Saturday, September 17, 2016

बच्चों के दांतों का क्या झमेला- बच्चे ही तो हैं!

आज मुझे लगभग २५० के करीब स्कूली बच्चों के मुंह का निरीक्षण करने का मौका मिला .. यहां लखनऊ में है स्कूल पॉश एरिया है बिल्कुल..मुख्यमंत्री आवास से बस १००-२०० मीटर की दूरी पर.. इस स्कूल को एक सरकारी विभाग का महिला संगठन चलाता है ...मेरे विचार में एक आदर्श स्कूल है ..बिल्डिंग के लिहाज से, खुली जगह के नज़रिये और हरियाली तो उस एरिया में भरपूर है ही ... जैसा कि मुझे लगता है इस स्कूल में बच्चे अधिकतर उस एरिया के वर्कर्ज़ के ही आते हैं ...तो क्या मैं वर्कर नहीं हूं?...मैं तो अनेकों बार कह चुका हूं कि हम लोग जितनी मरजी कल्पना की उड़ानें भर लें, फेंटसी वर्ल्ड में घूमते रहें, हैं तो ऊपर से नीचे तक सब के सब वर्कर ही ...बस, वर्क ही अलग है, मेरा वर्क दांतों की सलामती देखना और उस बच्चे के पापा का वर्क है ..खाना बनाने का.. जिससे मैंने पता नहीं कैसे पूछ लिया कि आप के पापा क्या करते हैं?..मैं अकसर इस तरह के प्रश्नों को पूछना पसंद नहीं करता, विशेषकर बच्चों से....चलिए, फिलासफी तो हर दिन झाड़ते ही रहते हैं, उसका क्या है, आज कुछ पते की बातें करते हैं...

आज स्कूल के हेल्थ-चैक अप कैंप से लौटते ही मुझे लग रहा था कि इतने बच्चों के दांतों को एक साथ देखने के अपने अनुभव बांटने चाहिए...मुझे नहीं पता यह लेख कितना लंबा हो जायेगा या नहीं, लेकिन कुछ बातें या कुछ अनुभव दूसरों के फायदे के लिए सहेजने लायक होते हैं ...इसलिए शब्दों की सीमा में इन अनुभवों को नहीं बाँधा जा सकता। 

इस हेल्थ-चैक-अप कैंप में एक नेत्र रोग विशेषज्ञ, एक ईएनटी विशेषज्ञ और एक शिशु रोग विशेषज्ञ, हमारी सीएमएस और मैंने स्कूली बच्चों का निरीक्षण किया...एक बार ध्यान आया कि कुछ तस्वीरें खींच लेते हैं इस कैंप की ..लेेकिन पता नहीं इच्छा ही नहीं हुई..यही लगा कि आज का दिन इन बच्चों के नाम पूरे का पूरे...इसलिए पूरे मन से यह काम किया...

कुछ बातें जो मैंने नोटिस करी ...

चार पांच साल तक के बच्चों के दांत बहुत अच्छे थे ..चार पांच साल तक के जितने बच्चे देखे उन के दांत बहुत अच्छे थे...साफ-सुथरे ..दांतों की सड़न से रहित...मुंह का अंदरूनी भाग भी बिल्कुल ठीक ठाक .. कुछ बच्चे थे जिन में दांतों की सड़न की वजह से दंत-छिद्र बन चुके थे .. जिनका इलाज करवाने के लिए अभिभावकों को बताया जायेगा..

सब से महत्वपूर्ण बात यह है कि लोगों में दांतों के बारे में इतनी अवेयरनेस है ही नहीं ...इसलिए हर छःमहीने के बाद दांतों के निरीक्षण का कंसेप्ट है ही नहीं...जब दर्द होता है, मुंह सूज जाता है ...तब कहीं जा कर दंत चिकित्सक का ध्यान आता है 

कुछ कुछ बच्चों के दांतों की तस्वीरें मैंने जल्दी जल्दी में खींचीं ताकि उन तस्वीरों के द्वारा उन्हें और अन्य लोगों को जागरूक किया जा सके ..

