Wednesday, June 17, 2009

अहसास

इस समय मेरे पास मेरी स्क्रैप-बुक पड़ी है ---बहुत बड़ी है, पिछले पांच साल से इस में मन की बातें लिख कर हल्का हो लेता हूं। इस में बहुत सी बातें हैं जिन्हें मैं जीते-जी तो शेयर करने से रहा, लेकिन कुछ बातें हैं जो मुझे बहुत बढ़िया लगती हैं, और जिन्हें कभी कभी ज़रूर देखता हूं। मुझे खुद पता नहीं इस में मैंने क्या क्या लिख छोड़ा है, किसी अखबार में कुछ बढ़िया लगा वह लिख लिया, किसी भी जगह से कुछ भी ऐसा दिखे जो कुछ सोचने पर मजबूर करे, सब कुछ इस में डाल रखा है।
आज एक काम करता हूं--सब से पहले उस स्क्रैप-बुक के पहले पन्ने पर लिखी एक बात यहां लिखता हूं। दरअसल आप सब लोग साहित्यकार हो, आप साहित्यकारों के नामों से भली-भांति परिचित हैं, लेकिन क्षमा कीजिये मुझे इस का बिल्कुल भी ज्ञान नहीं है।

प्रायोजित लेखन के बारे में कुछ कहता हूं --- लेखक किसी के कहने पर कुछ लिखे इसे मैं द्वितीय श्रेणी का लेखन मानता हूं। वह अपने मन से जो कुछ लिखता है, जिसे लिखे बिना नहीं रह पाता, जिसे लिखकर वह कुछ राहत और छुटकारा अनुभव करता है वही वास्तव में प्रथम कोटि का लेखन, ईमानदार लेखन होता है। अब यह ईमानदार लेखन कैसा, किसी श्रेणी का है,यह लेखक की क्षमता पर निर्भर करता है।
श्यामसुंदर घोष, व्यंग्य विमर्श ....संवेद (वाराणसी) vol1 No.2.


इन बंद कमरों में मेरी सांस घुटी जाती है,
खिड़कियां खोलता हूं तो ज़हरीली हवा आती है।


लौट कर क्यूं नहीं आते, कहां जाते हैं,
रोक कर वक्त के लम्हों को ये पूछा जाए।

विवाह के लिये एक विज्ञापन जो एक अखबार में दिखा ---
Wanted Engineer Bride for well placed software engineer 32/180 from decent religious vaishvanate family.
यह विज्ञापन देख कर ऐसा लगा था जैसे कि एक डिग्री की दूसरी डिग्री से शादी हो रही है।