Saturday, July 25, 2009

यहां पढ़े हैं आरटीआई के अनगिनत सवाल ...

मैं अकसर सोचा करता हूं कि ये आर टी आई में पूछने लायक सवाल मिलते कहां हैं ----मुझे लगता है ये इन जगहों पर मिलते हैं।

मैं पिछले वर्षों में बहुत सारी अखबारें पढ़ने के बाद कुछ अरसे से केवल तीन अखबारें पढ़ता हूं। मेरे दिन की शुरूआत सुबह सुबह तीन अखबारें पढ़ने से होती है -- अमर उजाला, टाइम्स ऑफ इंडिया और दा हिंदु। मुझे बहुत सारी अखबारें छानने के बाद यह लगने लगा है कि अगर हम इन को ध्यान से देखें तो इन के हर पन्ने पर कोई न कोई सूचना के अधिकार का सवाल बिखरा पड़ा होता है।

वह बात भी कितनी सही है कि एक पत्रकार किसी बेबस, गूंगे इंसान की जुबान है। कितनी ही बातें हैं जिन से हम केवल अखबार के द्वारा ही रू-ब-रू होते हैं। अब एक पत्रकार ने तो इतनी मेहनत कर के किसी मुद्दे को पब्लिक के सामने रख दिया। लेकिन अगर गहराई में जायें तो बस इन्हीं न्यूज़-रिपोर्टज़ से ही कईं आरटीआई के सवाल तैयार हो सकते हैं।
आरटीआई के बहुत से सवालों का खजाना वह इंसान भी होता है जिन ने कभी सूचना के अधिकार में कुछ पूछने की ज़ुर्रत तो कर ली लेकिन जाने अनजाने उस ने किसी की दुखती रग पर हाथ रख दिया जिस की वजह से उसे किसी बहाने से ....।

ज़िंदगी के करीब के बहुत से सवाल किसी भी आम आदमी के पसीने के साथ रोज़ बहते रहते हैं। यह आम आदमी की ज़िंदगी तो आरटीआई में पूछने लायक सवालों का खजाना है। जिस किसी भी जगह पर कोई भी लाचार, बेबस, कमज़ोर, शोषित, सताया हुआ, पीड़ित, किसी षड़यंत्र का शिकार इंसान खड़ा है उस के पास आप को बीसियों आरटीआई के सवाल बिखरे पड़े मिलेंगे। लेकिन उस का बेबसी है कि अभी तक उसे अपनी कलम की ताकत पर विश्वास नहीं है या यूं कह लें कि अभी उस ने अपनी कलम उठाई नहीं है। या फिर यह भी हो सकता है कि उसे लगता हो कि वह आरटीआई में दिये जानी वाली दस रूपये की फीस से वह कुछ और भी अहम् काम कर सकता है।

जो भी हो, जब कभी मैं कभी कभी यहां-वहां किसी के मुंह से यह सुनता हूं कि यह आरटीआई सिरदर्दी बन चुका है तो मैं यह समझ जाता हूं कि इस का मतलब है कि सूचना के अधिकार अधिनियम का काम बिलकुल ठीक ठाक चल रहा है। जहां तक लोगों के द्वारा ढंग से सवाल पूछने जाने पर कुछ लोगों को कभी कभी आपत्ति रहती है तो इस में मुझे तो कुछ खराब लगता नहीं -----सीख जायेंगे, सीख जायेंगे, दोस्त, उन्हें हम लोग अपना दिल खोल तो लेने दें। ढंग वंग का क्या है, किसी भी सवाल की आत्मा का ही तो महत्व है।

आरटीआई में अवार्ड्स की घोषणा कुछ दिनों से दिख रही है ---- मेरे लिये उस का पात्र आने वाले समय में कौन होगा पता है ? --- वह मज़दूर जो सुबह मज़दूरी करता है और रात में प्रौढ़-शिक्षा कार्यक्रम के तहत पढ़ना सीख रहा है। और जैसे ही सीख लेता है वह रात में कैरोसीन के दीये की धुंधली लौ में अपने बच्चे की कलम से एक काग़ज पर आरटीआई का एक सवाल लिख रहा है जो कि उस की बाजू पर आये पसीने की वजह से गीला है और ऊपर से उस के माथे से पसूने की बूंदे उस गीले कागज़ पर टपक रही हैं --- जिसे उस का बेटा किसी चाक के टुकड़े से लगातार पौंछे जा रहा है ताकि उस के बापू का यह सवाल कहीं गीलेपन की वजह से खराब ही न हो जाये ------उस के गांव में स्कूल में मास्टर पिछले चार महीनों से नहीं है, इस का क्या कारण है और उस के गांव के दवाखाने में कोई डाक्टर पिछले छः महीनों से तैनात क्यों नहीं है। जब इस तरह के लोगों द्वारा सवाल पूछे जाने लगेंगे तो मैं समझूंगा कि हां, भई, अब हलचल शुरू हुई है।
पता नहीं मुझे तो हर तरफ़ आरटीआई के सवाल ही पड़े दिखते हैं ----- आप जिस सड़क पर जा रहे हैं उस की खस्ता हालत जिन खड्डों की वजह से है, उन में बहुत से आरटीआई के सवाल छुपे पड़े हैं, लोगों ने अपने घरों के बाहर कईं कईं फुट की जो एनक्रोचमैंट कर रखी होती है, वह भी एक सवाल है ................हर तरफ सवाल ही सवाल हैं, केवल इन्हें देखने वाली आंख चाहिये।

और कितना समय ये मुट्ठियां-वुठ्ठियां बंद रहेंगी, ये तो भई खुलनी ही चाहियें ....

3 comments:

  1. अखबारों से उपजे सवालों के जवाब सरकारों के पास नहीं हैं लेकिन जनता उन्हें जानती है।

    ReplyDelete
  2. bahut sahi likha hai aapne.......wo bat ye hai...abhi to wo log bhi jo parhe likhe aur samarth hain...iska use nahi kar rahe hai.....han sarkar ke nam par problem jitni ginwalo...kher jo bhi ho...hai ye bare kam ki chiz.hum to yahi kahengen.

    JAI RTI.

    ReplyDelete
  3. यह सच है कि सूचना के अधिकार का कुछ लोग गलत फायदा उठा रहे है जैसे कि स्कूल मे जाकर के यह कहना कि प्रशासन यह बताये कि आपकी स्कूल मे किस जाती या धर्म के कितने बच्चे पढते है । इस प्रकार के सवालो जवाब ढूंढने मे बिना वजह वक्त जाया होता है ।

    ReplyDelete