Sunday, May 3, 2009

जब ढंग से की दो बातें ही इलाज होता है

मैं अकसर सोचता हूं कि उम्र के साथ बहुत सी तकलीफ़ें ऐसी आ जाती हैं ( चलिये, हम यहां कैंसर की बात नहीं करते) ---जिन तकलीफ़ों का कोई विशेष इलाज होता ही नहीं है।

हर डाक्टर के पास ऐसे ही कईं मरीज़ रोज़ाना आते हैं जिस के बारे में उसे बिलकुल अच्छी तरह से पता है कि इस अवस्था के बारे में कुछ नहीं हो सकता। लेकिन फिर भी मरीज़ का मन बहलाये रखना भी बहुत बड़ा काम है।

चलिये, एक उदाहरण लेते हैं ओसटियो-आर्थराइटिस की जो कि बड़ी उम्र में लोगों को ओसटियोपोरोसिस के साथ मिल कर बहुत ही ज़्यादा परेशान किये रहती है। चलने में दिक्कत, घुटने में बेहद दर्द ------अब ये तकलीफ़ें ज़्यादातर केसों में तो इसलिये होती हैं कि लोग विभिन्न कारणों की वजह से अपने शरीर की तरफ़ कईं कईं साल तक ध्यान दे ही नहीं पाते --- और बहुत से केसों में यह उम्र का तकाज़ा भी होता है।

मुझे बहुत साल पहले एक हड्डी रोग विशेषज्ञ का ध्यान आ रहा है जो कि बड़ी-बुजुर्ग महिलाओं को एक झटके में बड़े आवेग से कह दिया करता था कि अब उन के घुटनों में ग्रीस खत्म हो चुकी है, कुछ नहीं हो सकता अब इन हड्डियों का। इतना ब्लंट सा जवाब सुन कर अकसर मैंने देखा है कि लोगों का मन टूट जाता है।

इस का यह मतलब भी नहीं कि इन बुजुर्ग मरीज़ों को झूठी आशा दे कर, रोज़ाना अच्छी अच्छी बातों की मीठी गोलियां दे देकर उन से पैसे ही ऐंठते रहें ----या और नहीं तो वही एक्स-रे, वही सीटी स्कैन करवा कर उन की जेबें हल्की कर रहें।

जो मैं कहना चाह रहा हूं वह बस इतना ही है कि मरीज़ की स्थिति कैसी भी हो ----उस को हम ठीक ठीक बता तो दें लेकिन अगर आवेग में आकर बिना सोचे समझे बडे़ स्पष्टवादी बनते हुये सब कुछ एक ही बार में कह देते हैं तो मरीज़ का मन बहुत दुःखी होता है। दवाईयों ने तो जो काम करना होता है वह भी नहीं कर पाती ----क्योंकि मरीज़ का मन ठीक नहीं है। लेकिन अहम् बात यह है कि अगर मरीज़ का मन ठीक नहीं है, डाक्टर की बात से वह खफ़ा है तो उस के शरीर की जो प्राकृतिक मुरम्मत करने की क्षमता ( natural reparative capacity) है , कमबख्त वह भी मौके का फायदा उठा कर हड़ताल कर देती है।

बहुत सी तकलीफ़ें ऐसी हैं जिन का कोई सीधा समाधान है ही नहीं ----- बस, मरीज़ का अगर मन लगा रहे तो यही ठीक होता है। बाकी, आज लोग काफ़ी सचेत हैं उन्हें भी पता होता ही है कि फलां फलां तकलीफ़ें उम्र के साथ हो ही जाती हैं और ये सारी उम्र साथ ही चलेंगी लेकिन फिर भी वे डाक्टर के मुंह से कुछ भी कड़े निराशात्मक शब्द सुनना नहीं चाहते।

अगर ऐसे ओसटियोआर्थराइटिस के केस में डाक्टर इतना ही कह दे कि आप अपना थोड़ा वज़न कम करें , थोडा़ बहुत टहलना शुरू करें ---- खाने पीने में दूध-दही का ध्यान रखें ---- तो मरीज़ बड़े उत्साह के साथ इन बातों को अपने जीवन में उतारने की कोशिश करने लगता है। और साथ में अगर योग, प्राणायाम् के लिये भी प्रेरित कर दिया जाये तो क्या कहने !! ठीक है, वह दर्द के लिये हड्डियों पर लगाने वाली ट्यूब, कभी कभार या नियमित विशेषज्ञ की सलाह से कोई दर्द-निवारक गोली या वह गर्म पट्टी ----ये सब अपना काम तो करती ही हैं लेकिन सब से तगड़ा काम होता है डाक्टर के शब्दों का जिन्हें बहुत ही तोल-मोल के बेहद सुलझे ढंग से निकालना निहायत ही ज़रूरी है।

बस और क्या लिखूं ? ---पता नहीं इन बातों का सुबह सुबह कैसे ख्याल आ गया ---- कहना यही चाह रहा हूं कि डाक्टर और मरीज़ के बीच का वार्तालाप बेहद महत्वपूर्ण है ---इन में एक एक शब्द का चुनाव बहुत ही सोच समझ कर करेंगे तो ही मरीज़ों का मनोबल बढ़ेगा -------------वरना वे हमेशा बुझे बुझे से हर हफ्ते डाक्टर ही बदलते रहेंगे जब तक कि वह किसी आस पड़ोस के बहुत ही मृदुभाषी नीम हकीम के ही हत्थे नहीं चढ़ जायेंगे जो कि बातें तो शहद से भी मीठी करेगा लेकिन खिलायेगा उन को स्टीरॉयड जो कि इन मरीज़ों का शरीर दिन-ब-दिन खोखला कर देती हैं।

जब छोटे से तो बड़े-बुजुर्गों से सुनते थे, अपने हिंदी और संस्कृत के मास्टर जी अकसर कबीर जी, तुलसी दास के दोहे पढ़ाते हुये यह बताया करते थे कि वाणी कैसी हो, इस पर क्यों पूरा नियंत्रण हो ----------और आज इतना साल चिकित्सा क्षेत्र में बिताने के बाद यही सीखा है कि सही समय पर कहे गये संवेदना से भरे दो मीठे शब्द कईं बार इन दवाईयों से भी कईं गुणा ज़्यादा असर कर देते हैं। मेरी अभी तक की ज़िंदगी का यही सारांश है। आप का इस के बारे में क्या ख्याल है ?