायद यह रूक जाएं तो इन से चंद बातें ही कर ली जाएं। लेकिन वह बाबा तो अपनी मस्ती में मस्त ही चला जा रहा था.....मैं भी उसी जगह खड़ा उसे देखता रहा ... मैंने सोचा कि बाज़ार में काफी भीड़ है, शायद यह दरवेश आगे चल कर कहीं रूक जाए, इसी उम्मीद के साथ मैं उन के रूकने की इंतज़ार कर ही रहा था कि मुझे लगा कि वह हरे रंग का साईकिल कुछ दूर जा के रूक गया है।



मैं तेज़ी से चल कर झट उन के पास पहुंच गया। वे एक डिब्बे में पानी भर के गमले में लगे कुछ पौधों को पानी देने की तैयारी कर रहे थे। मुझे यह मंजर देख कर मज़ा आ गया। मैंने उन के पास जा कर कहा कि मुझे आप का काम देख कर बहुत अच्छा लगा....इसलिए मैं दूर से आप का पीछा करते करते यहां तक पहुंच गया। वे बहुत खुश हुए।


अच्छा पहले तो इन का इंट्रो करवा दूं.....जैसे कि इन के साईकिल पर ही लिखा गया है ...ये हैं श्रीमान मनीष तिवारी जी जिन्हें लोग पेड़ बाबा के नाम से जानते हैं....फिर मैं उन के साथ पांच दस मिनट तक बतियाता रहा, वह हंसी हंसी मेरी बच्चों जैसी सभी जिज्ञासाएं शांत किए जा रहे थे।

चलिए, आप से भी यह शेयर करता हूं....वे पिछले बीस वर्षों से यह सेवा कर रहे हैं। उन्हें इस काम को करने में परम आनंद की अनुभूति होती है। जगह जगह पेड़ लगाना और फिर उन की देखभाल करना यह उन्हें भाता है। अपने लगाए हुए पौधों को रोज़ाना पानी देने पहुंच जाते हैं।

रोज़ाना पानी देने की बात से मेरे को ध्यान आया.. नाका हिंडोला एरिया से चंद कदमों की दूरी पर कुछ हाटेल हैं जिन के बाहर मैंने अकसर बीसियों ज़रूरतमंदों (भूखो)  को किसी दानवीर की प्रतीक्षा करते देखा है। उन की आंखें हर राहगीर में एक दानवीर को टटोलती नज़र आती हैं। जैसे ही वह पेड़ बाबा पेड़ों को पानी दे रहा था तो मुझे यही अहसास हुआ कि जैसे सारा दिन इस संसार को तपिश को सहने वाले पेड़ भी इस दरवेश की इंतज़ार ही कर रहे थे कि वह आकर उन की भी प्यास बुझाएगा। फिर ध्यान आया कि मैंने अपने फ्लैट की बालकनी में लगे पौधों को कब पानी दिया था, पानी देना तो दूर मैंने उन्हें पिछली बार देखा था, मुझे तो यह भी याद नहीं....और बातें मैं कितनी बड़ी बड़ी करता हूं कि मैं वनस्पति प्रेमी हूं.....यह हूं, वह हूं।

बहरहाल, अब कुछ समय के लिए अपनी बातें हांकना बंद  करता हूं...उस दरवेश की बातें करते हैं...... सच में वह पेड़ बाबा ही थे, जिस तरह के आस पास से गुज़रने वाले लोग उन के पांव छू कर उन का आशीर्वाद लेकर आगे चल रहे थे, यही लग रहा था कि किसी भी नेक काम में हाथ डालने की देरी होती है, अपने अाप कारवां बनता जाता है।

मनीष तिवारी ने बताया कि यह जो आप जगह देख रहे हैं, क्या आप पहले इस तरफ़ से कभी गुज़रे हैं... मैंने कहा...हां, यहां तो बहुत गंदगी और बदबू हुआ करती थी। कहने लगे कि यहां कूड़े-कर्कट के ढेर और लोगों ने मूत्रालय बना रखा था, वे नहीं देखते थे कि माताएं-बहनें भी उसी राह से गुज़र रही हैं।

कुछ महीने पहले इन्होंने इस एरिया की स्वयं सफाई की.....जो कुछ भी नीचे बह रहे गंदे नाले में डालने लायक था, इन्होंने फावड़े की मदद से नीचे गिरा दिया... फिर गमलों में पौधे लगाए...एरिया एक दम साफ़-सुथरा दिखने लगा है.... और बेकार पड़ी पाइपों पर सुंदर सुंदर कथन भी लिखवा दिए .. जैसा कि आप इन चित्रों में देख सकते हैं।

ऐसे लोग जब निष्काम भाव से अपना काम करते हैं तो आस पास के लोग अपने आप जुडऩे लगते हैं.....मैंने देखा कि उन्हें देखते ही आस पास के युवक उन के लिए डिब्बे में पानी भर भर कर लाने लगे ....पौधों की प्यास बुझाने के लिए।

बात कर रहे थे .. उन्हें सुनना अच्छा लगता था....कहने लगे कि गंदगी के साथ साथ यह जगह जगह पेशाब करने की आदत भी बुरी है... जहां कुछ नहीं लिखा रहता और किसी पेशाब करने वाले को टोक दो तो वह तपाक से कह देता है कि कहां लिखा है यहां पेशाब करना मना है ....और जहां लिखा रहता है और अगर वहां किसी को टोक दो तो वह कह देता है .. कि यह तो सब ऐसे ही लिख देते हैं।

