Saturday, June 27, 2009

स्लम-ड़ॉग मिलिनेयर के सवाल

स्लम-डॉग मिलिनेयर ने अब तक शायद सब लोगों ने देख ही ली होगी --फिल्म में वे प्रश्न चर्चा में रहे जिन का जवाब स्लम-डॉग मिलिनेयर का एक अभिनेता अपने जीवन की वास्तविक परिस्थितियों ( real-life situations) से ढूंढ लेता है।

मेरे को ध्यान आ रहा है कि हम सब के साथ भी ज़िंदगी की कुछ ऐसी पुरानी यादें जुड़ी होती हैं जो किसी भी स्थिति में हमारी निर्णय लेने की, हमारी प्रतिक्रिया को बहुत ज़्यादा प्रभावित करती हैं। हम कितना भी बैलेंस्ड होने का ढोंग कर लें, लेकिन अकसर कुछ पुरानी यादें, कुछ पुरानी घटनायें, किसी का यूं ही कुछ कह दिया जाना, किसी से बातचीत करते हुये उस के हाव-भाव ------दरअसल बात यह है कि ये सब यादें हम लोग किसी से भी साझी भी नहीं करते हैं लेकिन सारी उम्र वे हमारे निर्णयों को बहुत प्रभावित करती रहती हैं। शायद इसीलिये कहते होंगे कि अच्छे लोगों की संगति में उठना बैठना चाहिये --क्योंकि सत्संगी लोग केवल प्रेरणात्मक बातें ही करेंगे ( कम से कम सत्संग के दौरान !!)

अब इन यादों का जो प्रभाव है वह अच्छे के लिये होता है या बुरे के लिये , इस के ऊपर सार्वजनिक तौर पर कोई टिप्पणी कर पाना बहुत कठिन है। जब भी कोई सिचुऐशन को फेस करते हैं तो उसी समय गूगल-ईमेजज़ की तरह हमारे दिलो-दिमाग में स्टोरड कुछ पुरानी यादों की तस्वीरों हमारे सामने आ जाती हैं और हम उस तसवीर के प्रभाव में ही कभी कभी कोई निर्णय ले लेते हैं।

और हमारे जीवन को कंट्रोल करने वाली इन चंद यादों का स्पैक्ट्रम इतना लंबा-चौड़ा है कि क्या कहें ----यह किसी दशकों पुरानी फिल्म का कोई सीन या डॉयलाग भी हो सकता है जो हम ने दूसरी कक्षा में देखी थी या यह आप के किसी अपने को किसी दूसरे ने जो शब्द कहे वह भी हो सकते हैं। और मज़े की बात यह है कि इस सारी कायनात में किसी दूसरे इंसान को रती भर भी यह अंदेशा नहीं होता कि हमारे फैसलों का रिमोट किन यादों के द्वारा कंट्रोल किया जा रहा है।
दिल दरिया समुंदरों डूंघे,
कौन दिलां दीयां जाने , कौना दिलां दीयां जाने !!

यह हम सब के साथ होता है ---- कोई मानता है , कोई नहीं मानता है। इस गाने में पता नहीं यह क्यों गया है ---बातें भूल जाती हैं, यादें याद आती हैं। क्या सचमुच बातें भूल जाती हैं ?