चलिए, पहले तस्वीरें लगाता हूं, फिर उन के बारे में बताता रहूंगा...आज तो बस इतना ही संभव हो पायेगा...कुछ बातें रह भी गईं तो फिर कभी किसी अन्य पोस्ट में देख लेंगे.. 


वहां पहुंचते ही मेरा सहायक सुरेश तो सारे स्कूल के बच्चों को अपने मुंह की सफाई के गुर सिखाने में व्यस्त हो गया..सारा दिन मेरे मरीज़ों के साथ डॉयलाग सुुन सुन कर वह आधे से भी थोड़ा ज़्यादा डाक्टर तो हो ही चुका है, जब मेैं उस के साथ यह मजाक करता हूं तो खिलखिला कर हंसता है .. उसने बड़े अच्छे से स्कूली बच्चों के छोटे छोटे ग्रुप बना कर बिल्कुल बच्चों के स्तर पर पहुंच कर उन से दांतों की, जुबान की सफाई की बातें करी...मुझे यह देख कर बहुत अच्छा लगा..



यह तस्वीर और नीचे वाली तस्वीर जिस बच्चे के दांतों की है वह शायद यही पांच वर्ष का ही था...दांतों के इतने घिसने से मुझे पहले तो लगा कि यह तो किसी खुरदरे मंजन के इस्तेमाल से हुआ होगा ..वह कोई चालू किस्म का मंजन करता भी है. लेकिन फिर ध्यान आया कि यह Bruxism/Bruxomania की वजह से हो सकता है ....उस के लिए उस के अभिभावकों से बात करने की ज़रूरत थी कि यह सुबह या रात में सोते समय दांत तो नहीं किटकिटाता .. बहरहाल, जो भी हो अगर यह ब्रक्सिज्म की वजह से भी है तो उस का भी इलाज पूर्णतया संभव है ..लेेकिन पहले अच्छे से इस तरह के दांतों के घिसने की वजह जान लेने के बाद...पांच साल की उम्र में इस तरह के दांतों का घिसना बहुत ही ज्यादा कम नज़र आता है ..



यह जो दांतों की व्यवस्था इस बच्चे में दिखी यह नार्मल नहीं है ...ऊपर के किसी भी एक या एक से ज़्यादा दांतों को नीचे वाले दांतों के पीछे छिप जाना दांतों को बंद करते समय ...यह दांतों की सेहत के लिए भी ठीक नहीं है, और भविष्य में पक्के दांतों के समय भी इस से कुछ जटिलताएं उत्पन्न हो सकती है ं.. इस तरह के केस अकसर बहुत ही कम दिखते हैं ..अब इस में क्या होना चाहिए ...कोई दूध का दांत निकलवाना चाहिए या नहीं...यह तो बच्चों के दांतों के विशेषज्ञ (जिन्हें हम लोग पीडीडोंटिस्ट कहते हैं) .. ही बता पायेंगे...


यह जो इस दूध के दांत में कट है, इस का भी एक्सरे होना चाहिए ताकि कारण का पता चल सके...और अगर कुछ करना हो तो किया जा सके...वरना तो यह दांत सात आठ की उम्र के आसपास गिर ही जाता है और ऩया पक्का दांत इस की जगह ले लेता है ..अमूमन!

इस बच्चे के नीचे के दो आगे के दूध वाले दांत जुड़े हुए हैं...इसे हम लोग फ्यूजड दांत कहते हैं ..बहुत ही कम केस दिखते हैं इस तरह के भी ...जहां तक मुझे ध्यान है , जब दूध के दांत इस तरह से जुड़े होते हैं तो अकसर कुछ करना नहीं होता, बस इन का अपने समय पर गिरने का और इन की जगह लेने वाले पक्के दांत के निकलने का इंतज़ार ही करना होता है ...