मुझे उन की बातें सुन कर यही लग रहा था कि यार, संत केवल क्या बड़े बड़े मठों में ही होते हैं...या फिर यह  भी चलते फिरते संत ही हैं.....जिन के मन में मानवता के लिए इतना प्रेम भरा हुआ है। किसी चीज़ की कोई इच्छा नहीं, अपेक्षा नहीं, बस अपनी धुन में निरंतर लगे रहने की तमन्ना, जोश, मिशन.......। संसार का आज बीते हुए कल से बेहतर बनाने का जज्बा।

मैंने उन का फोन नंबर लिया... अपना उन्हें दिया.....और जब बताया कि मैं भी पास के एक अस्पताल में चिकित्सक हूं तो बहुत खुश हुए... कहने लगे कि आप की संवेदनशीलता देख कर बहुत अच्छा लगा और वह तब और भी खुश हुए जब मैंने उन्हें बताया कि आज ही दोपहर में मेरी श्रीमति जी ने माली को बुला कर बालकनी में रखे गमले में बढ़ रहे पेड़ों को अपनी बिल्डिंग के नीचे छोटे से पार्क में शिफ्ट करवा दिया।  बहुत खुश हुए कि यह हुई न बात....  ज़मीन के पेड़ को ज़मीन की गोद तक पहुंचा दिया, बहुत अच्छा किया।

फिर उन्होंने बोनसाई के ऊपर अपने विचार रखे....कहने लगे कि यह भी कोई बात हुई कि आज का मानव पेड़ों की नसबंदी कर के, उसे काट काट के इतना छोटा करने की धुन में उन्हें बोनसाई बना कर अपने ड्राईंग रूम में सजाने के चक्कर में पड़ा हुआ है। जो मज़ा, आनंद खुले में हरे भरे पेड़ों को देखने में, उन्हें निहारने में, उन के नीचे खड़े हो कर उन्हें बनाने वाले चित्रकार, शिल्पकार के बारे में सोचने में है, वह घर के अंदर कमरों में मुरझाए हुए पत्तों वाले पेड़ों को देखने से कहां मिल सकता है।

इ्च्छा हो रही थी कि इन से बातें करता जाऊं......लेिकन दुकानें बंद होने का समय हो रहा था, इस लिए इन से इजाजत लेकर मैं वापिस मार्कीट की तरफ़ चल पड़ा।

हां, एक बात तो शेयर करना भूल ही गया.. मेरे यह पूछने पर कि क्या आप की कोई संस्था है तो उन्होंने बताया...नहीं, नहीं, मैं तो बस अकेला ही इस काम में लगा हूं...क्योंकि मुझे अपार खुशी मिलती है। और मैं इस बात को प्रमाणित करता हूं कि जो हज़ारों वॉट की मुस्कान मैंने इन के चेहरे पर देखी वह शायद करोड़पति पूंजीपतियों के यहां कभी नहीं दिखती। मैंने झिझकते हुए कहा कि आप जीविकोपार्जन के लिए क्या करते हैं......बताने लगे कि कुछ नहीं, घर से अनाज, दालें... सब कुछ आ ही जाता है, बाकी वही काफ़ी होता है, बाकी समय इन्हीं पेड़ों को समर्पित है।

शहर की कईं जगहों पर इन्होंने पेड़ लगाए हैं....और कुछ एरिया के नाम तो ले रहे थे लेकिन लखनऊ की जगहों से मैं इतना अच्छा से वाकिफ़ नहीं हूं, इसलिए कुछ याद नहीं रहा।

इस पेड़ बाबा को मिलने के अगले दिन लखनऊ के बंगला बाज़ार एरिया में मैं अपने स्कूटर पर जा रहा था तो मुझे एक मोटरसाईकिल पर कुछ लिखा नज़र आया......अनाथ बच्चों और पेड़ पौधों को लगाने में समर्पित .....एक आदमी मोटरसाईकिल पर जा रहा था......मैंने फोटो तो खींच ली......उस पर उस ने मोबाईल भी लिखा हुआ था... आगे चल कर वह एक फ्रूट की रेहड़ी पर रूक भी गया......लेकिन मैंने उस से बात करने की हिम्मत न की........ शायद ज़रूरत ही न समझी....क्योंकि मैं एक दरवेश से पहले मिल चुका था जिस के आचरण में मुझे त्याग, प्रेम, करूणा, वात्सल्य की कहीं ज़्यादा खुशबू आई थी। देखिए, मैं इस दूसरे समर्पित इंसान से मिला तक नहीं लेकिन उस के बारे में एक ओपिनियन कैसे पहले ही से बना लिया.........मेरे जैसे लोग पता नहीं कब इन हरकतों से बाज़ आएंगे...शायद कभी नहीं, यह कहीं फितरत ही तो नहीं बन चुकी।

पेड़ बाबा को समर्पित यह गीत....


Friday, September 12, 2014

कुछ दवाईयां भी मसूड़ों को फुला देती हैं...

ऐसी कुछ दवाईयां हैं जो मसूड़ों पर बुरा प्रभाव डालती हैं......मुझे आज इस मरीज़ को देख कर इस बात का ध्यान आ गया कि ब्लड-प्रेशर की कुछ दवाईयां भी ऐसा ही प्रभाव डालती हैं।

दो वर्ष पहले की महिला के मसूड़ों की तस्वीर ... 
यह तस्वीर आप जो यहां देख रहे हैं यह ६०-६५ वर्ष की एक महिला की है जो कि मेरे पास ठीक दो वर्ष पहले आई थीं... मैंने तब अपने इंगलिश ब्लॉग पर इस विषय पर एक लेख भी लिखा था..... Blood pressure pill can lead to big gums. 

