Wednesday, April 4, 2018

जाने-माने बाबाओं के किस्से

दो तीन दिन पहले मैं मुंबई के क्रॉसवर्ड में कुछ किताबें खरीद रहा था ..अचानक मेरी नज़र एक किताब पर पड़ी...उस का  शीर्षक ही बड़ा आकर्षक लगा...किताब का टाईटल था ..गुरू- भारत के जाने-माने बाबाओं के किस्से..


वैसे तो कहां यह सब बातें शेयर करने की फ़ुर्सत रहती है कि हम लोग कौन सी किताब पढ़ रहे हैं, कौन सा सीरियल देख रहे हैं...पहले यह रिवाज होता था जब मेरी मौसी पोस्ट-कार्ड में लिख भेजती थी कि उन्होंने घरौंदा देख ली, खिलोना दो बार देख ली, तलाश के गाने गजब के हैं...आज कल हम लोग खामखां दूसरे वाट्सएप जैसे कामों में अधिक व्यस्त रहते हैं!

जी हां, मैं दो तीन दिनों से ही इस किताब को ही पढ़ रहा हूं...इस में किन किन बाबाओं के किस्से दर्ज हैं, इस की लिस्ट आप यहां देख सकते हैं...

इस किताब में भय्यू जी महाराज पर भी एक चेप्टर है ..इसलिए भी मुझे इस किताब  के बारे में लिखने की जिज्ञासा प्रबल हुई... यह जो साथ में लिखा है शहराती सिद्ध, इस का अर्थ मुझे उर्दू डिक्शनरी में भी नहीं मिला ..
(आज इन्हें भी राज्य मंत्री बनाया गया है)

और मैं चाहता हूं कि इस किताब के बेक-कवर पर लिखी टिप्पणी को भी आप अच्छे से पढ़ें...अगर ठीक से न पढ़ा जाए तो इस तस्वीर पर क्लिक करेंगे तो आराम से पढ़ पाएंगे..

मैं तीन चार बाबा लोगों के बारे में ही अभी तक पढ़ पाया हूं...और हैरान हूं ..(बहुत हल्का शब्द है हैरान, मैं एक तरह से Shocked ही हूं) इस किताब के किस्सों को देख-पढ़ कर ... पहली बात तो यह कि जो पिछले कुछ दशकों से कुछ बाबा लोगों के बारे में सुनते आ रहे हैं, वे सब बातें सच ही हैं...ऐसा मुझे यह किताब पढ़ने पर ही पता चल रहा है।

मन ही मन मैं ऐसी किताब लिखने वाले लेखक की हिम्मत की दाद देता हूं..वरना मेरे जैसे लोग तो अपने ब्लॉग पर भी तोल-तोल के लिखते हैं।

इस पढ़ते हुए मुझे यह भी ध्यान आ रहा है कि इस तरह की किताबें आमजन तक पहुंचनी चाहिए...यह निहायत ज़रूरी बात है ...किताबें पढ़ने से ही हम बहुत सी बातों से रू-ब-रू हो पाते हैं...किताब की डिटेल्स तो आपने देख ही ली होगी..अगर आप को किताब कहीं से नहीं भी मिले तो मेरी सलाह है कि इन बाबा लोगों के बारे में आप नेट से भी विकिपीडिया जैसी जगह से पढ़ सकते हैं...इस किताब में जो बातें दर्ज हैं, उन का संदर्भ भी किताब के आखिर में लिखा गया है। यह किताब की विश्वसनीयता को बढ़ाता है।

मुझे यह किताब पढ़ते पढ़ते यही लगा कि ये सब कितना बड़ा खेल होता है, ये बाबा लोग कितने शक्तिशाली होते हैं, कैसे सत्ता के केंद्र बन जाते हैं, सत्ता के गलियारों तक इन की पहुंच...ये बातें इतनी डिटेल में मैं पहले नहीं जानता था।


संयोग भी क्या है देखिए कि आज मैंने यह शेयर करने की सोची कि मैं कौन सी किताब पढ़ रहा हूं..और आज ही मध्य-प्रदेश में पांच बाबाओं के राज्यमंत्री की खबर दिख गई...अभी टीवी लगाया तो एनडीटीवी पर रवीश भी सारी बात समझाने की कोशिश कर रहा था...


यही सोच रहा हूं कि ये लेखक, पत्रकार लोग भी ग्रेट होते हैं...ये हमारी आंखे और कान हैं....हम तक वे बातें पहुंचाते हैं जिन्हें हम अपने स्तर पर शायद कभी जान ही न पाते ...फिर भी सुनिए सब की, पढ़िए सब कुछ, देखिए भी ... फिर भी अपनी आंखे, कान और दिमाग खुला रखिये...सब कुछ आप के विवेक पर भी निर्भर करता है ...और रही बाबा लोगों की बात, किसी को परिवार में भी कोई रास्ता दिखाने-समझाने की कतई कोशिश मत करिए...हर किसी को अपने हिस्से का सच तलाशने का हक है। है कि नहीं?



5 comments:

  1. किंडल पर अभी खरीद लिया 135 रुपए में. तथाकथित गुरु तो हैं ही हम भी, गुरुघंटाल बनने में कसर रह गई थी जो इस किताब में दिए गए टिप्स से मिल ही जाएगी.

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्माईली तो रह ही गया था.. :)

      Delete
  2. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन एक प्रत्याशी, एक सीट, एक बुलेटिन में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    ReplyDelete
  3. Sir,

    Majority of our countrymen are god-fearing and are not god-loving people and with fear in mind, a person becomes gullible; his mind becomes incapable of rational thinking. Several god-men take advantage of and exploit vulnerable people. I think, we should put scientific vigour and rational thinking in the educational system at a very early age, which we aren't doing in the present. History is being distorted, what we read in the name of science is false vanity - Puspak Viman the first airplane in the world; Lord Ganesh was the first medical implant in human history, and many more. Our religions, in their present contents, forms and practices, are doing more harm then good to the society. A civilization or a country can not progress on fake prides.

    Other areas where we seriously need to intervene is to instill values in our children are against littering, disfiguring our historical monuments. While these values are best learnt at home, but doing that will be difficult. So, the next best solution will be mandatory integration and inclusion in the academic curriculum at elementary school level in all schools, private as well as government.

    ReplyDelete