यह ६-७ साल के बच्चे की तस्वीर है ..यह मैंने इसलिए खींची कि पाठकों को याद दिलाया जा सके को लोग समझते हैं कि ६ साल की उम्र है तो सभी दांत दूध के ही होंगे ..लेकिन ऩहीं इस बच्चे में भी सब से पीछे जो दो दांत (दोनों तरफ़ एक एक) जाड़ आप देख रहे हैं वे पक्की जाड़ें हैं...अब छः सात की उम्र तक भी दांतों की देखभाल ठीक से न होने की वजह से यह पक्का दांत भी बहुत बार दंत-क्षय का शिकार हो जाता है ...लेकिन तब भी लोग डैंटिस्ट के पास नहीं जाते और फिर यह दांत कईं बार बिल्कुल ही नष्ट हो जाता है ..


यह तस्वीर मैंने इसलिए ली है ताकि पाठकों को यह बताया जा सके कि यह चार पांच साल के बच्चे के दूध के दांतों में इतना गैप है लेकिन यह फिर भी बिल्कुल नार्मल है ..क्योंकि जब यह दांत दूध वाले गिरेंगे तो इन की जगह पर पक्के आने वाले दांत इन से बड़े होते हैं ..इसलिए पक्के दांतों को अच्छे से तरतीब में जमने के लिए ज्यादा संघर्ष नहीं करना पड़ता.. 


इस बच्चे के आगे वाले दो दांत इस तरह से क्षतिग्रस्त हुए देख कर पहले तो मुझे लगा कि यह भी किसी खुरदरे मंजन की वजह से हुआ लगता है ..लेकिन उस से केवल दो ही दांत इस तरह से खराब हों, ऐसा होता नहीं है अकसर.। मुझे लगता है कि इस के इन दोनों दांतों की बनावट में ही कुछ खराबी होगी जिस की वजह से वहां दंत-क्षय पैदा हो गया और इस तरह से कैविटी बन गई...इन दोनों दांतों की अच्छे से फिलिंग करवानी चाहिए...


यह भी छ- साल के करीब का ही बच्चा है ...इसे भी कोई तकलीफ नहीं थी, इस तस्वीर में आप देख सकते हैं कि इस के मुंह में बिल्कुल पीछे  छः साल की अवस्था में आने वाली पहली पक्की जाड़ आ रही है ..उस को अभी थोड़े से मूसड़े ने कवर कर रखा है ..यह बिल्कुल नार्मल है ..कुछ दिनों में यह मसूड़ा पीछे हट जायेगा और पूरी जाड़ मुंह में नज़र आने लगेगी... बहुत कम केसों में इस तरह के मसूड़े में कभी कभी थोड़ा दर्द होने लगता है ..उस के लिए कुछ खास नही ंकरना होता, बस कोई भी दर्द-निवारक मुंह में लगाने वाली जेल (gel) लगा देते हैं एक दो दिन ...और गर्म पानी से थोड़े कुल्ले करने से सब ठीक हो जाता है ...


यह तस्वीर और इस के नीचे वाली तस्वीर इस बात को रेखांकित करती है कि दांतों का नियमित निरीक्षण कितना ज़रूरी है ..वरना दूध के दांत अपनी जगह से गिर नहीं रहे, पक्के दांतों को जबड़े की हड्डी से बाहर निकलने की जगह नही ंमिल रही ... कहीं कुछ समस्या, कहीं कुछ.... इस बच्चे में भी यह जो बाईं और दांत दिख रहा है, उसे भी निकलवाना ज़रूरी है और जो दाईं तरफ़ ऊपर का आगे वाला दांत नहीं आ रहा, उस का एक्स-रे होना चाहिए ताकि पता चले कि उस पक्के दांत के बाहर निकलने में क्या रूकावट है ताकि फिर उसी मुताबिक इलाज किया जा सके...



