Sunday, May 25, 2008

मिलावटी खाद्य -पदार्थों की जांच कैसे हो पायेगी सुगम !!

आप किसी भी क्षेत्र की तरफ़ नज़र दौड़ा कर देख लीजिये....तरक्की तो खूब हुई है। डेयरी इंडस्ट्री को ही देख लें.....बड़े बड़े संस्थान खुल गये, बहुत से लोग पीएचडी कर के आस्ट्रेलिया में डालरों से खेल रहे हैं, लेकिन जितनी भी रिसर्च हुई है क्या आप को लगता है कि उस का लाभ एक आम भारतीय को भी हुया है। पहले तो वह गवाले की दूध में पानी मिलाने की आदत से ही परेशान था....अब तो उसे पता ही नहीं है कि दूध के रूप में उसे क्या क्या पिलाया जा रहा है।

अभी अभी मैं सिंथैटिक दूध के बारे में नेट पर ही कुछ पढ़ रहा था, तो यकीन मानिये इस का वर्णन पढ़ कर कोई भी कांप उठे। इसीलिये मैं सोच रहा था कि देश में विभिन्न क्षेत्रों में तरक्की तो खूब हुई लेकिन आम आदमी की तो पतली हालत की तरफ ध्यान कीजिये कि उसे यह भी नहीं पता कि वह जिस खाद्य पदार्थ का सेवन कर रहा है वह असली है या नकली ....अगर नकली भी है या मिलावटी भी है तो इस के लिये इस्तेमाल किये जाने वाले ऐसे पदार्थ तो नहीं हैं जिन से उस की जान पर ही बन आये।

अभी मैं जब सिंथैटिक दूध का विवरण पढ़ रहा था तो मुझे उस का वर्णन पढ़ कर यही लगा कि यार हम लोग भी बंबई में ज्यादातर सिंथेटिक दूध ही पीते रहे होंगे...क्योंकि जिस तरह के बड़े बड़े टैंकरों में हमारे दूध वाले के यहां दूध आया करता था और 24घटे दूध उपलब्ध होता था, उस से यही शक पैदा होता है कि इतना खालिस दूध बंबई में अकसर आता कहां से था। लेकिन क्या करें......हम लोगों की बदकिस्मती देखिये कि हम लोग इतना पढ़ लिख कर भी असली और नकली में पहचान ही नहीं कर पाते।

मेरा तो यहां डेयरी वैज्ञानिकों से एवं अन्य विशेषज्ञों से केवल एक ही प्रश्न है कि आप क्यों कुछ ऐसे टैस्ट पब्लिक में पापुलर नहीं करते जिस से वे झट से घर पर ही पता कर सकें कि दूध असली है या सिंथेटिक है....क्योंकि सिंथेटिक दूध पीना तो अपने पैर पर अपने आप कुल्हाडी मारने के बराबर है।

ऐसे ही और भी तरह तरह की वस्तुओं के लिये टैस्ट होने चाहियें जो कि आम पब्लिक को पता होने चाहिये....इस से मिलावट करने वालों के दिमाग में डर बैठेगा.......मैंने कुछ साल पहले इस पर बहुत कुछ पढ़ा लेकिन जो मुझे याद है वह इतना विषम कि उपभोक्ता यही सोच ले कि कौन ये सब टैस्ट करने का झंझट करे....सारी दुनिया खा रही है ना ये सब कुछ....चलो, हम भी खा लें...जो दुनिया के साथ होगा , हमारे साथ भी हो जायेगा। बस, यही कुछ हो रहा है आज हमारे यहां भी।

लोगों में जागरूकता की कमी तो है ही, लेकिन उसे सीधे सादे ढंग से जागरूक करने वाले बुद्धिजीवी तो चले जाते हैं अमेरिका में ......यकीनन बहुत विषम स्थिति है।

छोटे छोटे सवाल हैं जो हमें परेशान करते हैं लेकिन उन का जवाब कभी मिलता नहीं......यह जो आज कल सॉफ्टी पांच-सात रूपये में बिकने लग गई है...इस में कौन सी आइस-क्रीम डाल दी गई है जो इतनी सस्ती बिकने लग गई, इसी तरह से मिलावटी मिठाईयों, नकली मावे का बाज़ार गर्म है। यकीन मानिये दोस्तो पिछले कुछ वर्षों में इतना कुछ देख लिया है, इतना कुछ पढ़ लिया है कि बाज़ार की किसी भी दूध से बनी चीज़ को मुंह लगाने तक की हिम्मत नहीं होती।

अभी यमुनानगर के पास ही एक कसबे में यहां के अधिकारियों ने हलवाईयों की कईं दुकानों पर छापे मारे हैं जो बहुत से शहरों में मिल्क-केक सप्लाई किया करते थे.....लेकिन उन को वहां पर बहुत मात्रा में एक्पायरी डेट का मिल्क-पावडर मिला और साथ ही कंचों की बोरियां भी मिलीं.......पेपर में ऐसा लिखा गया था कि शायद इन कंचों को पीस कर मिल्क केक में डाल कर उस में चमक पैदा की जाती थी। मिल्क में चमक तो पैदा हो गई लेकिन उसे खाने वाले के गुर्दे फेल नहीं होंगे तो क्या होगा, दोस्तो।

स्थिति इतनी विषम है कि बाज़ार में बिक रही किसी भी चीज़ की क्वालिटि के बारे में आप आश्वस्त हो ही नहीं सकते। ऐसे में मेरा अनुरोध सभी विशेषज्ञों से केवल इतना ही है कि अपनी सामाजिक, नैतिक जिम्मेदारी समझते हुये कुछ इस तरह से जनता को सचेत करें कि उन्हे नकली और असली में पता लग जाये, उन्हें पता लग जाये कि यह खाद्य़ पदार्थ खाने योग्य है या नाली में फैंकने योग्य ।

