Monday, May 31, 2010

तंबाकू दिवस पर तंबाकू को पैरों तले रोंदा नहीं?

आज विश्व तंबाकू निषेध दिवस है और मैं कुछ बातें दिल से करना चाहता हूं। मुझे व्यस्कों को बीड़ी-सिगरेट-तंबाकू का इस्तेमाल करते हुये देख कर कुछ दुःख होता है लेकिन ऐसे छोटे छोटे बच्चों को देख कर तो बहुत ही दुःख होता है जिन के मां-बाप तंबाकू का किसी भी रूप में इस्तेमाल करते हैं। और दुःख स्कूली बच्चों को बीड़ी-सिगरेट पीते देख कर भी बहुत होता है।

वैसे मुझे हार तो नहीं माननी चाहिये लेकिन पता नहीं मुझे क्यों लगता है कि जो व्यस्क हैं, कुछ वर्षों से तंबाकू का इस्तेमाल कर रहे हैं, डाक्टर लोग उन के लिये ज़्यादा से ज़्यादा क्या कर लेंगे? मेरा अनुभव कहता है कि बहुत कम ही इन लोगों के लिये कुछ किया जा सकता है। इस का कारण यह है कि ये लोग पक चुके हैं, तंबाकू के आदि हो चुक हैं, किसी की सुन के राजी नहीं हैं, और अकसर ये लोग तंबाकू को त्यागने का नाटक तो करते हैं---लेकिन पता नहीं कितने सीरियस होते हैं, मैं आज तक समझ नहीं पाया।
जो व्यस्क लोग तंबाकू के आदि हो चुके हैं, मैं समझता हूं कि वे अपनी च्वाइस से ऐसा कर रहे हैं। वैसे हम लोग तंबाकू की चेतावनियों के बारे में अकसर टिप्पणी तो करते हैं लेकिन समझ में नहीं आता कि क्यों ये लोग डरावनी चेतावनियों का इंतज़ार करते रहते हैं।
सब से ज़्यादा दुःख मुझे छोटे छोटे स्कूली एवं कॉलेज के छात्रों को तंबाकू का किसी भी रूप में सेवन करते हुये होता है। क्योंकि मुझे लगता है कि यह एक राष्ट्रीय त्रासदी है—ये लोग एक बार इस ज़हर के, इस शैतान के भंवर में फंस गये तो समझो गये। बस, एक बार कुछ ही वर्षों में आदि हुये नहीं कि ढ़ेरों बीमारियां शरीर में घर कर लेती हैं। इसलिये कुछ भी कर के इस बात का ध्यान रखना चाहिये कि किसी भी तरह से बच्चे इस राक्षस से दूर रहें। और इस के लिये शुरूआत पहले मां बाप को करनी होगी ----तंबाकू के सभी उत्पादों को हमेशा के लिये त्याग कर।
और फिर मुझे यह भी बहुत बुरा लगता है कि जब कोई परिवार कहीं बैठा है या यात्रा कर रहा है तो आदमी बीड़ी पर बीड़ी फूंके जा रहा है और इस से उठने वाले धुयें से उस का बच्चा जिसे उस की बीवी ने गोद में उठाया होता है, वह परेशान होता रहता है। हो सकता है कि उस आदमी को इस का आभास न हो, लेकिन अगर सारा संसार चीख चीख कर कह रहा है कि पैसिव स्मोकिंग के भी बहुत नुकसान हैं तो हैं। इसी तरह से गर्भवती महिलायें भी अपने पतियों के तंबाकू के धुयें का शिकार होती रहती हैं।
मेरा चिट्ठा है, दिल की बात इधर न लिखूंगा तो कहां लिखूंगा----सच में लिख रहा हूं कि मुझे उम्र में बड़े लोगों के तंबाकू की लत में फंसे होने का बहुत कम दुःख होता है ---अब पॉलिटिकली करैक्ट तो लिखना ही है कि दुःख तो होता ही है..... क्योंकि मुझे लगता है कि अकसर इस तरह के लोग किसी की सुनते नहीं, इन्हें बाकी सभी नफ़े-नुकसान तो अच्छे से पता है लेकिन तंबाकू के लिये क्यों ये चाहते हैं कि आसमान से फरिश्ता उतर कर इन की मदद करे। ऐसा कैसा हो सकता है ---सभी अस्पतालों के डाक्टर सारा दिन तंबाकू से होने वाले नुकसान को ठीक करने की हारी हुई जंग लड़ने में व्यस्त रहते हैं। जंग तो उस्ताद हारी हराई ही होती है
हम तो पैसिव स्मोकिंग की बात कर के छुट्टी कर लेते हैं – बस यही सोचते हैं कि कैसे किसी दूसरे को टोकें कि यार, तुम्हारी सिगरेट,बीड़ी से मुझे दिक्कत हो रही है। मैं कल कही पढ़ रहा था कि पैसिव स्मोकिंग से लाखों-करोड़ों लोग मारे जाते हैं ---अर्थात् उन्होंने स्वयं तो कभी तंबाकू का इस्तेमाल किया नही लेकिन उन के आस पास के लोगों की तंबाकू की आदत ने उन की जान ले ली।
