Monday, November 9, 2009

मरीज़ों की प्राइवेसी की परवाह कैसी ?

आज कल मुंह के कैंसर से बचाव के लिये चले एक जागरूकता अभियान के अंतर्गत एक विज्ञापन फिल्म विभिन्न चैनलों पर दिख रही है ---आशा है आपने भी देखी होगी।
लेकिन इस में आखिर ऐसा क्या है जो मुझे ठीक नहीं लग रहा ? --इस का कारण यह है कि इस में मरीज़ों के चेहरों को दिखाया गया है। इस में मरीज़ों की प्राइवेसी की सम्मान नहीं किया गया।
वैसे यह मुंह के कैंसर से बचाव की जागरूकता अभियान के लिये बनाया गया एक बहुत प्रभावपूर्ण विज्ञापन है लेकिन यह मरीज़ों के चेहरे दिखाने वाली बात अजीब सी लगती है।
मुझे ऐसा लगता है कि जिन मरीज़ों के चेहरे इस फिल्म में दिखाये जाते हैं उन के प्रति कभी भी अगर समाज के द्वारा किसी तरह का भी भेदभाव किया जाए तो यह बहुत गड़बड़ हो जायेगी। वैसे तो एक शिष्ट समाज में जब हम लोग एक मरीज़ की बात किसी के साथ किसी दूसरे के साथ शेयर नहीं करते तो ऐसे में कैसे हम मुंह के कैंसर जैसे रोग से लाचार रोगियों की तस्वीरें इतने व्यापक स्तर पर दिखा सकते हैं।
मानता हूं कि इस तरह की तस्वीरें दिखाने से लोगों के मन में तंबाकू आदि के बारे में डर पैदा होगा। लेकिन हमें बीमार आदमियों एवं उन के परिवारजनों के बारे में भी सोचना चाहिये कि नही ?
अगर तस्वीरें दिखानी ही हैं तो हम क्यों नहीं उन की आंखों पर कुछ इस तरह के डाट्स आदि दिखाते जिन से उन की पहचान को गुप्त रखा जा सके। यह बहुत ज़रूरी है।
कईं बार मैं सोचता हूं कि शायद समाज में आम आदमी की प्राइवेसी का ध्यान रखा ही नहीं जाता। मेरे विचार में यह फिल्म बनाने वालों में संवेदनशीलता की घोर कमी की तरफ़ इशारा करती है। इस तरह के विज्ञापन को तुरंत दुरूस्त किये जाने की ज़रूरत है।
यह तो एक विज्ञापन फिल्म की बात है --अकसर हमारी मैडीकल कि किताबों में भी मरीज़ों की फोटो की आंखों पर काली पट्टी सी लगाई जाती है ताकि उन की पहचान न हो सके। मुंह के कैसर से संबंधित मेरी पोस्टों में भी मैंने मरीज़ों की तस्वीरें इस तरह से ली हैं कि उन फोटो के द्वारा उन की पहचान संभव न हो।
देश में कुछ बहुत बड़े प्रतिष्ठित लोग भी मुंह के कैंसर जैसी बीमारी से जूझ रहे हैं तो ऐसे में इस तरह की विज्ञापन फिल्म में इन हस्तियों का भी कुछ संदेश जनता तक पहुंचा दिया जाता तो शायद ठीक होता। लेकिन शायद इन हाई-फाई लोगों की प्राईवेसी आम आदमी की प्राइवेसी से ज़्यादा मायने रखती है ?
अब अगह कोई यह दलील दे कि उस विज्ञापन फिल्म में जिन मरीज़ों के चेहरों को दिखाया गया है उन से समुचित कंसैंट (सहमति) ली गई है तो भी यह कैसी कंसैंट है, मेरे विचार में तो इस तरह की कंसैंट के बावजूद भी उन का चेहरा इस तरह से ना दिखाया जाए कि कोई भी उन की शिनाख्त कर सके।

5 comments:

  1. काश इस महत्वपूर्ण पहलू को ये बाज़ार वाले समझ पाते ?

    ReplyDelete
  2. विज्ञापन की संस्कृति का बेहूदा

    हस्तक्षेप है यह , वैसे भी फटाफट

    की यांत्रिकता ने कहाँ इतना सोचने

    का मौका ही दिया है -इन अभागे

    प्रस्तुतकत्ताओं को ....

    धन्यवाद् ...

    ReplyDelete
  3. अमरेन्द्र जी ने बिलकुल दुरुस्त कहा है...

    ReplyDelete