यह जो आप तस्वीर देख रहे हैं...इस में सात आठ के बच्चे के ऊपर वाले अगले दो दांतों के बीच एक एक्स्ट्रा दांत जम रहा है .. इस के वहां जमने से जबड़े में दूसरे पक्के दांतों के लिए जगह कम पड़ रही है, इसलिए अकसर ऐसे हालात में वे दबे ही रहते हैं..अगर किसी तरह से बाहर निकल भी आते हैं तो इधर उधर ऊबड-खाबड़ जिसे हम आम जन की भाषा में क्रूक्ड दांत कहते हैं और चिकित्सीय भाषा में जिसे Malocclusion कहा जाता है ..

इतना लिखने के बाद रात में मुझे नींद आ गई ...अभी उठा हूं तो सोच रहा हूं कि पहले इसे मुकम्मल कर लूं..यह पोस्ट नहीं, एक दस्तावेज सा तैयार हो रहा है...जिस काम को इतने वर्षों से कर रहे हैं उस के बारे में सहजता से लिखना काफी सुलभ होता है ..वरना मैं जब साहित्यिक विषयों में टांग फंसा लेता हूं ..तो व्याकरण और बर्तनी में ही उलझा रहता हूं...

इस तरह के एक्स्ट्रा दांत को जिस के बारे में मैं कल रात बात कर रहा था, इन्हें जितनी जल्दी उखड़वा दिया जाए उतना ही बढ़िया होता है ..बिल्कुल आसानी से उखड़ जाता है ...वरना इस तरह के दांत उस बच्चे या नवयुवक के लिएे परेशानियां लिए खड़े रहते हैं...एक बार दांत टेढ़े मेढ़े हो जाएँ तो कम से कम बीस तीस हज़ार रूपये खर्च करने पड़ते हैं ...और एक से दो वर्ष तक ब्रेसेज़ लगवाए रखने से दांत दुरुस्त हो पाते हैं....यह भी थ्यूरेटिकल बात ही है ...क्योंकि जो मैंने देखा है कि विभिन्न कारणों की वजह से इस तरह का इलाज शायद एक प्रतिशत ..जी हां १% लोग ही करवा पाते हैं ...शेष तो इन बेतरतीब दांतों से पैदा हुई हीन भावना का बोझा कईं साल तक ढोते रहते हैं!

 अभी ध्यान आया कि इस तरह की समस्या के बारे में मैंने कईं वर्ष पूर्व भी लिखा था ...इंगलिश ब्लॉग पर भी और इस पर भी ...लिंक मिल गये ...देखिए, अगर आप इस समस्या के बारे में विस्तार से पढ़ना चाहें तो इधर भी हो आईए...




यह जो सारे बच्चे इस आयुवर्ग के होते हैं ६ से बारह वर्ष वाले ...ये सब मिक्सिड डैंटिशिन की श्रेणी में आते हैं...यह इंगलिश शब्द इतना भारी भरकम है, लेेकिन बात केवल यह है कि इस आयुवर्ग में दूध के दांत गिर रहे होते हैं...पक्के दांत जम रहे होते हैं ....इसलिए बच्चे को हर छःमहीने के बाद बिना किसी तरह की तकलीफ़ के भी दंत चिकित्सक के पास चैक-अप के लिए ले जाना चाहिए... क्योंकि हमें दांतों की सड़न के प्रारंभिक लक्षणों के साथ साथ यह भी देखना होता है कि कौन सा दूध का दांत अपना झड़ने का समय आने के बाद भी टिका हुआ है ...और साथ ही में उग रहे पक्के दांत के आने में कोई रूकावट तो नहीं आ रही ...