आप इस लिंक पर जा कर इस पोस्ट को देख सकते हैं। यह महिला इतनी परेशान थी तब ...मसूड़ों पर हाथ लगते ही खून आने लगता था....बहुत ही ज़्यादा परेशानी थी इन्हें।

जब इन की हिस्ट्री ली तो पता चला कि ये निफैडेपीन नामक दवाई लेती हैं, तब मैंने इन्हें फिज़िशियन के पास भेजा... उन्हंोंने दवाई चेंज कर दी......और फिर इन्होंने मसूड़ों का थोड़ा इलाज करवाया.....फिर उस के बाद मेरा तबादला हो गया और उन्हें देख नहीं पाया।

लेकिन आज एक अन्य महिला जिसे मैंने कुछ महीने पहले इसी तकलीफ़ से ग्रस्त पाया था...वह भी   चेकअप के लिए आईं तो अच्छा लगा ... इन के मसूड़े भी काफ़ी फूले हुए थे, काटने-छांटने की ज़रूरत नहीं महसूस हुई थी और न ही यह उस समय कुछ ज़्यादा करवाने के लिए राज़ी ही हुईं थीं। उच्च रक्तचाप की दवाई बदल दी गई थी। मसूड़े दस-पंद्रह दिनों में ही ठीक होने लगे थे....सूजन घटने लगी थी, रक्त बहना बंद होने लगा था...।

अब इन्हें कोई तकलीफ़ नहीं है, मसूड़ों से रक्त नहीं आता, ब्लड-प्रेशर के लिए जो नईं दवाई लेती हैं..उस से वह भी नियंत्रण में रहता है, किसी बात पर पति को मेरे सामने झिड़क भी दिया कि तुम अपनी सेहत की बहुत टेंशन करते हो.....

इस महिला के मसूड़े भी कुछ महीने पहले ऊपर जैसी महिला जैसे ही थे.
आप इस तस्वीर में भी देख सकते हैं कि मसूड़े लगभग ठीक ही लग रहे हैं.....पूरे के पूरे ठीक तो नहीं है एक डैंटिस्ट की नज़र से.....लेकिन उस में कुछ इन की पुरानी ब्रुश करने की गलत आदतों का भी परिणाम शामिल है... वैसे मैं तो यहां दवाईयों का मसूड़ों पर होने वाले प्रतिकूल प्रभाव को ही रेखांकित करने की कोशिश कर रहा था।

अच्छा, यह क्लास तो खत्म हुई........आप किस सोच में पड़ गये.......कि आप भी यही दवाई लेते हैं...कहीं आप को भी यह तकलीफ़ न हो जाए। ऐसा कुछ नहीं है, वैसे तो मैडीकल फील्‍ड में कुछ भी ज़्यादा निश्चित होता नहीं, लेकिन आप यह मान कर चलें कि अगर आप इस तरह की कोई दवा ले भी रहे हैं अपने डाक्टर की सिफारिश पर.....तो लेते रहिए। ऐसा प्रतिकूल प्रभाव यह दवाई लेने वाले हर इंसान में नहीं होता। निश्चिंत रहें, खुश करें, इसलिए मैं अकसर कहता हूं नेट पर ज़्यादा सेहत संबंधी विषयों को नहीं खंगालना चाहिए।

हां , एक बात है कि अगर आप कोई भी दवा ले रहे हैं और मसूड़ों की इस तरह का हालत है... तो भी आप का कोई अनुभवी दंत चिकित्सक ही यह कह पाएगा कि यह तकलीफ़ आप को फलां फलां दवाई की वजह से है.. और फिर वह आप को फ़िजिशियन के पास भेजेंगे ....और फिजिशिय़न भी पूरा लाभ और रिस्क का आंकलन करने के बाद ही आप की कोई भी दवा चेंज करते हैं.......इस का मतलब यही है कि कईं बार उस दवाई से मरीज़ को जो लाभ हो रहे हैं उस का पलड़ा ज़्यादा भारी रहता है इस से मसूड़ों पर होने वाली प्रभाव की तुलना में ......ऐसे में दवाई चेंज नहीं की जाती, यह सब निर्णय केवल फ़िज़िशियन ही लेने में सक्षम होते हैं............ऐसी और भी कईं दवाईयां हैं जिन में मसूडों में सूजन आ सकती है, मिर्गी रोग के लिए ली जाने वाली कुछ दवाईयां, किडनी (गुर्दा) प्रत्यारोपण के बाद ली जाने वाली कुछ दवाईयां.......आदि ........लेकिन हर व्यक्ति में ये प्रभाव नहीं पाये जाते...................इसलिए दिल पे मत ने ले यार............लिखने के लिख दिया, ज़्यादा सोचा मत करें.........

यार , आप तो सीरियस हो गए....चलिए उस का भी कुछ जुगाड़ करते हैं.......यह सुनिए.... वीडियो को न भी देखें या उस पर ध्यान न भी करें तो भी लिरिक्स तो ठीक ठाक ही हैं......हम सब के लिए एक हेल्दी संदेश लिए हुए...

