Sunday, January 4, 2009

लगभग बीस साल बाद दिल्ली में एक रविवार .....भाग 1..

मुझे आज दिल्ली में एक राइटर्ज़-मीट( लेखन मिलन) के सिलसिले में जाना था --- प्रोग्राम तो था सुबह दस बजे से एक बजे तक – मैं यहां यमुनानगर से सुबह लगभग साढ़े चार बजे बस से चला और दिल्ली के अंतर्राजीय बसअड्डे पर लगभग साढ़े आठ बजे पहुंच गया था। वैसे तो मुझे कहीं भी आने-जाने का इतना आलस्य आता है किक्या बताऊं --- लेकिन जब किसी बहाने लेखकों से मिलने की बात होती है तो मेरे रास्ते में न तो दूरी और न हीसमय की कोई बाधा आती है। आप हिंदी चिट्ठाकारों का भी कोई समारोह हिंदोस्तान के किसी भी कोने में रख के देख लीजिये --- वहां पर भी पहुंच ही जाऊंगा। लेखकों के साथ कुछ समय बिताने के चक्कर में तो अन्य जगहों के इलावा असम के जोरहाट में भी 10 दिन लगा के आ चुका हूं।

हां, तो जैसे ही दिल्ली के बस अड्डे पर उतरा बस-अड्डे की दीवार पर इस दीवारी सूचना नेस्वागत किया --- ये एक-दो नहीं एक दीवार पर तो बीस बार ही लिखा हुआ था । इस सूचना को देख कर इतना ही सोचा कि या तो यह भी लगे हाथ कानून ही बन जाये कि किसी ने भी पेशाब करना ही नहीं है – वरना इन बीसियों नोटिसों की व्याकरण ही थोड़ी दुरूस्त कर दीजाये --- केवल वाक्य के शुरू में यहां लगाने भर की तो बात है , वरना यह तो बीड़ी-सिगरेट की मनाही याद दिलाने वाले किसी विज्ञापन की तरह ही लग रहा है !!



वैसे तो इन नोटिसों में छिपी बैठी
एक ग्रैफिटी यह भी तो थी !!























वहां से मुझे धौला कुआं जाना था – लगभग 45 मिनट का सफ़र था। रास्ते में जाते हुये पता चला कि 1 जनवरी 2009 को दिल्ली में नो-होंकिंग डे ( अर्थात् उस दिन हार्न बजेंगे ही नहीं !!)- मुझे नहीं पता कि वह दिन वास्तव में दिल्ली वालों ने कैसे मनाया होगा लेकिन इतना सोच ही रहा था कि कुछ ही दूरी पर एक अन्य बड़े से पोस्टर पर निगाह पड़ गयी ---जिस में एक हार्न के साथ एक कुत्ते की तस्वीर थी और ये पोस्टर उस कुत्ते की तरफ़ से ही लगे हुये थे जिस में वो बहुत गुस्सा से फरमा रहे थे ---
मैं बिना वजह भौंकता नहीं हूंआप भी बिना वजह हार्न बजायें।

प्रिय टॉमी, हम लोग तुम्हारे जितने समझदार होते तो बात ही क्या थी , यह नौबत ही न आती कि तुम से भी प्रवचन सुनने पड़ते !!

आगे थोड़ी दूरी पर देखा कि मैट्रो का काम चल रहा था – उस के इर्द-गिर्द लगे लोहे की शीटों पर एक बहुत ही बढ़िया संदेश हम सब के लिखा हुआ था --- हैल्मेट इज़ मोर इंपोर्टैंट दैन यूअर हेयर-स्टाईल ---
आप के हेयर-स्टाईल से कहीं ज़्यादा महत्वपूर्ण है आप का हेल्मेट पहनना!!

जहां पर दरियागंज लगभग खत्म होता है वहां पर एक बहुत बड़ा बोर्ड यह भी दिख गया --- अंग्रेज़ी में लिखा हुआ - दान देने के लिये उपर्युक्त कंबल खरीदने के लिये इस मोबाइल पर संपर्क करें – इन की कीमत 75 रूपये से शुरू होती है। बात सोचने वाली यही है कि क्या दान वाले कंबलों में प्यार की इतनी ज़्यादा हरारत होती है कि एक 75 रूपये वाला कंबल भी फुटपाथ पर पड़े हुये किसी बदकिस्मत को इस नामुराद ठिठुरन से बचा सकता है ---- एक बात और भी है न कि अब किसी का जीना-मरना तो दानकर्त्ता के हाथ में थोड़े ही है ---- सुबह वह फुटपाथी फटीचर उठे या उठे ---लेकिन ठंड की वजह से अकड़ चुके इस बंदे के पड़ोस में ही फुटपाथ पर पड़ी अखबार के स्थानीय पन्ने पर धन्ना सेठ की रंगीन फोटो के नीचे कितना साफ़ साफ़ लिखा भी तो होगा कि कल शाम धन्ना सेठ ने गरीबों में 100 कंबल बांटे ------ गिनती पूरी होनी थी , सो हो गई !! और इसी चक्कर में धन्ना सेठ ने अपना तो लोक-परलोक सुरक्षित कर लिया ---कोई घाटे का सौदा थोड़े ही है ?