सार्वजनिक स्थानों पर सिगरेट-बीड़ी पीना सख्त मना है---शायद कानूनी अपराध है या शायद केवल ज़ुर्माने का ही प्रावधान है ---क्या बसों में, गाड़ियों में , बस अड़्डों पर, रेलवे स्टेशनों पर लोग अब बीड़ी सिगरेट नहीं पीते? मैंने तो बहुत से लोगों को पब्लिक जगहों पर फेफड़े सेंकते देखता हूं। लेकिन मैं कहता किसी से कुछ नहीं हूं ---क्योंकि मैं बिना वजह किसी झगड़े से बचना चाहता हूं। यहां तक कि कॉलेज के बच्चों को भी तंबाकू का इस्तेमाल करते देखते हुये भी इन्हें कुछ कहने से डरता हूं कि कहीं बीच सड़क में पिट गया तो किसी को बता भी नहीं पाऊंगा।
और तंबाकू छुड़वाने के लिये तरह तरह के च्यूईंग गम आदि के मार्केटिंग के लोग मेरे तक भी पहुंचते तो हैं लेकिन मैंने आज तक किसी एक भी मरीज़ को इसे लेने की सलाह नहीं दी। कारण ? –मुझे लगता है कि जिस बंदे को तंबाकू छोड़ने के लिये निकोटिन-च्यूईंग गम आदि का पता है वह मेरी हरी झंडी की तो इंतज़ार कर नहीं रहा। खरीद कर खा ही लेगा अगर इतना व्याकुल होगा तंबाकू को लात मारने के लिये। और मैं ऐसे कैसे अढ़ाई रूपये की बीड़ी मारने वाले को पचास रूपये की निकोटिन च्यूईंग गम चबाने के लिये कह दूं-----यह अपने से नहीं होता।
और एक बात --- कुछ क्लीनिक व्यसन-मुक्ति के लिये भी चल रहे हैं --- जहां पर ड्रग्स एवं दारू आदि से मुक्ति दिलाई जाती है। लेकिन मुझे कभी भी नहीं लगा कि मैं किसी मरीज़ को इन जगहों पर जाने की सलाह दूं ---अगर किसी ने जाना होगा तो चला जायेगा। पिछले 25 सालों में तो मैंने अपने व्यक्तिगत अनुभव में किसी को इस तरह के स्थान पर जा कर तंबाकू को त्याग कर आते तो देखा नहीं ----शायद यह मेरा अल्प अनुभव होगा, शायद यह सब मुमकिन होता होगा।
तो मैंने कैसे केस देखे हैं जहां पर लोग तंबाकू को गाली निकाल कर लात मार देते हैं। जब किसी नज़दीकी सगे-संबंधी को तंबाकू के उपयोग से जुड़ी कोई जटिलता उत्पन्न हो जाती है या फिर तंबाकू का इस्तेमाल करने वाले के सीने में दर्द उठता है और डाक्टर ऐंजियोग्राफी करवाने की सलाह देता है तब मैंने लोगों को तुरंत इस ज़हर को हमेशा के लिये थूकते देखा है। और मैंने यह भी देखा है कि जो समर्पित डाक्टर हैं वे मरीज़ों के मुंह में झांक कर उन्हें तंबाकू से होने वाली तरह तरह की बीमारियों के बारे में आगाह भी करते रहते हैं------------बात तो उस्ताद वही है, कि मरीज़ चाहे खुद छोड़े या कोई छुड़वाये, ये सब दिल से करने वाली बातें है।
मैं जिस हस्पताल में काम करता हूं वहां पर हज़ारों कर्मचारी इलाज के लिये पंजीकृत हैं ---इसलिये मैं उन के मन में पैसिव स्मोकिंग के प्रति ज़हर भरता ही रहता हूं ----बस बातों बातों में उन्हें उकसाता रहता हूं कि अगर साथी सिगरेट-बीड़ी पीता है तो वह तुम्हारी सेहत की भी ऐसी तैसी फेर रहा है, उसे प्यार से रोक दिया करो। वर्क प्लेस पर ही नहीं, मुझे लगता है कि अब वे दिन भी दूर नहीं जब बीवी तंबाकू पीने वाले पति से दूर रहने की फिराक में रहेगी ---उसे बार बार ताने मारेगी, अपने छोटे छोटे बच्चों की सेहत का वास्ता देकर, अपने पेट में बढ़ रहे बच्चे की जान की खातिर इस शैतान का साथ छोड़ने की बात कहेगी और कितना अच्छा हो कि बच्चे ही घर में हड़ताल कर दें कि वे खाना तभी खाएंगे जब बाप बीड़ी पीना बंद करेगा या तो फिर अगर उसे तंबाकू पीना ही है तो घऱ के बाहर ही पी कर आया करे ----क्योंकि उस का मुंह बास मारता है और पैसिव स्मोकिंग से उन के फेफड़े भी जलते हैं। वैसे इस तरह की पैसिव स्मोकिंग के खतरों के बारे में जागरूक करने वाले कुछ पाठ अगर स्कूल-कॉलेज की किताबों में रहेंगे तो कैसा रहेगा ?