इस बच्चे को ब्रुश करते समय मसूड़ों से खून आता है ..
यह जो तस्वीर आप ऊपर देख रहे हैं यह पायरिया की तस्वीर है ...ग्यारह बारह साल की उम्र में पायरिया के मरीज अब आने लगे हैं..आज से तीस साल पहले जब हम लोग डैंटिस्ट्री की एबीसी लिख पढ़ रहे थे तो बीस की अवस्था में बहुत कम मरीज़ आते थे इस रोग से ग्रस्त...शायद तीस पैंतीस के लोग ही हमारे पास अधिकतर आते थे ...फिर पंद्रह बीस साल पहले २०-२२ साल के युवा लोग इस तकलीफ़ की वजह से आना शुरू हो गये ...अब १०-१२ साल के बच्चे इस तकलीफ़ की वजह से आ जाते हैं कि ब्रुश करते हुए दांतों से खून बहने लगता है ...जो कि पायरिया रोग का (जिसे हम लोग जिंजिवाईटिस भी कहते हैं) शुरुआती लक्षण है...इस के बारे में मैंने कुछ वर्ष पहले विस्तार से लिखा था, अगर आप को ज़रूरत महसूस हो तो इन लिंक्स को देखिएगा....


इस ६ साल के बच्चे में ऊपर के एक दांत में दंत-छिद्र तो है ही ...लेकिन मैंने यह फोटो इसलिए शेयर की है क्योंकि इस बच्चे की पहली जाड़ आ रही है ..आप देख रहे हैं उस के ऊपर का मसूड़ा थोड़ा सूजा हुआ है .. इसे डेंटल भाषा में Eruption Gingivitis कहते हैं ..इसे भी इस से कोई तकलीफ नहीं है, अकसर होती भी नहीं है, अगर किसी को दर्द-वर्द या खाने में दिक्कत हो इस की वजह से लगाने के लिए कुछ दवा या खाने के लिए दे देते हैं ...कुछ दिनों की ही बात होती है ..यह मसूड़ा अपने आप ठीक हो जाता है ..पीछे हट जाता है ...लेेकिन अकसर मां-बाप बच्चों के इस अवस्था में हमारे पास ले आते हैं कि यह बच्चे में मुंह में क्या हो रहा है! उन्हें केवल सांत्वना चाहिए होती है कि यह कुछ खास नहीं है!


मैंंने इस दस्तावेज में यह जिक्र किया कि इस आयुवर्ग में दूध के दांत गिर रहे होते हैं पक्के जम रहे होते हैं इसलिए दंत चिकित्सक के पास जा कर नियमित जांच करवानी ज़रूरी होती है ..इस बच्चे में भी एक पक्का दांत (स्थायी) दांत तो निकल आया है लेकिन दूध का दांत गिरा नहीं है ..उस के टुकड़े अभी भी जबड़े के अंदर फंसे हुए हैं... जिन की वजह से पक्का दांत भी थोड़ा अपनी जगह से हट के जम रहा है ...दूध के दांत के बचे खुचे इन टुकड़ों को तुरंत निकलवा दिया जाना चाहिए...


इस तरह के बच्चे के बारे में तो मैंने ऊपर ही बता दिया था कि दूध के दांतों में इस तरह का खुलापन एक शुभ संकेत है ..ऐसा क्या है, इस की वजह क्या है, इस के बारे में तो ऊपर चर्चा की ही जा चुकी है ..अगर आपने पढ़ी हो तो!


और हां, इस तरह के मरीज़ मेरे पास हर सप्ताह दो तीन आ ही जाते हैं... इस में क्या दिक्कत है कि दूध के दांत गिरे नहीं अभी और उन के पीछे पक्के दांतों ने अपना आसन जमाना शुरू कर दिया है ... पेरेन्ट्स बहुत चिंतित होते हैं ..लेकिन बात सिर्फ इतनी सी होती है कि हम इन दूध के दांतों को निकाल बाहर करते हैं और कुछ ही हफ्तों में अंदर की तरफ़ जमे हुए पर्मानेंट दांत बिना किसी दिक्कत के, जीभ के दबाव से ही अपनी जगह ले लेते हैं...यह तो बहुत ही आम समस्या हो चली है ...मुझे कईं बार लगता है कि बच्चे आज कल सब कुछ नर्मानर्म ही खाने लगे हैं...उसी की वजह से हो रहा होगा यह सब...लेकिन शायद यह मेरा कयास ही होगा! 


