Thursday, April 3, 2008

हिंदी ब्लोगिंग में अनूठा प्रयोग.......कलम और की -पैड का संगम !


ज़रा आप भी सोचिये कि अगर हिंदी ब्लोगिंग में अगर कुछ इस तरह के प्रयोग होने लगें कि कलम और की-पैड का संगम हो जाये तो कैसा लगेगा ! वैसे एक छोटा सा प्रयत्न तो मैंने आज कर के गेंद को आप के पाले में फैंका है......

9 comments:

  1. अरे कमाल कर दिया आपने। आप का आइडिया पसंद आया। प्रयोग अच्छा है। पर काली स्याही प्रयोग करें तो और अच्छा लगेगा।

    ReplyDelete
  2. सर
    आपको धन्यवाद वैसे ये प्रयोग किया था मैंने किन्तु एग्रीगेटर केवल यूनोकोड/टेक्स्ट लेता है !
    फिर भी प्रयोग अच्छा है

    ReplyDelete
  3. इसे इंक ब्लॉगिंग कहते हैं..देबाशीष,अनूप शुक्ल,सागर, मैं आदि पिछले बरस इसका खूब इस्तेमाल कर चुके हैं. है बहुत रोचक कार्य. इसी को और रोचक बनाने के लिये इसमें लिंक लगाने के उपाय पर भी मैमे एक पोस्ट लिखी थी, उसे भी पढ़ें:

    http://udantashtari.blogspot.com/2007/05/blog-post_25.html

    इसी पोस्ट में अन्य लिंक भी मिल जायेंगे.

    ReplyDelete
  4. सुन्दर! समीर जी की पोस्ट ने सरल भाषा में लोगों को इंकब्लागिंग की जानकारी दी थी। आप मेरे ब्लाग
    पर इंकब्लागिंग की लिंक देख सकते हैं। अखबार भी निकले हैं जी। :)

    ReplyDelete
  5. चलिए इस बहाने फिर से इंक ब्‍लागिंग की शुरूआत हुई

    ReplyDelete
  6. विचार तो अच्छा है, पर मुझे तो डर है की अब मेरी लिखावट मेरे अलावा किसी और को समझ ही नहीं आएगी :-)

    ReplyDelete
  7. आइडिया अच्छा है।

    ReplyDelete
  8. आइडिया अच्छा है पर अनूठा नहीं :)

    ReplyDelete
  9. अच्छा है। बीच-बीच मे इस तरह से भी लोगों को लिखते रहने चाहिए।

    ReplyDelete