चलो यार, बहुत बातें हो गईं –अब खत्म करते हैं लेकिन इसी ताकीद के साथ कि अगर तंबाकू का इस्तेमाल आप कर रहे हैं तो तुरंत छोड़ दें -----इस में कोई आप की मदद नहीं करेगा ---यह काम आप को ही करना होगा—कैसे भी ...किसी भी तरह से ......लेकिन एक बात का विशेष ध्यान रखें कि अगर आप को पता लगे कि आप का बच्चा छुप छुप कर बाथरूम में कभी कभी कश मारने लगा है तो भी इसे एक एमरजैंसी समझ कर इस से निपट लें। वैसे तो मैं बच्चों के साथ किसी तरह की ज़ोर-जबरदस्ती का घोर विरोधी हूं लेकिन इस तंबाकू, सिगरेट, बीड़ी, गुटखा, दारू, बीयर के बारे में आप कोई भी साधन अपनायें ---क्या कहते हैं -----वह मुझे ठीक से याद भी तो नहीं ---साम, ढंड,भेद ... .........।
क्या आप को नहीं लगता कि 31 मई का दिवस तंबाकू निषेध दिवस तो है ही ---लेकिन जिन परिवारों में लोग इस तरह के व्यसन के आदि हैं क्या उन के लिये यह शोक दिवस नहीं है? ----हर साल यह दिन उन में और एक अंधी खाई के दरमियान के फासले कम करता जा रहा है।
भारत वैसे है ग्रेट देश -----मेरे जैसे लोग बीस-तीस सालों तक माथा पीटते रहते हैं और चंद लोगों को तंबाकू छुड़ाने में शायद सफल हो पाते हैं लेकिन यहां पर जो संत लोग हैं, मैं बहुत हैरान होता हूं कि सतसंग में उन के संपर्क में आने पर हज़ारों लोग तंबाकू, दारू, जुआ छोड़े देते हैं -----क्या कहा? यह अंधविश्वास है, अंध श्रद्धा है, आप इसे नहीं मानते ----------कोई बात नहीं, आप की मर्जी, लेकिन मैं इस तरह के लोग रोज़ देखता हूं जो सतसंग में जाने के बाद (अगर और जानकारी चाहिये तो मुझे ई-मेल करियेगा drparveenchopra@gmail.com ) पूरी तरह से बदल जाते हैं, व्यसन से दूर भागते हैं................बस, इसीलिये भारत तो बस भारत ही है। यहां पर बहुत सी ऐसी बातें हैं जिन्हें दिमाग से नहीं बल्कि दिल से समझा जा सकता है।
इसलिये बेहतर होगा कि तंबाकू की लत की ऐसी की तैसी करने के लिये न तो किसी कानून की इंतज़ार ही की जाए कि कोई कानून आ कर आप के हाथ से बीड़ी छीन लेगा और न ही सिगरेट के पैकटों पर भयानक चेतावनियों की बाट जोहते रहें ----सियासत करने वालों को जम कर सियासत करने दें ----आप अपना काम करिये -- जलती सिगरेट, सुलगती बीड़ी को अपने जूते के तले हमेशा के लिये रोंध दे और तंबाकू थूक दें...............शाबाश!! यह हुई न बात !!
PS......आज यह पोस्ट लिखते समय इतना ज़्यादा गाली गलौज़ करने की इच्छा हो रही थी कि पता नहीं कैसे काबू कर पाया हूं ---मन ही मन मैंने इस कमबख्त तंबाकू को पंजाबी भाषी में उपलब्ध बीसियों मोटी मोटी गालियां बक दी हैं ----आप मेरे बिना लिखे ही समझ लेना कि वे क्या क्या हो सकती हैं। सच में इस ने सारे संसार की सेहत की ऐसी की तैसी की हुई है और लोग हैं कि इस पर भी सियासत से बाझ नहीं आते। केवल जागरूकता ही इस से बचने का अस्त्र है।