Monday, June 6, 2016

नमक हो टाटा का टाटा नमक..

नहीं ना, यह कोई स्पांसर्ड पोस्ट नहीं है...बस, कुछ बात करने की इच्छा हुआ टाटा नमक के बारे में .

आज शाम एक मित्र से बात हो रही थी..पता नहीं कैसे बातों से बात निकली कि उसने कहा कि प्रवीण, मैं टाटा नमक के कुछ पैकेट ले कर आया..उसी दिन वह दालें भी खरीद कर आया था...और उस दिन के बाद जब उन के घर में दालें बनने लगीं तो वे काली होने लगीं...उन लोगों को लगा कि सारी दालें खराब हैं...लेकिन नहीं दालें तो ठीक थीं...

मित्र बता रहा था कि वह नमक के पैकेट वापिस करने चला गया...और फिर बाबा रामदेव वाले नमक के पैकेट ले कर आया...बाबा की तारीफ़ कर रहा था..मैंने कहा ठीक है, बाकी तो कुछ भी उस का ले आना, पतंजलि की दंत कांति पेस्ट और मंजन से बच के रहना......मैं सैंकड़ों मरीज़ों के दांतों पर इस का प्रभाव देख चुका हूं..

अच्छा, जब मैंने उस की यह दालों के काला होने की बात सुनी तो मैंने उसे इतना पूछा कि तुम टाटा का नया वाला नमक ले कर आए होंगे, कहने लगा ..हां, तो मैंने उसे कहा कि उस में आयरन है ..(लोह युक्त नमक है वह) ..इस लिए दालों आदि में जब इस तरह का नमक डाला जाता है तो वे काली पड़ ही जाती हैं, उस के बारे में चिंता नही करनी चाहिए..

दरअसल मुझे याद आ रहा था उस से बात करते हुए कि लगभग तीन महीने पहले मैंने एक पोस्ट लिखी थी...लोहयुक्त नमक के ऊपर...इस का लिंक यह रहा ..आप इस लिंक पर क्लिक कर के देख सकते हैं...लोह युक्त नमक 

अपने पुराने लेख मैं लगभग कभी देखता नहीं...मुझे एम्बेरेसमेंट सी होती है ...पता नहीं क्यों, यह सब मैंने क्यों लिख दिया...पूरी किताब ही भला क्यों खोल के रख दी, बस, इसी चक्कर में मैं अपने पुराने लेखों को कभी पढ़ना नहीं चाहता...हां, बिल्कुल जैसे हलवाई अपनी मिठाई नहीं खाता..

मुझे ध्यान आ रहा था कि मैंने उस लेख में कुछ प्रश्न रखे थे..लेकिन अब ध्यान आता है कि यह कोई इश्यू नहीं है ... कि अगर किसी का हीमोग्लोबिन सही है तो उसे यह नमक नहीं लेना चाहिए... वैसे भी कहां एक आम भारतीय इतनी अच्छे से पोषित है कि उसे इस तरह से लोहयुक्त नमक की ज़रूरत नहीं है ...सब ले सकते हैं..और वैसे भी इस से किसी भी बंदे की दिन भर की आधी ज़रूरत ही पूरी होती है ...

एक विचार यह भी है कि टाटा जैसी कंपनी को इस तरह के मुद्दों को अच्छे से प्रचारित करना चाहिए था..इस मित्र ने मेरे से बात कर ली, मैंने अपनी तरफ़ से उस के संशय का समाधान कर दिया.....लेिकन अगर उसे पहले से पता होता या उस टाटा प्लस वाले पैकेट के ऊपर ही लिखा होता तो सब लोग पहले से ही तैयार होते ...कि दाल अाज थोड़ी काली बनने वाली है...है कि नहीं?

यह तो कमी रह गई ...टाटा कंपनी से ..और वैसे वेबसाइट पर यह लिखा हुआ कि यह नमक जब दालों आदि में डाला जायेगा तो उन का रंग डार्क हो जायेगा...