इस छात्र के ऊबड-खाबड़ दांत के लिए भी ब्रेसेस का इलाज होना चाहिए...लेकिन अकसर लोग करवा ही नहीं पाते..बहुत से कारण हैं...सब से बड़ा कारण वहीं पैसा ही है ...लेेकिन इस बच्चे को इस के बारे में अवेयर कर दिया है ..


जिन एक्स्ट्रा दांतों का किस्सा मैं आप को ऊपर सुना रहा था, किसी दूसरे बच्चे में भी उस तरह का एक्स्ट्रा दांत दिख गया ...इस तरह के दांत को जितना जल्दी हो सके, उखड़वा देना चाहिए...


यह जो दांत इस बच्चे के आप देख रहे हैं इस ने मुंह खोला नहीं है, जब इसे दांत भींचने के लिेए कहा है तो इस के दांत आगे से इतने खुले रहते हैं... इसे डेंटल भाषा में Anterior Open bite कहते हैं ...इस का इलाज ज़रूर करवा लेना चाहिए....पहले तो बात यह है कि इस तरह से मुंह आगे से खुला रहना एक दांतों की बीमारी है, इस के बारे में अवेयरनेस चाहिए... वरना मैंने तो ४०-४५ साल के पुरूष-स्त्रियां देखे हैं जो इस तरह की तकलीफ़ से ग्रस्त हैं लेकिन उन्हें पता नहीं है ...देखने में तो बुरा लगता ही है ...इन आगे वाले दांतों के फंक्शन पर भी तो इस का असर पड़ता ही है ...और बहुत बार तो बोलचाल (शब्दों के उच्चारण) पर भी इस का असर देखने को मिलता है ..


इस तरह से आगे टूटे हुए दांत वाले भी पांच सात केस इस स्कूल में दिख गये...लोग इस का अकसर इलाज करवाते नहीं हैं या करवा नहीं पाते यह सोच कर कि पता नहीं कुछ हो भी पायेगा कि नहीं, अगर होगा, तो पता नहीं कितना पैसा लग जायेगा...इस तरह के दांतों का हम लोग पहले एक्स-रे करवा लेते हैं ...और अगर दांत की जड़ सब कुछ ठीक ठाक है तो हम लोग इसे कंपोज़िट नामक एक मैटीरियल से रिपेयर कर देते हैं ...उस में कलर भी मैंच करने की सुविधा रहती है..सामने वाले को बिल्कुल भी पता नहीं चलता कि टूटे हुए दांत को बनवाया हुआ है ...यह सब आज की आधुनिक डैंटिस्ट्री का कमाल है ..और ये सुविधाएं आज की नहीं है...कुछ बच्चों का बीस साल पहले इस तरह का इलाज किया था, अब वे बड़े हो गये हैं ...और इस तरह की फिलिंग बढ़िया चल रही है...कुछ केसों में बहुत सालों के बाद इस तरह की टुथ-कलर फिलिंग का रंग बदलने लगता है, तो उसे हटा के फिर से दोबारा कर दिया जाता है ..its so simple!


 इस बच्चे को भी मसूड़ों से खून आता है, ब्रुश करने से ...इस के बारे मेैं पहले ही विस्तार से लिख चुका हूं..एक बात बस यहां फिर से लिखना चाहता हूं कि कईं बार तो इस तरह के मरीज़ इसे कोई तकलीफ़ ही नहीं समझते ...और हमारे पूछने पर ही बताते हैं कि मसूड़ों से खून आता है ब्रुश करते समय... अकसर इस तरह की तकलीफ़ होने पर लोग ब्रुश करना ही बंद कर देते हैं और किसी तिलस्मी बाबा का मंजन घिसना शुरू कर देते हैं...जिस से तकलीफ़ को बढ़ावा मिलता है ..इस के बारे में जागरूकता बहुत कम है! 


इस तरह के केसों के बारे में भी मैंने पहले जिक्र किया है कि किस तरह से दूध के दांतों के टुकड़े अगर नहीं गिरें तो पक्के दांतों के जमने में रूकावट किये रहते हैं ...इस छात्र में भी यही तकलीफ है जैसा कि आप इस तस्वीर की बाईं तरफ़ देख सकते हैं...