दांत की क्विकफिक्स रिपेयर

जी हां, दांत की क्विकफिक्स रिपेयर भी होती है.....लेकिन इस में क्विकफिक्स या फेवीक्विक का कोई कमाल नहीं है, यह कमाल तो है आज की तारीख में उपलब्ध बेहतरीन मैटीरियलज़ (materials) का जो एक तो दांतों के साथ बिल्कुल मैच करते हुए विभिन्न शेड में आते हैं और दूसरा इस तरह के मैटिरियल आने लगे हैं जो दांतों के साथ बिल्कुल एकदम एक ही हो जाते हैं......दांतों के साथ इस तरह से बांडिंग कर लेते हैं कि आप कुछ भी खाएं-पिएं यह बंधन नहीं टूटता।

अच्छा, एक उदाहरण के ज़रिये अपनी बात कहता हूं.........यह तस्वीर एक १८-१९ साल के युवक की है, चार पांच रोज़ मेरे पास आया था.....आप उस के अगले दांत की हालत देख रहे हैं ना.....यह दांत दंत-क्षय की वजह से पूरी तरह से सड़ चुका है लेकिन इसे इस में दर्द कभी भी नहीं हुई.....शायद कुछ कह तो रहा था कि पांच छः वर्ष पहले एक बार थोड़ी दर्द हुई थी।

चाहे उसे दर्द हुई या नहीं, लेकिन दांत की अवस्था देखने पर ही पता चलता है कि उस की आरसीटी..रूट कैनाल ट्रीटमैंट---होना ज़रूरी है और उस के बाद उस पर कैप आदि का लगवाना ज़रूरी लगता है। दांत को उखड़वाने की कोई ज़रूरत नहीं। मैंने उसे समझाया तो कहने लगा कि वह तो उसे पता है, वह तो बाद में वह करवा ही लेगा लेकिन इस समय उसे किसी विशेष इंटरव्यू और एक विशेष कार्यक्रम में जाना है, इसलिए वह इस तरह के दांत के साथ जा नहीं सकता, इसलिए इस भद्दे से दांत का कुछ कर दें।

मैं हमेशा हर मरीज़ को पूरा और सही इलाज करवाने के लिए ही प्रेरित करता हूं लेकिन इस लड़के की आवाज़ में इतनी बेबसी सी लगी कि मैंने सोचा चलो इस का कुछ जुगाड़ करते हैं।

आधुनिक डैंटिस्ट्री.... इस दांत को ठीक करने में मेरा कोई विशेष योगदान नहीं है......आज कल डैंटल मैटिरियल ही इतने इतने अच्छे उपलब्ध होने लगे हैं.....हमारे अस्पताल में हम बढ़िया विदेशी किस्म के ही मैटिरियल इस्तेमाल करते हैं.....अब मुझे पता नहीं कि हिंदोस्तान में इस तरह के मैटिरियल क्यों नहीं तैयार हो सकते.....बस, जो भी है, मुझे विदेशी और अच्छी कंपनियों के मैटिरियल पर ही भरोसा है क्योंकि बरसों बरसों तक इन मैटिरियल ने लोगों के मुंह में रहना होता है, हर तरह के तापमान और हर तरह के ऐसिडिक, तीखी, नमकीन ...कुछ भी चीज़ को सहना होता है ...इसलिए मैं हमेशा ही से पिछले ३० वर्षों से सब से बढ़िया मैटिरियल ही इस्तेमाल करता हूं..

प्रमाण इस का तब मिलता है जब मुझे मेरे नेटिव प्लेस में कोई कहता है कि डा साहब, यह फिलिंग जो आपने की थी, पच्चीस साल पहले वह तो वैसी की वैसी है, या जब मैं अपने बड़े भाई के दांतों पर २५ वर्ष पहले की हुई फिलिंग देखता हूं तो अच्छा लगता है...अभी दो दिन पहले जब मुझे एक सहपाठिन ने व्हाटस-एप पर बताया कि उस के पति मुझे १६-१७ वर्ष तक याद करते रहे ...जब तक उन के मुंह में मेरे द्वारा की हुई फिलिंग टिकी रही......यह एक मुश्किल तरह की फिलिंग थी, जो अगर ध्यान से ....या मन लगा के न करो तो कुछ ही महीनों में या तो गिर जाती है या फिर आसपास के मसूड़े में सूजन पैदा कर देती है। लेकिन मैं यहां यह क्यों लिख रहा हूं.......अपनी तारीफ़ करने से बाज़ नहीं आता मैं भी...  Self praise has no recommendation! ... अपने मुंह मियां मिट्ठू बनने वाली बात ही तो है यह भी।

एक बात और भी है ना कि आखिर क्यों न करें अपना काम मन लगा के, अच्छे से काम करना चाहिए ...अपना पूरी क्षमता लगा कर। किसी को भी देखें हर वह आदमी जो अपने धंधे को ईमानदारी से करता है, उस के काम में ईश्वर कृपा से निखार आने लगता है।

हां तो बात उस ऊपर वाले युवक की हो रही थी......सरकारी अस्पताल में काम करते हुए मेरे लिए कोई मुश्किल काम नहीं था उसे कहना कि नहीं, नहीं, काम तो तुम्हें पूरा ढंग से ही करवाना होगा।

जुगाड़बाजी........लेकिन फिर जब मैंने उस की जगह पर अपने को खड़ा कर के देखा तो मुझे लगा कि इस का जुगाड़ तो कर ही देना चाहिए....ये कुछ दिन के लिए बाहर तो जा ही रहा है, और अगर कुछ करवाए बिना भी गया तो वहां से लौटने के बाद इस के दांत का यह हिस्सा भी नहीं बचेगा......अवश्य टूट जायेगा। वैसे तो यह देश ही सारा जुगाड़बाजी पर चल रहा है ....।

