Wednesday, March 2, 2011

एचआईव्ही दवाईयों की लूटमार से परेशान अफ्रीकी मरीज़

आप को भी विश्वास नहीं हो रहा होगा कि दवाईयों की लूटमार — मुझे भी नहीं हो रहा था लेकिन पूरी खबर पढ़ने के बाद यकीन हो जाएगा।

भारत में रहते हैं तो महिलायों की सोने की चेन की छीना-झपटी की वारदातें रोज़ सुनते हैं, बैंको से बाहर निकलते लोगों के पैसे छीने जाने की घटनाएं आम हो गई हैं, गाड़ियों में लूट-खसोट की घटनाओं को भी सुना है लेकिन यह दवाईयों की लूटमार के बारे में पहली बार ही सुन रहे होंगे।

मैंने कहीं पर पढ़ा था कि कईं देशों में लोगों की आर्थिक हालत इस तरह की हो चुकी है कि वे कुछ पैसे के लिये अपनी महंगी एचआईव्ही दवाईयां तक बेच देते हैं और अपनी ज़िंदगी को दवा न खाने की वजह से खतरे में डाल देते हैं।

लेकिन यह अफ्रीकी लोगों में वूंगा नामक नशे ने तो कहर ही बरपा रखा है। वहां पर एचआईव्ही संक्रमित लोगों की महंगी दवाईयां उन से लूट कर इस नशे के रैकेट में लिप्ट माफिया उन दवाईयों को डिटर्जैंट पावडर एवं चूहे मारने वाली दवाई से मिला कर एक बेहद घातक नशा तैयार करते हैं जिसे फिर वे महंगे दामों पर बेचते हैं।

यह तो आप जानते ही है कि अफ्रीका में एचआईव्ही-एड्स एक तरह की महामारी है, इस से संबंधित आंकड़े कुछ इस प्रकार हैं ..
  • अफ्रीका में लगभग 57 लाख लोगों में एचआईव्ही संक्रमण है
  • इन संक्रमित लोगों में से 18 फीसदी 15 से 49 आयुवर्ग से हैं
  • लगभग चार लाख साठ हज़ार लोग एंटी-रिट्रो-वॉयरल दवाईयां ले रहे हैं (2008 का अनुमान)
  • एड्स से अब तक तीन लाख पचास हज़ार मौतें हो चुकी हैं (2007 का अनुमान)
  • 14 लाख बच्चे अफ्रीका में एड्स की वजह से अनाथ हैं
    थोड़ा सा यह जान लेते हैं कि ये जो एंटी-रिट्रो-वॉयरल दवाईयां एचआईव्ही संक्रमित लोगों को दी जाती हैं, वे क्या हैं? ये महंगी दवाईयां इन मरीज़ों को इस लिये दी जाती हैं ताकि उन की गिरती रोगप्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटि) को थाम के रखा जा सके जिस से उन के जीवनकाल को बढ़ाया जा सके। भारत में आपने पेपरों में देखा ही होगा कि कभी कभी रेडियो एंव अखबारों में इस तरह के विज्ञापन आते हैं कि एचआईव्ही संक्रमित व्यक्ति फलां फलां चिकित्सालयों से ये दवाईयां मुफ्त प्राप्त कर सकते हैं ।

और यह निर्णय विशेषज्ञों का रहता है कि किन मरीज़ों में ये दवाईयां शुरु करने की स्थिति आ गई है ...यह सब एचआईव्ही संक्रमित बंदे की रक्त जांच के द्वारा पता चलता है कि उस में इम्यूनिटि का क्या स्तर है !

हां, तो बात अफ्रीका की हो रही थी – बीबीसी की रिपोर्ट से यह पता चलता है कि वहां पर लोग इस तरह के आतंक से कितने भयभीत हैं... वे लोग स्वास्थ्य केंद्रों पर जाकर दवाई लेने से ही इतने आतंकित हैं ---कोई पता नहीं बाहर आते ही ये लुटेरे उन से कब दवाईयां छीन कर नौ-दो ग्यारह हो जाएं।

दोहरी मार को देखिये ---एक तरफ़ तो जिन से ये एचआईव्ही संक्रमण के लिये दी जाने दवाईयां छीन लीं –उन की जान को तो खतरा है ही, और दूसरी तरफ़ जिन्हें वूंगा नाम नशा तैयार कर के बेचा जा रहा है, उन की ज़िंदगी भी खतरे में डाली जा रही है।

लोग इन दवाईयों को स्वास्थ्य इकाईयों से लेते वक्त इतने भयभीत होते हैं कि वे अब उन्होंने ग्रुप बना कर जाना शुरू कर दिया है।

इंसान अपने स्वार्थ के लिये किस स्तर तक गिर सकता है, यह देख कर सिर दुःखने लगता है, मेरा भी सिर भारी हो रहा है, इसलिये अपनी बात को यहीं विराम देता हूं।