कल लखनऊ हज़रतगंज चौराहे पर लाल बत्ती पर रूका तो बाहर यह बोर्ड दिख गया ..बात तो सही बता रहे हैं!!
आज सुबह बशीर बद्र साहब कि यह बात याद आ गई...तो लिख ली एक पेपर पर ..




 बच्चों की इतनी सारी बातें चलती हैं तो इस जंगल में खिले फूल की भी याद आ ही जाती है

बस, अब कुछ ज्यादा कहने को रह नहीं गया....चंद बातें यहां दर्ज कर के छुट्टी करूंगा.. लिखते लिखते थक गया हूं मैं भी।

कल वाले केंप के बारे में नहीं ..लेेकिन वैसे ही कैंपों के बारे में कुछ सामान्य बातें शेयर करना चाहता हूं..

कैंप औपचारिकता निभाने के लिेए नहीं होते
मुझे ऐसा लगता है ..जैसा मैं मीडिया में तस्वीरें देखता रहता हूं कि कुछ सेहत कैंप बिल्कुल नौटंकी से लगते हैं...हर एक को लगता है कल के अखबार में उस की भी फोटो दिखनी ही चाहिए...ऐसा संभव नहीं है, एक समय में एक ही काम हो सकता है, नौटंकी कर लीजिए या काम कर लीजिए..दोनों काम एक साथ संभव नहीं होते कभी भी ...

नियमित होते रहने चाहिए ये स्कूल हैल्थ कैंप
इस तरह के कैंप स्कूल में हर साल की बजाए अधिक संख्या में होने चाहिए...और यह भी होना चाहिए कि सारा स्कूल को चंद घंटों में ही देख डालने की बाध्यता न हो....पचास सौ बच्चों को ही एक दिन में देखा जाना चाहिए..इस तरह से प्रक्रिया कुछ दिन चल भी जायेगी तो बच्चों की सेहत के लिए यह कोई बहुत भारी कीमत नहीं है...

मैं अकसर नोटिस किया करता हूं कि हम लोग बहुत सी बातें बस एक रिवायत की तौर पर करने लगते हैं...अच्छा, यह महीना है...यह टारगेट है...चलिए, जल्दी जल्दी से दो चार कैंप निपटा लें, नेट पर फोटो डाल दें ...वाहवाही लूट लें ....असल में इस तरह की ड्रामेबाजी से कुछ खास हासिल होता नहीं है .. कुछ लोग अपने नंबर बना लेते होंगे शायद, लेकिन उस का कुछ भी फायदा नहीं होता...हर काम पूरी लग्न से मन लगा कर ही किया जाए तो ठीक रहता है .. वरना तो.....!!

पेरेन्ट्स को भी इन्वॉल्व किया जाना चाहिए
विशेषज्ञ लोग अपनी रिपोर्ट लिख आते हैं एक कार्ड पर ..लेेकिन वे बेहद अहम् बातें उन बच्चों के अभिभावकों तक कैसे पहुंचें...यह बहुत ही ज़रूरी है ..छोटे बच्चे तो अपनी बात मां-बाप को कह ही नहीं पाते ... इसलिए मुझे ऐसे लगता है कि पीटीए की मीटिंग के दिन या किसी दूसरे दिन पेरेन्ट्स को जब बुलाया जाता है तो डाक्टर लोग भी वहां अगर हो सके तो कुछ समय के लिए उपस्थित रहें ताकि उन के बच्चों की सेहत से संबंधित कुछ अहम् बातों के बारे में उन से भी चर्चा की जा सके...यह बेहद अहम् बात है..

अगर चिकित्सकों को पीटीए के दिन पहुंचने में दिक्कत हो तो एक आइडिया यह भी है कि पेरेन्टस को भी वह कार्ड दिया जा सकता है कि वे हम लोगों के पास बच्चों के साथ अपनी शंकाओं का समाधान कर लें...