जुगाड़ ठीक ठाक ही तो लग रहा है... 
यही सोच कर मैंने उस के दांत का इस तरह का जुगाड़ कर दिया  ...आईने में देख कर उस की तो बांछें खिल गईं.....मुझे भी खुशी हुई..लेकिन मैंने उसे समझा दिया कि यह केवल जुगाड़ है, तुम्हें लौट कर पूरा इलाज करवाना होगा.....वह समझ गया।

बहरहाल, यह जुगाड़ कितना समय चलेगा, चलेगा तो खूब लेकिन पूरी आरसीटी तो करवानी ही होगी.. वरना कभी भी दर्द तो हो ही सकता है। यह तो केवल उस युवक की फरमाईश पर कर दिया था। अब आप सोच रहे होंगे कि मैंने तो रिपेयर का अच्छा जुगाड़ कर दिया और अगर यह वापिस ही न आया तो........ नहीं आए तो नहीं आए, सरकारी अस्पताल है, लेकिन ऐसा नहीं, मैं चाहता हूं कि वापिस आए और उस का काम मैं ढंग से पूरा करूं.......इसीलिए शायद आप नोटिस करेंगे कि मैंने इस जुगाड़ को भी इतना परफैक्ट भी नहीं बनाया कि वह सही इलाज करवाने के लिए लौटे ही ना........आप इस जुगाड़ को साथ वाले स्वस्थ दांत से कम्पेयर कर के देखेंगे कि इस की बनावट में बिल्कुल थोड़ी सी कमी इसीलिए रख छोड़ी है।

मैटिरियल कौन से इस्तेमाल किए हैं..........एक तो लाइट-क्यूर कंपोज़िट और दूसरा ग्लॉस-ऑयोनोमर सीमेंट.....मुश्किल नाम हैं ना, मुझे भी पच्चीस साल पहले बहुत मुश्किल जान पड़ते थे, लेकिन इस से आप को क्या, बस मैंने तो ऐसे ही अपने ट्रेड-सीक्रेट आप के सामने खोल दिए.....

क्या आपने अपने दांतों को समय रहते रिपेयर करवा लिया है, अगर नहीं, तो अपने दंत चिकित्सक से शीघ्र ही संपर्क करिएगा।

दांतों और मैटिरियल का इतना बढ़िया जोड़--बंधन देख कर यह गीत याद आ गया....

Thursday, September 11, 2014

ह्यूमन वेस्ट टपकाने वाला पुल...

आप को याद होगा मैंने लखनऊ के एक रेलवे पुल के बारे में लिखा था ....अगर आपने उस पोस्ट को देखा होगा....रेलवे पुल के नीचे से गुज़रते वक्त क्या आपने कभी यह सोचा?

कल शाम को फिर वही नज़ारा......मुझे इसी पुल के नीचे से गुज़रना था.....लेकिन अचानक लोगों को काफ़ी संख्या में खड़े होते देख कर एक बार तो अचानक लगा कि ज़रूर कोई न कोई ट्रैफिक पुलिस का अभियान चल रहा होगा, ट्रैफिक वाले दो-तीन दिन से बड़े मुस्तैद से दिख रहे थे। 


लेकिन फिर अचानक उस स्कूल के लौंडे की बात याद आ गई जो मैंने पिछली पोस्ट में आपसे शेयर की थी कि चलती गाड़ी से पुल के नीचे चल रहे लोगों पर ह्यूमन वेस्ट (शौच, मल, थूक और गुटखा-पानमसाला की पीक).. गिरने का अंदेशा रहता है। 

पिछली बार जैसा कि मैंने बताया था कि रूकने वाले सभी स्कूटर-मोटरसाईकिल चलाने वाले ही होते हैं... मैं भी स्कूटर पर था..

जैसा कि आप इस कल की तस्वीर में देख सकते हैं कि गाड़ी पुल के ऊपर से गुज़र रही थी ...एक बार तो मुझे लगा कि कुछ नहीं होता, ऐसे ही बेकार में रूके रहो, आगे बढ़ने की इच्छा हुई तो......लेकिन तुरंत अकल ने कमीज़ पहन कर यह समझाया कि तू यह सोच, अगर उस स्कूली लौंडे की बात का तुझे आज ही प्रमाण मिल गया तो क्या करेगा, तू जा पायेगा बाज़ार जहां भी तू जा रहा है...... बाज़ार तो क्या, मल, शौच कमीज़ पर ढो कर बच्चे तेरा घर तक भी पहुंचना मुश्किल हो जायेगा। 

इसलिए बाकी लोगों की तरह मैंने भी स्कूटर को रोकने में ही समझदारी समझी और अपने मोबाईल के कैमरे से यह तस्वीर खींच ली जिस में गाड़ी पुल के ऊपर से गुज़र रही है और नीचे लोग अपने कपड़े बचाने के लिए खड़े हैं......गाड़ी के गुज़र जाने की प्रतीक्षा में। 

आज अभी हिंदुस्तान अखबार देखी है तो पता चला कि लखनऊ में दो ओव्हर-ब्रिज बनने वाले हैं.........ध्यान यही आया कि वह तो ठीक है, लेकिन क्या इस तरह के पुल का कुछ हो सकता है......सोचने वाली बात यह है कि यह नीचे सड़क पर चलने वालों की कितनी सिरदर्दी है। हर बार रूको....जब भी गाड़ी गुज़र रही हो, वरना मैला, शोच और थूक पीप से अपना दिन खराब करने का रिस्क मोल लो। 