टाटा कंपनी की वेबसाइट पर एक प्रश्न है कि टाटा प्लस नमक (यानी लोह एवं आयोडीन युक्त नमक) से क्या भोजन के स्वाद में फर्क पड़ता है?..
Using Tata Salt Plus doesn't affect food taste. Some food items like pulses, rice, potato and vegetables may turn dark on addition of Tata Salt Plus. This is due to iron availability in Tata Salt Plus. For example, when an apple is cut and kept exposed, it turns dark due to its iron content, but is still edible and absolutely safe to use. 
जानकारी के लिए लिखना चाहता हूं कि १०० ग्राम टाटा प्लस नमक में .. सोडियम ३८ग्राम के लगभग, ऑयरन ८५ मिलीग्राम, और आयोडीन की मात्रा १५ppm से ज़्यादा होती है ..

अभी मैंने घर में पूछा तो मुझे Tata Salt Lite दिख गया... इस में सोडियम की मात्रा कम होती है ..३३ ग्राम के लगभग...लेिकन इस में ऑयरन नहीं है लेिकन आयोडीन तो है ही ...



नींद आ रही है, जल्दी से इसे खत्म कर रहा हूं...मुझे ध्यान आ रहा है कि कुछ िदनों के बाद नमक पर कुछ न कुछ लिखने का बहाना मिल ही जाता है ...आज भी मैंने हिन्दोस्तान पेपर के संपादकीय पन्ने पर नमक को कम करने के बारे में एक अच्छा लेख पढ़ा था, कल आप से वह भी शेयर करूंगा...

लेकिन जाते जाते एक आग्रह कि हो सके तो टाटा नमक प्लस ही इस्तेमाल करिए...हम लोगों ने भी अभी तक इसे इस्तेमाल नहीं किया...चलिए, हम लोग भी इसे इस्तेमाल करेंगे....जिस तरह से जब टाटा कंपनी का आयोडीन नमक आया था... तो लोग अनाप शनाप कुछ कहने लगे थे......लेिकन वह एक वरदान सिद्ध हुआ....निःसंदेह यह टाटा प्लस नमक भी एक बड़ा वरदान सिद्ध होगा....क्योंकि आज कल जिस तरह से लोगों का खान-पान हो गया है, एनीमिया थोड़ा बहुत तो बहुत सी महिलाओं में, बच्चों, बुज़ुर्गों में भी देखा ही जा रहा है ...

मेरी पिछली पोस्ट के प्रश्नों पर ज़्यादा गौर मत कीजिएगा और मेरे विचार में इस नमक का इस्तेमाल करने में ही समझदारी है ...मुझे यह प्रचारित करने का कुछ पैसा नहीं मिला ..और मैं कभी भी पैसे के लिए इस तरह का काम करूंगा भी नहीं.....आश्वस्त रहिए....अगर आप इस नमक का इस्तेमाल शुरू करने से अपने फैमली डाक्टर से बात भी कर लें तो और भी अच्छा रहेगा...

OK...Good night....शुभरात्रि, शब्बा खैर, रब राखा......Take care!

Related post...        लोहयुक्त नमक के बारे में आप का क्या ख्याल है? (पढ़ने के लिए यहां क्लिक करिए)

गाना यहां एम्बेड करते समय मुझे ध्यान आया कि नमक के ऊपर तो कोई गीत याद नहीं आ रहा ...फिर ध्यान आ गया नमक हराम का, नमक हलाल का भी ......सोचा, वैसे भी आज के दौर में नमक हरामी ज़्यादा चलन में है, उस ग्रेट फिल्म का यह गीत ही शेयर करते हैं...a wonderful and captivating song!


5 comments:

  1. TATA ka ek namak potassium wala hota hai, woh shaayad kidney patients ke liye theek nahi. Plz next post se blog karein

    ReplyDelete
  2. TATA ka ek namak potassium wala hota hai, woh shaayad kidney patients ke liye theek nahi. Plz next post se blog karein

    ReplyDelete
  3. Muze animia free socity ke awerness karna chate hu kya ap hame mere project me meri help krege

    ReplyDelete