आज कर संवाद का ज़माना है...लोग संवाद से बड़ी से बड़ी पहाड़ जैसी मुश्किलें पल में हल कर लेते हैं (उदाहरण यादव परिवार मतभेद) तो यह तो कोई बात ही नहीं है!

औज़ार पूरी तरह से कीटाणुमुक्त होने चाहिेए
मैं कुछ साल पहले देखा करता था कि मुंह का निरीक्षण हो रहा होता है ..अखबारों में ही देखा करते थे ...बहुत से लोग इक्ट्ठा हुए हैं...एक गिलास में चार औज़ार किसी ऐंटीसेप्टिक में रखे हुए हैं, वे ही सभी के मुंह में डाले जा रहे हैं....यह बिल्कुल गलत है ...इस तरह के हैल्थ-चैक अप कैंपों में मैं हमेशा इस बात को तरजीह देता हूं कि बच्चों के मुंह में कोई औज़ार डाला ही नहीं जाए... अगर ज़रूरत हो भी तो वही डाला जाए तो हम अपने साथ कीटाणुरहित कर के ले गये हैं ..इसलिए हम लोग पर्याप्त संख्या में इंस्ट्रयूमेंट्स साथ ले कर चलते हैं ...किसी भी औज़ार को फिर से इस्तेमाल करने का प्रश्न ही नहीं उठता ! 

इस पोस्ट को बंद करते करते एक बात का ध्यान आ गया ..किसी महिला ने कैंप के दौरान यह प्रश्न किया कि क्या बच्चों के दांतों को भी भरवाने की ज़रूरत होती है ...वहां मैंने एक दो मिनट में इस का जवाब दे दिया...इस विषय पर मैंने कुछ साल पहले लिखा था..अभी नेट पर ढूंढा तो मिल गया लिंक... 


मुझे अपने स्कूल के दिनों का एक कैंप याद आ गया..हमें लाइन में लगा दिया जाता और चंद सैंकडो़ं में हमें देख लिया जाता ...नवीं दसवीं कक्षा में हमारे शरीर में बहुत से बदलाव आते हैं...मैं भी कुछ बात उस डाक्टर से एक दिन पूछना चाह रहा था...लेकिन लाइन में लगे हुए हिम्मत नहीं कर पाया...बाद में आया ...फिर बात नहीं कर पाया कुछ...मुझे अच्छे से याद है... शायद मैं इतना ही कह पाया कि मुझे बड़ी कमजोरी महसूस होती है ...टांगे दुखती रहती हैं...उस डाक्दार ने भी झट से पर्ची पर Waterbury's tonic लिख दिया...मैंने अपने पिता जी को दे दी वह चिट ..वे ले आये...तरूणावस्था के प्रश्न इस तरह से घुलते हैं क्या! ...मेरे मन के प्रश्न मेरी काल्पनिक समस्याओं (यह मुझे २० साल की उम्र में पता चला कि वे सब तकलीफ़ें काल्पनिक ही थीं) की तरह मेरे अंदर ही दबे रह गये....अभी भी बड़े बड़े अस्पतालों में Adolescent centers (तरूण स्वास्थ्य केन्द्र) तो खुल गये हैं ..लेकिन उस से भी कुछ हालात बदले नहीं दिख रहे ...दरअसल शायद हम लोगों के पास किसी से बात करने का वक्त ही नहीं है.....हम खानापूर्ति में एक्सपर्ट हो चुके हैं ..बस डिग्री का ही फर्क है, कुछ ज़्यादा, कुछ कम ...Another moment for introspection for all of us! 

 Oh my god! ..पिछले कुछ सालों में शायद सब से बड़ी पोस्ट लिख डाली मजाक मजाक में ...लेकिन मेरे लिए यह पोस्ट नहीं है, एक विश्वसनीय दस्तावेज है.. इतनी भारी भरकम उबाऊ पोस्ट के बाद इस हल्के फुल्के गीत को सुन कर बेलेंसिंग एक्ट कर लेते हैं....