हां, यार, एक बात और........लखनऊ में यही पुल एक ऐसा पुल नहीं है.......वैसे तो मैं लखनऊ को ज्‍यादा जानता नहीं हूं, लेकिन इस तरह के पुल मैंने लखनऊ के आलमबाग एरिया में भी देखे.....शायद मवैया एरिया के आसपास।

इस से पहले मेरा कभी इस और ध्यान ही नहीं गया है..........कभी आप भी लखनऊ आईए तो इन से सावधान रहिएगा, फिर न कहिएगा कि किसी ने सचेत नहीं किया था........वैसे तो यह झंझट केवल दो पहिया वाहनों पर और पैदल चलने वाले के लिए ही है। 

पता नहीं इस समय सड़क की बातें करते करते यह आशा फिल्म का यह गीत कहां से ध्यान में आ गया.....शायद १९८० में देखी थी यह फिल्म......गीत भी बड़ा पापुलर हुआ था....लीजिए सुनिए ......यह भी सड़क की ही बात कर रहा है...... लेकिन बातें यह सारी की सारी सही कह रहा है.....ये हंसते हैं लेकिन दिल में....यह गाते हैं लेकिन महफिल मे...........हम जीते हैं ये पलते हैं........


मां तुझे सलाम....

मेरी मां पिछले तीन चार दिनों से अपनी बुक-शेल्फ को ठीक करने में व्यस्त दिख रही थीं।

उन्होंने कल सभी किताबों की एक सूची तैयार की होगी।

अभी अभी बताने लगीं कि वह दो लिस्टें बनाना चाहती थीं और इसलिए दो कागज़ के पन्नों के बीच एक कार्बन भी रखा था लेकिन नीचे वाले पन्ने पर कुछ भी लिखा नहीं आया।

जैसा कि मेरे जैसे लोग ओव्हर-कॉन्फिडैंट और ओव्हर क्लेवर भी समझते हैं अपने आप को.......मुझे यही लगा कि उन्होंने दो पन्नों के बीच कार्बन को गलत तरीके से रख दिया होगा, और मैंने उन से भी यही कहा।

वैसे यह गलती मैं भी कईं बार करता हूं और लिखने से पहले पेन को ऐसे ही घिसा कर चेक भी कर लिया करता हूं कि नीचे वाले कागज़ पर भी छप रहा है कि नहीं। बॉय-चांस उन के हाथ में वे दो पन्ने और कागज़ थे, मैंने उन से लिए और अपने नाखून से ऊपर वाले पन्ने पर कुछ लिखना चाहा......नीचे वाले पन्ने पर नहीं आया तो मुझे लगा कि हां, यह कार्बन ही उल्टा पड़ा था।

मैंने फुर्ती से कार्बन पल्टा, नाखून से ऊपरी पन्ने पर कुरेदना चाहा तो भी नीचे वाले पन्ने पर कुछ नहीं आया।
इतने में मेरी मां कहती हैं कि कार्बन तो जैसे मैंने रखा था वैसे ही रखेंगे तो ही ठीक आएगा.........मैं भी यही समझा। लेकिन मां ने आगे बताया कि हां, मुझे लगता है कि लिखना ज़ोर से जाना चाहिए था। मैं भी उन की बात से सहमत हो गया... लेकिन मुझे एक बात और भी लगी कि जिस कागज़ के पन्ने पर वे लिस्ट तैयार कर रही थीं वह कुछ था भी मोटे किस्म का, इसलिए भी नीचे वाले कागज पर प्रिंट नहीं आया होगा।

बहरहाल, यह अभी अभी का किस्सा सिर्फ़ हम सब को याद दिलाने के लिए कि सारी माताएं कितनी सीधी होती हैं, बिल्कुल बच्चों जैसे होती हैं।

मेरी मां के बारे में चंद बातें....... मैं पचास की उम्र पार कर गया हूं लेकिन आज तक उन्होंने कभी भी मेरे ऊपर हाथ नहीं उठाया, यार, हाथ उठाना तो दूर कभी मुझे झिड़का तक नहीं... शायद यही कारण है कि मैं भी अपने बच्चों के साथ कुछ वैसा ही हूं। लेकिन मैं ऐसा नहीं कह सकता हूं कि मैंने अपने बच्चों पर हाथ नहीं उठाया-- दो एक बार तो मैंने कभी उन की चंपी की ही थी.......लेकिन वे शायद भूल चुके हैं या भूलने का नाटक करते हैं जब कहते हैं कि पापा ने हमें कभी नहीं मारा।

वैसे मेरे पिता जी ने मुझे एक बार थप्पड़ मारा था.....बस केवल एक बार, मैं बार बार उन के सिगरेट के पैकेट को कुर्सी से नीचे गिरा रहा था ...मुझे अच्छे से याद है, पांच-छः वर्ष का रहा होऊंगा।