यह सब बहुत ही ज़रूरी है.....हर तरफ़ मिलावट का बोलबाला है, कुछ साधारण से टैस्ट तो होंगे ही हर चीज़ के लिये जिन से यह पता चले कि हम लोग आखिर खा क्या रहे हैं। मेरे विचार में इस तरह की जागरूकता हमारे समाज को मिलावटी वस्तुओं से निजात दिलाने के लिये पहला कदम होगी....क्योंकि जब पब्लिक सवाल पूछने लगती है तो बड़ों बड़ों की छुट्टी हो जाती है।

बाज़ारी दही का भी कोई भरोसा नहीं है, पनीर पता नहीं किस तरह के दूध का बन रहा है.....सीधी सी बात है कि दूध एवं दूध से बने खाध्य पदार्थों की गुणवत्ता की तरफ़ खास ध्यान दिया जाना ज़रूरी है। वैसे तो अब मिलावट से कौन सी चीज़ें बची हैं !!

मैंने एक डेयरी संस्थान के प्रोफैसरों को बहुत पत्र लिखे हैं कि कुछ छोटे छोटे साधारण से टैस्ट जनमानस में लोकप्रिय करिये जिस से उन्हें पता तो लगे कि आखिर वे क्या खा रहे हैं, क्या पी रहे हैं। मुझे याद आ रहा है कि बंबई के वर्ल्ड-ट्रेड सेंट्रल में अकसर कईं तरह की प्रदर्शनियां लगा करती थीं ...वहां पर अकसर एक-दो स्टाल इस तरह के उपभोक्ता जागरूकता मंच की तरफ से भी हुया करते थे......लेकिन अब तो उस तरह के स्टाल भी कहीं दिखते नहीं।

ऐसे में क्या सुबह सुबह घर की चौखट पर जो दूध आता है क्या वही पीते रहें ?....यही सवाल तो मैं आप से पूछ रहा हूं .....तो, अगली बार जब अपने घर में आये हुये दूध को देखें तो उस के बारे में कम से कम यह ज़रूर सोचें कि आखिर इस की क्वालिटी की जांच के लिये आप क्या कर सकते हैं.....नहीं, नहीं, मैं फैट-वैट कंटैंट की बात नहीं कर रहा हूं.....मैं तो बात कर रहा हूं सिंथैटिक दूध में इस्तेमाल की जाने वाले खतरनाक कैमिकल्ज़ की ....जो किसी भी आदमी को बीमार बना कर ही दम लें।

वैसे हम लोग भी कितनी खुशफहमी पाले रखते हैं कि हो न हो, मेरा दूध वाला तो ऐसा वैसा नहीं है.......पिछले बीस सालों से आ रहा है.......लेकिन फिर भी ...प्लीज़ ..एक बार टैस्टिंग वैस्टिंग के बारे में तो सोचियेगा। बहुत ज़रूरी है......मैं नहीं कह रहा है, आये दिन मीडिया की रिपोर्टें ये सब बताती रहती हैं।

4 comments:

  1. सरजी अपन को तो कोई लाख बार कहे तो भी मिठाई को हाथ नहीं लगाते.

    कई बार पेट की समस्‍याओं से पाला पड़ा है दूध-खोवे से बनी मिठाईयां खाकर इसलिए अब तो कोई दूध से बने पदार्थ या मिठाई खाने के पैसे दे तो भी ना खायें.

    दूध का जला हूं इसलिए छाछ को भी फूककर पीना पड़ता है.

    सिंथेटिक दूध को टेस्‍ट करने की कोई तकनीक पता लगे तो जरूर जरूर बताईयेगा....

    ReplyDelete
  2. घर की रसोई भली और घर का रसोइया भला। बाहर खाओ तो सोच समझ कर या मजबूरी में, फिर भली करेगा राम।
    यहाँ मर्ज और मरीज बहुत हैं। दवा और वैद्य कम।
    दवाखोर बहुत हैं।

    ReplyDelete
  3. आप सही कह रहे है। आपको याद होगा एक दशक पहले 'जाग उपभोक्ता तेरी बारी आई' वाले बहुत से संगठन दिखते थे पर अचानक ही सब गायब हो गये है। सब्जी से लेकर दूध सभी मे गोरख धन्धा जोरो पर है। महानगरो मे रहने वाले तो मजबूरी मे सबसे बुरी स्थिति मे है। हम लोगो की तो खेती है इसलिये गाँव से जैविक उत्पाद आ जाते है पर अपने मित्रो को जब शुभ अवसर पर उपहार देने की बारी आते है तो मै उनके घर जाकर उनके बागीचे मे सब्जियाँ लगवा देता हूँ और जैविक खेती के गुर बता देता हूँ। आज के युग मे मित्रो को अच्छा स्वास्थ्य देने से बढकर कोई उपहार नही है।

    ReplyDelete
  4. The root cause of this problem and otther problem is that "We the Indians" as a individual and as a society have failed to set accountabilities. For how many things can we develop a test? Though its very easy probably.

    But this is not the answer. The answer is people refuge to accept the products that are adulterated and build active consumer forums, locally and pressureize the implementation of the law and order.
    a single individual can not fight this menace.
    otherwise every little town is full of food inspectors and there are laws in place, but where do we fail?

    ReplyDelete