दिल्ली की महत्वपूर्ण जगहों की दीवारों पर अकसर गुमशुदा लोगों की तस्वीर देख कर बहुत रहम आता है --- अरेभई, किसे पड़ी है इस चक्कर में अपने दो मिनट खराब करे ---- जो गुमशुदा हो गयें उन का तो पता है कि वेगुमशुदा हो गये हैं लेकिन ये जो लाखों लोग अपने आप से ही गुम हो चुके हैं, महानगर की भागम-भाग में इन का खुद जीवन भी तो कहीं गुम हो चुका है लेकिन इन का गुमशुदा नोटिस क्या कभी कोई छापेगा -----क्योंकि मेरे साथ साथ सब के सब डरते हैं ----सच्चाई डरावनी होती है।

वहां लेखकों के मिलन के दौरान प्रोफैसर जावेद हुसैन से ये पंक्तियां भी सुनीं ---
----
रोज़ किया करते हो कोशिश जीने की ,
मरने की भी कुछ तैयारी किया करो।

अच्छा तो दिल्ली में बिताये गये इस रविवार की बकाया रिपोर्ट एवं उस लेखक-मिलन के बारे में अगली दो पोस्टों में लिखूंगा --- अभी नींद आ रही है ---आज सफर बहुत किया है ---अच्छा तो दोस्तो, शब्बा खैर !! शुभरात्रि !!

9 comments:

  1. वाह सर.. किस अंदाज में लिखे हैं.. सच में मजा आ गया.. कई बातें सोचने को भी मिली और एक ख़ूबसूरत सा शेर भी पढ़ने को मिल गया..
    Thanks.. :)

    ReplyDelete
  2. आगे का भाग भी पढ़ेंगे। यह बढ़िया रहा।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  3. दान देने के लिये कंबल खरीदने के लिये इस मोबाइल पर संपर्क करें – इन की कीमत 75 रूपये से शुरू होती है ।
    अखबार के स्थानीय पन्ने पर सेठ धन्ना सेठ की फोटो के नीचे कितना साफ़ साफ़ लिखा भी तो हुआ कि कल शाम धन्ना सेठ ने गरीबों में 100 कंबल बांटे
    वाह वाह क्या बात है आप तो दिल्ली वालो की पोल ही खोल रहै है,यह धन्ना सेठ
    अजी आप की पोस्ट पढ कर तो लगता है हम आप के साथ ही बस मै बेठे है, ओर टुटे कांच वाली खिडकी से ठंडी हवा से बचने के लिये आगे पीछे हो रहै है ओर साथ साथ मै बाहर लगे इस्तहार भी पढ रहे है.
    धन्यवाद एक सुंदर लेख के लिये ओर इस सेठ जी से मिलवाने के लिये

    ReplyDelete
  4. 1、We have excellent customer service team, which could solve online various problems about the Air Jordan we provide in 24 hours.
    2、We have perfect Logistics system, which guarantees all the ordered Nike Air Jordan shoes are delivered to you in good shape as fast as possible.
    3、We have strong manufacture plant, which are able to provide various models, sizes & colors of Air Jordan shoes ranging from 1 to 23 according to what you request.
    4、We have the first-rate after-sale service , in case that the Jordan Shoes products that you receive come across some quality problems, then, please do not worry, we are abound to refund all the payment in one week. Also, the products can be changed in one me month.The main products we specialize in are showed as follows.

    Our Jordan Shoes:

    Air Jordan 1
    Air Jordan 2
    Air Jordan 3
    Air Jordan 4
    Air Jordan 5
    Air Jordan 6
    Air Jordan 7
    Air Jordan 8
    Air Jordan 9
    Air Jordan 10
    Air Jordan 11
    Air Jordan 12
    Air Jordan 13
    Air Jordan 14
    Air Jordan 15
    Air Jordan 16
    Air Jordan 17
    Air Jordan 18
    Air Jordan 19
    Air Jordan 20
    Air Jordan 21
    Air Jordan 22
    Air Jordan 23

    ReplyDelete
  5. your blog is very good.and i think your blog is better than mine.
    I look forward very much to you visting my blog. my blog is about nike shoes. for example air max, air shox. air jordan and some kinds of Cheap Air Jordan.could you give me some suggestion? i shold thank you very much.

    ReplyDelete
  6. सर जी देर से पढ़ पाया पर लिखा बहुत खूब है।

    ReplyDelete
  7. I recently to visit your blog, reading, I very much enjoy, and above the content is great, although I do not know what to say, but I still wrote the first comment, I will continue to visit this
    blog, my blog is about Air Force One, Air Max Shoes, Digshoes,Jordan shoes, Nike Dunk, Nike Shox, Puma Shoes, Supra Skytop Shoes,Timberland Shoes.welcome to visit.

    ReplyDelete
  8. Authentic Ugg Ultra Short with cheap price, 49% discounts off, 2010 new styles Ugg Ultra Tall for Ugg Evera sale online, Buy rare Ugg Bailey Button, get the kicks on Ugg Nightfall!

    ReplyDelete
  9. your blog is very good.and i think your blog is better than mine.I look forward very much to you visting my blog . my blog is about Supra shoes.for example, Supra Footwear.
    Supra Sneakers. and some kinds of Don Ed Hardy .could you give me some suggestion ? i shold thank you very much.

    ReplyDelete