अच्छा, मां की एक और तारीफ़........मुझे नहीं याद कि स्कूल, कॉलेज और बेरोज़गारी के चंद महीनों के दौरान मैंने अपनी मां से कुछ रूपयों की फरमाईश की हो और उस ने अपनी अलमारी के किसी कोने में पड़े वे पैसे मुझे खुशी खुशी न दिए हों। मेरे पिता जी ने भी मेरी किसी भी फरमाईश को नहीं टाला, कभी भी नहीं। कभी यह भी याद नहीं कि मैं मां के साथ बाज़ार गया होऊं और किसी भी चीज़ के मेरा मन मचल गया हो और मां ने वह तुरंत न दिलाई हो......चाहे वह गन्ने का रस, आईसक्रीम या कोई खिलौना, कुछ भी।

एक बात और, कभी भी कुछ भी कहा वह बात हमेशा मान ली......कभी भी कोई किंतु-परंतु नहीं। अगर कहीं जाने के लिए कह दो, तो ठीक.......कहीं न जाने का बहाना मैं बना दूं तो भी वे बिल्कुल राज़ी। हर बात में हां में हां मिलाने वाली मां...........शायद इस देश की सारी माताएं मेरी मां जैसी ही होती होंगी।

और एक बार, कभी नहीं याद कि कुछ खाने की इच्छा ज़ाहिर की हो, और इस मां ने रात में उठ कर भी वह न बनाया हो। स्कूल जाने से पहले दही-परांठे का नाश्ता उन अंगीठी के दिनों में भी, स्कूल के लिए लंच में परांठे और सब्जी, चार-पांच बजे घर आ कर गर्मागर्म खाना.. ये सब काम हर दिन करना उन की दिनचर्या में शामिल रहा और सब से बड़ी बात हंस हंस कर........अब क्या क्या लिखूं यार।

हर एक की बात में आ जाना........उस दिन मेरा छोटा बेटा अपनी दादी से बात कर रहा था......बीजी, हुन केले दर्जन विच दस ही मिलदे ने। और मुझे यह जान कर इतनी हैरानी हुई कि वे इस बात से हैरान तो हुई लेकिन उन्होंने उस की बात मान ली.........बाद में उसने बता दिया कि वह मजाक कर रहा था। मुझे खोसला का घोंसला फिल्म का वह संवाद बहुत अच्छा लगता है कि बच्चों की बातों में आने की कोई उम्र नहीं होती।

यार, ऐसे तो लिखता ही जाऊंगा....... फिर कभी...........लेकिन एक बात का विचार आ रहा है कि हम अपने मां-बाप से जिस तरह का बर्ताव पाते हैं.......वही शायद हम फिर अपनी ज़िंदगी में अपने संपर्क में आने वाले लोगों में बांटते चले जाते हैं... क्या मैं ठीक कह रहा हूं?

वैसे मेरी मां अपना एक ब्लॉग भी लिखती हैं.......आप यहां इसे देख सकते हैं.....क्या कहूं, क्या न कहूं?

पेशे-खिदमत है सभी मांओं की महानता को समर्पित पंजाब का यह सुपर-टुपर गीत..........उस गायकी की बादशाह कुलदीप मानक की आवाज़ में.........मां हुंदी ए मां ओ करमा वालेयो..........


Saturday, September 6, 2014

काश! टेढ़े मेढ़े दांत सही करवाना सब के बस में होता..

आज सुबह मूड बड़ा खराब हुआ जब एक १२ वर्ष का लड़का अपनी मां के साथ आया..उस के टेढ़े मेढ़े दांत थे ..बाहर की तरफ़ निकले हुए.. वे लोग उसे सीधा करवाने आये थे।


चूंकि मैं वैसे भी इस तरह के इलाज का विशेषज्ञ नहीं हूं और न ही जिस सरकारी अस्पताल में मैं काम करता हूं वह इस तरह की इलाज उपलब्ध ही करवाता है।

मैंने उसे एक सरकारी डैंटल कालेज में जाने को तो कह दिया.....लेकिन मुझे यह कहते हुए बिल्कुल एक फार्मेलिटी सी ही लगती है। बहुत ही कम बार मैं देखता हूं कि लोग वहां इस काम के लिए जा पाते हैं......और शायद कईं सालों में कोई एक मरीज दिख जाता है जिसे सरकारी डैंटल कालेज में भेजा हो और जिस के बेतरतीब दांतों का इलाज वहां से पूरा हो गया है। ऐसा नहीं है कि वे लोग ये सब करते नहीं हैं, लेकिन जिन मरीज़ों को इस तरह का इलाज चाहिए होता है उन की संख्या ही इतनी बड़ी है कि उन की भी अपनी सीमाएं हैं।

यह बातें सब मैं अपने अनुभव के आधार पर लिख रहा हूं। टेढ़े मेढ़े दांतों वाले बच्चे देख कर मन बेहद दुःखी होता है....इसलिए कि मैं जानता हूं कि इन में से अधिकतर इस का कुछ भी इलाज नहीं करवा पाएंगे। मूड बड़ा खराब होता है। अच्छे भले ज़हीन बच्चे होते हैं लेकिन इन बेतरतीब दांतों की वजह से बस हर जगह पीछे पीछे रहने लगते हैं, बेचारे खुल कर हंसना तो दूर, किसी से बात भी करने में झिझकने लगते हैं।

हां, तो मैं उस १२ वर्ष की उम्र वाले लड़के की बात कर रहा था। मैंने ऐसे ही पूछा कि इन दांतों की वजह से कोई समस्या, तो उस की मां ने कहा कि इसे स्कूल में बच्चे चिढ़ाने लगे हैं।

उस की मां का इतना कहना ही था कि उस बच्चे की आंखों में आंसू भर आए... और एक दम लाल सुर्ख हो गईं। मुझे यह देख कर बहुत ही बुरा लगा कि यार, इस बच्चे को दूसरे बच्चों ने कितना परेशान किया होगा कि मेरे सामने अपनी तकलीफ़ बताने से पहले ही इस के सब्र का बांध टूट गया। मैंने उसे धाधस बंधाया कि यार, देखो, ये जो स्कूल में परेशान करने वाले लड़के होते हैं ना, इन की बातों पर ध्यान नहीं देते, यह तुम्हारी पढ़ाई खराब करने के लिए यह सब करते हैं, यह सुन कर उस ने तुरंत रोना बंद कर दिया।

इस देश में हर तरफ़ व्यापक विषमता है......कोई मां-बाप तो बच्चे के एक एक दांत के ऊपर हज़ारों खर्च कर देते हैं लेकिन अधिकांश लोगों की इतनी पहुंच नहीं होती, पैसा सीमित रहता है, जिस की वजह से इस तरह का बेहद ज़रूरी इलाज चाहते हुए भी वे करवा नहीं पाते।

सरकारी अस्पतालों में कहीं भी...... सरकारी डैंटल कालेजों में भी इस तरह का इलाज........टेढ़े मेढ़े दांतों पर तार लगाने का या ब्रेसेज़ लगाने का काम पूरी तरह से या फिर ढंग से होते मैंने देखा नहीं है......इतनी चक्कर पे चक्कर कि मरीज़ में या उस के मजबूर मां-बाप में एक्स्ट्रा-आर्डिनरी सब्र ही हो तो ही मैंने इस इलाज को पूरा होते देखा है। इस तरह की इलाज ही नहीं, ये दांतों के इंप्लांट, ये फिक्स दांत आदि भी कहां सरकारी अस्पतालों में लग पाते हैं.........

किरण बेदी की एक किताब का यकायक ध्यान आ गया.....कसूरवान कौन?.......मुझे भी नहीं पता कि कसूरवार कौन......मरीज़ों की इतनी बड़ी संख्या.. सरकारी अस्पतालों के दंत विभाग ...यहां तक कि सरकारी डैंटल कालेज भी ...आखिर क्या करें, उन की भी अपनी सीमाएं हैं--- स्टॉफ की, बजट की...समय की..........वे भी कितने मरीज़ों को इस तरह का इलाज मुहैया करवा सकते हैं।

मैंने बहुत बार अब्ज़र्व किया है कि इस तरह के टेढ़े-मेढ़े दांतों से परेशान लड़के-लड़कियां डिप्रेस से दिखते हैं.....बुझे बुझे से......प्राईव्हेट में इस का खर्च १५-२० हज़ार तो बैठ ही जाता है। अब मैंने इन मां-बाप को इस बात के लिए मोटीवेट करना शुरू कर दिया है कि आप लोग बच्चों की कोचिंग, ट्यूशन आदि पर भी हज़ारों रूपये बहा देते हो, इसलिए आप किसी क्वालीफाइड आरथोडोंटिस्ट (जो दंत चिकित्सक टेढ़े मेढ़े दांत को सही करने का विशेषज्ञ होता है).... से मिल कर ही इस का करवा लें, अगर ऐसा करवा पाना आप के सामर्थ्य में है।

तो मैं फिर किस मर्ज की दवा हूं........मैं अपने पास आने वाले हर बच्चे का इलाज इस तरह से करता हूं कि मेरी कोशिश यही रहती है कि वह किसी तरह से इस तरह के महंगे इलाज से बच जाए......पैसे के साथ साथ समय की भी बचत.... और अगर कभी बाद में उसे इस तरह के इलाज की ज़रूरत भी पड़े तो वह साधारण से इलाज से ही ठीक हो जाए। मेरी शुरू से ही यह मानसिकता रही है.......... पूरी कोशिश करता हूं.......जो मेरे कंट्रोल में है पूरा करता हूं......इसे Preventive Orthodontics कहते हैं।

वापिस उसी बच्चे पर आता हूं........मैं उस की मां को यह सब समझा ही रहा था कि उस बच्चे की आंखे फिर से भर आईं....मुझे फिर बुरा लगा..... फिर मुझे कहना ही पड़ा...यार, तुम इन बच्चों की बातों पर ध्यान ही न दिया करो....सब से ज़्यादा ज़रूरी तो पढ़ना ही है.... मै पूछा .. तुम ने कल प्रधानमंत्री मोदी का भाषण सुना.....झट से चुप गया और कहने लगा, हां......मैंने कहा ...अच्छा लगा?.. उसने कहा ... हां....मैंने कहा कि तुम देखो कि अगर एक चाय बेचने वाला इंसान इतनी कठिनाईयों को झेल कर देश के प्रधानमंत्री के पद तक पहुंच गया तो तुम क्या नहीं कर सकते, जिन लोगों ने आगे बढ़ना होता है, वे किसी की बातों पर ध्यान नहीं देते...........मुझे सख्ती से यह भी कहना पड़ा.......कुत्ते तो भौंकते ही रहते हैं, शेर चुपचाप मस्ती से आगे निकल जाता है........यार, मुझे पता नहीं यह कहावत ठीक भी थी कि नहीं, लेकिन अगर उस बालक का मूड उस बात से सही हो गया तो ठीक ही होगी।

मैंने उसे एक सरकारी डैंटल कालेज में भेज तो दिया है........कि एक बार चैक तो करवाओ, फिर देखते हैं कि इस के लिए क्या बेस्ट किया जा सकता है।